रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

मनोज 'आजिज़' की ग़ज़ल

ग़ज़ल 

कर दिया कुछ ने 

---------------------

                  -- मनोज 'आजिज़'

बागे-वतन को जहन्नम कर दिया कुछ ने 

दिले-वतन में जखम कर दिया कुछ ने 

 

ग़रीबों का खून पीकर मस्ती से जीते हैं कुछ 

बेशर्मी से खूब दामन भर दिया कुछ ने 

 

रौशन था नाम बेहद दुनिया में एक ज़माने 

लूट मचाकर झुका सर दिया कुछ ने 

 

इन्सां को इन्सां से इंसानियत की आस थी 

हर सू दह्शती आलम कर दिया कुछ ने 

---

जमशेदपुर 

झारखण्ड 

 

mkp4ujsr@gmail.com

2 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.