370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

बलबीर राणा "भैजी" की कविता - तृष्णा भरे जीवन की तृप्ति

image

बलबीर राणा "भैजी"

Camoli Uttrakhand

तृष्णा भरे जीवन की तृप्ति

----------xx-----------

उमड घुमड काले मेघों की
घोर गर्जना सुन प्यासा चातक
निराश की निन्द्रा से जागा
सचेत मन
प्यास व्याकुल
सूखी आँखे
काली घटाओं को निहारती फिरती
तरंगित शरीर आसमान में नाच उठा
आज इन्द्रदेव प्रसन्न होने वाले हैं
झमाझम बौछारें के साथ बरसने वाले हैं
कई दिनों की प्यास बुझने वाली है
मस्त मंगल चातक दल झूम उठा
ये क्या?
निरदयी पवन का झोंका आया
उग्र गति से बदलियों को उडा ले गया
आशाओं पर तुषारपात कर गया
ऐसे ही हवा इन चातकों के जीवन में
आती जाती क्षणिक जगी
आस को तोड जाती
फिर भी चातक दाना चुगना
बन्द नहीं करता
जीवन रूपी युद्ध से मुंह नहीं मोडता
आशा और उमंग से फिर
बादलों से भरे आसमान को निहारते हुए
तृष्णा भरे जीवन को
तृप्ति से जीता


..........बलबीर राणा "भैजी"

कविता 1406497720889441109

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव