नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

दिलीप लोकरे की लघुकथा - कर्फ्यू

कर्फ्यू
स्कूल से जैसे-तैसे घर आया वह बच्चा बहुत डरा हुआ था । स्वाभाविक भी था ।
सुबह जब वह स्कूल के लिए निकला था तब सब कुछ सामान्य था।
मोर्निग-वाक,सब्जी, दूध वाले और स्कूल जाते बच्चे रोज की ही तरह निकले
थे। बाद में हालात बिगड़े और कर्फ्यू की घोषणा हो गयी।
घर पर उसने पिताजी से पूछा " पापा रास्ते पर इतनी पुलिस क्यों खडी है?"
"कर्फ्यू लगा है बेटा" पापा ने जवाब दिया।
" कर्फ्यू क्या होता है ? क्यों लगाते है ?" बच्चे ने स्वाभाविक जिज्ञासा से पूछा।
"बेटा जब लोग खतरनाक हो जाते हैं , बदमाशी करते हैं , किसी के काबू में
नहीं आते तो कर्फ्यू लगाना पड़ता है ताकि लोग घरों से बाहर नहीं आये" पापा
ने फिर जवाब दिया।
"लेकिन पापा वहां सड़क पर तो कुत्ते ,सांड ,सूअर सब घूम रहे थे उन्हें
किसी ने नहीं रोका। आदमी क्या जानवर से भी ज्यादा खतरनाक होता है
?"..........बच्चे ने और भी ज्यादा मासुमियत से पूछा |
और पापा............क्या कहते ...... निरुत्तर थे |

-दिलीप लोकरे
३६ -ई,सुदामा नगर ,इंदौर
diliplokreindore@gmail.com

1 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.