---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

पुस्तक समीक्षा - बारिश की दुआ

साझा करें:

‘ बारिश की दुआ ’ देवी नागरानी का अनुदित कहानी संग्रह- डॉ. यशोधरा शाह मई 1941 के तत्कालीन अखंड भारत के कराची शहर में जन्मी बहन देवी लालवाणी...

बारिश की दुआ’ देवी नागरानी का अनुदित कहानी संग्रह- डॉ. यशोधरा शाह

image

मई 1941 के तत्कालीन अखंड भारत के कराची शहर में जन्मी बहन देवी लालवाणी (अब नागरानी) के भीतर सुप्त साहित्यकार 21 वीं सदी के शुरू होते होते जाग उठा। और 2004 से 2012 तक सिन्धी एवं हिन्दी में ग़ज़लों तथा भजनों के दस संग्रह प्रकाशित कर चुका। इसके अलावा गत वर्ष गध्य में भी दो अनुवाद की हुई पुस्तकें प्रकाशित हुईं।

अन्यान्य प्रसिद्ध सिन्धी लेखकों की कहानियों का एक हिन्दी अनुवाद है -- “और मैं बड़ी हो गई” नामक शीर्षक से और दूसर “बारिश की दुआ” जिसमें भारत के विभिन्न प्रांतिक लेखकों की हिन्दी भाषा में प्राप्य अलग- अलग भाषाओं की चुनिन्दा कहानियों का सिन्धी अनुवाद है। बहन देवी के इसी पुस्तक की तासरात मैं यहाँ पेश करने का प्रयास कर रही हूँ।

भाव पक्ष एवं कला पक्ष दोनों की दृष्टि से देवी जी का यह चयन उनके संवेदनशील मन का परिचायक है। उदाहरण के तौर पर सुधा अरोरा की कहानी जिसमें न तो सिलसिलेवार प्रसंग वर्णन है, न पात्र परिचय, न उनके नाम ही ! बस, .....तीन तीन निशानियों से विलग लिए हुए बोल हैं, कभी दो तो कभी चार, कभी आठ पंक्तियों के ! उन्हीं से पता चलता है कि यह सब एक तानाशाह पति द्वारा पत्नि को हर बात पर ताना मारने के विविध नमूने हैं। उसके लिए वह गरम चाय पेश करे तब भी, ठंडा शर्बत पेश करे तब भी......!

सत्रह कहानियों वाले संग्रह की इस कहानी-‘रहोगी तुम वैसी ही’ के पुरुष पात्र से बिलकुल निराला है सूर्यबाला जी की कहानी- ‘कहो ना’ का नायक पति, बिलकुल शांत, उचित-अनुचित व्याहवार का विवेक रखने वाला, शिष्टाचारी सज्जन! यध्यपि हर बात पर उसीका अंतिम फैसला पत्नी को कभी कभार अखरता है, पर चुभता नहीं। क्योंकि उसके पीछे गर्व या क्रोध न होकर तर्क होता है। पाँच दिनों की उसकी उपस्थिति में ‘रूर्टिन’ (routine) से मुक्त पत्नि को तब्दीली भाति तो है, पर अंतिम दिन बेसब्री से उसका इंतज़ार भी करने लगती है वह। (यहाँ भी दोनों बेनाम है केवल बेटे का नाम निक्की दर्ज हुआ है)

संतोष श्रीवास्तव की कहानी ‘एक और कार्गिल’ में अम्मा व बाबा (रजनी और चंद्रकांत) के नामों को मिलाकर बुआ ने भतीजे को नाम दिया था रजनीकान्त। बड़ी मिन्नतों के बाद मिली इकलौती संतान, लेकिन उस पर धुन सवार हो गई सरफ़रोशी की और कार्गिल युद्ध में लड़ते हुए शहीद हो गया। शादी के आठ महीनों बाद विधवा बन चुकी उमा का दिल टूट गया। महीनों अस्पताल में रही, पर फिर एक कंपनी में नौकरी करने लगी। वहीं पर मयंक से उसका परिचय हुआ, जिसने हक़ीक़तों को स्वीकार कर नए सिरे से जीने की हिम्मत दी। उमा छुट्टी का दिन भी उसके साथ बिताती पर शादी नहीं करना चाहती। बालसखी शेफ़ाली के पूछने पर कहती है- “न ही शहीद की पत्नी होने का गौरव छोड़ना चाहती हूँ, न ही माँ और बाबूजी को, जिन्होने मेरी हर बात मान्य की है, यहाँ तक कि मयंक के साथ सम्बंध भी।“ वैसे सास तो शेफ़ाली द्वारा उमा को कुछ समझाना चाहती है, पर बाबूजी ने उन्हें यह कहकर रोका कि –“आगे भी लम्बी उम्र उमा को काटनी है, हंसी-खुशी से उसे यहीं पर जीनो दो। टोकने पर हमें छोड़-छाड़ कर कहीं चली न जाए।“

बाबूजी समझदार ससुर तो लगते ही है, सेवा भावी व मेहनती पति भी है, जो जोड़ों के दर्द से पीड़ित पत्नी को सब कुछ स्वयं बनाकर खिलाते-पिलाते हैं, घुमाने ले जाते हैं, वह भी बड़े प्यार-दुलार के साथ।

अवसाद व करुणा के बावजूद कुछ अचरज कुछ सुकून बख्शने वाली संतोष श्रीवास्तव की इस कहानी के करीब-करीब विपरीत माहौल में शुरू होती है श्री रमाकांत शर्मा की कहानी ‘सज़ा’, जिसमें नायक मनीष कहता है-“जब से मुझे कविता का पत्र मिला है, मैं अपने आप से बैठा झगड़ रहा हूँ। लगता है मैं दो हिस्सों में बंट गया हूँ: एक वह जो सब कुछ स्वीकार कर लेना चाहता है, और दूसरा अस्वीकार....”बड़ी उत्सुकता लगती है कि आखिर माजरा क्या है? ख़ुद से जूझने के बाद कहानी का किरदार कहता है-“विचारों की आँधी का एक बवंडर आया और वक़्त के उस पेपर वेट को उड़ा ले गया; जो मेरी गुज़री ज़िन्दगी के पन्नों को दबाए हुए था....!” फिर धीरे धीरे पता पड़ता है कि कॉलेज की सहपाठी कविता पर पहली नज़र में ही फ़िदा हो चुके ये साहबज़ादे इतने खुशनसीब निकले कि उसी के घर से रिश्ता आया और दोनों के फेरे भी लग चुके। लेकिन ...दुल्हन उसी रात को फ़रार हो गई है अपने बचपन के साथी व प्रेमी परेश के साथ सपनों का संसार बसाने हेतु!!

आघात से चूर-चूर मनीष जैसे अपनी ज़िंदाह लाश ढोता रहा है साल भर से। और आज अचानक यह पत्र ! “बाल मित्र होते हुए भी परेश खलनायक निकाला। मेरा सबकुछ लूटने के बाद फ़रार हो गया। गत पाँच महीनों में आत्म हत्या की कई कोशिशों में नाकाम रही हूँ। माफ़ी तो मैं खुद स्वयं को नहीं दे सकती, तो तुमसे कैसे मांगूँ? पर तुम्हारी गुनहगार तुमसे सज़ा का हुक़्म मांगती है। वह भुगत लूँ तभी मेरी आत्मा को कुछ शांति मिलेगी।“ पर न्यायधीश बड़ी उधेड़-बुन में पड़ जाता है, आख़िर फ़तवा क्या देता है? “अनचाहे पति की हिरासत में उम्र क़ैद !”

स्त्री-पुरुष के परस्पर रिश्ते के एक और ज्वलंत कोण को उजगार करने के लिए देवी जी ने अनूदित की है उषा भटनागर के कहानी ‘हादसा’। नए कॉलेज में स्वयं को रैगिंग से बचाने वाले अनीश के साथ अंकिता को पहले दोस्ती और फिर प्यार होने लगा था। घंटों साथ बिताते हुए अनीश ने एक दिन सब अंतर मिटा देने पर मजबूर कर दिया, पर फिर पढ़ाई व कैरियर का वास्ता देकर शादी से मुकर गया। बावजूद इसके अंकिता ने एक दूर की मौसी के यहाँ जन्म देकर बेटे को उसके सुपुर्द कर दिया। पढ़ाई पूरी कर माँ बाप के कहे मुताबिक़ रोहित से शादी करके सोम को जन्म दिया। सब कुछ मज़े में चल रहा था, पर किसी तरह उसके पहले बेटे शिव की बात रोहित को मालूम हो गई तो उसने अंकिता को घर से निकालना चाहा, लेकिन सोम बेटे पर अपना अधिकार जताया। यानि, विवाह के बाद हुई संतान पर स्त्री का कोई हक़ नहीं, और विवाह पूर्व हुई संतान पर पुरुष का कोई दायित्व नहीं। नायिका पूछती है-“पुरुष ऐसे दोगले क्यों?”

स्त्री पुरुष के परस्पर बातों-संघर्षों के अलावा समाज-जीवन के अन्याय पहलुओं को भी संग्रह की बाक़ी कहानियों में स्थान मिला है। गिरिराजशरण अग्रवाल की कहानी ‘अजन्मा बेटा’ में सुमीत आहूजा अपने दोस्त को बताता है-“फरवरी माह की एक सर्द शाम को दिल्ली में एक गेस्ट हाउस के लॉंन पर तनाका नामक जापानी औरत ने मुझे भी आमंत्रित किया था-जन्म से पहले मर चुके अपने बेटे की 50 वीं सालगिरह की दावत में।“ सुनकर हैरान हुआ दोस्त, पर सुमीत उसके सवालों का उत्तर टालते हुए तनाका की प्रतिभा व विधवा दशा, समाज द्वारा ऐसी स्त्रियॉं पर अविशेष अन्याय वगैरह- वगैरह पर बोलता रहा। इसी बहाने पाठकों की उत्सुकता को चरम सीमा तक बढ़ाने के बाद ही अंत में जाकर उस पार्टी पर्व आयोजन, उसकी सादगी के कारण भूत पूर्व की भीषण घटना और एक तरसती विधवा की वत्सल व्यथा का रहस्योद्घाटन किया जाता है...बड़े ही कलात्मक व प्रभावी ढंग से .......!

इसी वत्सल सम्बंध की विपरीत दिशा का करुणा चित्र मिलता है श्री धीरेन्द्र अस्थाना की ‘चीख’ नामक कहानी में, जहां पीड़ित मजबूर माँ को उबार न सकने की कुंठा उसके मँझले बेटे को पागल बना देती है।

ठीक इसके विपरीत कमलेश बक्षी की ‘भाभो’ की रामकहानी है। एक तहसीलदार की बेटी और चाय-बगानों की मालकिन, 85 वर्ष की उम्र में, दोनों आँखें धुंधली हो जाने पर भी चौथी मंज़िल के फ्लैट की सीढ़ियाँ चड़ने को-उतरने को मजबूर....हालांकि बेटा और पोते-परपोते उसी शहर में बंगलों-गाड़ियों में ऐश करते रहते हैं। फिर भी बुढ़िया के मुंह पर कोई शिकवा-शिकन नहीं! उनके नौकर के मुंह से किए जाने वाले जश्नों-जलसों के समाचार सुनकर खुश होकर लोकगीत गाकर उनको दुआएं देती रहती थी।

परंतु उर्मिला शिरीष की कहानी का (बेनाम)‘वो’ बूढ़ा हो जाने पर घर के लोग-भाई, बहू-बेटियाँ, उनके बच्चे- सब उनकी ‘हैसियत’, उनकी छोटी बड़ी इच्छा, आकांक्षाओं की तनिक भी परवाह नहीं करते, इस बात के एहसास से व्यथित होकर एक सवेरे निकल पड़ते हैं महाशय, दरबान से कहकर कि –“हमेशा के लिए जा रहा हूँ”। पर कहाँ? तय नहीं कर पाते। दिन भर यहाँ वहाँ भटकते हुए, थके हारे रात को घर के पिछवाड़े जा बैठते हैं। वहाँ सभी को अपने लिए चिंतित देखकर तसल्ली पाते हैं कि ‘अब जानी उन्होने मेरी ‘हैसियत’ !

लेकिन अनपढ़ ग्रामीण श्री रमाकांत शर्मा को वैसी तसल्ली भी नहीं होती। “किसी ज़रूरी काम से फलां दिन शहर आ रहा हूँ” ऐसा पत्र द्वारा सूचित कर देने के बावजूद बड़े भाई के घर पहुँचते वहाँ बड़ा सा ताला देखना पड़ता है। पास-पड़ोस के लोग नाम-काम तो पूछ लेते हैं पर पानी तक पिलाने की परवाह नहीं करते। एक तो बताता भी है कि पूरा परिवार किसी पार्टी में गया है, लेकिन यह नहीं कहता: “बाहर कब तक खड़े रहोगे। मेरे घर आकर बैठो ज़रा।“ ऐसा कहने वाला सड़क का ‘एक भला आदमी” जो रिक्षा चलाने वाला था। उसने यह भी बताया कि शहर में पार्टियां रात भर भी चलती हैं। “धर्मशाला एक तो शहर के पुराने विस्तारों में ही मिल सकती हैं और वहाँ भी आजकल पैसे वसूले जाते हैं, आप मेरे घर चलें।“ यह है मोहनदास नैमिशराइ की लिखी कहानी “एक भला मानस”।

इन सबसे हटकर ज़रा जासूसी माहौल मिला है वहीद ज़हीर की कहानी ‘आखिरी नज़र’ में जहां एक बूढ़ा चौकीदार अपनी ड्यूटी और नींद की तलब, दोनों को ताक पर रखकर अपने ही घर की चौकीदारी करने पर आमादा है। एक रात निकट की झड़ियों के पीछे से, तो दूसरी रात छत पर से, तेज़ धार वाली कुल्हाड़ी हाथ में थामे हुए राह जोहता रहा ...किसी चोर का उसी के घर में से निकलना, पर उसे पकड़ पाने के बजाय बूढ़ा धड़ाम से नीचे गिर पड़ा और मर्दाने जूते के निशानों को ही देख पाया...जो उसकी बेटी ने ही पहन रखे थे .!

कश्मीर के एक ब्राहमण माता-पिता की व्यथा तो इससे भी विदारक थी। एक रात अचानक 4-4 आतंकवादी घर में घुस आए। उनके फ़रमान पर ताज़ा खाना बनाकर खिलाया, रात भर सेंकने को आंच दी, और पुलिस आकर पूछे भी, तो सुराग़ न देने का वादा तक किया। फिर भी मुए जबरन किशोरी ‘वनी’ को अगुआ कर गए। उससे रसोइए, नर्स, नौकर के सिवा, चारों ने रखेल रूप में भी इस्तेमाल किया और निरंतर पहरे में रखा, ताकि भाग न पाए। साल भर उनके साथ यों भटकते वनी को एक बच्ची पैदा हुई तो उसकी हत्या पर उतारू हो गए। मिन्नतों बाद ज़िन्दा रखा भी, तो रोने पर मुंह को कसकर पट्टियों से बांध कर ...वनी के अन्दर जाग उठी माँ यह बर्दाश्त न कर पाई। चूहों के बहाने ज़हर मंगाकर चारों को सदा के लिए सुला दिया। पर दूर से उनके लिए टॉर्च का इशारा आता देख ख़तरे की घंटी दिमाग़ में बजी, और वह बेटी को पोटली में बांध नंगे पांव ही भाग निकली। अमावस रात के घोर अंधेरे में, भूत प्रेत लगते वृक्षों के बीहड़ के बीच से पांवों को खरोचते झड़ी-झंखरों में से, घुटनों तक कीचड़ भरे गढ़ों को पार करते मार्तंड (सूर्य) मंदिर के खंडहरों में पहुँच कर पनाह ली। सवेरा होते बच्ची जागी और सख्त चट्टान का ठंडा स्पर्श पाकर रोने लगी। सारे दहशत भरे तफ़्सील पढ़िये चंद्रकांता की कहानी ‘आवाज़’ में।

तेरह पन्नों की इस दीर्घकथा के मुक़ाबले बिलकुल छोटी है आरिफ़ ज़िया की ‘बारिश की दुआ’। महीनों की झुलसाने वाली गर्मी से हताश मुसलमीन जुम्मे की नमाज़ के वक़्त ख़ुदा-ताला के आगे नमाज़ ता की, तब ज़ुबेदा भी अपने नन्हें हाथ उठाकर इल्तिजा करती है-“अभी नहीं, अल्ला मियां, पिछली बार झोंपड़ी की छत में से पानी ने हमें घंटों भिगोए रखा। मेरी माँ को तेज़ बुख़ार हो आया है। पहले उसे ठीक कर दो। हम किसी महफ़ूज़ जगह पहुँच जाएँ, तब दोनों मिलकर बारिश की दुआ मांगेंगे। तुम सुनना, हाँ।“ शायद वह क़बूलियत का लम्हा था। काले बादलों में दरारें पड़ गईं, सूरज पूरे आबो-ताब से चमकने लगा।

लेकिन मा॰ ना॰ नरहरि का ‘कुतरा हुआ आदमी भाग्यशाली नहीं है। केवल 45 रुपए माहवार वेतन वाली गांव की स्कूल मास्टरी छोड़ कर वह नसीब आज़माने शहर आया था। एक भले सुपरवाइज़र ने लेथ मशीन चला ना सिखाकर नौकरी दिलवाई, पर ख़ुद दिल के दौरे से चल बसा। उसकी असहाय बेवा का ध्यान रखने लगा तो पत्नी शक करके रोज़ झगड़ती, आखिर माइके चली गई। यहां नया सुपरवाइज़र मैनेजर के साथ मिली भगत करता, कमीशन खाता, मज़दूरों की झूठी शिकायतें करता......!

और अनजान लोगों को एक नंबर का ‘खडूस’ (कथाकार हरिप्रकाश साठी की कहानी) लगने वाले मित्तल साहनी, भले व परोपकारी होते हुए भी एकल रहने पर मजबूर। बचपन से गूंगे-बहरे होकर भी एक कारखाने में काम करते थे। पर दो साल पूर्व वहाँ एक आग भड़क उठी और उस में फंस गया-दोनों पैर कटा एक मज़दूर। अपना फर्ज़ जानकार मित्तल साहब उसे बचा लाए। लेकिन ख़ुद बुरी तरह झुलसे, दोनों हाथ आगे चलकर septic हो जाने पर कटवाने पड़े। कृत्रिम हाथ लगवाए पर उनसे बहुत कम हलचल कर पाते थे, नमस्ते करना और हाथ मिलना मुहाल था। पीड़ा व्यथ्त समस्याएँ कैसे बांटें?

कुंठा के कुछ और रूप जानने को मिलते हैं डॉ॰ बलशौरि रेड्डी की कहानी ‘भूख-हड़ताल’ में। कथानक ‘मैं’ को प्रौढ़ शिक्षा संबंधी भाषण देने के लिए दोपहर तक मद्रास ज़रूर पहुंचाना है, पर सवेरे-सवेरे एस॰ टी॰ स्टैंड पर पहुंचे तो जाना कि सरकारी परिवाहन कर्मचारी आज हड़ताल पर उतरे हैं। क्यों? वेतन और मथ्यों में यथोचित वृद्धि की उनकी मांगें व्यवस्थापकों ने अमान्य जो कर दीं थीं।

इधर जहां लोगों की भीड़ जमा नहीं होती तब तक खरीदार नहीं मिलते, इसलिए एक लकड़हारा परेशान है। कहानी का पात्र ‘मैं’ उसे बच्चों को खिलाने के लिए कुछ रुपये देने लगा तो वह बोला-मैं भीख नहीं मांग रहा, और आज आप से ले भी लूँ तो कल क्या करूंगा।‘ मौसम या तबीयत ख़राब होने पर लकड़ी काट न पाएँ या बेच न पाएँ तो जेब व पेट खाली रह जाते हैं। इन हक़ीक़तों से समझौता करना ही पड़ता है क्योंकि भूख कभी हड़ताल पर उतरती नहीं।“

समाज में प्रसिद्धि व प्रतिष्ठा का अभाव भी किसी चिंतानन्द की कुंठा का कारण बन जाता है, जो पहुँच जाता है सुखानंद जैसे स्वामी के पास, यह पूछने कि –“हम महान कैसे बनें ?” ऐसे लोगों की कुंठा के काफ़ी इलाज सुझाते है डॉ॰ गिरिजशंकर त्रिवेदी इस कहानी में।

अपने अनोखे हंसी-व्यंगपूर्ण अंदाज़ में, जैसे नेता बन के अपने पुतले खड़े करवा के अमर हो जाना, समाज के सेवक/सुधारक कहलवाकर चंदों से अपनी कोठियाँ खड़ी करा देना, संपादकों की चापलूसी करके पुरानी पत्रिकाओं में से चुराई हुई रचनाएँ अपने नाम छपवाना और उन पर सार्थक चर्चा तथा परितोषिकों का जुगल करना, राजनैतिक हलाली करते हुए बिना फिटकरी के भी चोखा रंग ला पाना, वगैरह वगैरह ......!

आशा है कि मेरे ये परिचायक विधान पाठकों को प्रोत्साहित करेंगे, देवी नगरानी के इस अनुदित-संग्रह को पढ़ने के लिए । मुद्रित क्रम की बजाय उपयुक्त सिलसिले एवं दृष्टिकोण से पढ़ते हुए कथा रस का अस्वाद शायद और बढ़ जाय। साथ में मानव स्वभाव की सूज-बूझ, भाव-भावनाएँ, किस्मत के खेल ये सब तो उजगार होंगे ही।

और विशेषकर युवा पाठकों को तो इस अनुवाद की हुई सिंधी भाषा प्रयुक्त मात्रभाषा जैसे ही प्रतीत होगी। बेहिचक हिन्दी प्रयोगों का इस्तेमाल जैसे , अभिशाप, दलदल, परिचित, जिनके सिंधी शब्द हैं...सरापु, गपचिक, वाकिफ़ वगैरह। पर आजकल सभी भाषाएँ एक दूसरे से भी प्रभावित हो रही हैं। वे ज़िंदा रहें यही बहुत है। ख़ास करके सिन्धी भाषा, जिसे पूरे भारत में कोई प्रांत न होने से बड़ा खामिजाया उठाना पड़ा है और आगे तो अस्तित्व का खतरा भी मुंह उठाए खड़ा है। ऐन समय में अनुवाद के माध्यम से भाषाई दूरियों को समेट कर हिन्दी पाठकों के सामने देवी जी ने अपने मन के उद्गार व्यक्त करने की भरपूर कोशिश की है जिसके लिए उन्हें बधाई दिये बिना नहीं रह सकती। अनेक शुभकामनाओं के साथ:

समीक्षक : यशोधरा वाधवाणी काकड़ बिल्डिंग, नियर GPO फोर्ट, मुंबई-1 / Yashu2312@yahoo॰ com

पुस्तक नाम: बारिश कि दुआ (अरबी लिपि में)। अनुवादक: देवी नागरानी, पन्ने: 140, मूल्य:रु॰ 200, प्रकाशक स्कैन कम्प्युटर, 3 राधेश्याम apt, अहमदाबाद, 382340 ॰

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4039,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3001,कहानी,2254,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,541,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,96,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,345,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,67,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,28,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,242,लघुकथा,1248,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2005,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,709,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,793,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,17,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,83,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,204,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,77,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: पुस्तक समीक्षा - बारिश की दुआ
पुस्तक समीक्षा - बारिश की दुआ
http://lh3.ggpht.com/-dLGWq3u7PuQ/U507qSP82nI/AAAAAAAAYj4/i2GrE8HAWQo/image_thumb%25255B1%25255D.png?imgmax=800
http://lh3.ggpht.com/-dLGWq3u7PuQ/U507qSP82nI/AAAAAAAAYj4/i2GrE8HAWQo/s72-c/image_thumb%25255B1%25255D.png?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2014/06/blog-post_2059.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2014/06/blog-post_2059.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ