---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

श्याम गुप्त का आलेख - जीवन, जीव व मानव भाग-२.

साझा करें:

जीवन , जीव व मानव भाग-२. ( पिछले अंक से जारी …) प्रस्तुत प्रलेख के पिछले अंक भाग -१ में सृष्टि-रचनाक्रम के खंड ब... जीवन , जीव व मानव ....

जीवन, जीव व मानव भाग-२.

(पिछले अंक से जारी…)

प्रस्तुत प्रलेख के पिछले अंक भाग -१ में सृष्टि-रचनाक्रम के खंड ब...जीवन, जीव व मानव...पर आधुनिक वैज्ञानिक मत प्रस्तुत किया था | इस भाग में हम उपर्युक्त विषय पर वैदिक व भारतीय दर्शन सम्मत मत प्रस्तुत करेंगे |

वैदिक साहित्य के अनुसार सृष्टि का निर्माण- ब्रह्मा द्वारा किया गया | ऋग्वेद ४/५८ का कथन है........ “उद् ब्रह्मा शृंणवत्पश्यमानं चतुश्रंगो: वसादिगौर एतत |”

---अर्थात हमारे द्वारा गाये गए स्तवन ब्रह्मा जी श्रवण करें जिन चार ( वेद रूपी ) श्रंगों वाले गौरवर्णी देव ने इस जगत को बनाया |

१. मूल सृष्टि क्रम-- ब्रह्मा द्वारा सृष्टि का मूल संक्षिप्त क्रम चार चरणों में बनाया गया | प्रथम जड़-सृष्टि जिसे सावत्री परिकर कहते हैं व द्वितीय, तृतीय व चतुर्थ ..मनस्तत्व या चेतन-सृष्टि , जिसे गायत्री परिकर कहा गया | जिसमें भू:, ऊर्जा तत्त्व व भुवः, मनस्तत्व, संकल्प भाव-तत्व है | ये तीन चेतन हैं...१.द्वितीय -देव , जो सदा देने वाले हैं परमार्थ भाव युक्त--देव( वरुण, पृथ्वी, अग्नि,पवन आदि एवं बृक्ष (वनस्पति जगत....२.तृतीय....-मानव -आत्म बोध युक्त, ज्ञान कर्म पुरुषार्थ मय -पृथ्वी का सर्वश्रेष्ठ तत्त्व ...३) चतुर्थ -प्राणि जगत - प्रकृति के अनुसार सुविधा भाव से जीने वाले, मानव, वनस्पति व भौतिक जगत के मध्य संतुलन रखने वाले |
वस्तुत विज्ञान के अनुसार पहले पदार्थ होता है पुनः उसमे किसी तरह जीवन उद्भूत होता है | चेतन तत्व, भाव तत्त्व व रूप तत्वों की अवधारणा विज्ञान में नहीं है जबकि वैदिक विज्ञान में उससे आगे जाकर , चेतन तत्व की सदैव उपस्थिति की बात कही गयी है ; ब्रह्मा द्वारा भाव-तत्व, रूप-तत्वों की सृष्टि के बाद जीव-जगत बनाया जाता है एवं चेतन-तत्व, मूल आदि-ऊर्जा व भाव एवं रूप-सृष्टि में प्रवेश करके उसे जीव का रूप देतीं हैं, जो वनस्पति, प्राणी व मानव सभी में प्रवेश करती है । यह व्यवस्था (भूयज्ञ पुनः पुनः क्रमिक... चक्रीय क्रम में होती रहती है| यह भारतीय विज्ञान व दर्शन का विशिष्ट विचार है |  ऋग्वेद १०/ ४.७२ में कथन है...

भूर्जग्यो उत्तानापदो भुव आशा अजायन्त |

अदिर्तेदक्षो अजायत दक्षाद्वादिती परि ||

मूल आदि प्रवाह से भू....( मूल ऊर्ध्व प्रवाह ) की रचना हुई ...भुव.. होने की आशा से .....संकल्प शक्ति-चेतन.....का विकास हुआ ...अदिति..(मूल अखंड आदि-शक्ति)... सृजन के कुशलता युक्त ..... से प्रवाह दक्ष उत्पन्न हुए ....दक्ष से पुनः अदिति( अखंड प्रकृति – जग, संसार आदि )...उत्पन्न हुए |

२. भाव-सृष्टि की उत्पत्ति --जैसा पहले ही बताया जा चुका है कि भुव...चेतन तत्व....

शंभु व माया ( आदि ऊर्जा तत्व ) के संयोग से महत्तत्व( आदि व्यक्त तत्व ) बनता है और उससे अहं (जो वस्तुतः आदि सृष्टि भाव तत्त्व है | अहं के मूल तीन गुणों से ही सारे भाव-तत्व उत्पन्न हुए | अतः सत् , तम् , रज ये तीन गुण ही प्रत्येक वस्तु, भाव व क्रिया के गुण होते हैं | इसप्रकार---
----अहं के तामस भाव से -शब्द, आकाश,धारणा, ध्यान, विचार, स्वार्थ, लोभ, भय, सुख, दुःख आदि बनाए गए |
----अहं के राजस भाव से..... ज्ञानेन्द्रिया पांच -कान, नाक, नेत्र, जिव्हा,त्वचा आदि... पांच कर्मेन्द्रियाँ ..वाणी, हाथ, पैर, गुदा, उपस्थ व तैजस .... वस्तु का रसना भाव जिससे जल के संयोग से गंध, सुगंध बने|
----अहं के सत् भाव से—ग्यारवीं इन्द्रिय –मन...तथा. ५ तन्मात्राएँ- ज्ञानेन्द्रियों के भाव, शब्द, रूप, स्पर्श, गंध, रस एवं १० इन्द्रियों के अधिष्ठाता देव |
३. रूप-सृष्टि की संरचना --जीव व शरीर से पहले ही भाव-सृष्टि की तरह रूप- सृष्टि होती है | पुनः शरीर उत्पन्न होने पर वे सब उसमें प्रवेश करते हैं, यह भी वैदिक ज्ञान का विशिष्ट पहलू है । ब्रह्मा के स्वयं के विविध भाव, रूप, गुण, शरीर व शरीर त्याग से क्रमिक रूप में अन्य विविध सृष्टि रचना हुई । इसे विज्ञान की भाषा में कह सकते हैं कि ब्रह्मा के ज्ञान, मन व संकल्प शक्ति के अनुसार क्रमिक विकास होता गया ।---
---तमोगुणी--सोते समय की सृष्टि जो अज्ञानी तिर्यक , भोगी, इच्छा-वशी, क्रोधी, विवेक शून्य, भ्रष्ट आचरण वाले-पशु-पक्षी-पुरुषार्थ के अयोग्य ।
--सत्व गुणी--देव, ज्ञानवान, विषय प्रेमी, दिव्य-परन्तु पुरुषार्थ के अयोग्य ।
-- -रज़ो गुणी--तप साधना भाव में-मानव की रचना -जो अति विकसित प्राणी था, साधनाशील, साधनशील, क्रियाशील, तीनों गुणों से युक्त सत, तम, रज़ कर्म व लक्ष्योन्मुख, सुख दुख रूप, द्वन्द्व युक्त, श्रेय प्रेय के योग्य, ब्रह्म का सबसे उत्तम साधक ।

---मानव की कोटियों में---ब्रह्मा के तम भाव देह से- आसुरी-प्रवृत्ति, जानु से वैश्य भाव, चरण से शूद्र भाव, उस देह के त्याग से अज्ञान भाव रात्रि व सत्व भाव देह से--मुख से ब्राह्मण भाव, पार्श्वसे पितृगण व सन्ध्या भाव, इस देह के त्याग से दिन ...उज्वल ज्ञान भाव से रज़ो भाव देह से -काया से काम व क्षुधा भाव, वक्ष से क्षत्रिय व क्षात्र भाव, शौर्य, इस देह के त्याग से -उषा व उषा भाव । अन्य विशिष्ट कोटियां--ब्रह्मा के प्रसन्न भाव -गायन-वादन में- गन्धर्व,  अन्धेरे में-राक्षस,यक्ष आदि भूखी श्रिष्टि, क्रोध में क्रोधी व मान्साहारी, पिशाच आदि बने । पांच मुखों से ---चार से वेद—ऋक, यजु, साम, अथर्व ; गायत्री, ब्रहत्साम, जगती छंद, वैराग्य व पन्चम मुख से आयुर्वेद तत्पश्चात---ब्रह्मचर्य, ग्रह्स्थ, बानप्रस्थ, सन्यास चार आश्रम, कर्म बिमुख लोगों के लिये-नर्क आदि का दन्ड विधान । (यह ब्रह्मा का क्रमिक विकास -विधान है, मानव का ज्ञान-अज्ञान आदि से जैसा भाव होता गया वैसा ही प्राणी भाव बनता गया ।( शायद विज्ञान के गुण सूत्र, क्रोमोसोम, हेरीडिटी, स्वभाव का क्रमिक विकास .......|

. जीवन विज्ञान के अनुसार जीवन बाहर से आया विकसित हुआ,( देखें भाग १..).. इसके विपरीत.. वैदिक -मत के अनुसार-चेतन ब्रह्म सदैव ही उपस्थित रहता है-अव्यक्त-- भुव: रूप में और व्यक्त होकर माया से संपृक्त होकर ब्रह्मा द्वारा बनाये शरीर में भाव रूप सृष्टि के अनुसार प्रविष्ठ होकर जीवन की उत्पति करता, जीव बनता है।

. जीवजीवन-वर्धन, सन्ततिवर्धन-, लिन्ग-चयन, एवं स्वचालित मैथुन प्रक्रिया- ब्रह्मा ने समस्त प्राणियों, देव, असुर, वनस्पति के साथ ही मानव का निर्माण किया, यह सृष्टि की सर्वश्रेष्ठ कृति थी जिसे सभी पुरुषार्थ ,धर्म, अर्थ, काम व मोक्ष ) के योग्य पाया गया | यह क्रम इस प्रकार था-
----अ. मानस सृष्टि – केवल विचार मात्र से ...

----ब. संकल्प सृष्टि – सृजन के संकल्प द्वारा
----स. काम संकल्प सृष्टि—कामभाव युत केवल संकल्प द्वारा
----द. मैथुनी (माहेश्वरी ) प्रजा...... स्त्री-पुरुष के वास्तविक शारीरिक समागम से ...

क्रमशः इस प्रक्रिया से .........
. सर्वप्रथम ब्रह्मा ने - सनक,सनंदन ,सनातन सनत्कुमार --चार मानस पुत्र बनाए, जो योग साधना हेतु रम गए।
- पुनः संकल्प से नारद, भृगु, कर्म, प्रचेतस, पुलह, अन्गिरिसि, क्रतु, पुलस्त्य, अत्री, मरीचि --१०

प्रजापति बनाए..
.-पुनः संकल्प द्वारा.... पुत्र- भृगु, मरीचि, पुलस्त्य, अंगिरा, क्रतु, अत्रि, वशिष्ठ, दक्ष, पुलह.. एवं -९ पुत्रियां --ख्याति, भूति , सम्भूति, प्रीति, क्षमा, प्रसूति आदि उत्पन्न कीं |

यद्यपि ये सब संकल्प द्वारा संतति प्रवृत्त थे परन्तु कोई निश्चित, सतत स्वचालित प्रक्रिया क्रम नहीं था ( सब एकान्गी थे--प्राणियों वनस्पतियों में भी ), अतः ब्रह्मा का सृष्टि क्रम कार्य समाप्त नही हो पा रहा था |

--ब्रह्मा ने पुनः प्रभु का स्मरण किया--- तब अर्ध- नारीश्वर ( द्विलिन्गी) रूप में रूद्रदेव जो शम्भु- महेश्वर माया का सम्मिलित रूप था, प्रकट हुए। जिसने स्वयम को --क्रूर-सौम्या; शान्त-अशान्त; श्यामा-गौरी; शीला-अशीला आदि ११ नारी भाव एवम ११ पुरुष भावों में विभक्त किया। रुद्रदेव के ये सभी ११-११ स्त्री-पुरुष भाव सभी जीवों में समाहित हुए, इस प्रकार काम सृष्टि का प्रादुर्भाव हुआ।

लिन्ग चयन ----11-स्थायी भाव.....जो अर्धनारीश्वर भाव में उत्पन्न हुए ...क्रमश: ...१. रति, २. हास, ३. शोक, ४. क्रोध, ५. उत्साह, ६. भय, ७. घृणा, ८. विस्मय,  ९.निर्वेद,. १०. संतान प्रेम, ११. समर्पण।. इस प्रकार काम- सृष्टि का प्रादुर्भाव हुआ। जो आगे स्वचालित सतत-सृष्टि का उपक्रम बना।
.जीव-सृष्टि --- ब्रह्मा ने स्वयम के दायें-बायें भाग से मनु शतरूपा को प्रकट किया, जिनमे रुद्रदेव के ११-११ नर-नारी- भाव समाहित होने से वे प्रथम मानव युगल हुए। वे मानस, सन्कल्प व काम सन्कल्प विधियों से सन्तति उत्पत्ति में प्रव्रत्त थे, परन्तु अभी भी पूर्ण स्वचालित प्रक्रिया नहीं थी।

-----पुनः ब्रह्मा ने मनु की काम सन्कल्प पुत्रियां आकूति प्रसूति-को दक्ष को दिया। दक्ष को मानस-सृष्टि फ़लित नहीं थी अतः उसने काम-सम्भोग प्रक्रिया से ५००० १०००० पुत्र उत्पन्न किये,परन्तु सब नारद के उपदेश से तपस्या को चले गये । दक्ष ने नारद को सदा घूमते रहने का श्राप देदिया।
-पुनः------- दक्ष ने प्रसूति के गर्भ से -सम्भोग, मैथुन जन्य प्रक्रिया से ६० पुत्रियों को जन्म दिया, जिन्हें सोम, अन्गिरा, धर्म, कश्यप व अरिष्ट्नेमि आदि ऋषियों को दिया गया जिनसे मैथुनी क्रिया द्वारा, सन्तति से आगे स्वतः क्रमिक सृष्टि-क्रम चला, चल रहा है। अतः वास्तविक सृष्टि-क्रम दक्ष से माना जाता है।
-- प्रथम मैथुनी क्रम प्रसूति से चला अतः गर्भाधान को प्रसूति एवं जन्म को प्रसव कहा जाता है।
-- शम्भु महेश्वर, इस लिन्गीय चयन व निर्धारण व काम-सम्भोग स्वतः उत्पत्ति प्रणाली के मूल हैं अतः इस सृष्टि को "माहेश्वरी प्रज़ा या सृष्टि " कहाजाता है।

भला जब तक नारी-भाव की उत्पत्ति होती स्वतः सृष्टि-क्रम कैसे पूरा हो सकता था??

७.मानव के अतिरिक्त अन्य प्राणियों का जन्म-----कश्यप ऋषि से उनकी विभिन्न पत्नियों से हुआ--महर्षि कश्यप ब्रह्मा के मानस पुत्र मरीचि के पुत्र थे इस प्रकार ब्रह्मा के पोते हुए | महर्षि कश्यप ने ब्रह्मा के पुत्र प्रजापति दक्ष की कन्याओं से विवाह किया | संसार की सभी जातियां इन्ही की संतानें मानी जाती हैं| कथनानुसार इन पूर्व मानवों को विविध रूप धारण करने की कला आती थी अतः जिस जिस रूप में नारी भाव ने रूप धारण किया उसी के अनुरूप पुरुष रूप भाव धारण करके गर्भाधान से विविध प्राणियों का जन्म हुआ | इसी कारण कश्यप की पत्नियों को लोकमाता भी कहा जाता है उनकी संतानें इस प्रकार हैं------

१.अदिति से.... आदित्य ...अंश हैं १२-देवता –अर्यमा , भग, मित्र, वरुण, पूषा, त्वस्त्र, विष्णु, विवस्वत, सावित्री, इन्द्र और धात्रि या त्रिविक्रम बामन भगवान् .....

२-दिति से....दैत्य और मरुतादिती के --पहले दो पुत्र हुए हिरण्याक्ष और हिरण्यकश्यप ..इनसे सिंहिका -एक पुत्री-- --इनकी विष्णु के नरसिंह अवतार द्वारा मृत्यु के बाद पुनः दिति ने महर्षि कश्यप द्वारा गर्भ धारण किया|-- इन्द्र ने इनके गर्भ के सात टुकड़े कर दिए जिससे सात मरुतों का जन्म हुआ | इनमें इंद्र के साथ चार-- एक ब्रम्ह्लोक, एक इन्द्रलोक और एक वायु के रूप में विचरते हैं......

३-दनु से... दानव .....कुल ६१ थे...

४-काष्ठा से... (या वडवा ) ----अश्व और अन्य खुर वाले पशु. गधे, ऊंट खच्चर, 

५-अनिष्ठा से... (या भद्रा) गन्धर्व या यक्ष जाति. ये उपदेवता माने जाते हैं | ये संगीत के अधिष्ठाता भी माने जाते है ये मुक्त स्वभाव के माने जाते हैं | गन्धर्वों या यक्षों में कुबेर और चित्रसेन के नाम बहुत प्रसिद्ध है |

६-सुरसा से.. (या सन्ध्या ).. राक्षस जाति ..जाति विधान और मैत्री में विश्वास नहीं रखती और चीजों को हड़प करने वाली मानी जाति है ....दैत्य, दानव और राक्षस जातियां एक सी लगती जरुर हैं लेकिन उनमे अंतर था | दैत्य जाति अत्यंत बर्बर और निरंकुश ह्त्या व लूटपाट से अपना जीवन बिताते थे तथा मानव मांस खाना इनका शौक होता था| दानव व राक्षस इन जातियों की अपेक्षा अधिक संस्कारी और शिक्षित व विद्वान् होते थे |

७-इला (या जांगल) से..--वृक्ष और समस्त वनस्पति ....

८-मुनि से (या वृत्ता) ....समस्त अप्सराएं, विध्याधर, किन्नर| ये स्वर्गलोक की नर्तकियां, गायक कहलाते थे जिनका काम देवताओं का मनोरंजन करना और उन्हें प्रसन्न रखनाथा --- उर्वशी, मेनका, रम्भा एवं तिलोत्तमा इत्यादि कुछ मुख्य अप्सराएँ हैं |

९-क्रोधवषा (क्रोधाविष्ठा) से..सर्प जाति, बिच्छू और अन्य विषैले जीव और सरीसृप, जन्गली जानवर |

१०-सुरभि से.. (स्वोषा कामधेनु) (सम्पूर्ण गोवंश (गाय, भैंस, बैल इत्यादि इसके अलावा ११ रुद्रों का जन्म ... रुद्रों भगवान शंकर के अंशावतार माने जाते हैं . भगवान शंकर ने महर्षि कश्यप की तपस्या से प्रसन्न होकर उन्हें अपने अंशावतार के पिता होने का वरदान दिया था. वे हैं: कपाली, पिंगल, भीम, विरूपाक्ष, विलोहित, शास्ता, अजपाद, अहिर्बुधन्य, शम्भू, चंड एवं भव

११-सरमा से.... हिंसक और शिकारी पशु, कुत्ते इत्यादि. कुत्ते-बिल्ली वंश

१२-ताम्रा से.. (श्येनी-, ग्रधी, क्रोन्ची) गीध, बाज और अन्य शिकारी पक्षी. -----

१३—तिमि से.. - (धतराष्ट्री,) मछलियाँ और अन्य समस्त मैढक, मत्स्य, जलचर

१४-विनता से... अरुण और गरुड़…. अरुण सूर्य के सारथी बने और गरुड़ भगवान विष्णु के वाहन.

१५—कद्रू से... समस्त नाग जाति.... कद्रू से १००० नागों की जातियों का जन्म हुआ इनमे आठ -- |मुख्य नागकुल चले ......वासुकी, तक्षक, कुलक, कर्कोटक, पद्म, शंख, चूड, महापद्म और धनञ्जय... सर्प जाति और नाग जाति अलग अलग थी.... सर्पों का मतलब जहाँ सरीसृपों की जाति से है वहीँ नाग जाति उपदेवताओं की श्रेणी में आती है जिनका उपरी हिस्सा मनुष्यों की तरह और निचला हिस्सा सर्पों की तरह होता था..जो पाताल में निवास करती है एवं ..सर्पों से अधिक शक्तिशाली, लुप्त और रहस्यमयी मानी जाती है|

१६—पतंगी से.. (शुकी)- पक्षियों की समस्त जाति...

१७ –यामिनी...से कीट पतंगों की समस्त जाति.

१८- वारुणी एरावती से ..गज,वराह, दिग्गज़,

इसके अलावा महर्षि कश्यप ने वैश्वानर की दो पुत्रियों पुलोमा और कालका के साथ भी विवाह पुलोमा से पौलोम दानव वंश चला और कालका से ६०००० दैत्यों ने जन्म लिया जो कालिकेय कहलाये रावण की बहन शूर्पणखा का पति विद्युत्जिह्व भी कालिकेय दैत्य था जो रावण के हाथों मारा गया था.....|

--------इस् प्रकार ब्रह्मा का सृष्टि-क्रम संपूर्ण हुआ । ---यह क्रम सदैव संपूर्ण रहता है क्रमिक लय...सृष्टि ...प्रलय के क्रमानुसार क्योंकि ब्रह्म सदैव पूर्ण है .....

"ओम पूर्णमद: पूर्णमिदं पूर्णात पूर्णमुदच्यते।

पूर्णस्य पूर्णमादाय पूर्णमेवावशिष्यते॥"

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 1
रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4039,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2999,कहानी,2253,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,540,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,96,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,345,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,67,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,28,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,242,लघुकथा,1248,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2005,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,707,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,793,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,17,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,83,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,204,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,77,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: श्याम गुप्त का आलेख - जीवन, जीव व मानव भाग-२.
श्याम गुप्त का आलेख - जीवन, जीव व मानव भाग-२.
http://lh4.ggpht.com/-aWX1dzhr4XU/U2NqWcVrMuI/AAAAAAAAYLI/2-f6k2XoPQ8/image_thumb.png?imgmax=800
http://lh4.ggpht.com/-aWX1dzhr4XU/U2NqWcVrMuI/AAAAAAAAYLI/2-f6k2XoPQ8/s72-c/image_thumb.png?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2014/06/blog-post_5096.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2014/06/blog-post_5096.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ