---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

शेषनाथ प्रसाद श्रीवास्तव की लंबी कविता - पल्लवन

साझा करें:

           पल्लवन                   रचयिता             शेषनाथ प्रसाद श्रीवास्तव                   पार्वतीपुरम, गोरखपुर              ...

           पल्लवन

image


                  रचयिता
            शेषनाथ प्रसाद श्रीवास्तव

 

 

              पार्वतीपुरम, गोरखपुर

 

 

             पल्लवन
        ऑंखों में तरंगित प्रकृतिस्पर्शी छवि का पल्लवी स्फुरण
                          सन् 1964

 

 


                 पल्लवन
                                                    परिचय 
       अरुणिम  संध्या  का  पुष्ट प्रहर
          अनुस्वन  प्रशांति  द्योभूमि- प्रसर
          सुख  लूट  रहा था सहज सरल
          रोहिन- अचिरा- संगम-तट  पर।1।

          उठ   रहीं  उर्मियाँ  स्वर्ण-शमन
          दृगस्वप्न त्वरित मृदु पलक-शयन
          कल्पना  पर्त  पर  पर्त   विरल
          मृदु  उभर  रही  द्रू-स्रोत  तरल।2।

          रवि रक्त-क्षितिज-आश्लिष्ट प्रतनु1
                      क्रोड़स्थ  प्रिया  नत  नयन अतनु
          लघु  मेघ  खंड  नभ  रश्मिप्रवर
          उत्कीर्ण  नीलमणि- कला  अमर।3।
         1. सूक्ष्म


          आवर्त  ज्योति  के  अरुण गहन
          दृग  में  अमूर्त  मृदु चिंत्य-चरण2
          थे  सिमट  रहे ज्यों शक्ति प्रणव
          बढ़  रहा  शनैः था तिमिर विभव।4।


          थीं   पुरी   द्रुमों  पर  स्वर्ण-रेख               
          रवि लिखा प्रकृति का  वरण-लेख
          थी अरुण क्षितिज पर कृष्ण-सरणि
          हो  टिकी  श्रांत ज्यों भग्न तरणि।5।

          दिन  की  अशेष  भू तपी श्रमित
          छोड़ती  श्वास-क्रम  शुष्क शमित
          अब   शांत  हुई  मृदु  मंद  मंद
          था  सुखद पवन  शीतल स्वच्छंद।6।

          नभ  से  विशीर्ण-तन  तपन-तप्त
          द्रुत  लौट  रहे  थे  पंखि  स्वल्प
          ध्वनि  डूब  रही  थी त्वरण-शांत3
          नीरव   प्रसार   में   शनैः  क्रांत।7।
         
            2.चिंतनीय चरण में अर्थात मद्धिम  3.जिसकी त्वरा शांत हो चुकी हो
          मृदु  मधुर  मधुर  संपूर्ण   प्रकृति
          शुचि  शांत  हुई  शीतल  स्निग्ध
          हो गई  सृष्टि  थी  सरस   सरल
          भाविनी   तरल   कल्पना  सजल।8।

          शशि  पूर्व क्षितिज में  पीत अरुण
          उग  रहा  मुखर था  मौन  करुण
          पा सरस  स्निग्ध  स्वर्स्पर्श, सलज
          उठ  रही  क्रोड़  से  प्रिया जलज4।9।
                                                4. कमलिनी


        खुल  रही  पँखुरियाँ  सरणि-शेष
          ज्यों   त्याग   नर्तकी   नृत्य-वेश
          मृदु  एक - एक कर  स्वर्ण-चीर
          कर  रही  प्रदर्शित  कला रुचिर।10।

          क्षिति-गगन-संधि शशि उदित प्रमन
          ऋजु तरुणि-स्मिति-रद स्वर्ण-शमन
          उग  रही  कुमुदिनी अरुण  मधुर
          जल  फोड़  मृदुल पत्रांक प्रचुर।11।


        थी विपुल स्वर्ग-श्री दृष्टि-निखर
          पल  पल  निसर्ग परिवेश अपर5
          मृदु-सरण मूक गति दृष्टि-विरल
          शशि था प्रसन्न नभ मध्य विमल।12।
                                             5. बदलता हुआ
       
          छिंट  गई  शुभ्र  चाँदनी  सुभग
          ज्योत्स्ना  विपुल  स्वर्स्पर्श  उमग
          झर पड़ी ज्योति मृदु  मूक त्वरिल
          शफरी - प्रकंप  पत्रांक - सरिल6।13।
                                      6. पत्तों के ऊपर तैरता जल
       
          बिछ  गई  विभा  रेशमी  धवल
          चल  चमक उठा आकुंचित जल
          शुचि शुभ्र पुलिन पर शयित प्रमन
          मन  नाच  उठा लख दृश्य गहन।14।

        
          नभ  की  अनंत  ज्योत्स्ना  सुघर
          नव  ज्योति-शीर्ष  चेतना   प्रखर
          मृदु  उतर  रही  उर  में  सवर्त
          मन को प्रसन्न  तिर्यक  तर कर।15।


           लघु तरणि सौम्य-सृति7 मंद प्रमुद
           तिर  रही  सुघर थी मंद  फुदक
           थी  खुली  पाल  सुंदर  स्निग्ध
           ज्यों  फड़क  रहे हों पर सुबिद्ध।16।
                                        7. सौम्य गति से

           सृति8 थी  सुरम्य उसकी अभग्न
           सुंदर  प्रफुल्ल  निज  में प्रमग्न
           चुग  रही  मनो  हंसिनी सुभग
           मृदु-सरण9 असन कंकड़ी अपग।17।
                   8. गति  9.धीरे धीरे सरकती हुई


         यों  दृष्टि  मेरी  पैठी   अपन्न
           सौंदर्य -स्रोत- तल  में  प्रसन्न
           उड़  उड़  अमंद श्री रजत वर्ण
           थी  समो  रही  दृग में अपर्ण।18।

           मैं  था  अचेत  निस्पंद प्रमित
           सोया  निसर्ग  में  स्वप्नजड़ित
           ज्यों डूब  रही हो तरणि श्रांत
           निस्पंद  ताल  में  उर  प्रशांत।19।

           कि इसी समय  आ गया एक
           उज्ज्वल तुषार  लघु प्रमुद मेघ
           उन्मिलित ज्योति लख राहुग्रस्त
           उठ गईं  तुरत  पलकें  अपर्ण।20।

           छिप धवल मेघ में शशि सुरम्य
           शोभने  लगा  ले  श्री  अदम्य
           ज्यों  शुभ्र  सरोवर  में अकीर्ण
           शिति-प्लात्य-कमल10 सौरभविकीर्ण।21।
                            10. जल की सफेदी में डूबा हुआ कमल

           या  सुमन  छोड़ने   को  सहर्ष
           अंजलि  सुअर्घ्य  प्रिय-प्रेम-कर्ष
           शुभ डाल  लिया  हो प्रिया चीर
           पलकें  प्रसन्न  सस्मिति  अधीर।22।

           शीघ्र  ही  किंतु  यह  चीर वरण
           प्रिय प्रथम मिलन का सलज चरण
           मृदु खींच लिया  उर-त्वरण-त्वरित11
           मुख शुभ्र  कमल द्युत नील सरित।23।
           11.हृदय की धड़कन की त्वरा से भरा

           
       
           यह दृश्य सजल मृदु  मौन मुखर
           सुकुमार स्वर्ग-श्री  सौम्य  सरल
           रवि-प्रथमरश्मि-सा स्वर्ण-सरणि
           उर-भूमि  उतर  त्वर हुई तरणि।24।

           उग  गई  एक  ही  साथ रम्य
           मृदु  प्रतनु  भावनाएँ   असंख्य
           फूटने   लगी,   ज्यों   पद्मपूत
           उर-तरल-भूमि   से   समुद्भूत।25।

           खिल लगी होने श्री-भार-विनत12
           प्रस्फुटित  कमल  पंखुड़ी सदृश
           उज्ज्वल   तुषारमय   मनोभूमि
           रंग   गई    पल्लवीप्रात-भूमि।26।
                                12. सौंदर्य के भार से झुकी हुई

           सहसा   स्पर्श-सी  तन्वि तड़ित
           मुदु चमक गई कृश मौन जड़ित
           त्वर  पसर गई छँट स्वर्ण-शमन
           बालिका  एक लख पड़ी प्रमन।27।
           
           वह  थी  सुवर्ण श्री दिव्य सृष्टि
           शुचि मंद स्मिति नत मधुर-दृष्टि13
           थी  गहन सृक्व-द्वय14 रेख-जुड़ी
           पल्लव -स्नायु -लालिमा   भरी।28।
              13. मधुर दृष्टि वादी  14. अधरों के दोनों ओर पड़ते गड्ढे           

           थीं सरल सजल द्युति समुद कीर्ण
           सामने    मंद    सौंदर्य   शीर्ण
                    मुख- स्वर्ण- सरोवर  में  प्रशांत
           थे शुभ्र  कमल15 दो  मुखर कांत।29।
                   15. चक्षु रूपी (कमद)

           वह  शरद  हासिनी  सी  प्रफुल्ल
           थी  श्री-समाधि  में निभृत फुल्ल
           तुल  रही  प्रकृति-श्री थी असीम
           द्रुति-स्मिति16 अधर पर प्रमन पीन।30।
                  16. गतिमान हास
     
           थी  ढुलक  रही ज्योत्सना  प्रवण
           मुख  पर हिमाद्रि से  बर्फ-स्रवण
           रवि अरुण  अधर में स्वर्ण-मुखर
           हो  मनःभूमि   में  उदित  प्रखर।31।

           मुख  अमित कांत,  पीली पवित्र
           साड़ी  सुरम्य   में  सजल  चित्र
           प्रस्फुटित सदल ज्यों स्वर्ण कमल
           सज्जित  पंखुड़ी   पीत  उज्ज्वल।32।
 

           थीं  त्वरित  रम्य  तन  पर  अमंद
           मृदु ज्योति-स्निग्ध शशि-किरण-बंद
           बन   जाय  सुभग  पद्मक-प्रतिष्ठ17
           उस  मधुर तरुणि का  चीर श्लिष्ट।33।
              17. पद्मों के व्यूह में प्रतिष्ठा पाकर

           प्रभ  टपक   रही तन से स्निग्धि
           माधुर्य-स्रवण  शिशु  की समृद्धि
           द्रुमदल सुवर्ण  मृदु  लता-श्लिष्ट
           तन्वंगि   सुभग   तापसी   मृष्ट।34।

           मृदु  मंद  मंद  था  मधुर पवन
           मंथरित  स्वप्न-सृति18 उर्मि-प्रमन
           नभ के  तरंग-जल  में  सर्पिल
           शत पुष्प मुखर छायाभ त्वरिल।35।
             18. स्वप्न की गति

         दृग के  अपर्ण  सर  में सवर्त
           त्वर थे  अमूल यों  स्वप्न पर्त
           उड़ उड़ अमंद अविदित प्रवाह
           भर रही  प्रकृति सुषमा अथाह।36।

           पर इसी समय शुचि श्लक्ष्ण स्पर्श
           अनुभूत   हुआ  एक  स्वप्न-कर्ष
           अनिमिष   एकांत शशि पूर्ण पीन
           त्वर त्वरिल हुआ सर-सरिल19लीन।37।
                        19. सरोवर क ेजल में

           मृदु टूट गया  वह  स्वर्ण स्वप्न
           मधु  विखर गई  अनुभूति नग्न
           त्वर   उतर गई उर में   सुमधुर
           सस्नेह-सृप्र20 त्विषि21तरल  प्रचुर।38।
                 20. स्नेह से चिकना   21. किरण, प्रभा

           स्वर्गिक सुरम्य क्षण आत्म-प्लवन
           निर्वाध   निमज्जन  सुधा स्रवण
           मृदु गलित  हुआ पर  नव प्रकर्ष
           पा  मुड़े  चक्षु  ऋजु  यह सहर्ष।39।


           कँप किंतु एक द्युति दिव्य ज्वलित
           निखरी  प्रकांति   में  हुई  प्रमित
           रह  गई  खुली की  खुली  दृष्टि
           अपलक अकंप  लख दिव्य सृष्टि।40।


           झर  गई   ज्योति  तेजस्वि  प्रखर
           उर  में   अमूर्त   प्रतिरंध्र   प्रभर
           चिद्-भरण22प्रतनु त्विषि तन्वि मधुर
           मन  में  प्रवेश  कर  गई  प्रचुर।41।
                    22. चेतना को भरने वाली अर्थात प्रसन्न करेवाली

         हो  उठे  प्राण   द्युलोक-द्युतित
           बह  चली  स्रवंती  सुधा भरित
           श्री-भार-भरित  उर  मंद त्वरण
           गतिमान हुआ  कर  बोध वरण।42।
    
           दृग  के  अस्पष्ट  तम में  प्रदीप्त
           नत स्वर्ण कमल ज्यों ज्योति सरित
           तट पर  सुवर्ण-श्वसि  उषा स्वर्ण
           कर-कलश ज्योति-भर नवल पर्ण।43।


           दिपती अवर्ण्य  क्षण में प्रवीण
           अब हुई स्पष्ट निज रूप लीन
           मृदु  नवलरुधिर पत्रिणी सदृश
           द्युत मधु समक्ष थी एक सुभशि।44।

           वह थी स्निग्ध नव वय किशोरि
           पल्लवी-प्राण    यौवन-विभोरि
           मृदु मंद स्मिति   स्फुटित अधर
           खिल रही स्वर्ण नव कली प्रवर।।45।

           प्रभ टपक रही दुति सहज सरल
           ज्योत्सना-मुग्ध शिशु-पुलक-तरल
           स्वर्-शुभ्र  स्वर्ण-सरि  में विनम्र
           थी  खड़ी  स्निग्ध  तिर्यक निरभ्र।46।

           यों क्षणिक काल तक मन प्रसन्न
           दृग  रहे  युग्म   कर्षित  अपन्न
           मृदु  अमृत   रूप  पीते  प्रमग्न
           नत  हुई  पलक  फिर प्रेम मग्न।47।


         थे  मूक  उभय  पर  मौन  मुखर
           था हृदय   त्वरित  प्रस्फुट्य  उभर
           मुड़  मुड़  अमंद  थे नेत्र  मिलित
           मृदु  फड़क रहे  मृदु अधर प्रमित।48।

           कर  भंग  अंत   में  मौन  सलज
           अपलक  मनोज्ञ हो विरल   सहज
           मृदु  फूट   पड़ी   वाणी,  समग्र
           उर  का   समेट   आवेग   व्यग्र।49।

           अयि शुभसि! सुमनसुकुमारि  शुभे!
           कृश-लता-नम्र    तन्वंगि    विभे
           तुम  कौन   रूप  की  प्रतनु-रेख
           अंकित  सुवर्ण  सी  छवि  विशेष।50।

           तुम प्रकृति-काव्य की प्रथम पंक्ति
           हिम-स्रवित-सरित   रेखांक  दंशि
           नव  कमल  डाल सी झुकी मिली
           तुम  कौन  स्वर्ण-प्रस्फुट्य  कली।51।


           लगती  कृशांग  मृग  सी  सशंक
           मृदु  सरस सुरभि की द्रवित अंक
           तुम  खींच  रही  मम मृदुल प्रान
           शशि की अनंत  त्विषि सी अजान।52।

           अयि सुमुखि! शुभ्र ज्यात्सना-विमल
           झर  रही  शरद-पर्वणी23!  सजल!
           कर  रही  सुमन  मन  प्राण सरस
           मधु  मदिर  नयन  से अमृत वरस।53।
                       23. शरद ऋतु की पूर्णिमा

           अयि सुभगि! कौन तुम प्रकृति-विरल
           कृश स्वप्न-क्षितिज की तरुणि सरल
           ज्यों  उतर   रही  हो   स्वर्ग-सरित
           मृदु   शक्ति शील   सौंदर्य  भरित।54।

           लग  रही  प्रथम  सरि-उर्मि  सदृश
           गति-वक्र प्रमित चल-प्रवह24 अनिश25
           मृदु  खोल  मधुर  मुख  देख सुहृद
           शशि  पूछ  रहा  तुम  कौन समुदि!।55।
           24. उच्छल और प्रवहमान    25. अनवरत


           तन्वंगि  देव-सरि  की  उर्मिल
           लघु लोल लहर में प्रश्न-स्वरिल
           दिक् रजत पुलिन कण पूछ रहे
           तुम  कौन  अमृत स्रोतस्वि शुभे।56।

         मुख पर अदम्य तापसी ज्योति
           मुखरित सुवर्ण  अनुपाय द्योति
           त्वर उबल रही  उर में सघूर्णि
           एक  प्रश्न भरी औत्सुक्य उर्मि।57।

           अयि प्रवरि!ज्योति की तन्वि विभा
           द्रू-तड़ित-वक्र   कृश   मेघ-प्रिया
           तुम  मौन   मनोरम  छवि  अशेष
           द्रू-पलक-धन्वि26  उद्ग्रीव   त्वेष27।58।
                 26. सुनहरी धनुषाकार पलकों वाली 27. उमंग

           तुम  कौन  मनोरम  सौम्य  प्रशम
           विधि की अपूर्व छवि सृष्टि सुसम
           मुख  की  प्रकांति में विरल-चरण
           ढुलती   तुषार-श्री  स्निग्ध  प्रवण।59।


           वह दिव्य रमणि इस तरह  स्रवण
           निस्पंद  रही  करती  कुछ  क्षण
           फिर मधुर ज्योति-उर सुधा-स्रवणि
           बोली    सुमंद   स्फटिक-अरुणि।60।

           प्रिय प्राण! झुके कह नेत्र युगल
           दो  हुए  कमल-संपुटित  अपल
           त्वर  दौड़  गई  लालिमा मृदुल
           मधुरिम  कपोल  पर पुष्ट पृथुल।61।

           फिर उठी सुभग  पलकें सुपन्न
           कँपती सुमंद झर  स्निग्ध प्रमन
           निज सरस गिरा में अमृत घोल
           मुखरी  सलज्ज  सस्मित सरोज।62।

           तुम प्राण-पुष्प प्रिय आत्म अ-पर
           तिरते   असीम  आंखों  में  पर
           उर  के  अनंत  जल  में प्रसन्न
           खिल  रहे कमल सा मन-प्रच्छन्न।63।


           शशि सी प्रफुल्ल मैं  समस्तित्व
           उर्वरि  प्रसन्न  भू-प्रभा  द्वित्व
           मणिमय स्पर्श की  मृदुल वायु
           मृदु सुरभि प्राण  पल्लव-स्नायु।64।

           ओ स्वर्ण-श्वसन कल्पक अमूर्त
           मैं   हृदय-प्रेरि   प्रेयसी   मूर्त
           कह  मौन हुई वह विनत प्रवरि
           दिपती    अमंद   सौंदर्य-प्रभरि।65।

         सुन सरल सजल अभ्रक-सुपर्णि
           स्फटिक-शुभ्र  की  गिरा वर्णि
           संपुटित  प्राण   ज्योत्सना-सृप्र28
           प्रस्फुटित  हुआ  ज्यों उषा-सृप्र29।66।
            28. ज्योत्सना की स्निग्धता में 29. उषा की स्निग्धता में       

           द्रुत  दौड़  गया  पल्लवी रुधिर
           धमि में,  स्पर्श-मुख-त्वरा-सुषिर30
           अनिमिष अवाक ध्वनि फूट पड़ी
           मुख से अकल्प  झर स्वर्ण लड़ी।67।
                  30. मुख के स्पर्श (हवा) की त्वरा से

           दिव्ये! तरंगि! सुषि-बंद31प्रकृति
           पंखुरित   पद्म  प्रत्यूष-सुकृति
           क्षण का प्रकर्ष परिचय अमूर्त
           लग   रहा   चिरंतन   प्रेमपूर्त।68।
                  31. सूराखों में बंद

           खिंच रहा हृदय पल पल अजान
           उठ  रहे  मधुर  मधु भरित गान
           मृदु  फूट  रहे   उर  में  सहस्र
           नव  स्वर्ण पद्म  सज  हरित पत्र।69।

           लख तव अपूर्व छवि मुख प्रसन्न
           उर्वर  प्रशांत  प्रभ  दिङ्प्रच्छन्न
           उर  के  अदृश्य क्षिति से नवीन
           उगता  सुवर्ण  रवि   पुष्ट  पीन।70।

           सचमुच  स्नेहि  तुम  करोत्पन्न32
           पल्लव   प्रफुल्ल   प्रेरणा-पन्य33
           खुलती  प्रत्यक्ष  छवि में  अशेष
           मृत्तिका-प्रणयि   धूसरित   वेश।71।
    32. किरणों से उत्पन्न         33. प्रशंसा करने यांग्य

         तुम यदपि पूत मणि स्वर्ण-सृष्टि
           विद्युत्य  विभा  निरुपमित पृष्टि
           तिरती  परंतु  वपु  पर सलज्ज
           निष्कलुष  ग्राम्य-सौंदर्य  सहज।72।

           पल  पल  उरप्र34  द्युति फूट रही
           ॠजु  प्रशम  पद्र-द्रू-धूलि35 भरी
           कढ़ छलक रहा उर करुण प्रवण
           शशि-मृत्ति-प्रण्यि कर अंक वरण।73।
                 34. उर को प्रउन्न करने वाली. 35. गॉव की सुनहरी धूल से
 
           मृदु  मंद  स्मिति  अधरस्थ मुखर
           फूटता    मौन   संगीत   प्रखर
           त्वर टपक रहा घुल प्राण  सरल
           मधुमय   प्रसन्न   माधुर्य  तरल।74।

           अयि प्रवरि! हृदय  की कल्प-मूर्ति
           अनुदित  निसर्ग   में  प्राण-पूर्ति
           अविदित सघूर्णि त्वर रुधिर त्वरण
           तुम  शब्द  शब्द  में  मौन मुखर।75।


           इस तरह  प्रतनु त्वर स्वर्ण रेख
           उभरी   तरंग-मन  में   अशेष
           बह गई मृदुल गति सहज-प्रवह
           थीं  अधर-मुखर अव्यक्त-अवह।76।

           अपलक  अनंत  बँध गई दृष्टि
           उस स्वर्ण-प्रहर में सुरभि-तुष्टि
           स्वप्नक  सुवर्ण  पलकें प्रसन्न
           अविदित  स्निग्ध-गति हुई पन्न।77।

           वह तन्वि  लता सी उर्ध्व प्रमन
           द्योभूमि-सृष्ट द्रुति-दृष्टि-श्वसन36
           मृदु  अस्त  हुई दृग में निमग्न
           उतरी  प्रसन्न  उर  में  अपन्न।78।
                 36. तरल दृष्टि के साँसों के समान

           खो  गया  अमित सौंदर्य लीन
           निष्कलुष  स्वर्ण-सा प्रमन पीन
           टूटी समाधि जब, वह  प्रलीन
           था शीश  अंक में स्नेह स्विन्न।79।


           वह   थी  प्रसन्न  मुग्धा  अशेष
           मृदु फेंक रही त्विषि सजल श्लेष
           उर  के  अतर्क्य  रस से विमुग्ध
           थी  सींच  रही  उर  सरल शुद्ध।80।

         शुचि  अरुण-अधर  थे फूट रहे
           पल्लवित  पद्म  के   मध्य  घिरे
           हिल  रहे  मृदुल  थे  मुखर बंद
           उठ   रहे   मधुर   आवर्त  मंद।81।

           गिर  रहीं  मृदुल  पलकें  अमंद
           उठकर  स्निग्ध  रच  स्वर्ण छंद
           दे  रही   पूर्ण   अलकें  विराम
           उड़  उड़  स्पर्श  कर दृग ललाम।82।

           मृदु   मृदु   स्पंद   ग्रीवा  सुमंद
           मृग के  सशंक  शिशु-सा  अवंध
           उस  अमिय  स्वर्ग-श्री पर अनंत
           थी बँधी  दृष्टि  अपलक  अपन्न।83।


           सहसा  प्रकंप  सा  हुआ  पवन
           विखरे  प्रसन्न  मुख पर्द्द सघन
           ज्यों रचा  जलद का चक्र अकर
           रह सका न शशि वह ओप अपर।84।

           फिर भी सुवर्ण छवि मुख-प्रकीर्ण
           आ  रही  प्रतनु  थी छन अशीर्ण
           रवि स्वर्ण रश्मि ज्यों तन्वि अचिर
           मृदु   भेद   रही   वर्षांत-मिहिर।85। 
         
          

 

 


                      2.
                     दृष्टि-त्वरण

             उस ग्राम्या सी  ॠजु  स्नेह-तरल
           मृदु आर्र्द्र-वाक् को सहज सरल
           मन तरल हुआ  लख श्री-प्रसन्न
           शुचि सरस हुआ था उर विपन्न।1।

           सुन मधुर प्रेम-स्वर स्निग्ध प्रवण
           पल्लवी-अधर  से  हृदय-स्वरण
           द्रुत उभर  चले थे  स्वप्न गहन
           पलकों में  मृदु  मृदु अस्त प्रमन।2।

           खिंच चली स्वर्ण थी छवि पवित्र
           वह बनी  आज  भी सजल चित्र   
           दृग  में  अनंत   कुंचन   प्रकर्ष
           खिंच  रहे  प्रमन  कर उर स्पर्श।3।


           उठती  तरंगि  कल्पना-त्वरिल
           उर्वर  रसार्द्र   जीवंत  सरिल
           वर्तित  नमस्य  जल में विशेष
           रच  रही   इंद्रधनु   रंग-श्लेष।4।

         मृदु फूट रहे शत स्वर्ण कमल
           उर के  प्रसन्न  जल में कोमल
           उग  रहे  प्रतनु  अंकुर प्रसूक्ष्म
           हृद्-लता  ग्रंथि-श्रवि में नवोष्म।5।

           उठ रहे  त्वरण  स्वर्णोप सदल
           सृत मंद त्वरित कर उर-शतदल
           डुल  रहे  मधुर  पुरइन  प्रमंद
           खिल  रहे अंक में स्वरिल छंद।6।

           मृदु मधुर स्मृति  आती प्रतिक्षण
           मोहन  प्रसन्न... यह  अरे प्रमन
           द्रुत कौंध गई त्वर  तड़ित कौन
           प्रभ  प्रखर तन्वि द्युत प्रतनु मौन।7।

 

           लो पसर  गई द्युति  स्वर्ण  सघन
           कर निखिल स्वर्ग-श्री प्रकृति वरण
           रच   गई  एक   स्वर्सृष्टि  मुखर
           मन  के  अदृश्य-पट  पर पल भर।8।

           त्वर  उभर  पड़े शत शृंग-प्रवर
           करते  स्पर्श   द्योभूमि   मुखर
           प्रकटा हिमाद्रि कुहरिल प्रच्छन्न
           भू  का  अनंत  गौरव  अपन्न।9।

           शुभ दमक उठे उज्ज्वल स्वच्छंद
           उड़ते   अनंत   बादल   प्रमंद
           घिरते  विकर्ष  शिति शृंग गिर्द
           संपुटित   पद्म  फूटता   कीर्ण।10।

           त्विषि छिटक रही शत प्रतनु सरणि
           भू  क्षितिज  संधि  से मंद त्वरणि
           ज्यों  खिला  अतल उर पर प्रसन्न
           त्वर   सूर्यमुखी  कीर्णित   अपन्न।11।


           फूटती  रश्मि  स्वर्णिम विपन्न
           वर्तित  तुषार-ह्री  में  प्रच्छन्न
           बुन  रही  सूक्ष्म भावग्न विश्व
           सींचती  सृष्टि को लुटा निस्व।12।

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4041,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3005,कहानी,2255,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,541,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,96,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,345,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,67,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,28,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,242,लघुकथा,1249,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2006,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,709,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,794,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,17,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,84,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,205,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,77,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: शेषनाथ प्रसाद श्रीवास्तव की लंबी कविता - पल्लवन
शेषनाथ प्रसाद श्रीवास्तव की लंबी कविता - पल्लवन
http://lh6.ggpht.com/-rxiVaxxw4wg/VNB7jQsY7YI/AAAAAAAAdc4/OHFa_8I_h4s/image_thumb%25255B2%25255D.png?imgmax=800
http://lh6.ggpht.com/-rxiVaxxw4wg/VNB7jQsY7YI/AAAAAAAAdc4/OHFa_8I_h4s/s72-c/image_thumb%25255B2%25255D.png?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2015/02/blog-post_3.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2015/02/blog-post_3.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ