विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका -  नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.
रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -

पिछले अंक

रामवृक्ष सिंह का आलेख : हिन्दी को बुधुआ की लुगाई न बनने दें

साझा करें:

लेख हिन्दी को बुधुआ की लुगाई न बनने दें डॉ. रामवृक्ष सिंह न जाने क्यों लगने लगा है कि हिन्दी इस देश में बुधुआ की लुगाई है, और इस नाते वह...

लेख

हिन्दी को बुधुआ की लुगाई न बनने दें

डॉ. रामवृक्ष सिंह

न जाने क्यों लगने लगा है कि हिन्दी इस देश में बुधुआ की लुगाई है, और इस नाते वह सबकी भौजाई है। जो चाहे, आए और हिन्दी से भद्दे से भद्दा मजाक कर जाए। फागुन का महीना आने से पहले ही अंग्रेजी भाषा के चर्चित लेखक चेतन भगत ने पिछले दिनों एक अख़बार में कुछ ऐसा ही मजाक करने की गुस्ताखी दिखाई। उन्होंने लिखा कि हिन्दी की लिपि रोमन कर दी जानी चाहिए।

पहले तो यह समझ लिया जाए कि हिन्दी को रोमन लिपि में लिखने की हिमायत करनेवाले चेतन भगत कोई पहले व्यक्ति नहीं हैं। उनसे बहुत पहले कई लोगों ने यह बात कही है। खुद नेताजी सुभाषचन्द्र बोस भी इसी मत के थे कि हिन्दी को रोमन में लिखा जाना चाहिए। हमारे डाक-तार विभाग में जब तक देवनागरी लिपि में लिखित सामग्री के प्रेषण और प्रापण की सुविधा नहीं थी तब तक हिन्दी का मैटर रोमन में ही भेजा जाता था और गंतव्य पर उसे देवनागरी में परिवर्तित किया जाता था। लेकिन इसके कई खतरे भी थे। लगभग तीन दशक पूर्व जब दक्षिण में हम कार्यशालाएं चलाते थे तो अकसर एक उदाहरण देते थे- DADAJI AJMER GAYE. रोमन के बड़े अक्षरों में लिखे इस संदेश को कोई ‘दादाजी आज मर गये पढ़ ले तो आप क्या कीजिएगा? रोमन की अवैज्ञानिकता का बखान करना हमारा उद्देश्य नहीं है।

शुरुआत में हिन्दी को रोमन में लिखने की तरफदारी इस कारण की गई, क्योंकि उन दिनों देवनागरी टंकण के लिए यान्त्रिक सुविधाओं की कमी थी। बाद में बहुत लंबे समय तक हम देवनागरी टंकण के लिए टाइपराइटर का इस्तेमाल करते आए। देवनागरी के ककहरे में जितने कैरेक्टर हैं, वे सब टाइपराइटर कुंजीपटल पर अँट नहीं पाते थे। इसलिए कई लिपि-चिह्नों की बलि देनी पड़ी। देवनागरी लिपि के मानकीकरण के नाम पर जो सबसे बड़ी विसंगति हमने स्वीकार कर ली, वह थी पंचम वर्ण के स्थान पर अनुस्वार का उपयोग। इससे सतही तौर पर सरलीकरण चाहे हो गया हो, किन्तु वास्तविकता तो यह है कि इसने भाषा में बहुत बड़ी अराजकता पैदा कर दी। उदाहरण के ज़रा निम्नलिखित शब्दों को देखें-

कंघा- हम हिन्दी वाले अभ्यासवश इस शब्द का ठीक उच्चारण करते हैं। लेकिन यदि किसी ऐसे विदेशी व्यक्ति को उच्चारण करना हो जो इस शब्द से परिचित न हो तो वह इसका उच्चारण- कन्घा, कम्घा और कँघा भी कर सकता है। इसी प्रकार पंप का उच्चारण पन्प, पँप और पम्प, तीनों ही हो सकता है। अंग्रेजी आदि विदेशी भाषाओं से आगत कई शब्दों का सही-सही, उच्चारण-अनुकूल लेखन तो तभी हो सकता है जब हम पंचम वर्ण का इस्तेमाल करें। उदाहरण के लिए हॉङ्ग-कॉङ्ग शब्द को लें। इसे या तो हम हाँग-काँग लिखते हैं या हांग-कांग। दोनों में से कोई भी सही उच्चारण नहीं है, जबकि हॉङ्ग-कॉङ्ग बिलकुल सही उच्चारण है। हिन्दी के कई नामचीन अख़बार (जिसमें नवभारत भी शामिल है) आइटम सॉङ्ग को आइटम सॉन्ग लिख रहे हैं। भाषा की प्रकृति का गंभीरता से अध्ययन किए बिना जब हम उसमें लिखने-पढ़ने की कोशिश करते हैं तो इस प्रकार की छोटी-छोटी दुर्घटनाएं होना स्वाभाविक है।

हिन्दी को संघ की राजभाषा के तौर पर स्थापित, प्रचारित और प्रसारित करने के लिए सरकार ने बहुत बड़ा अमला तैनात किया है। लेकिन इस अमले में बहुत से महारथी ऐसे हैं, जिन्हें भाषा की इन छोटी-छोटी बारीकियों की कोई समझ नहीं है। वे इस बारे में कुछ सुनने को भी तैयार नहीं होते। उन्हें लगता है कि इससे हिन्दी और कठिन हो जाएगी। सच्चाई यह है कि अनुवाद के बाद हिन्दी का जो कृत्रिम कलेवर उभरकर हमारे सामने आता है, उसपर अंग्रेजी की प्रेत-छाया होती है, वह अंग्रेजी शैली में, देवनागरी में लिखी गई हिन्दी होती है। ऐसी हिन्दी ने दफ्तरों में काम करनेवाले हिन्दी के जानकारों को भी हिन्दी से विमुख कर दिया है। बहुत से हिन्दी अधिकारियों को अनुस्वार और अनुनासिक का विवेक नहीं होता। पचास प्रतिशत अधिकारी तो ऐसे मिल जाएँगे जो आंचलिक को आँचलिक लिखते हैं। रेफ् कहाँ लगाया जाए, इसके बारे में भी पूरी अभिज्ञता लोगों में नहीं है। र्कायालय लिखनेवाले हिन्दी अधिकारी भी मिल जाएँगे।

हिन्दी में संक्षेपाक्षरों का घोर अभाव है। परिवर्णी शब्द भी हमने नहीं बनाए। यदि किसी ने बना भी लिए तो उनको प्रचलन में लाने का प्रयास कोई नहीं करता। यहाँ तक कि हिन्दी का दैनिक पत्र नवभारत टाइम्स भी खुद को नभाटा लिखने के बजाए एनबीटी लिखना बेहतर समझता है। कई बार तो यह देखने में आता है कि मूल नाम विशुद्ध हिन्दी में है, किन्तु उसका संक्षेपाक्षर रोमन में कर दिया गया, जैसे भारतीय जनता पार्टी का बीजेपी, केन्द्रीय विद्यालय का केवी (न कि केवि), राजीव गाँधी स्वास्थ्य बीमा योजना को हमने बनाया आरएसबीवाई हम इसे रागांस्बीयो या रागांस्वाबीयो भी तो कर सकते थे। प्रथम दृष्टि में यह सुनने में अटपटा लगता है, किन्तु चार बार बोलने के बाद पाँचवीं बार ठीक लगने लगता है। दरअसल हमारे भाव-जगत में ही नहीं रही हिन्दी। उसकी जगह अंग्रेजी ने ले ली है। हम मन से अंग्रेज हो गए हैं।

भारत के अधिकतर लोग मन से पक्के अंग्रेज हो गए हैं। चाहे वे अनपढ़ हों, अर्ध-शिक्षित हों या सुशिक्षित। हिन्दी बेल्ट ने भी हिन्दी से किनारा कर लिया। और सबसे बड़े दुर्भाग्य की बात यह है कि हिन्दी की सेवा, उसके प्रचार-प्रसार के लिए जिन लोगों को नियुक्त किया गया था, वे भी हिन्दी के अनुसंधान व विकास में कोई रुचि नहीं ले रहे। होना तो यह चाहिए था कि प्रबुद्ध राजभाषा अधिकारी हिन्दी की वैज्ञानिकता को बरकरार रखने की कोशिश करते। यूनीकोड के व्यवहार में आ जाने के बाद यह बहुत आसान हो गया है। अब हम अधिकतर ध्वनियों का अंकन देवनागरी में कर सकते हैं। अब हमें हांग-कांग लिखकर hong-kong उच्चारण करने की ज़रूरत नहीं रही। लेकिन इस दिशा में कोई गंभीर चिन्तन नहीं हो रहा है। इसी प्रकार यदि सभी राजभाषा अधिकारी अपने-अपने मंत्रालय, निकाय और विभाग में प्रयुक्त शब्दों की संक्षिप्तियाँ व परिवर्णी शब्दों की सूचियाँ तैयार करते और अपनी हिन्दी कार्यशालाओं, परिपत्रों, प्रकाशनों आदि के माध्यम से उन्हें प्रचलन में लाने की कोशिश गंभीरता पूर्वक करते तो हिन्दी काफी आगे बढ़ चुकी होती।

हिन्दी को आगे बढ़ाने, सरकारी दफ्तरों में लागू करने के लिए सरकार ने कितना बड़ा अमला खड़ा किया है, यह किसी से छिपा नहीं है। लेकिन उस अमले ने क्या किया? उस अमले ने नई प्रौद्योगिकी, यानी कंप्यूटर के माध्यम से हिन्दी और देवनागरी को आगे बढ़ाने पर बिलकुल ध्यान नहीं दिया। उस अमले के अधिकतर अधिकारी यूनीकोड के इन्स्क्रिप्ट की-बोर्ड से परिचित नहीं हैं। यदि वे खुद यह कुंजी पटल नहीं इस्तेमाल कर सकते तो कैसे दूसरों को सिखाएँगे? यह अमला हिन्दी के विकास के बारे में न सोचकर निरन्तर अंग्रेजी की कमियाँ गिनाता रहता है। इस नकारात्मक सोच से तो हिन्दी का विकास होने से रहा।

अब चेतन भगत की बात। चेतन भगत उस ऐरे-गैरे, नत्थू-खैरे हिन्दुस्तानी का प्रतिनिधित्व करते हैं जिसे संस्कृत, हिन्दी, मराठी, गुजराती, बांगला, असमिया, मैथिली, भोजपुरी, तेलुगु, कन्नड़ आदि भाषाओं और उनकी उद्गम लिपि- ब्राह्मी तथा परवर्ती लिपियों (जिसमें नागरी भी शामिल है) की मूल प्रकृति, साहित्य और परंपरा के बारे में गहराई से कुछ भी ज्ञात नहीं है। क्या चेतन भगत को इन लिपियों के स्वरों, व्यंजनों, आक्षरिक व्यवस्था, संधि-नियमों आदि के बारे में कुछ ज्ञान है? क्या उन सभी का निर्वाह रोमन लिपि में हो पाएगा? यदि चेतन भगत ने इस विषय में तनिक भी गंभीरता से सोचा होता वे रोमन लिपि को प्रकारान्तर से इन भाषाओं (और खासकर हिन्दी) के लेखन का माध्यम बनाने के संबंध में अपना मुँह न खोलते।

हम एक प्रति-प्रस्ताव रखना चाहते हैं-

व्हाइ इंग्लिश कैननॉट बी रिटेन इन देवनागरी? मिस्टर चेतन भगत शुड ट्राइ राइटिंग हिज नॉवल्स इन देवनागरी। दिस वे हिज नॉवल्स वुड बी रीचिंग ए लार्जर नंबर ऑफ रीडर्स एंड ऑफ कोर्स, दिस वुड फेच हिम मोर रीच, मोर पब्लिसिटी एंड मोर मनी टू। व्हेन देवनागरी इस कैपेबल ऑफ इन्स्क्राइबिंग ऑल दि साउण्ड्स ऑफ दि इंग्लिश लैंग्वेज, वी शुड प्रोबैब्ली अडॉप्ट देवनागरी ऐज द ऑफिशियल स्क्रिप फॉर राइटिंग इंग्लिश इन दि टेन हिन्दी स्पीकिंग स्टेट्स ऑफ दिस कण्ट्री।

इफ माइ अटेंप्ट ऑफ राइटिंग इंग्लिश इन देवनागरी स्क्रिप्ट अपीयर्स टु बी ए ट्रान्स्ग्रेशन ऑफ इंग्लिश लैंग्वेज, वी, द सर्वेण्ट्स ऑफ द कॉज ऑफ हिन्दी विश टु अर्ज मिस्टर भगत टु ऐब्स्टेन फ्रॉम मेकिंग अनसॉलिसिटेड सजेशन्स एंड कमेंट्स अबाउट ए लैंग्वेज, व्हिच हैज नेवर बीन हिज डोमेन ऑफ राइटिंग। ही हैज नो अथोरिटी टु मेक सच ईडियॉटिक सजेशन्स, विदाउट गोइंग इण्टू द जेनर ऑफ द लैंग्वेज। दिस इज हाइली ऑब्सीन एंड ऑब्जेक्शनेबल। दिस इस ऐन अटेम्प ऑफ टैम्परिंग विथ द सैंक्टिटी ऑफ अवर नेशनल लैंग्वेज। एण्ड इट गोज अगेंस्ट द प्रोविज़न्स ऑफ आर्टिकल 343 ऑफ दि कंस्टिट्यूशन ऑफ इंडिया, व्हिच क्लीयरली प्रोवाइड्स फॉर राइटिंग हिन्दी इन देवनागरी स्क्रिप्ट।

फ्रॉम द अबव, इट शुड नाउ बी अम्प्टीन क्लीयर टु मिस्टर भगत दैट इंग्लिश कैन वेरी वेल भी रिटेन इन देवनागरी ऐज वेल।

सच तो यह है कि चेतन भगत का सोच अंग्रेजों की उपनिवेशवादी मानसिकता से ग्रस्त है, जो अपने पूरे परिवेश को अपने अधीन लाने में विश्वास रखती है। हम सभी हिन्दी भाषियों और विशेषतः हिन्दी सेवकों को पूरे मनोयोग से इस औपनिवेशिक मानसिकता का विरोध करना चाहिए। साथ ही, हमें खुद कंप्यूटर पर हिन्दी में, यूनीकोड में काम करना सीखना चाहिए। इसके अलावा हमें हिन्दी में संक्षिप्तियों, परिवर्णी शब्दों तथा नए शब्दों का विकास व प्रचार-प्रसार करना चाहिए। अपनी हिन्दी को हम बुधुआ की लुगाई नहीं बनने देंगे। यह बात हमें हमेशा याद रखनी चाहिए।

--0--

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 8
  1. डॉक्टर साहब,
    आपका लेख पढ़ा. विचारोत्तेजक लगा. मेरे विचार देना चाह रहा हूँ-
    1. चेतन भगत तो क्या इस देश में किसी को भी अपने विचार रखने का हक है. इसे आप इस कदर जलील न करें, ऐसी मेरी सोच है. शायद आपको पसंद नहीं आए. आप अपनी राय स्पष्ट व सुशील शब्दों में रख सकते थे.
    2. यह कोई जरूरी नहीं कि भगत जी का प्रस्ताव मान ही लिया जाए. जो मानने या अस्वीकार करने के हकदार हैं, वे निर्णय ले लेंगे. मैं उन पर छोड़ना चाहता हूँ.
    3. मैंने भी भगत जी का लेख पढ़ा है और वह अखबार सँजो कर रखा है. मुझे लगा कि इस देश में जो (खासकर अहिंदी भाषी) लोग हिंदी बोल पाते हैं पर लिख नहीं पाते उनके लिए यह सहायक हो सकती है.
    4. अहिंदी भाषियों के आकर्षण से हिंदी का विस्तार और बढ़ेगा. धीरे धीरे उन्हें हिंदी सीखने के लिए प्रेरित किया जा सकता है.
    5. आपने पंचमाक्षर नियम का उल्लेख किया है. मैंने कई जगह ( नेट पर भी) पूछकर जानना चाहा है कि "हिमांशु" को विस्तृत तौर पर सही कैसे लिखा जाए. शायद आप मुझे इस बारे में सीख दे सकेंगे... कृपया धन्य करें.
    6. आपने अपनी देवनागरी में लिखी अंग्रेजी में हिंदी को नेशनल लेंग्वेज कहा है. मेरा मानना है कि ऐसा नहीं है. हिंदी राष्ट्रभाषा नहीं राजभाषा है.
    लेख के बाकी अंशों में मैं आपसे पूरी तरह सहमत हूँ.
    मेरी हिंदी रुचि के लिए आप hindikunj.com पर "राजभाषा हिंदी" विषय पर मेरे लेखों की शृंखला देख सकते हैं. रचनाकार में भी कुछ लेख-कहानी- कविता प्रकाशित हो चुकी हैं.
    मेरी टिप्पणी में समाए विचारों के प्रति आपकी कोई भी असहमति हो तो अवश्य अवगत कराएं. अंत में एक बार फिर आग्रह करना चाहूँगा कि "हिमांशु "का विस्तार दे और धन्य करें.
    सादर-शुभाकाँक्षी,
    माड़भूषि रंगराज अयंगर. (laxmirangam.blogspot.in)
    8462021340

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. अयंगर जी द्वारा उठाए कुछ प्रश्नों का उत्तर रामवृक्ष जी ने अपने लेख में दिया है -

      http://www.rachanakar.org/2015/02/blog-post_42.html

      हटाएं
  2. सम्मान्य डॉ. साहब,
    ऐसा लगता है कुछ बातें आपकी नजर में अभी आई नहीं हैं. प्रसिद्ध भाषाशास्त्री डॉ सुनीति कुमार चाटुर्ज्या ने बाकायदा रोमन लिपि में देवनागरी वर्णों के लिए एक वर्णमाला तैयार की थी. लेकिन अन्य भाषाशास्त्रियों ने उसे अस्वीकार कर दिया था. चेतन भगत की बातों से आप क्यों चिंतित हाते हैं.
    पंचमाक्षर के लिए संयोग में अनुस्वार रखने का नियम मनमाना नहीं है. यह हिंदी वैयाकरणों द्वारा स्वीकृत तथ्य है और हिंदी व्याकरण का हिस्सा बन चुका है. और यह हिंदी की प्रकृति के अनुसार भी है. आप जिस नियम का हवाला दे रहे हैं वह संस्कृत भाषा का नियम है और हिंदी और संस्कृत के व्याकरण के नियम अलग हैं.

    सम्मान्य रंगराज अयंगर जी,
    आपके प्रस्न का समाधान मैं दे रहा हूँ..
    हिमांशु का विग्रह है --- हिम+अंशु. यहाँ अं अक्षर में दो वर्णो का संयोग है, स्वर अ और अयोगवाह अनुस्वार ( ं ) का. अनुस्वार.किसी व्संजन से युक्त नहीं होता पर अर्थ का वहन करता है. और इसका संयोग अंतस्थ और उष्म व्यंजनों के साथ होता है. जैसे-- संयत. अयंगर. अहं, अंत.

    जवाब देंहटाएं
  3. श्री शेषनाथ जी,
    आपकी टिप्पणी पढ़ी. तो क्या यह मानना उचित होगा कि जैसे पंचांग के पञ्चाङ्ग लिखा जा सकता है वैसे हिमांशु को किसी तरह नहीं लिखा जा सकता और उसे हिमांशु ही लिखना होगा. यदि यह सही न हो तो विस्तार दें.
    सादर,

    अयंगर.

    जवाब देंहटाएं
  4. सम्मान्य अयंगर जी,
    अनुस्वार के योग संबंधी टिप्पणी में थोड़ी भूल हो गई है. अनुस्वार (ं) का न तो स्वर वर्ण के साथ योग होता है न व्यंजन वर्ण के साथ. यह केवल स्वरों के सहारे चलता है और अर्थ का वहन करता है. दूसरा अंतस्थ (य र ल व) और उष्म (ष,श,स,ह) के पूर्व अनुस्वार प्रयोग होता है. अब आप स्वयं निर्णय कर लें.
    पूर्व की टिप्पणी में की गलती के लिए क्षमा.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. श्रीमान शेषनाथ जी,
      आपकी - स्वयं निर्णय करें - मुझे समझ नहीं आई. मैंने हिंदी में एम ए या डी फिल नहीं किया है. इसलिए चाहूँगा कि यदि हिंमांशु को ब्ना अनुस्नवार के पञ्चाङ्ग जैसा लिखा जा सकता है तो लिपि दर्शाएं. आभारी रहूँगा.

      हटाएं
  5. सम्मान्य अयंगर जी,
    भाषा पर अधिकार के लिए एम.ए., डी.फिल.की आवश्यकता नहीं होती.
    हिमांशु को हिमांशु की तरह ही लिखा जाएगा. यहाँ मा के बाद अंतस्थ वर्ण श है. हिंदी व्याकरण के नियमानुसार म में स्वर वर्ण अा जुड़ा हुआ है ( म्+आ) और इसके बाद अंतस्थ वर्ण श है. अतः सवरयुक्त व्यंजन मा के बाद और अंतस्थ वर्ण श के पूर्व अनुस्वार की स्थिति होगी. ध्यान दें--मां में अनुस्वार का उच्चारण मा के बाद और श के पहले होता है.
    मैं अनुरोध करूँगा कि आप अपना क्रोध थूक दें.
    यह पञ्चाङ्ग की तरह नहीं लिखा जाएगा.

    जवाब देंहटाएं
रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * || * उपन्यास *|| * हास्य-व्यंग्य * || * कविता  *|| * आलेख * || * लोककथा * || * लघुकथा * || * ग़ज़ल  *|| * संस्मरण * || * साहित्य समाचार * || * कला जगत  *|| * पाक कला * || * हास-परिहास * || * नाटक * || * बाल कथा * || * विज्ञान कथा * |* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4086,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,341,ईबुक,196,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3040,कहानी,2274,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,542,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,104,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,346,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,68,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,29,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,245,लघुकथा,1267,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,19,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,327,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2011,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,712,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,801,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,18,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,89,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,209,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,77,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: रामवृक्ष सिंह का आलेख : हिन्दी को बुधुआ की लुगाई न बनने दें
रामवृक्ष सिंह का आलेख : हिन्दी को बुधुआ की लुगाई न बनने दें
http://lh6.ggpht.com/-j-Oh_TF4mng/TlM5_36baJI/AAAAAAAAKho/we8lmwlDK1Y/ramvriksh_singh%25255B2%25255D.jpg?imgmax=200
http://lh6.ggpht.com/-j-Oh_TF4mng/TlM5_36baJI/AAAAAAAAKho/we8lmwlDK1Y/s72-c/ramvriksh_singh%25255B2%25255D.jpg?imgmax=200
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2015/02/blog-post_56.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2015/02/blog-post_56.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ