विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका -  नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.
रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -

पिछले अंक

कहानी - कार्यकर्ता

साझा करें:

  मनीष कुमार सिंह अप्रैल का आखिरी हफ्ता था। नहर के किनारे खड़े कचनार के पेड़ लाल फूलों से भर गए थे। रामस्‍वरुप जी को लग रहा था कि दूर कह...

  image

मनीष कुमार सिंह

अप्रैल का आखिरी हफ्ता था। नहर के किनारे खड़े कचनार के पेड़ लाल फूलों से भर गए थे। रामस्‍वरुप जी को लग रहा था कि दूर कहीं आग लगी हुई है। सुबह का मौसम अभी भी सुहाना था। वे उत्‍साह से छड़ी लेकर टहलने निकल पड़े। स्‍कूल जाते बच्‍चों को देखकर प्रसन्‍न भाव से मुस्‍कराए। कुछ दूर रास्‍ते में किनारे लोगों ने घर का कूड़ा-करकट फेंककर पहाड़ लगा दिया था। वे यह देखकर विद्रूपता से मुंह बनाकर स्‍वगत भाषण वाली शैली में बोले, ''पढ़े-लिखे लोग हैं। पर यह क्‍या तमीज है।'' सड़क के बीच में पड़े पॉलिथीन के एक थैले को छड़ी से किनारे हटाते हुए वहाँ से आगे बढ़ गए। नहर के पास स्थित पेड़ों पर चढ़ती-उतरती गिलहरियाँ उन्‍हें आकर्षित कर रही थीं। चिडि़यों का कलरव भी भला लग रहा था। नहर के किनारे चलते हुए वे उस पार देखने लगे। आगे खेत और खाली जमीन थी। इधर रिहायशी इलाका था। ग्रामीण अंचल से अलग करती बीच में यह नहर गयी थी। इन द्दश्‍यों का खूब आनन्‍द लेते हुए रामस्‍वरुप जी ने यह सोचा कि साथ में बच्‍चे भी आए होते तो कितना अच्‍छा होता। पोती तो उन्‍हीं की तरह पेड़-पौधों में बड़ी रुचि रखती है। खूब बातें करती और तरह-तरह के सवाल करती। रमेश और बहू तो क्‍या आते। बच्‍चे अगर स्‍कूल न गए होते तो वे उन्‍हें जरुर लाते।

करीब घंटे भर बाद जब वे वापस लौटे तो घर के पास उनके पड़ोसी गिरधारी लाल अपने दरवाजे पर खड़े मिल गए। ''भई राम-राम। इंसान हो तो आप जैसा। बिल्‍कुल समय का पाबंद। किधर का चक्‍कर लगाकर लौट रहे हैं?'' व्‍यंग्‍य, वक्रोति इत्‍यादि के सम्मिश्रण से युक्‍त सवाल गिरधारी लाल ने उनकी तरफ उछाला।

वे सौजन्‍यतावश हँसे  ''अरे बस सुबह की सैर हो रही थी। नहर पर गया था।''

''तो साहब लोटा-तौलिया लेकर जाते। नहा-धोकर आना था।'' वे इस बात को भी चुपचाप पी गए। ''सुबह की ताजी हवा का मजा कुछ और है।'' बस इतना कहकर घर में घुसे।

धर्मपत्‍नी माला फेर रही थी। इस कार्य में पूर्णतया तल्‍लीन थी यह नहीं कहा जा सकता था क्‍योंकि ऐसा करते हुए उन्‍होंने दो बार कामवाली को टोका और बहू को कतिपय निर्देश देने का प्रयास किया। इस पर तीक्ष्‍ण द्दष्टि डालकर बिना कुछ कहे बहू दूसरे कक्ष में चली गयी। लेकिन रामस्‍वरुप जी को देखकर वे उपेक्षा से माला फेरने में लगी रहीं। इस व्‍यवहार से उन्‍हें चाय के लिए बोलने की हिम्‍मत नहीं हुई। वे घर में बिना किसी को लक्ष्‍य किए बोले, ''अरे जरा एक कप चाय पिलाना।'' अन्‍त में कामवाली को न जाने क्‍या सूझी कि वह अपने निर्धारित कार्य की परिधि का स्‍वेच्‍छापूर्वक अतिक्रमण कर रसोई में चाय बनाने चली गयी।

इधर अपने घर के दालान में आराम कुर्सी पर विराजमान गिरधारी लाल गर्म चाय के साथ मठरी जैसी कोई चीज ग्रहण कर रहे थे। अपनी बहू को लक्ष्‍य करके कहा, ''देखो यह जमींदार के बच्‍चे खाया करते थे। आटे की बनी देशी चीज हैं। आज कहाँ किसी को नसीब होगी।''

शाम को क्षेत्र के इकलौते पार्क में कतिपय बुजुर्ग घास पर पसरे वार्तालाप में लीन थे। ''आज के बच्‍चे बड़ों का लिहाज करना नहीं जानते।'' रामस्‍वरुप जी ने सामान्‍य तरीके से मन की बात सार्वजनिक की। इस पर गिरधारी लाल ठठाकर हँसने लगे। ''अजी बाबूजी सब अपने हाथ में होता है।'' हाथ में से उनका क्‍या तात्‍पर्य है यह स्‍पष्‍ट करते हुए बोले, ''इंसान जिन्‍दगी में मात तब खाता है जब वह औरों को अपने ऊपर सवारी करने देता है। अगर हम सही वक्‍त पर सही चाल चले तो क्‍या मजाल कि कोई पठ्ठा हमें जिन्‍दगी में मात दे पाए।'' इस आत्‍मविश्‍वास से प्रभावित होकर लोग उनकी तरफ प्रशंसा मिश्रित उत्‍सुकता से देखने लगे। ''आप लोग यकीन नहीं करेंगे। आज भी घर का कोई मेम्‍बर मेरे सामने जबान खोलने की हिम्‍मत नहीं करता है। बेटा-बेटी या बहू की क्‍या मजाल की मेरी बात काट दे।'' इस आवेश मिश्रित गर्व से कहे गए वाक्‍य को किसी ने नहीं काटा। बल्कि तह तक जाकर सफाई जानने की कोशिश भी नहीं की। वक्‍तव्‍य देते हुए वे पल भर रुके। लेकिन इस विराम का लाभ उठाकर सामने वाले कुछ बोल न पड़े इसलिए हथेली उठाकर कुछ भी कहना निषिद्ध कर रखा था। रुकने का उद्देश्‍य यह देखना था कि श्रोता उनके मन्‍तव्‍य के अनुकूल आशय ग्रहण कर रहे हैं या नहीं।

अपने तेजामय व्‍यक्तित्‍व से सभी को विदग्‍ध करके वे तनिक दया भाव से रामस्‍वरुप जी की ओर मुखातिब होकर बोले, ''ये भाईसाहब सीधे-सादे आदमी हैं। आज के जमाने में ऐसे लोगों को हर कोई ठगता है। क्‍या घरवाले, क्‍या बाहर वाले...।'' रामस्‍वरुप जी कोई प्रतिक्रिया प्रकट करते इससे पूर्व उन्‍होंने परिहासपूर्वक हँसकर मामले का एकतरफा पटाक्षेप किया।

जानकार लोगों को मालूम था कि गिरधारी लाल ने हाल में अपनी बेटी की शादी एक इंजीनियर वर से करायी थी। छोटे लड़के को उच्‍च शिक्षा के लिए पुणे भेजा एवं बड़ा बेटा डाँक्‍टर था। वह इसी शहर में प्रैक्टिस करता था। पत्‍नी एवं दो संतान के साथ माता-पिता के संग रहता था। यह बात कुछ समय के लिए जरुर फैली थी कि अपनी सुपुत्री का विवाह छलपूर्वक कराया। किसी रिश्‍तेदार की बेटी के लिए वर देखने निकले थे। घरबार पसंद आ गया तो अपनी बेटी का फोटो दिखाकर बात चला दी। रिश्‍तेदार संपन्‍नता में जरा कमतर था इसलिए ज्‍यादा दान-दहेज देकर अपनी लड़की उस इंजीनियर से ब्‍याह दी। इस घटना पर स्‍वत:स्‍फूर्त स्‍पष्‍टीकरण देते हुए गिरधारी लाल कहते कि भई अगर लड़के वालों को रिश्‍ता पसंद नहीं आया तो क्‍या किया जाए। जहाँ मामला पटेगा वही शादी होगी।

रामस्‍वरुप का पोता रोता हुआ बैट लेकर घर आया। करीब सात-आठ साल के बच्‍चे के घुटने से रक्‍तस्राव हो रहा था। गिरने से त्‍वचा छिल गयी थी। ''क्‍या हुआ बेटे?'' घरवाले हड़बड़ा गए। कहीं बच्‍चों की आपस में मारपीट न हो गयी हो। बच्‍चे ने रोते हुए बताया कि क्रिकेट खेलते समय वह गिर गया जिससे चोट लगी। फौरन घाव को धोकर ऐन्‍टीसेप्टिक लगाया गया। चिन्तित निगाहों से ताकते रामस्‍वरुप जी ने घरवालों को कहा कि घाव को खुला न छोड़े और पट्टी बाँध दे। इस पर कोई जवाब न देकर बहू अन्‍दर गयी और रेडीमेड बैंडेज लगा दिया। पुराने तरीके से फीते बाँधना उसे गवारा न था। बच्‍चे के माँ-बाप ने घर के बाहर इतने छोटे बच्‍चे को निकलने की छूट देने के लिए एक-दूसरे को दोषी ठहराया। बच्‍चे की दादी ने कुछ कहा। फिर बीच में पड़ना ठीक न समझकर रसोई में घुस गयीं।

क्षेत्र में किसी पार्क का अस्तित्‍व न होने पर लोग क्षोभ प्रकट कर रहे थे। नितांत व्‍यवहारिक बुद्धि के धनी गिरधारी लाल यह मानते थे कि किसी बात को मुद्दा बनाकर झंझट करना उचित नहीं है। वे कुर्सी पर बैठकर अपने स्‍वभाव के विपरीत चिन्‍तन करने लगे। पर वे किसी को सोचते नहीं दिखाई पड़ते थे। हालाँकि इसका यह अभिप्राय कतई नहीं था कि वे सोचते ही नहीं थे। वस्‍तुत: वे बेहद सोचे-समझे तरीके से चलने में विश्‍वास करते थे। ''देखो भई,'' वे अपने पुत्र से मुखातिब थे, ''अगर इस इलाके में एक अच्‍छा पार्क बन जाए तो कितना बढि़या होगा। बच्‍चे-बूढ़े सभी को फायदा है।''

अपने कैरियर को निरंतर उच्‍चतम शिखर तक ले जाने में प्रयासरत पुत्र ने ऊपरी तौर पर उनके कथन को सुना। ''बाबूजी इन सबके के लिए किसके पास टाइम है?'' वह एक उदासीन टिप्‍पणी के साथ वाकया खत्‍म करना चाहता था। लेकिन वे अपने रचनात्‍मक विचार को यूं काल-कवलित नहीं होने देना चाहते थे। इसलिए अपनी दुर्दमनीय इच्‍छा को सार्वजनिक करने का निश्‍चय कर चुके थे। ''लोग ठेले की तरह होते हैं। जितना धकिआया जाएगा उतनी ही दूर जाएगें। उनके अपने पैर नहीं होते हैं।'' वे अपने आत्‍मविश्‍वास को प्रकट करने के लिए जनता की मानसिकता को पहले स्‍पष्‍ट करना चाहते थे।

''सबसे पहले इसके लिए हमें फण्‍ड का इंतजाम करना होगा।'' वे अपने समवय व्‍यक्तियों से कह रहे थे। लेकिन घर-घर जाकर चंदा कौन इकठ्ठा करेगा? एक शंका उठी। ''हम और आप और कौन...?'' वे हँस रहे थे। लोगों द्धारा उन्‍हें नेतृत्‍व करने का अनुरोध किए जाने पर वे चंद पल ऑखें बंद करके विचार करने के बाद उदारतापूर्वक राजी हो गए। उपसंहार के तौर पर उन्‍होंने कहा कि मुहल्‍ले के मामूली हैसियत वाले खुशी-खुशी दे देंगे लेकिन सेठों की थैली से दमड़ी निकालना मुश्किल है। यह बात ने जाने किसे लक्ष्‍य करके कही गयी थी।

''गिरधारीलाल जी आप भी हम सबमें सेठ हैं।'' एक हँसमुख मिजाज के बुजुर्ग ने ठिठोली की। वे किंचित गंभीर होकर टिप्‍पणी करने वाले की ओर बिना देखे प्रत्‍युत्‍तर देने लगे, ''जो भी मुझसे होगा उससे पीछे नहीं हटूंगा।'' ऐसा कहते वक्‍त उनकी मुख-मुद्रा व शरीर-भाषा से एक महान व्‍यक्तित्‍व की आभा प्रस्‍फुटित हो रही थी। सबसे पीछे रामस्‍वरुप जी दुबके से खड़े थे। अपने सबसे नजदीक खड़े सज्‍जन से कहा, ''क्‍या-क्‍या सुलझाइगा। यहाँ दिन-दहाड़े बदमाश किसी को चाकू मार देते हैं और दुनिया देखती रहती है।'' कहते हुए उन्‍होंने अपने पेट पर हाथ धर लिया। कोई देखता तो इस बात पर बरबस मुस्‍करा उठता।

गिरधारी लाल का नेतृत्‍व कौशल काम आया। चंद दिनों के अन्‍दर इतनी धनराशि इकठ्ठा हो गयी कि पार्क की धूल-धूसरितपथरीली भूमि के कायाकल्‍प हेतु खुइाई, जमीन को समतल करना एवं चारदीवारी खींचने जैसे मंसूबे बाँधे जा सकते थे। इस सम्‍बन्‍ध में नगर-निगम के अधिकारियों से मिलकर नागरिकों के इस स्‍तुत्‍य प्रयास की मंजूरी तथा यथासंभव सहायता का वायदा भी मिल गया। दुनिया में हर प्रकार के लोग होते हैं। कुछ काम में मदद करते हैं। कुछ बस देखते रहते हैं। कुछेक तत्‍व जलते हैं। संभवत: ऐसे लोगों ने ही यह बात उड़ायी कि गिरधारी लाल के काम में पारदर्शिता नहीं है। कितना पैसा जमा हुआ और इसमें से नगर-निगम के अधिकारियों को कितना खिलाया और बचे हुए का कितना अंश पार्क के लिए वास्‍तव में व्‍यय किया जा रहा है इसका कोई हिसाब-किताब नहीं है। ‍

ऐसी चर्चा अपने संज्ञान में आने पर वे स्मित मुस्‍कान के साथ बोले, ''लोग भगवान पर भी उँगली उठाते हैं। मैं तो बस एक अदना इंसान हूं।'' लोग उनकी स्थितप्रज्ञ अवस्‍था को देखते और हिसाब की बात गोल हो जाती। रामस्‍वरुप जी भी एक निष्‍ठावान परंतु भीरु अनुयायी की भाँति कार्यरत थे। नगर-निगम के लोगों से मिलने तथा काम का निरीक्षण वगैरह में उपस्थित रहते।

महीनों व्‍यतीत होने के पश्‍चात् भी पार्क की चारदीवारी बनाने के अलावा कोई उल्‍लेखनीय कार्य नहीं हुआ। मूल योजना में पार्क जगह-जगह फूलों की क्‍यारी लगाना, सुबह-शाम घूमने के लिए पत्‍थरों से रास्‍ता बनाना, पेड़ लगाना व मुख्‍य गेट के पास किसी महापुरुष की प्रतिमा स्‍थापित करके उसी के नाम पर पार्क का नामकरण करना इत्‍यादि। दरअसल इनमें से अधिकांश कार्य या तो अधूरे थे या आधे-अधूरे तरीके से हुए थे। पार्क में घास उगाने के लिए ठेके पर कुछ महिलाओं को रखा गया जो बाहर से घास लाकर भरी धूप में सर पर पगड़ीनुमा कुछ लपेट कर उन्‍हें रोपती। एक माली भी था जो पाइप से जमीन की सिंचाई करता।‍

एक खुशनुमा सुबह क्षेत्रवासियों ने देखा कि पार्क की चारदीवारी के चतुर्दिक गिरधारी लाल का मुस्‍कराता मुखड़ा वाला पोस्‍टर लगा है। नीचे मोटे-मोटे अक्षरों में लिखा था हमारे आदरणीय नेता श्री गिरधारी लाल का इस वाटिका की स्‍थापना व विकास में किए गए योगदान के लिए कोटी-कोटी धन्‍यवाद। कुछ लोगों के नाम नीचे दिए गए थे जो इस कार्य के लिए उन्‍हें धन्‍यवाद दे रहे थे। वे संभवत: क्षेत्र के सम्‍मानित लोग थे।

रामस्‍वरुप जी उसी दिन शाम में कुछ बच्‍चों और किशोरों के साथ पार्क में जगह-जगह बिखरे पत्‍थरों व ईटों को टोकरियों में इकठ्ठा करवा कर एक किनारे डाल रहे थे। थोड़े परिश्रम से ही उनके शरीर पर स्‍वेद की धाराऍ बह रही थीं। प्रमुख लोगों के साथ एक जुलूस की शक्‍ल में उधर से गुजरते और लोगों को हाथ जोड़तें गिरधारी लाल की नजर उन पर नहीं पड़ी।

जब रामस्‍वरुप जी बच्‍चों के साथ क्रिकेट या बैड़मिण्‍टन खेलने का प्रयास करते तो उधर से गुजरते समवयस्‍क लोग टिप्‍पणी करते। अच्‍छा साथ दे रहे हैं आप बच्‍चों का। अल्‍प श्रमसे ही क्‍लांत होकर वे विरत हो जाते। एकाध जागरुक नागरिक अभी भी गिरधारी लाल से पूछ बैठते कि पार्क की अव्‍यवस्‍था कब दूर होगी। इस पर वे बेहद उदारता से सामने वाले की बुद्धि पर तरस खाकर बोलते, ''हजूर यह सरकार हमारी आपकी किसी की नहीं है। जहाँ कोई सुनवाई न हो वहाँ सर टकराने से क्‍या फायदा।'' बोलते-बोलते उन्‍हें डकार आ गयी। शायद ज्‍यादा खा लिया था। वे एक जलसे में शामिल होने चले गए। एक बड़ी पाटी्र के स्‍थानीय नेता के यहाँ कोई आयोजन था। वे उसमें आमंत्रित थे। उन्‍हें मालूम था कि काम चाहे अपना हो या समाज का, सभी के सफल निष्‍पादन हेतु बुद्धिमान व अति चातुर बनना पड़ता है। दरअसल वे परस्‍पर जीविता में विश्‍वास करते थे। लड्डू यदा-कदा किसी श्रद्धालु के कर-कमलों से मिल सकता है परन्‍तु यदि नियमित रुप से मोदक का सेवन करना हो तो मंदिर में देवता के स्‍थान पर स्‍थापित होने का जुगाड़ करना पड़ेगा।

पार्क की दीवारें इतनी कच्‍ची थी कि साथ लगे खाली प्‍लॉट में जब मकान बनना शुरु हुआ तो ठेकेदार ने भवन-निर्माण के निमित्‍त रखी ईटें दीवार से सटा कर क्‍या रखी कि एक पूरा हिस्‍सा ढ़ह गया। आसपास के पशुपालक अपनी ढ़ोरों को बीच से ले जाने लगे। लेकिन यह सिलसिला लम्‍बे समय तक नहीं चला। रामस्‍वरुप जी दो-तीन लोगों के साथ संबंधित अधिकारी से मिले। हफ्ते भर के अन्‍दर नयी दीवार खड़ी हो गयी। सुबह टहलने वालों को पुख्‍ता दीवार देखकर हैरानी हुई। एकाध लोग उनकी इस पहल पर उन्‍हें बधाई देने लगे। वे सहज भाव से बोले, ''अजी यह कुछ भी नहीं है। देखिए सड़कों की दशा...। मैं एक आर.टी.आई. ऐपलिकेशन डाल रहा हूं। इसमें पूछूंगा कि पिछली दफा सड़कों की मरम्‍मत कब हुई थी। इनको बनाने में किस किस्‍म का सामान इस्‍तेमाल हुआ है और कितने समय बाद इनकी दुबारा मरम्‍मत होगी।...इनके रखरखाव के लिए कौन जिम्‍मेवार है वगैरह।''

लोग उनके चारों ओर भीड़ की शक्‍ल में जुटने लगे। लेकिन वे फौरन वहाँ से यह कहकर निकल गए कि घर पर सब्‍जी लेकर पहँुचना है नहीं तो बहू भी बोलेगी और छोटे पोत की रिमोट कार नहीं ली तो वह घर में घुसने नहीं देगा।

किसी को यकीन नहीं हो पा रहा था कि यह महत्‍वाकांक्षाहीन वृद्ध कुछ कर पाएगा।

पार्क के किनारे खड़े कचनार के वृक्ष बडी संख्‍या में पुष्‍प विसर्जित कर रहे थे। नीचे की माटी बिल्‍कुल लाल हो गयी थी। धूप लगातार उष्‍ण होती जा रही थी। आखिर मई आ गया था। अमलतास की टहनियाँ पीले फूलों से लदकर कड़ी धूप में भी अद्भुत आभा उत्‍पन्‍न कर रही थीं। एक और अज्ञात वृक्ष सफेद कलियों जैसा कुछ धरती को अर्पित कर रहा था। उसके फूल कली की तरह दिखते थे। नीचे हरी घास पर गोलाकार श्‍वेत चादर सद्दश्‍य सजी जमीन बेहद आकर्षक लग रही थी।

''दोस्‍त सिद्धांत इंसान के लिए होते हैं। हम उनसे बँधे नहीं रहते।'' गिरधारी लाल न जाने क्‍यों एक दिन बेहद असंयत होकर लोगों से मुखातिब थे। प्रतिदिन प्रात: काल उठने के अपने दिनचर्यात्‍मक सिद्धांत का पालन करने वाले रामस्‍वरुप जी को भ्रमण करते देखकर आज वे उद्धिग्‍न थे। जो इंसान अपने घर में टी.वी. पर उछल-कूद वाले कार्यक्रम या सास-बहू के घिसे-पीटे फार्मूले पर आधारित धारावाहिक को न देखने के अभिरुचिगत सिद्धांत को किसी सदस्‍य से नहीं मनवा पाया था वह कोई सामाजिक कार्य कैसे सफलतापूर्वक कर पाएगा। पार्क की बढ़ती हरियाली देखकर गिरधारी लाल का ऐसा लगता कि वनस्‍पतियों ने भी मनुष्‍य की तरह अपना स्‍वभाव बदल लिया है। जो चीज वे शायद भाँप नहीं पाए वह थी कि जड़ वनस्‍पतियाँ भी मनुष्‍यों की भाँति प्‍यार व परवाह करना पसंद करती हैं।

सूर्य अपने समयानुसार प्रतिदिन उदित व अस्‍त होता रहा। गिरधारी लाल की विरुदावली गाने वाले पोस्‍टर बैनर यथावत थे। परंतु एक रोज क्षेत्रवासियों ने रामस्‍वरुप जी के यहाँ जाकर उनसे इलाके की समस्‍याओं को निपटाने के लिए बनी समिति का नेतृत्‍व सँभालने का अनुरोध किया। लाख ना-नुकुर के बावजूद वे उन्‍हें मनाने में कामयाब हो गए। युवकों ने इस कार्य में दौड़-धूप करने में आगे रहने का वचन दिया। अब रामस्‍वरुप जी अपने औसत व्‍यक्तित्‍व के बावजूद इस काम में रम गए। अगर उनके संकल्‍प को देखा जाए तो कोई भी यह नहीं कह सकता था कि ऐसा इंसान इस तरह का काम कर सकता है। वृद्धावस्‍था की अपनी आंगिक शिथिलता की वे अनुभवजन्‍य संपदा की विपुलता से क्षतिपूर्ति कर रहे थे। कुछ दिनों में इलाके में सड़क, बिजली, सीवर की व्‍यवस्‍था के लिए लोगबाग सम्‍बन्धित अधिकारियों से जवाब माँगने लगे। सभी रामस्‍वरूप जी के नाम का उल्‍लेख करके मिलते। उन्‍हें ज्ञात था कि यह कोई रातोरात सम्‍पन्‍न होने वाला कार्य नहीं है बल्कि आनुवांशिकी के क्रमिक विकास की भाँति शनै: शनै: होगा। परंतु एक बात स्‍पष्‍ट थी कि अब स्‍थानीय निवासी रोजमर्रा की सुविधाओं के बिना जल बिन मीन की तरह तड़पते नहीं थे वरन् स्‍वयं मत्‍स्‍यवतार लेकर अपना उद्धार करने की सामर्थ्‍य रखने की स्थिति में आ गए थे। आखिरकार अद्भुत घटनाऍ केवल पौराणिक काल में घटित नहीं होती हैं।

एक दिन जब गिरधारी लाल अपनी सद्व: क्रय किए हुए मोटरवाहन पर आरुढ़ होकर सपत्नीक समीप के मार्केट में गए तो नगर-निगम का एक अधिकारी दिखा। वह पास आकर बोला, '''अरे आप तो वही हैं ना...?''

''हाँ-हाँ।'' वे तनिक उपेक्षा प्रदर्शित करके आगे बढ़ने को उद्यत हुए। ''हाँ याद आया,'' अधिकारी ने बात आगे बढ़ायी। ''भई आपको कहीं देखा है। रामस्‍वरुप जी की कॉलोनी में रहते हैं।'' अधिकारी आगे बढ़ गया। वे जमीन में गड़ गए। पत्‍नी को आगे बढ़ने का निर्देश देने का भी भान नहीं रहा। वह खुद कुछ क्षणों पश्‍चात् बोली। ''क्‍या सोच रहे हैं? चलिए मार्केटिंग नहीं करनी है क्‍या?''

--

 

image

(मनीष कुमार सिंह)

लेखक परिचय

मनीष कुमार सिंह।

जन्‍म 16 अगस्‍त,1968 को पटना के निकट खगौल (बिहार) में हुआ। प्राइमरी के बाद की शिक्षा इलाहाबाद में।

भारत सरकार,भारत सरकार, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय में प्रथम श्रेणी अधिकारी। पहली कहानी 1987 में ‘नैतिकता का पुजारी’ लिखी। विभिन्‍न पत्र-पत्रिकाओं यथा-हंस,कथादेश,समकालीन भारतीय साहित्‍य,साक्षात्‍कार,पाखी,दैनिक भास्‍कर, नयी दुनिया, नवनीत, शुभ तारिका, अक्षरपर्व,लमही, कथाक्रम, परिकथा, शब्‍दयोग, ‍इत्‍यादि में कहानियाँ प्रकाशित। पाँच कहानी-संग्रह ‘आखिरकार’(2009),’धर्मसंकट’(2009), ‘अतीतजीवी’(2011),‘वामन अवतार’(2013) और ‘आत्‍मविश्‍वास’ (2014) प्रकाशित।

पता- एफ-2, 4/273, वैशाली, गाजियाबाद, उत्‍तर प्रदेश। पिन-201010

मोबाइल: 09868140022

ईमेल: manishkumarsingh513@gmail.com

--

नाका की कुछ श्रेष्ठ चुनिंदा, संकलित रचनाएँ  पढ़ने के लिए >>  इस लिंक << पर जाएँ

--

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * || * उपन्यास *|| * हास्य-व्यंग्य * || * कविता  *|| * आलेख * || * लोककथा * || * लघुकथा * || * ग़ज़ल  *|| * संस्मरण * || * साहित्य समाचार * || * कला जगत  *|| * पाक कला * || * हास-परिहास * || * नाटक * || * बाल कथा * || * विज्ञान कथा * |* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4084,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,341,ईबुक,196,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3040,कहानी,2274,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,542,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,104,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,346,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,68,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,29,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,245,लघुकथा,1266,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,19,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,327,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2011,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,712,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,800,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,18,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,89,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,209,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,77,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: कहानी - कार्यकर्ता
कहानी - कार्यकर्ता
http://lh3.googleusercontent.com/-TBFsUcBw2Bw/VYOi0kl1idI/AAAAAAAAj_g/4aGSOrJWXqU/image%25255B6%25255D.png?imgmax=800
http://lh3.googleusercontent.com/-TBFsUcBw2Bw/VYOi0kl1idI/AAAAAAAAj_g/4aGSOrJWXqU/s72-c/image%25255B6%25255D.png?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2015/06/blog-post_40.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2015/06/blog-post_40.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ