370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

'किस किसको प्यार करूं':- "कॉमेडी नाइट्स विथ कपिल" का सिनेमाई विस्तार

किस किस को प्यार करूं - कपिल शर्मा kapil sharma kis kis ko pyar karun

जावेद अनीस

हमारे यहाँ कॉमेडी का मतलब औरतों, ट्रांसजेंडर्स, मोटे लोगों, बुजर्गों, काले–सावंले लोगों और विकलांगों का मजाक उड़ाना सा बन गया है. पिछले कुछ सालों से कपिल शर्मा यही सब कर-करके काफी नाम और दाम कम चुके हैं. उन्हें हमारे समय के कॉमेडी के बादशाह के तौर पर पेश किया जा रहा है .टीवी पर उनका शो "कॉमेडी नाइट्स विथ कपिल" काफी टीआरपी खोर रहा है. अपने शो में आनस्क्रीन बीवी, मोटे किरदारों और प्रतिभागियों का मजाक बनाकर कॉमेडी करते रहे हैं. एक बार तो गर्भवती महिलाओं पर आपतिजनक जोक के चलते उनकी शिकायत महिला आयोग तक भी पहुँच चुकी है.

उनकी डेब्यू फिल्म 'किस किसको प्यार करूं' भी उसी आजमाए हुए फार्मूले पर आधारित है, इसके निर्देशक है अब्बास-मस्तान, जो थ्रिलर फिल्मों के लिए मशहूर रहे हैं. यह फिल्म अपने दर्शकों को बेवकूफ समझती है, अपने मूल रूप में यह सामान्य हिंदी फिल्मों से भी ज्यादा महिला विरोधी है. जो महिलाओं को नासमझ के तौर पर पेश करते हुए पुरुषों को कुछ भी करने की छूट देती हुए उसे मजबूरी और महिलाओं के प्रति अहसान बताती है. कहानी के लेखक अनुकल्प गोस्वामी हैं जो कपिल के कॉमेडी शो की स्क्रिप्ट लिखते हैं,कहानी कुछ इस तरह से है शिव राम किशन (कपिल शर्मा) औरतों का दिल नहीं तोड़ सकता है इसलिये वह ना चाहते हुए भी तीन शादियाँ करने को मजबूर हो जाता है, उसकी तीनों पत्नियों जूही (मंजरी फडनिस), सिमरन (सिमरन कौर मुंडी), अंजली (साइ लोकुर) को एक दूसरे के बारे में पता नहीं है. बात में तीनों को और अच्छे से “मैनेज” करने के लिए उन्हें एक ही बिल्डिंग ले आता है जहाँ वे अलग-अलग फ्लोर पर रहती हैं लेकिन उन्हें भनक ही नहीं लग पाती है कि उनके पति एक ही हैं और वह दो दिन बाद प्रत्येक बीवी के पास रहता है. लेकिन शिव राम किशन के लिए तो यह तीनों शादियाँ हादसा हैं, दरअसल उसकी एक गर्लफ्रेंड दीपिका (एली अवराम) भी है जिसके साथ वह “सच्ची वाला” प्यार करता रहता है. पूरी फिल्म में शिव राम किशन अपनी तीनों बीवियों को मैनेज करने और गर्लफ्रेंड दीपिका से शादी करने के प्रयास करता है और इस काम में उसका दोस्त वरूण शर्मा जो की वकील है उसकी मदद करता है.

फिल्म क्लाइमैक्स झटका देता जब एस.आर.के.गर्लफ्रेंड से शादी करने के लिए मंडप में बैठा होता है और वहां पर उसकी तीनों बीवियां भी मौजूद होती हैं और क्या उसकी सच्चाई सामने आ जाती है. इसके बाद जिस तरह से शिव राम किशन के कारनामों को जस्टिफाई करते हुए इसे औरतों की मदद के तौर पर पेश किया है वह हैरान करने वाला है. बाद में तीनों पत्नियों उसके इस अहसान का बदला चुकाते हुए उससे माफ़ी मांगती हैं और गर्लफ्रेंड से शादी हो जाती है, अंत में चारों महिलायें एक ही छत के नीचे अपने कॉमन पति के साथ रहने लग जाती हैं.

कपिल शर्मा ज्यादातर अपने टीवी के अवतार को दोहराते हुए नजर आते है, कॉमेडी भी वे स्टैंडअप स्टाइल में करते हैं, इमोशनल और बाकी दृश्यों में उनकी सीमायें साफ नजर आती है. तीनों पत्नियों का किरदार निभाने वाली लड़कियों को पूरी फिल्म में ज्यादातर बेवकूफ बन कर खुश होते रहना था, जो उन्होंने बखूबी निभाया है. अरबाज खान, सुप्रिया पाठक, शरत सक्सेना के पास ज्यादा करने को कुछ नहीं था.

कुल मिलकर यह फिल्म "कॉमेडी नाइट्स विथ कपिल" का सिनेमाई विस्तार है. अगर आप इंसानों को लेकर संवदेनशील हैं तो यह फिल्म आप को निराश और परेशान कर सकती है. नारीवादियों के लिए यह फिल्म अध्ययन के लिए अच्छा विषय हो सकती है. इधर ख़बरें आ रही हैं कि इस फिल्म ने पहले ही दिन 10.15 करोड़ रुपये की कमाई कर ली है। अगर लोगों को कॉमेडी के नाम पर ऐसी फिल्में पसंद आ रही हैं तो समाज विज्ञानियों को हमारे समाज के पड़ताल की भी जरूरत है.

 

Javed4media@gmail.com

समीक्षा 8754012554525513719

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव