नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

एयर फ्राइड गराडू

image

ठंड के दिनों में मालवा क्षेत्र के रात्रि भोजों में आवश्यक अंग है - गराड़ू. इसे आमतौर पर डीप फ्राई कर गर्मागर्म खाया जाता है. इसमें शत प्रतिशत स्टार्च तो होता ही है और डीप फ्राई के कारण इसमें भरपूर वसा भी शामिल हो जाती है. लिहाजा यह आपका वजन बढ़ाने में खासा योगदान देता है. मगर इसका स्वाद ऐसा नशीला होता है कि जिसकी जुबान पर चढ़ गया तो हटता नहीं है.

अब एयर फ्रायर की उपलब्धता व प्रचलन काफी हो गया है तो आप इसका आनंद एयरफ्राई करके भी ले सकते हैं. स्वाद लाजवाब होता ही है और थोड़ा सोंधा, बढ़ा हुआ भी.

एयर फ्राई करने के लिए गराड़ू एक वर्ग इंच के टुकड़े में काटें, व एक चम्मच तेल, घी या अमूल मक्खन का प्रयोग कर सकते हैं. चाहें तो स्वादानुसार नमक व मसाले पहले से मिला सकते हैं या फिर नींबू व फ्रूट चाट के साथ या हरी चटनी के साथ गर्मागर्म भी खा सकते हैं.

 

टिप - अच्छे स्वाद के लिए गराडू हमेशा बड़े आकार का ही लें, और ऐसा लें जिसका जड़ का क्षेत्र कम हो. कुछ गराड़ू कड़वे भी निकल सकते हैं.

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.