नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

स्त्री शक्ति । कामिनी कामायनी

image

“और क्या ?एक ही फोन में दौड़ी चली  आई  । बस झोला में कुछ समान और छोटकी को साथ लेकर नथनी साहू कार्पेंटर  के साथ आ गई  । उसको देखकर जैसे कलेजा फट गया इसका  ,रुलाई रुक नहीं रही थी ।कैसा हो गया था । पैर पर पलस्तर ,देह पर मैल चिक्कट, दाढ़ी बड़ी  बड़ी , गंदे बिखरे बिखरे बाल सुख कर बदन कांटा ।जल्दी जल्दी उसका कपड़ा उतरवा कर रात में ही धो कर सूखने डाल दिया ।साबुन से उसके हाथ पाँव धोए ,। कोठरी में चारों तरफ नजर दौड़ाई ।दो  लिमका का खाली बोतल ,एक टिनही थारी ,दु मैल कंबल दो पैंट शर्ट ,तीन चार बरजर पैंट का खाली बड़ा डिब्बा । संपत्ति के नाम पर बस इतना ही । पास में कुछ पैसे थे ,पड़ोसी ने आटा आलू ला दिया और पड़ोसिन ने पका भी दिया । दूसरे दिन ही उन लोगों की मदद से दो काम भी मिल गया । और आज देखो ,मैडम सब की दुआ से इसका सारा घर ओढ़ने बिछाने ,पहनने खाने के सामान से ही नहीं ,बच्चों से भी भर गया ,अपना पैर जमाने के बाद गाँव से अपने तीनों बच्चों को भी बुलावा लिया और उनके पढ़ने की व्यवस्था भी वहीं कोठियों में रो कलप कर करवा दिया ।पति  दिहाड़ी मजदूर ,दस हजार कमाता था जिसमें आधी दारू में उड़ा देता और बाकी आधे में अपना पेट पालता और  बीबी बच्चों के लिए गाँव भेजता जहां घोर गरीबी में उससे चार पाँच जनो की पेट की आग अनबुझी ही रह जाती थी .अब देखो घर वाला अभी भी काम पर नहीं जाता है और दारू पीकर अक्सर इसपर हाथ भी उठा देता है ,मगर मात्र पाँच हजार में सब कुछ सम्हाल रही है” । मैंने अपनी सहेली ममता के बगल में खड़ी उसकी नई साफ सुथरी सुंदर सी काम वाली को देखा तो अचानक मुंह से निकल गया  था “इसीलिए तो नारी को लक्ष्मी कहा गया होगा”।

    कामिनी कामायनी ॥

2 टिप्पणियाँ

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 22 फरवरी 2016 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.