370010869858007
Loading...

मंजुल भटनागर की कविता - राम

राम एक शब्द नहीं एक युग है
राम एक सीढी है
सत्ता पाने की
राम एक गणित है
वोटर को भरमानें की
राम उदास है आज .

राम का आयोजन
पुरजोर है
सर्प फन उठाने लगा है
एक और मर्दन
फिर उस पर राजनीति
राम का उदघोष

तुलसी के राम हों या बाल्मिकी  के
संशय  डसता है
सच झूट को मानें या न मानें
यह मानें कि
राम रूप है कल्याण का
कितनी अहिल्या, विभीषण का
करना है उद्धार

सोचती हूँ क्या ?
फिर राम भरोसे रहूँ
प्रतीक्षा करूँ
राम राज्य के स्वप्न बुनूँ
क्या फिर लौटेंगे प्रभु राम ?

मंजुल भटनागर

कविता 7661946882362371383

एक टिप्पणी भेजें

  1. मंजुल भटनागर जी,
    बहुत करारा व्यंग किया है आज के सामाजिक परिस्थितियों पर.
    मुबारक हो.

    साझा करने हेतु आभार

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव