370010869858007
Loading...

व्यंग्य // आइंदा अगस्त में आजादी नहीं लेंगे // कुबेर

मनहर कापड़िया की कलाकृति

सरकार ने मंत्रियों और अधिकारियों की आपात बैठक बुलाई है। समस्या आम है।

मामूली है। पर भौंक-भौंककर लोगों ने नींद हराम किया हुआ है। बड़ी मजबूरी है। नींद के लिए भौंकनेवालों का भौंकना बंद करना जरूरी है।

समस्या है - ’अस्पतालों में बच्चे थोक के भाव मर रहे हैं।’ मंत्री ने बैठक शुरू करते हुए प्रमुख सचिव से मामले का डिटेल पूछा।

सचिव ने कहा - ’’सर! सरकारी अस्पताल में कुछ बच्चे मर गये हैं।’’

[ads-post]

’’कब?’’

’’इसी महीने में।’’

’’मतलब?’’

’’अगस्त महीने में, सर।’’

’’कितने?’’

’’यही, कोई तीन-चार दर्जन।’’

’’तीन-चार दर्जन? बच्चों के माँ-बाप के कुछ डिटेल हैं?’’

’’गरीब थे।’’

’’गरीब थे?’’

’’हाँ सर, ये तो मरते ही रहते हैं। कोई बड़ी बात नहीं थी। लोगों ने बात का बतंगड़ बना रखा है।’’

’’हम भी जानते हैं। पर आप अपनी भाषा ठीक कीजिए। वरना फिर बतंगड़ बन जायेगा। समझा करो यार। मजबूरी है। अमीर-गरीब में हम फर्क नहीं कर सकते।’’

अधिकारी के जवाब से मंत्री महोदय कुछ विचलित से लगे। स्थिर होने के बाद कुछ सोचते हुए उन्होंने फिर कहा - ’’बच्चों का इलाज निजी अस्पतालों में क्यों नहीं कराया गया?’’

’’सर! उनके माँ-बाप गरीब थे।’’

’’ठीक है। पर बच्चे राष्ट्र की संपत्ति होते हैं। राष्ट्रीय संपत्ति की हिफाजत जरूरी है। अब से देश भर में किसी भी बच्चे का इलाज सरकारी अस्पतालों में नहीं होगा। डिलीवरी भी नहीं होगी। डिलीवरी और बच्चों का इलाज निजी अस्पतालों में ही होना चाहिए। आदेश जारी कीजिए।’’

’’सर! गरीब माँ-बाप इसे अफोर्ड नहीं कर सकेंगेे।’’

’’तो सरकारी खजाने से अफोर्ड कीजिए न। राष्ट्र की संपत्ति की सुरक्षा राजकोष से हो, इसमें आपत्ति क्या है?’’

’’यस सर।’’

’’और सुनिए। निजी अस्पतालवालों से इसके लिए डील तय कर लीजिए। अच्छे से।

समझ गये न?’’

’’यस सर, हो जायेगा।’’

’’और सुनिए। क्या पिछली सरकारों के समय बच्चे नहीं मरते थे?’’

’’सर! मरते थे।’’

’’कब-कब मरे, किस-किस महीने में मरे। कुछ डिटेल है आपके पास।’’

’’यस सर। सब अगस्त के महीने में ही मरे हैं।’’

’’तो ये बात है। मतलब, ’अगस्त में तो बच्चे मरते ही हैं।’ .... यार ये

कैसी घांच-पांच है। बच्चे मरते हैं तो अगस्त में। बाढ़ आती है तो अगस्त में। बाढ़ में लोग मरते हैं तो अगस्त में। पुल, सड़कें और पटरियाँ बह जाती हैं तो अगस्त में। फसलें बरबाद होती हैं तो अगस्त में। और हाँ, देश भी तो अगस्त में ही आजाद हुआ था न?’’

’’यस सर।’’

’’मतलब, इन सबका अगस्त के साथ जरूर कुछ न कुछ कनेक्शन है।’’

’’डेफिनिट सर।’’

’’तो ढूँढिए न कनेक्शन। देख क्या रहे हैं।’’

’’सर, मिल गया। कनेक्शन मिल गया।’’

’’खाक मिल गया। हवाई बातों से काम नहीं बनेगा। इस अगस्त कनेक्शन का पता लगाना जरूरी है। जांच कमीशन बिठाइए। और तुरंत रिपोर्ट पेश कीजिए।’’

अगस्त कनेक्शन की जड़ों को ढूँढने के लिए तत्काल ’रूट रिसर्च आयोग’ का गठन किया गया। आयोग में देश हित में सोचनेवाले महान राष्ट्रवादियों, विचारकों और चिंतकों को शामिल किया गया। समस्या की गंभीरता को देखते हुए आयोग ने पूर्ण सहयोगात्मक भाव से दिन-रात एक करके काम किया। दिन-दिनभर पसीना बहाया। रात-रातभर यौगिक साधनाएँ की। देखते-देखते आबंटन का सफाया हो गया। फिर आबंटन मिला। फिर सफाया हो गया। आबंटन मिलते रहे और सफाया होते रहे। आयोग आबंटन से तृप्त होने का प्रयास करता रहा। पर जन्मों की अतृप्त आत्माओं को तृप्ति कैसे मिलती? डकारों की बौछारें शुरू हो गई। पर तृप्ति मिलती नहीं थी। डकार की आवाजें बाहरवाले न सुन लें इसके लिए विशेष सायलेंसर लगाये गये थे। सायलेंसर की भी बर्दास्त की सीमा होती है। यह सीमा भी जाती रही। बड़ी मजबूरी में आयोग ने सिफारिशें पेश की। सिफारिशों में कहा गया था -

- देश और अगस्त महीने की कुंडली का मिलान करके देखा गया। हर जगह काल बैठा मिला। अकाल और अकस्मात घटनेवाली घटनाओं के मूल में ये काल ही हैं। काल दोष निवारण हेतु घटना स्थलों पर अविलंब सतत् सालभर तक चलनेवाले धार्मिक अनुष्ठानों को शुरू किया जाना उचित होगा।

- अगस्त महीने का ’अ’ बड़ा ही अशुभ, अमंलकारी और अनिष्टकारी है। यह असत्य, अहंकार, अकाल और आसुरी शक्तियों का प्रतीक है। देश के समस्त कैलेण्डरों से इस महीने को विलोपित कर देना चाहिए। परंतु ऐसा करना एक क्रांतिकारी कदम होगा। क्रांतिकारी कदम उठाना इस देश की परंपरा में नहीं है। इससे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समस्याएँ पैदा हो सकती हैं।

अतः व्यावहारिक रास्ता अपनाते हुए अगस्त के ’अ’ को ’स’ से विस्थापित कर इस महीने का नाम ’संघस्त’ कर दिया जाना उचित होगा। ’स’ सत्य, शुभ, सुमंगल और शक्ति का प्रतीक है। यह संगठन और संघ शक्ति का भी प्रतीक है।

- देश को अगस्त में ही आजादी मिली थी। आजादी के बाद से ही देश तरह-तरह की समस्याओं से घिरा हुआ है। अनैतिक और भ्रष्ट प्रवृत्तियाँ लोगों की मानसिकता में समाई हुई हैं। इन सबके मूल में भी यही, अगस्त का महीना है।

इससे सीख ग्रहण करते हुए ’आइंदा अगस्त महीने में आजादी नहीं लेंगे’ ऐसा संकल्प पारित करना चाहिए।

000kuber000

व्यंग्य 8892392265080663979

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव