रु. 25,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु रचनाएँ आमंत्रित.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ http://www.rachanakar.org/2018/10/2019.html देखें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

हिंदी का एक उपेक्षित क्षेत्र // डॉ. रवीन्द्र अग्निहोत्री

साझा करें:

हिंदी इस समय एक विचित्र दौर से गुज़र रही है। अनेक शताब्दियों से जो इस देश में अखिल भारतीय संपर्क भाषा थी, और इसीलिए संविधान सभा ने जिसे राजभा...

अमित कुमार सिन्हा की कलाकृति

हिंदी इस समय एक विचित्र दौर से गुज़र रही है। अनेक शताब्दियों से जो इस देश में अखिल भारतीय संपर्क भाषा थी, और इसीलिए संविधान सभा ने जिसे राजभाषा बनाने का निश्चय सर्वसम्मति से किया, उसे उस पद पर प्रतिष्ठित करना तो दूर, “ आधुनिक शिक्षित “ लोगों ने अखिल भारतीय संपर्क भाषा का रुतबा अंग्रेजी को देकर हिंदी के पर कतर दिए और उसे क्षेत्रीय भाषा बना दिया। इतने पर भी सन्तोष नहीं हुआ तो एक के बाद एक हिंदी की बोलियों को स्वतंत्र भाषा घोषित करके षड्यंत्रकारियों ने हिंदी परिवार छिन्न – भिन्न कर दिया। इन दुरभिसंधियों के लिए कोई सरकार को कोस रहा है तो कोई समाज में फैलते जा रहे अंग्रेजी प्रेम को। उधर स्थिति यह है कि जिस सरकार पर राजभाषा हिंदी की उपेक्षा के निरंतर आरोप लग रहे हैं, उसने मूल के बजाय पत्तियों को सींचने वाली, अतः अनन्त काल तक चलने वाली कुछ स्थायी योजनाएं बना दी हैं (जैसे, सरकारी कर्मचारियों को कामकाज के समय में हिंदी का प्रशिक्षण, हिंदी परीक्षाएं पास करने पर वेतन-वृद्धि / मानदेय, हिंदी दिवस के अवसर पर कुछ कार्यक्रम, हिंदी में तकनीकी शब्द बनाते रहने के लिए आयोग, हिंदी के प्रयोग की सलाह देने के लिए वार्षिक कार्यक्रम, विभिन्न प्रकार की समितियां आदि)। लगभग सात दशक बीतने पर भी ऐसी योजनाओं से राजभाषा हिंदी कहाँ पहुंची – इसका आकलन करने की किसी को कोई चिंता नहीं है। इस सबके लिए लोग सरकार को दोषी मानते हैं।

[ads-post]

आरोप समाज पर भी लग रहे हैं। समाज के दैनिक जीवन में हिंदी का स्थान अंग्रेजी लेती जा रही है। तभी तो ब्रिटिश / अमरीकी अंग्रेजी सिखाने का दावा करने वाले कोचिंग सेंटर छोटे – बड़े हर शहर में खुल गए हैं। लोग अपने ऐसे कामों में भी अंग्रेजी का प्रयोग करने लगे हैं जहाँ उसका प्रयोग करना अनावश्यक ही नहीं, स्वभाषा-प्रेमी की दृष्टि से अपमानजनक है ( जैसे, हस्ताक्षर अंग्रेजी में करना, जहाँ हिंदी / अंग्रेजी का विकल्प हो वहां अंग्रेजी चुनना, घर के बाहर नामपट, मोहल्ले में बनाए संगठन के बोर्ड / पत्रशीर्ष, विवाह आदि के निमंत्रणपत्र जैसी चीजें भी अंग्रेजी में, और तो और अपने दूध पीते शिशुओं के बोलने की शिक्षा eyes, nose, lips, जैसे शब्दों से शुरू करना, आदि ) ; पर सरकार की तरह समाज भी कुछ दिखावटी आयोजन करता है (जैसे, कवि सम्मेलन के नाम पर हास्य कवि सम्मेलन, साहित्यिक गोष्ठियों के स्थान पर हिंदी सम्मेलनों का आयोजन और उनमें छोटे-बड़े हिंदी साहित्यकारों का, कभी-कभी उन्हीं से पैसे लेकर सम्मान करना। सम्मेलन भी अब स्थानीय नहीं, राष्ट्रीय / अंतर–राष्ट्रीय ही होते हैं, कोशिश होती है कि इनका आयोजन विदेश में किया जाए)। ऐसे आयोजनों के बावजूद यह आम शिकायत है कि सरकारी हो या निजी, जीवन के हर क्षेत्र से हिंदी गायब होती जा रही है। अतः ऐसा प्रतीत होता है कि हिंदी के लिए जो कुछ भी किया जा रहा है, वह पर्याप्त नहीं है।

तो और क्या किया जाए, इस विषय पर विचार करने से पहले भाषा के विभिन्न रूपों का स्मरण कर लेना उपयोगी होगा। सामान्यतया प्रयोग की दृष्टि से हर भाषा के तीन रूप होते हैं :

(क) जिस स्थान पर वह बोली जाती है, वहां की क्षेत्रीय भाषा, (इसका मौखिक प्रयोग अधिक होता है, अतः इसमें अनेक स्खलन / वैविध्य मिलते हैं) ;

(ख) इस भाषा का मानक / परिनिष्ठित रूप (इसका लिखित प्रयोग अधिक होता है, साहित्य की रचना भी प्रायः इसी रूप में की जाती है, शिक्षा - माध्यम के लिए भी इसी का प्रयोग किया जाता है, अतः इसका प्रयोग करना शिक्षित होने की पहचान बन जाता है), और

(ग) विभिन्न विषयों के प्रतिपादन के लिए “ प्रयोजनमूलक रूप ” (इसमें पारिभाषिक शब्दों का खूब प्रयोग होता है, अतः संबंधित विषयों की मौखिक – लिखित चर्चा में इसका प्रयोग किया जाता है)।

इन तीन रूपों के अतिरिक्त किसी – किसी भाषा का एक और रूप भी तब विकसित हो जाता है जब ऐतिहासिक, राजनैतिक, सांस्कृतिक आदि कारणों से उसका प्रयोग- क्षेत्र बढ़ जाता है, और भिन्न भाषाभाषी लोग संपर्क भाषा और / या पुस्तकालयी भाषा के रूप में उसका व्यवहार करने लगते हैं। ऐसी स्थिति में पुस्तकालयी भाषा का रूप तो (लिखित होने के कारण) एक ही रहता है, पर (मौखिक होने के कारण) संपर्क भाषा की विभिन्न शैलियाँ विकसित हो जाती हैं (जैसे, विश्व के विभिन्न भागों में प्रयुक्त होने के कारण अंग्रेजी के ब्रिटिश / आयरिश / अमरीकी / आस्ट्रेलियन / केनेडियन / इंडियन / अफ्रीकन आदि रूप; या अखिल भारतीय भाषा के रूप में हिंदी के बम्बइया / कलकतिया / मदरासी / हैदराबादी आदि रूप)।

हर भाषा में सर्वाधिक प्रयोग तो उसके प्रथम दो रूपों (क्षेत्रीय भाषा और मानक / परिनिष्ठित भाषा) का होता है, ये रूप ही उस भाषा को प्राणवायु प्रदान करते हैं, उसे जीवन देते हैं ; पर किसी भाषा में सम्पन्नता उसके “ प्रयोजनमूलक “ रूपों से आती है। ये रूप ही उसे समृद्धि प्रदान करते हैं, उसकी श्रीवृद्धि करते हैं। इन्हीं रूपों से उसका विकास भी होता है और शृंगार भी। अतः इनके कारण ही भाषा को सम्मान मिलता है। इसे कुछ यों समझिए जैसे “ जिन्दा “ रहने को आदमी कुछ भी खा - पीकर झुग्गी – झोपड़ी में जिंदगी गुजार लेता है, पर वहां न स्वास्थ्य है न सम्मान। इसके लिए उसे स्वास्थ्यप्रद वातावरण चाहिए, खाने को संतुलित और पर्याप्त भोजन चाहिए, पीने को स्वच्छ पानी चाहिए, और रहने को व्यवस्थित ढंग से बना साफ़ – सुथरे परिवेश वाला आवास चाहिए।

संस्कृत के उदाहरण से इस बात को और भी अच्छी तरह समझा जा सकता है। यह हमारे देश की प्राचीन भाषा है और भाषागत विशेषताओं की दृष्टि से इसे भाषावैज्ञानिक आज भी कंप्यूटर तक के लिए सर्वाधिक उपयुक्त भाषा मानते हैं। प्राचीन काल से ही इस भाषा में जिस साहित्य की रचना की गई उसमें ललित साहित्य भी था और तत्कालीन समाज की आवश्यकताओं को पूरा करने वाला प्रयोजनमूलक साहित्य भी था ; पर कालान्तर में विभिन्न कारणों से जब समाज का पराभव शुरू हुआ तो सबसे पहले प्रयोजनमूलक लेखन पर आंच आई और फिर धीरे - धीरे ललित साहित्य भी गायब होने लगा। आज संस्कृत की जो स्थिति है उसे देखते हुए कुछ लोग उसे “मृत भाषा “ तक कह देते हैं। इस शब्द पर अपनी आपत्ति दर्ज कराते हुए हम प्रमाण तो देते हैं कि आज भी संस्कृत का अध्ययन किया जाता है, धार्मिक कामों में इसी का प्रयोग किया जाता है, कुछ घरों / गाँवों / विद्यालयों में संस्कृत में वार्तालाप किया जाता है, लोग आज भी संस्कृत में रचनाएँ लिख रहे हैं, यहाँ तक कि संस्कृत में फिल्म भी बनाई गई (शंकराचार्य, 1983) ; पर हम सब अच्छी तरह जानते हैं कि व्यापक रूप से आज संस्कृत उपर्युक्त तीनों ही प्रयोग क्षेत्रों में अनुपस्थित है। इसी कारण प्राचीनकाल वाले गौरवशाली सम्मान के लिए वह तरस रही है।

आधुनिक शिक्षा के प्रवर्तक मैकाले से हमें अनेक शिकायतें हैं, पर उसने अपनी शिक्षा नीति (1835) के पक्ष में जो तर्क दिए थे, उनके “ मर्म “ पर ध्यान देना आज भी आवश्यक है। उसने संस्कृत और अरबी साहित्य के सम्बन्ध में कहा कि इनका जो साहित्य निर्विवाद रूप से श्रेष्ठ माना जाता है, वह है कविता ; पर यदि काव्य से हटकर ज्ञान -विज्ञान के विभिन्न पक्षों (अर्थात प्रयोजनमूलक साहित्य) की बात करें तो यूरोपीय भाषाओं की सर्वोत्कृष्टता सर्वथा अतुलनीय है।

It will hardly be disputed, I suppose, that the department of literature in which the Eastern writers stand highest is poetry. ……… ......But when we pass from works of imagination to works in which facts are recorded and general principles investigated, the superiority of the Europeans becomes absolutely immeasurable.

मैकाले ने संस्कृत-अरबी के समस्त साहित्य को किसी यूरोपीय पुस्तकालय के एक खाने से भी कमतर बताया था। उसकी वह टिप्पणी तो उन भाषाओं के बारे में उसकी अज्ञानता की परिचायक है, पर भाषा के सम्बन्ध में जिस तर्क की (अर्थात काव्य से हटकर ज्ञान -विज्ञान के विभिन्न पक्षों के महत्व की) उसने बात की है, वह बिलकुल सही है। आधुनिक सन्दर्भ में यह हिंदी पर पूरी तरह लागू होती है। हिंदी में लिखे प्राचीन - नवीन काव्य / ललित साहित्य पर हम जितना गर्व कर सकते हैं, क्या वैसा ही गर्व करने योग्य प्रयोजनमूलक साहित्य हमारे पास है ? या इस दृष्टि से हिंदी की स्थिति कुपोषित बच्चे जैसी है – पेट फूला, हाथ-पैर सूखे, आँखें मुंदी हुई, चेहरा निस्तेज ?

किसी पुस्‍तक मेले में उपलब्ध हिंदी की नई-पुरानी पुस्तकों पर नजर डालिए तो आपको लगभग सत्‍तर प्रतिशत कहानी- कविता- उपन्यास - नाटक आदि की, बीस प्रतिशत धर्म- अध्‍यात्‍म की, आठ-दस प्रतिशत महापुरुषों की जीवनियों, चरित्र गाथाओं आदि की, और एकाध प्रतिशत कंप्यूटर, इतिहास- राजनीति शास्‍त्र की पुस्तकें दिखाई देंगी। अर्थशास्‍त्र, समाजशास्‍त्र, मनोविज्ञान, दर्शन आदि की भी इक्की-दुक्की पुस्तकें नज़र आ सकती हैं ; पर प्रयोजनमूलक भाषा के अन्य क्षेत्र (जैसे, रसायन विज्ञान, भौतिक विज्ञान, शैल विज्ञान, यंत्र विज्ञान, ब्रह्माण्ड विज्ञान, समुद्रविज्ञान, भूविज्ञान, भूकम्पविज्ञान, भूगणित, ऊष्मागतिकी, दूरसंचार यांत्रिकी, विद्युत यांत्रिकी, चुम्बकत्व, स्पोर्ट्स फोटोग्राफी, आटोमोबाइल फोटोग्राफी, फोटो पत्रकारिता आदि) में हिंदी / भारतीय भाषाओं के ग्रन्थ ढूंढे से भी नहीं मिलते। क्या इसी कारण भारत विज्ञान की दुनिया में आज पिछड़ा हुआ है क्योंकि हम अपनी भाषा में विज्ञान को नहीं अपना रहे हैं ? कैसी विडम्बना है कि जिस देश ने आदिकाल में चिकित्सा और खगोल जैसे वैज्ञानिक विषयों की जानकारी पूरी दुनिया को दी, जिसके संस्कृत में लिखे विमान शास्त्र के आधार पर (अमरीका के राइट ब्रदर्स से आठ साल पहले 1895 में) शिवकर बापूजी तलपदे ने मानवरहित “मरुत्सखा “ विमान बनाकर और उड़ाकर दिखा दिया, उस देश के वैज्ञानिक आज केवल अंग्रेजी में वैज्ञानिक अनुसंधान कर रहे हैं ! समझ में नहीं आता कि विज्ञान और तकनीक से संस्कृत / हिंदी /आधुनिक भारतीय भाषाओं का कट जाना साहित्यिक दुर्घटना है या सोची समझी राजनीतिक साज़िश ! जो भाषा अपने समय के विज्ञान से कटी हो वह कितने दिन ज्ञान की भाषा बनी रह सकती है ?

कहा तो यह जाता है कि अलग-अलग विषयों की हिंदी में लगभग 25 - 30 हजार पुस्तकें प्रतिवर्ष प्रकाशित होती हैं, पर वे न पुस्तक मेले में दिखाई देती हैं न हिंदी सम्मेलनों में। प्रकाशित होने के बावजूद उन्हें समुचित सम्मान क्यों नहीं मिलता ? जिन तकनीकी विषयों की इक्की – दुक्की पुस्तकों की चर्चा सरकारी पुरस्‍कार के सन्दर्भ में समाचारपत्रों में पढ़ने को कभी-कभार मिल जाती है, वे भी पुस्तक मेले या बाजार में दिखाई क्यों नहीं देतीं ? बैंकिंग विषयों पर मौलिक हिंदी पुस्तक लेखन की एक योजना भारतीय रिज़र्व बैंक के संरक्षण में पिछले लगभग 25 वर्ष से चल रही है, दर्जनों पुस्तकें इस योजना के अंतर्गत प्रकाशित हो चुकी हैं, पर इन पुस्तकों की और उनके लेखकों की चर्चा बस रिज़र्व बैंक की बैठकों के कार्य-विवरण में ही मिलती है, बाजार में नहीं। आखिर प्रयोजनमूलक लेखन और प्रयोजनमूलक लेखक उपेक्षित क्यों ? 

लोग कहते हैं कि भाषा और शिक्षा का नाभि - नाल का सम्बन्ध है। किसी भाषा में पुस्तकें तभी लिखी जाती हैं और उन्हें सम्मान तभी मिलता है जब वह शिक्षा का माध्यम होती है। आज शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी है, इसलिए हिंदी में पुस्तकें नहीं लिखी जा रही (या कम लिखी जा रही) हैं। क्या यह तर्क पूर्ण सत्य पर आधारित है ? अगर इस तर्क को स्वीकार कर लें तो पहला प्रश्न तो यही उठता है कि फिर हिंदी में कविता-कहानी-नाटक आदि भी क्यों लिखे जा रहे हैं और उनके सम्मान – समारोह क्यों आयोजित किए जा रहे हैं ? प्रश्न यह भी है कि शिक्षा का माध्यम बनने पर पाठ्यपुस्तकें तैयार होती हैं, या मौलिक ग्रन्थ लिखे जाते हैं ? पाठ्यपुस्तकों के लिए सामग्री मौलिक ग्रंथों से ली जाती है या मौलिक ग्रंथों के लिए सामग्री पाठ्यपुस्तकों से ली जाती है ? शिक्षा माध्यम की भाषा बनना किसी भाषा की सम्पन्नता का परिणाम होता है या कारण होता है ? कहीं बात ‘ पहले मुर्गी या अंडे ‘ वाली तो नहीं ?

क्या बिडम्बना है कि अंग्रेजी शासनकाल में जब हिंदी, मराठी आदि भाषाएँ शिक्षा का माध्यम नहीं थीं, तब अनेक विद्वानों ने ज्ञान - विज्ञान के अनेक क्षेत्रों में (ऐसे विषयों में भी जिनका शिक्षण स्कूल / कालेज / यूनिवर्सिटी में होता ही नहीं था), हिंदी, मराठी, बांग्ला आदि भारतीय भाषाओं में उच्च स्तर के मौलिक ग्रंथों का सृजन किया। स्वामी श्रद्धानंद (1856–1926) द्वारा हरिद्वार के निकट 1902 में स्थापित गुरुकुल कांगड़ी के शिक्षकों ने आधुनिक ज्ञान - विज्ञान की विभिन्न शाखाओं पर हिंदी में सर्वप्रथम मौलिक ग्रन्थ लिखे। काशी नागरी प्रचारिणी सभा (स्थापना 1893), और विज्ञान परिषद, प्रयाग (1913) के संरक्षण में ऐतिहासिक महत्व के अनेक ग्रन्थ लिखे गए। नगेन्द्र नाथ बसु (1866-1938) ने बांग्ला और हिंदी में विश्वकोश (1916 – 1931). बनाया। सुख सम्पति राय भंडारी ने लगभग नौ सौ पृष्ठों का ऐसा " अंग्रेजी - हिंदी कोश " तैयार किया जिसमें चिकित्सा विज्ञान, शरीर रचना विज्ञान, शरीर क्रिया विज्ञान, शल्य चिकित्सा विज्ञान, प्रसूति विद्या, खगोल विज्ञान, प्राणि विज्ञान, वनस्पति विज्ञान, गणित जैसे विषयों के पारिभाषिक शब्दों का भी समावेश किया। डा.रघुवीर (1902–1963) ने पूरे भारत के विभिन्न विश्वविद्यालयों में कार्यरत लगभग दो सौ विद्वानों के सहयोग से विभिन्न वैज्ञानिक विषयों एवं संसदीय प्रयोग के लगभग डेढ़ लाख पारिभाषिक शब्द प्रस्तुत कर दिए।

रायबहादुर गौरीशंकर हीराचंद ओझा (1863–1947)  जब " भारतीय प्राचीन लिपिमाला " ग्रन्थ लिख रहे थे, तब सिरोही (राजस्थान) के अँगरेज़ कलक्टर ने उनसे अनुरोध किया कि यह ग्रन्थ अंग्रेजी में लिखें। ओझा जी ने उत्तर दिया, आपका ज्ञान पाने के लिए हमने आपकी भाषा सीखी, अब हमारा ज्ञान पाने के लिए आप हमारी भाषा सीखिए। इसी भावना से तत्कालीन अनेक विद्वानों ने हिंदी, मराठी, गुजराती, बांग्ला आदि में ऐतिहासिक महत्व के ग्रन्थ लिखे,  पर बाद में यह भावना लुप्त होती चली गई। इसका परिणाम यह है कि उधर ज्ञान-विज्ञान के नए-नए क्षेत्र उभरते गए, और हम बराबर पिछड़ते गए। इसीलिए आज की स्थिति का आकलन करते ही एक शून्य उभरने लगता है।

यदि हम इस अभाव में जीना नहीं चाहते तो हमें इस शून्य को भरने के प्रयास करने होंगे। सबसे पहले हमें “ साहित्य “ की परिभाषा को बदलना होगा। आज हिन्दी साहित्य से हमारा आशय होता है कविता-कहानी-नाटक-उपन्यास आदि अर्थात केवल ललित साहित्य। ज़रा विचार कीजिए, जब हम कहते हैं कि संस्कृत या अंग्रेजी का साहित्य बहुत विशाल है, तो क्या तब भी हमारा आशय केवल ललित साहित्य होता है ? अगर नहीं, तो हिंदी के सन्दर्भ में यह संकीर्ण परिभाषा क्यों ? हिंदी साहित्य सम्मेलनों में चर्चा केवल केवल ललित साहित्य की क्यों ? पुरस्कार केवल ललित साहित्य को क्यों ?

हम सब जानते हैं कि ललित साहित्य के क्षेत्र में तो हर वर्ग का व्यक्ति अपनी भावनाएं व्यक्त करने का प्रयास कर सकता है, पर प्रयोजनमूलक साहित्य का सृजन वही कर सकता है जो उस विषय का सम्यक ज्ञाता हो और जिसकी लेखन में भी रुचि हो। ऐसा मणि-कांचन योग (तकनीकी विषय का ज्ञान और उसके लेखन में रुचि) बहुत कम मिलता है। अतः समाज को अपनी ओर से ऐसे विद्वानों को खोजने, उन्हें लेखन के लिए प्रेरित करने, उनके साहित्य को प्रकाश में लाने हेतु उन्हें सम्मानित- पुरस्कृत करने वाली कुछ विशेष आकर्षक योजनाएं बनानी चाहिए।

पिछले कुछ वर्षों से देश और विदेश में हिंदी सम्मेलन आयोजित किए जा रहे हैं जिनमें कतिपय साहित्यकारों / हिन्दीसेवियों को सम्मानित भी किया जाता है। जो विद्वान प्रयोजनमूलक साहित्य का सृजन कर रहे हैं, उनके सम्मान की एक शुरुआत इन सम्मेलनों से ही की जा सकती है। इस सम्बन्ध में सम्मेलन के आयोजनकर्ताओं के विचारार्थ कुछ सुझाव प्रस्तुत हैं :

1. ललित साहित्य की भांति ही प्रयोजनमूलक साहित्य को पुरस्कृत करने की योजना बनाएँ। यह योजना यदि ललित साहित्य की अपेक्षा अधिक आकर्षक होगी , तो सोने में सुहागा होगा।

2. प्रयोजनमूलक साहित्य की रचना करने वाले विद्वानों को विशेष रूप से आमंत्रित किया जाए, और सम्मेलन में उन्हें सम्मानित / पुरस्कृत किया जाए।

3 सम्मेलन का एक सत्र उनके प्रकाशित साहित्य की चर्चा और / या प्रयोजनमूलक साहित्य की आवश्यकताओं / समस्याओं की चर्चा के लिए रखा जाए।

4. प्रयोजनमूलक साहित्य की बिक्री की संभावनाएं अपेक्षाकृत कम ही होती हैं। अतः इसे प्रकाशित करने वाले प्रकाशकों का भी सम्मान होना चाहिए।

5. वर्ष के दौरान विभिन्न स्थानों से प्रकाशित प्रयोजनमूलक साहित्य की सूची भी प्रकाशकों के सहयोग से तैयार की जा सकती है। यह सूची सम्मेलन में वितरित एवं स्मारिका में प्रकाशित की जाए ताकि इस क्षेत्र में हिंदी के विकास का परिचय लोगों को मिले।

6. इन सम्मेलनों में प्रस्ताव पास करके साहित्य अकादमी / ज्ञानपीठ जैसी संस्थाओं से भी अनुरोध किया जाए कि वे जिस प्रकार ललित साहित्य पर पुरस्कार देती हैं, उसी प्रकार “ प्रयोजनमूलक साहित्य ” पर भी पुरस्कार दें।

7. कोई ऐसी योजना बनानी चाहिए जिससे पुस्तक मेलों में प्रयोजनमूलक साहित्य की उपलब्धता सुनिश्चित की जा सके।

ये कुछ सुझाव मात्र हैं। मेरा अनुरोध है कि विद्वद्जन प्रयोजनमूलक साहित्य की वृद्धि और इस प्रकार हिंदी की श्रीवृद्धि के बारे में गंभीरता से विचार करके मार्गदर्शन करें।

**********************

(डा. रवीन्द्र अग्निहोत्री

पी / 138, एम आई जी, पल्लवपुरम फेज़ - 2, मेरठ 250 110)

agnihotriravindra@yahoo.com

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3840,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,336,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2783,कहानी,2110,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,486,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,17,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,830,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,3,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,315,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1919,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,648,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,688,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,55,साहित्यिक गतिविधियाँ,184,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,68,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: हिंदी का एक उपेक्षित क्षेत्र // डॉ. रवीन्द्र अग्निहोत्री
हिंदी का एक उपेक्षित क्षेत्र // डॉ. रवीन्द्र अग्निहोत्री
https://lh3.googleusercontent.com/-jO8o2F2EeEw/WYV14Wpd6pI/AAAAAAAA6Cc/EN3Z9ugGdKoSNarUzi8dtsSRInFLUAw3QCHMYCw/image_thumb%255B5%255D?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-jO8o2F2EeEw/WYV14Wpd6pI/AAAAAAAA6Cc/EN3Z9ugGdKoSNarUzi8dtsSRInFLUAw3QCHMYCw/s72-c/image_thumb%255B5%255D?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2017/08/blog-post_81.html
https://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2017/08/blog-post_81.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ