नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

शशांक मिश्र भारती के पन्‍द्रह हाइकु

प्रणव सोनी की कलाकृति

01-

एक-दो-तीन

ताड़ना है सहती,

मौन न तोड़े।


02-

आरोप लगे

अवैध व्‍यापार के,

हंसा गुलाब।


03-

चरित्र हीन

कांच सा बिखरता,

हंसते सब।

04-

शहर हंसा

कांच टूटता देख,

रोया बुधुआ।


05-

दानवता है

विजय श्री पा रही,

मूल्‍य गिरते।


06-

भड़क जाते

उठती उंगली देख,

चार किधर।


07-

विश्‍वास घात

इतिहास की हत्‍या,

स्वयं हंसता।

08-

दूर दृष्‍टि

शून्‍य में हैं ताकते,

न कि धरती।


09 -

उड़ते खग

मचलते हैं बच्‍चे,

वृद्ध तो नहीं।


10 -

होता पतन

नैतिक मूल्‍यों का,

न कि मानवता।


11-

मन का जले

अगर रावण तो

हो दशहरा।


12-

पुतले जले

हैं हंसते रावण

घर- घर।


13 -

स्‍वार्थ उनका

हम सब पिसते

हर चुनाव।

14 -

पाक है साफ

उनके लिए अब

लोभ सप्रा का।


15 -

गधे गैंडे भी

प्रचार पा गये हैं

इस चुनाव में।


-------------

शशांक मिश्र भारती

सम्‍पादक देवसुधा

हिन्‍दी सदन बड़ागांव

शाहजहांपुर -242401 उ0प्र0

ईमेलः- shashank.misra73@rediffmail.com

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.