370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

हास्य-व्यंग्य // पूंछ नहीं तो पूछ नहीं // रामानुज श्रीवास्तव

image

चिकित्सा विज्ञान के जानकारों के अनुसार मानव भ्रूण में पूँछ होती है, फिर नौ माह आते आते लोप हो जाती है....कहाँ लोप हो जाती है...क्यों लोप हो जाती है..यह खोज का विषय है...दिमागी काम है...मैं इस पचड़े से दूर रहना उचित मानता हूँ। किसी अख़बार में पढ़ा था कि कलकत्ता में कोई शिशु पूँछ सहित जन्म लिया है...हो सकता है कि डॉक्टरों की कही बात का प्रमाण लेकर अवतरित हुआ हो...जो भी हो मैं तो इस बच्चे को नमन करता हूँ जो प्रकृति के सभी नियमों को धता बताकर पूँछ होने का सबूत धरती के तमाम अविश्वासी लोगों के लिये उपस्थित कर दिया। भगवान हम दोनों को कुशल रखे, कभी न कभी चार आँखें होने की उम्मीद लिये लिख रहा हूँ।

शरीर विज्ञानियों का ये भी कहना था कि हमारे पूर्वजों के पूँछ और मूँछ दोनों थी, वे बराबर दोनों का उपयोग करते थे, कई बड़े बड़े काम मूँछ और पूँछ की मदद से कर लेते थे, पता नहीं हम मनुष्यों की पूँछ क्यों छीन ली गई...मूँछ तो सलामत है लेकिन आज की नयी पीढ़ी मूँछ को भी रिश्तों की तरह स्वीकार नहीं कर पा रही है..पूँछ तो रही नहीं मूँछ भी जाने वाली है, आखिर कब तक अपना अपमान सहेगी... बेचारी।

आइये, एक सारगर्भित चिंतन जीवन के हर पहलुओं को सामने रख के करते हैं "कि पूँछ होती तो क्या फायदे हो सकते थे।"

स्कूली बच्चे

..................ठण्ड के दिनों में बच्चों को अक्सर जुकाम होता है...ऊपर से भारी बस्ते का बोझ कितनी मुसीबत का काम...रुमाल भी  अगर दे दे तो रास्ते में छोड़ देना या गिरा देना उनकी आदत में है...काश कोमल और छोटी पूँछ जो उगी होती तो मम्मी लोग पूँछ में रुमाल बांध देती...गुमने की झंझट से हमेशा के लिए मुक्ति और नाक पोंछने का काम भी कितना आसान।

घर में पूँछ की उपयोगिता

....................................

पचहत्तर प्रतिशत पूँछ से फायदा घर में ही मिलता। झाड़ू पोंछा क्या होता है इनकी तो शायद नस्ल ही खत्म हो जाती...घर में सफाई का काम पूँछ से जितना अच्छा तो सकता है....और किसी उपकरण औजार से सम्भव नहीं हो सकता है। एक कवि की नज़र से देखें...क्या क्या कुछ घर में होता।

" घर का सारा कूड़ा करकट दुम से झाड़ लिया करते।

लटकाये दुम से बच्चों को जब रोते तो बहलाया करते।

उठी पूँछ जो दिखे किसी की गड़बड़ कोई समझ लेते,

दबी हुई दुम अगर दिखे तो उसे प्रसन्न समझ लेते।

पत्नी होती गुस्से में जब सब्जी भी घर न होती,

तब घर के हर कोने जाकर अपनी पूँछ पटक कहती।

पूँछ उठाये घूम रहे हो घर में सब्जी आज नहीं,

आलू बैंगन सड़े पड़े है धनिया लहसुन प्याज नहीं।

जाहिर हैं पति देव फौरन ही सब्जी मंडी के लिए दुम में झोले लटकाकर चल पड़ते।


कुछ बड़े पेट वाले लोग जिनकी पतलून नीचे खिसकती रहती है....बार बार सम्हालते रहते हैं, हाथ न लगाये तो अपने आप उतर सकती है। उनके लिए हुक का काम पूँछ देती और इस झंझट से निश्चित ही मुक्ति मिल जाती। आज इस गरीबी के आलम में हर बच्चे को खिलौने नहीं मिलते,

काश पूँछ होती तो उसी के साथ खेलकर मन बहला लेते।


सरकारी दफ्तरों में भी पूँछ अनुसार पूछ होती, रुतबा होता दबदबा होता...सब पूँछ देखते ही पहचान में आ जाते कौन क्या है।

" नये ढंग से दफ्तर में भी सबका नामकरण होता।

दुम अनुसार वहाँ पर सबका छोटा बड़ा चरण होता।

बड़ी पूँछ वाला तो प्राणी अपने को कहता अफ़सर,

दबी पूँछ वाला तो केवल शब्दों का उच्चारण होता।


पूँछ की भाव भंगिमा और बदलते रंग को देखकर मौसम का अनुमान लगाना कितना आसान होता.. काली मटमैली पूँछ देखकर बता सकते थे कि बरसात आने वाली है। पूँछ डरी सहमी दिखने पर कहते ठंडी आने वाली है...चलो रजाई ठीक करा लो। बसन्त के दिनों में तो किसी की पूँछ बढ़ जाती किसी की घट जाती। गर्मी के दिनों में यदि हवा के विपरीत दिशा में पूँछ जाती तो समझ लेते आंधी तूफान का जोग बन रहा है। क्या बतायें इतना फायदा होता की सबको लिखने बैठ जायें तो महा लेख तैयार हो जाये। सब बातें लिख पाना मेरे लिए सम्भव नहीं है..लेकिन राजनीति में क्या उथल पुथल होता यह बताने का लोभ हृदय में जरूर है।

काश पूँछ होती जो उनके देशी नेता इठलाते।

पार्टी के सब झंडे बैनर पूँछ उठाये जाते।

मजबूती के साथ पूँछ में चिपकी रहती धोती।

हाथ उठाकर इंकलाब में कोई दिक्कत न होती।

जब कोई प्रस्ताव सदन में रखता एक विधायक।

सत्ताधारी पक्ष बताता है यह बिल्कुल लायक।

मिलजुल के जब सभी विपक्षी साथ डालते अड़चन।

तब मंत्री के दबी पूँछ की बढ़ती निश्चित फड़कन।

मंत्री जी तब क्रोध भाव से कहते पूँछ पटककर।

तुम लोगों की आदत में है अड़चन डालो मिलकर।


पूँछ से फायदे ही फायदे होते फिल्मों में तो कहना की क्या जब गाने भी कुछ इस तरह बनते....

"पूँछ से पूँछ मिलाते चलो...प्रेम की गंगा बहाते चलो।

राह में आये जो पूँछ विहीन,... उसे भी गले से लगाते चलो।"


कुछ हानियाँ भी हो सकती थी...सबसे ज्यादा खतरा गाँवों में हो सकता था..लोग एक दूसरे का खलिहान खेत मकान हनुमान के लंका दहन की तर्ज में जला देते... हो सकता है

विधाता ने पूँछ विषय पर कोई मीटिंग कॉल की हो और आदमी की पूँछ सुविधा हटाने का प्रस्ताव बहुमत से पास हो गया हो....खैर जो भी हो...मुझे तो पूँछ न होने का मलाल है

आपको भी होगा...सभी को होगा...लेकिन कुछ किया नहीं जा सकता..भगवान से बड़ा तो कोई नहीं है...हाँ बुद्धि हीन लोग मंदिर में जाकर भगवान से  प्रार्थना कर सकते है...बुद्धि रखने वाले हकीम वैज्ञानिक खोज कर सकते है। मेरी समझ में तो कुछ नहीं आ रहा क्या करें...

दिन रात यही लगता है...."पूँछ नहीं तो पूछ नहीँ........."

हास्य-व्यंग्य 4801868874590712596

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव