नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

संस्मरण - - - "परसाई के गांव की यात्रा" // जय प्रकाश पांडेय


clip_image002
..............................
देश की पहली विशेषीकृत माईक्रो फाईनेंस शाखा भोपाल में पदस्थापना के दौरान एक बार इटारसी क्षेत्र दौरे में जाना हुआ ,जमानी गांव से गुजरते हुए परसाई जी याद आ गए ,हरिशंकर परसाई इसी गांव में पैदा हुए थे। हमने गाड़ी रोकी और घुस गए जमानी गांव में.........

जमानी गांव में फैले अजीबोगरीब सूनेपन और अल्हड़ सी पगडंडी में हमने किसी ऐसे व्यक्ति की तलाश की जो परसाई जी का पैतृक घर दिखा सके ,और परसाई जी के बचपन के वे गर्दिश के दिनों के बारे में बता सके.

रास्ते में एक दो लोगों को पकड़ा पर उन्होंने हाथ खड़े कर दिए ,हारकर हाईस्कूल तरफ गए ,पहले तो हाईस्कूल वाले गाड़ी देखकर डर गए क्यूंकि कई माससाब स्कूल से गायब थे ,जैसे तैसे एक माससाब ने हिम्मत दिखाई , बोले - परसाई जी यहाँ पैदा जरूर हुए थे पर गर्दिश के दिनों में वे यहां रह नहीं पाए .

हांलाकि  नयी पीढ़ी कुछ बता नहीं पाती क्यूंकि पढ़ने की आदत नहीं है, फेसबुकिया माहौल में चेट करते एक लड़के से जब हरिशंकर परसाई जी के पुराने मकान के बारे में पूछा ,तो उसने पूछा - कौन परसाई ?
फिर भी बेचारे स्कूल के उन माससाब ने मदद की, पैदल गांव की तरफ जाते हुए माससाब ने बताया कि उनका पुराना घर तो पूरी तरह से गिर चुका है , घर के खपरे और ईंटें लोग पहले ही चुरा ले गए , अब टूटे घर के ठीहे में लोग लघुशंका करते रहते हैं ,........


हमने माससाब से कहा चलो फिर भी वो जगह देख लेते हैं और हम चल पड़े उस ओर ....... कच्ची पगडंडी के बाजू में माससाब ने इशारा किया ,....नींव के कुछ पत्थर शेष दिखे , दुर्गंध कचरा के सिवा कुछ न था, चालीस बाई साठ के एरिया में हमने अंदाज लगाया कि शायद इस जगह पर परसाई सशरीर धरती पर उतरे रहे होंगे धरती छूकर पता नहीं आम बच्चों की तरह " कहाँ कहाँ कहाँ "की आवाज से अपनी उपस्थिति बतायी या चुपचाप गोबर लिपी धरती पर उतर गए गए होंगे ..........

आह और वाह के अनमनेपन के बीच उस प्लाट की एक परिक्रमा पूरी हुई जब तक उस पार खड़े सज्जन की लघुशंका करने की व्यग्रता को देखते हुए हम माससाब के साथ स्कूल तरफ मुड़ गए .........
(जस का तस लिखने में दुख हुआ ,दर्द हुआ पर आखिंन देखी पर विश्वास करना पड़ा  )
++++++++++++++++++
--जय प्रकाश पांडेय
416 - एच, जय नगर जबलपुर

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.