370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघुकथा: कलयुग के श्रवण कुमार // डॉ नन्द लाल भारती

डॉ नन्द लाल भारती

मुंशीजी बहुत दर्द में हो। क्या बात है क्यूं घुट रहे हो ? इंजीनियर बेटा, उच्च शिक्षित बहू,ऐसा क्या गम है कि घुट घुट कर जी रहे हो दशरथ बोले।

बहू घास नहीं डाल रही होगी क्यों काका चंकी झट से बोला।

कुछ तो शर्म करता बदमिजाज, मानता हूँ जादूगर की बेटी का दिया हुआ दर्द हम ढो रहे हैं, तू ऐसे कैसे भूल गया कि बहू बेटी समान भी होती है।

माफ करो काका  सच उगलवाने का यही तरीका था।

मुंशीजी बेटा बहू का दिया दर्द रहे हो जमाने को खबर नहीं।

दशरथ जब बेटा ही जादूगर सास ससुर और उनकी बेटी का गुलामी हो गया तो असहाय मां बाप का दर्द कौन सुनेगा। हो सकता है बेटा की परवरिश में हम से ही कोई चूक हो गई हो।

काका आपसे कैसे चूक हो सकती है, आपने तो बच्चों के भविष्य के लिए जीवन पूँजी स्वाहा कर दिया, आप तो गाँव के आदर्श हो चंकी बोला।

बेटा वो हमारा फर्ज था।

जादूगर सास ससुर और उनकी बेटी के गुलाम का माँ बाप घर परिवार के प्रति कोई फर्ज नहीं चंकी बोला।

दशरथ बोले वाह रे कलयुग के श्रवण कुमार  जादूगर सास ससुर और उनकी बेटी के गुलाम तुमसे अच्छे तो अनपढ़ औलादें हैं जो माँ बाप के दुख में साथ तो हैं।

---

लघुकथा 8600511058486420564

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव