370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

मिनी कथाएं : घर –परिवार –कथाएं –व्यथाएँ // यशवंत कोठारी

1- स्मार्ट बहू

काम वाली नहीं आई थी, सास ने जल्दी सारा काम निपटा दिया.

कुछ दिनों बाद फिर ऐसा ही हुआ. बहु कार लेकर गई. अपनी सहेली के यहाँ से काम वाली को लाई, काम कराया और वापस कार से छोड़ आई.

००००००००००००००००००००

२-संदूक

एक घर में आयकर वालों का छापा पड़ा. अधिकारी ने सब छान मारा . अंत में एक संदूक दिखा , बूढी माँ ने अनुनय की इसे मत खोलो , मगर संदूक खोला गया . उसमें कुछ सूखी रोटियों के टुकड़े थे , जो माँ के रात-बिरात काम आते थे.

००००००००००००००००००००

३-त्यौहार

घर में बड़ा त्यौहार . बुआ , बहन, बेटी , सब आई हुयी थीं . विदा के समय बुआ को हल्का लिफाफा, बहन को साड़ी पर लिफाफा, और बेटी के ससुराल के परिवार के लिए कपड़े और लिफाफे दिए गए.

०००००००००००००००००००००००००००

४-फ़ीस

माँ की मौत के बाद, जवान बेटे ने बाप से कहा- पापा बच्चों की फ़ीस –ट्यूशन के खर्चे बहुत बढ़ गए हैं, अपन ये मका न बेचकर टू बी एच के में शिफ्ट हो जाते हैं, जो बचेगा उस से बच्चे पढ़ लेंगे. बाप का सीधा जवाब था -

मैं यहाँ ठीक हूँ. तुम तुम्हारा देख लो.

बेटा-बहू बाप से नाराज है.

००००००

५-दान

बूढी माँ दान के लिए बेटे से कह रही थी , इस बार कुछ ज्यादा ही खर्च होगा. बेटे ने कोई ध्यान नहीं दिया.

माँ चुप हो गई. बाद में बेटे बहू बच्चे मलेशिया के लिए निकल गए. माँ ताकती रह गयीं.

००००००

यशवंत कोठारी ,८६,लक्ष्मी नगर ब्रह्मपुरी बाहर,जयपुर-३०२००२

लघुकथा 7601534344926941733

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव