370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघु कथाः बस अब और नहीं // गिरधारी राम

सुमन माँ से झूठ बोल रही थी! माँ ने पूछा था कि आखिर तुम झूठ क्यों बोल रही हो? आखिर बताती क्यों नहीं क्यों नहीं कि हुआ क्या? क्या आज नीरज ने तुम्हें आज फिर परेशान किया, मारा-पीटा! सुमन की माँ गौर से देख रही थी, सुमन का मुंह सुजा हुआ था। वह सुमन के नजदीक जाकर उसकी साड़ी का पल्ला के पीछे की तरफ, ब्लाऊज हटाकर देखा…., सुमन की पूरी पीठ पर लाल-लाल चकते उभर आये थे। शायद नीरज नें आज फिर सुमन को अपने बेल्ट से मारा था।

सुमन ने माँ की तरफ घूर कर कहा- माँ.. प्लीज.. प्लीज... नीरज से कुछ भी न कहना। तुमसे हाथ जोड़कर विनती करती हूँ। माँ तुम जानती हो नीरज मुझे बहुत प्यार भी तो करता है। बस थोड़ी सी शराब पी लेता है तभी वह मार-पीट करता है पर मैं इसका बुरा नहीं मानती हूँ। यह शब्द बोलते-बोलते सुमन का गला भर आया था और आँखों से आँसू के दो बूँदे उसकी गालों पर छलक आयी थी।

नीरज की सारी गलतियों को छुपाकर सुमन आज माँ के सामने महान बन गयी थी। यही वो औरत है जो हजारों मुसीबत सहने के उपरांत भी अपना परिवार तोड़ना नहीं चाहती। वह तो किसी भी हाल में अपना परिवार को बचाये रखना चाहती है। सुमन की माँ को अपनी बेटी का दुख देखा न जाता पर अपने बेटी की विनती के आगे नतमस्तक हो गयी थी।

सुमन, नीरज की सब यातनाएँ सह रही थी बस इसीलिए कि दो मासूम बच्चे बड़े हो जाय। नीरज को तो बस नौकरी से मतलब था इसके बाद शराब। और पुरूष को चाहिए क्या? यह क्या नीरज सोच पायेगा कि उसकी बुरी आदतों की वजह से पूरा का पूरा परिवार नष्ट हो रहा था।

इधर नीरज कुछ सालों से वह हमेशा शराब पीने की जुगत में रहता। घर का राशन हो या न हो पर उसको शराब चाहिए। बच्चों की क्या जरूरतें होती है, बच्चे कौन स्कूल में पढ़ेंगे, बच्चों को क्या नाश्ता चाहिए, क्या खाना चाहिए इन सारी समस्याओं से नीरज कोसों दूर था।

दरअसल गलती नीरज की नहीं है वह तो हमारा समाज का आईना भर है। इस पुरूष प्रधान समाज में स्त्री को कानूनन बराबरी का तो दर्जा है परंतु हमारे आम जनजीवन में स्त्री को पुरूष, पैरों की जूती समझता है। और हमेशा दबा कर रखना चाहता है। यही तो गंदी मानसिकता है।

किसी तरह दो-चार साल और बीते होंगे, एक दिन नीरज शराब के नशे में घर रात को दस बजे आया और खाना मांग रहा था। जैसे ही सुमन ने बोला कि आज आटा खत्म हो गया था इसीलिए रोटी बना नहीं पायी... ,तुरंत एक बार फिर सुमन को मारने के लिए नीरज ने अपना बेल्ट उतार लिया था । आज सुमन का स्वाभिमान जाग उठा। नीरज ज्योंही सुमन को मारने के लिए बेल्ट चलाया उसने बेल्ट को पकड़ लिया। नीरज एक से सन्न रह गया। उसका शराब का नशा एक दम से उतर गया था।

30.12.2017, सिलीगुड़ी

clip_image002

लघुकथा 4855181579331256364

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव