370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघु व्यंग्य // सम्मान खरीद लो (संस्मरण) // सुशील शर्मा

सम्मान खरीद लो

(संस्मरण)

सुशील शर्मा

image_thumb

आज मन उदास है, न जाने क्यों खुद पर गुस्सा आ रहा था क्यों मैंने अपनी किताब भेजी थी सम्मान पाने के लिए,कोई भी साहित्यकार कितना भी विनम्र कितना भी वरिष्ठ क्यों न हो उसके मन में सम्मान की लालसा बनी रहती है। कई पटल पर मैंने उपदेश देते हुए साहित्यकार देखे हैं जो कहते है मुझे सम्मान की कोई ललक नहीं है मेरा लेखन तो स्वान्तः सुखाय और लोक कल्याण के लिए है और अगले ही दिन अपना एक लंबा चौड़ा बॉयोडाटा सम्मान के लिए भेज देते हैं। ये स्वाभाविक मानवीय वृति है इसमें गलत कुछ भी नहीं है सिर्फ एक बात गलत है कि आप कहते कुछ है और आपकी इच्छाएं उस प्रवचन के ऊपर चढ़ कर सम्मान के लिए कुलबुलाने लगती हैं।

मैंने भी पटल पर सम्मान की लालसा नहीं है पर लम्बा चौड़ा भाषण पेल कर अपनी एक किताब तुरंत सम्मान के लिए भेज दी।

उधर से तुरंत मेरी पुस्तक के कसीदे पड़े जाने लगे और सम्मान को सुनिश्चित कर दिया गया फिर वो थोड़ा हंसे बोले" हें हें हम सम्मान तो बिल्कुल निशुल्क देते है लेकिन अब आप तो जानते है इस महंगाई के दौर में व्यवस्थाओं पर खर्च होता है इस हिसाब से दो हज़ार भेज दीजिए। हाँ आपकी टिकिट और रहने व खाने पीने का इंतजाम हम कर देंगे उसका अलग से तीन हज़ार कुल आप पांच हज़ार मेरे फलां फलां खाते नंबर में फलां दिनांक तक जमा कर दीजिए।"

मुझे लगा जैसे मैंने किताब लिख कर कोई अपराध किया है और उसको सम्मान के लिए भेज कर तो जैसे खुद का मर्डर ही कर लिया।

मैंने उनसे कहा कि "महोदय मैं बहुत छोटा सा लेखक हूँ शायद गलती से आपके बहु प्रतिष्ठित सम्मान के लिए यह किताब चली गई इसके लिए मुझे माफ़ कर दें।"

कहने लगे "आप में साहित्यिक समझ नहीं है आप वास्तव में इस सम्मान के लायक नहीं है। अगर आपको किताब वापिस चाहिए तो डेढ़ सौ रुपये मनी आर्डर से भेज दो"।

मुझे पांच हज़ार के उस सम्मान से ज्यादा उचित अपनी किताब को वापिस बुलाना लगा । मैं डेढ़ सौ रुपये का मनीऑर्डर करने पोस्ट आफिस जा रहा हूँ।

संस्मरण 9043885849083991848

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव