370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघुकथा // लक्ष्य // राजेश माहेश्वरी

image

स्वामी सदानंद जी के आश्रम में उनके दो शिष्य रामसिंह और हरिसिंह रहते थे। एक दिन स्वामी जी ने दोनो को शहर से कुछ सामान लाने के लिए भेजा। वे दोनों खुशी खुशी अपने गंतव्य की ओर प्रस्थान कर गये। उस समय बारिश का मौसम था और चारों हरियाली फैली हुई थी जिससे दोनों मंत्रमुग्ध थे। सूर्यास्त का समय हो रहा था और आकाश में इंद्रधनुष की छटा बिखरी हुई थी। हरिसिंह ने इसे देखकर रामसिंह को कहा कि देखो रामसिंह वहाँ पर कैसी रोशनी दिख रही है और ऐसा प्रतीत होता है कि वहाँ पर सोना उपलब्ध है।

हम चलकर एकबार देख तो ले क्योंकि यह दृश्य कितना मनोहारी है यदि सोना नहीं भी हुआ तो हमें ऐसा अद्भुत दृश्य देखने का सौभाग्य तो प्राप्त हो ही जाएगा। रामसिंह ने कहा कि नहीं हरिसिंह हमारा लक्ष्य गंतव्य तक पहुँचना है और स्वामी जी के निर्देश का उल्लंघन करना हमारे लिए उचित नहीं होगा। हरिसिंह उसकी बात सुनकर उससे सहमत नहीं हुआ और वह उसे छोड़कर उस दिशा में आगे बढ़ गया।

अब रामसिंह अकेला ही नियत समय पर अपने गंतव्य पर पहुँच कर हरिसिंह का इंतजार करने लगा। जब पूरी रात बीत गयी और हरिसिंह नहीं आया तो वह अपने साथियों को लेकर उसकी खोज में निकल पड़ा। हरिसिंह लगभग 10 किमी. दूर एक खेत में भूखा प्यासा बेहोश पड़ा था और उसे उठाकर शहर लाया गया। उसे जब होश आया तो उसने बताया कि मैं सोने की मृगतृष्णा में उस ओर चल पड़ा और ना जाने कितने आगे पहुँचने पर भी वह स्थान उतना ही दूर महसूस होता था। मैं सोना पाने की लालच में आगे बढ़ता चला गया और अंत में भटककर थकान और कमजोरी के कारण गिर पड़ा। मैं पानी पानी चिल्ला रहा था परंतु उस निर्जन स्थान पर मेरी सुनने वाला कोई नहीं था।

मैंने रामसिंह की बात नहीं मानकर बहुत बड़ी गलती की परंतु यह आप लोगों की कृपा है कि मुझे खोजकर मेरी जान बचायी। मैं इस निष्कर्ष पर पहुँच गया हूँ कि व्यक्ति को अपने लक्ष्य का निर्धारण करने के पश्चात कभी भटकना नहीं चाहिए अन्यथा उसे कुछ भी प्राप्त नहीं होता और वह जीवन में असफल रहता है।

--

RAJESH MAHESHWARI

106, NAYAGAON CO-OPERATIVE

HOUSING SOCIETY, RAMPUR,

JABALPUR, 482008 [ M.P.]

Email-authorrajeshmaheshwari@gmail.com

लघुकथा 4414812827027178847

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव