रु. 25,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु रचनाएँ आमंत्रित.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ http://www.rachanakar.org/2018/10/2019.html देखें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

स्त्री विषयक कविताएं - डॉ. रंजना जायसवाल

साझा करें:

स्त्री विषयक कविताएं व्यवस्था  व्यवस्था से निकलने के बाद चाहती हो व्यवस्था का सुख ओ नादान स्त्री याद करो कितने वर्ष लगे थे तुम्हें ...

स्त्री विषयक कविताएं

image

व्यवस्था 

व्यवस्था से

निकलने के बाद

चाहती हो

व्यवस्था का सुख

ओ नादान स्त्री

याद करो

कितने वर्ष लगे थे तुम्हें

तोड़ने में व्यवस्था।

घर का गणित 

माँ के गर्भ से ही

पलने लगता है

स्त्री की आँखों में

घर का सपना

माँ भी स्त्री है

सोचती रही होगी

गर्भ-काल में भी

घर के ही बारे में

धरती पर आते ही सबसे पहले

घर को ही निहारती है नन्ही स्त्री

सपने को मिलती है एक आकृति

वह सोचती है –यह है उसका घर

जरा सी बड़ी होते ही

वह घर-घर खेलने लगती है 

जिसमें गुड़िया होती है घरवाली

जो माँ की तरह करती है

घर के सारे काम

वह भी सीखती है घर के काम

सजाती-संवारती है घर माँ के साथ

एक दिन कहते हैं पिता

नहीं है यह उसका घर

वह घर की बेटी है इज्जत है 

कहीं सुदूर है उसका अपना घर

एक सपना पलता है युवा आँखों में

वह भी बनेगी घरवाली 

एक सवाल उसे उलझाता है

कि माँ है घरवाली पर

जब भी नाराज होते हैं पिता

घर क्यों उनका हो जाता है

इस गणित में उलझी

वह आ जाती है अपने नए घर  

घर को सजाती-संवारती है

और कहलाने लगती है घरवाली

हल नहीं होता फिर भी पुराना सवाल

कि आखिर घर किसका होता है ?

सावधानी हटे

एक बेचैनी से
आधी रात को ही खुल जाती है आँख
देखती हूँ मच्छरदानी के अंदर
घुस आएँ हैं कई मच्छर
जता रहे हैं अपना प्यार
गुनगुनाते
पूरी देह की परिक्रमा करते
ना पाकर प्रेम के बदले प्रेम
हिंसक होकर रक्त चूसते
सोचती हूँ
क्यों कर घुस आए भीतर
छिछले प्रेमी से ये मच्छर
उम्र की लापरवाही से
या फिर नींद की खुमारी से
चाहती हूँ निकलना
कि हो जाती हूँ और भी हैरान
बाहर से भी मच्छर दानी घिरी है
मच्छरों से
ताक में हैं सब
कि सावधानी हटे !

भागी हुई औरत

बिन माँ बाप की बेटी थी चंदू
भाग्य की हेठी थी चंदू
बरतन-भांडे घिसती  झाड़ू-बुहारू करती
बुआ के ताने सुनती
जाने कब बचपन लांघ गयी चंदू
भेजी नहीं गयी कभी स्कूल
बिलकुल अपढ़ रह गयी चंदू
बिना बेतन की नौकरानी थी
फिर भी भार थी चंदू  भार उतारा गया
एक मंदबुद्धि अधेड़ बउके से
बांध दी गयी किशोर उम्र की चंदू
अच्छा था घर-परिवार
शिक्षित सम्पन्न थे ससुराली
निहाल हो उठी अभावों मे पली चंदू
दिन गुजरे रिटायर हो गए प्रिंसिपल ससुर
देवर गया विदेश ननद ससुराल
अकेली पड़ गयी नन्ही बच्ची के साथ चंदू
गौं गौं करता था गूंगा- बहरा पति
सुन नहीं पाता था ससुर
अकेले घर-बाहर खटती थी चंदू
छोटा सा मकान बउके के नाम बना दिया
अवकाश के बाद ससुर ने
इंजीनियर छोटे बेटे की उस पर भी नजर थी
पेंशन से चलता था घर
बेटी के भविष्य की चिंता सताती थी
फिर भी खुश रहती थी चंदू
एक दिन पता चला भाग गयी चंदू
जाने कब कैसे जागे थे उसके अरमान
भाने लगा था-सजना-संवरना
अखरने लगा था पति का ना बोल पाना
बहरे ससुर का अकारण चिल्लाना
देवर-देवरानी का मेहमान की तरह आना
और नौकरानी की तरह खटाना
अब वह नहीं रही थी बचपन की काली मोटी चंदू
बन चुकी थी साँवली-सलोनी युवती
वह टीवी मे फिल्में देखती
तो कसकता था उसका दिल
सोचती -काश पति कभी उसकी प्रशंसा मे
दो शब्द बोल पाता ..कोई गीत ही गाता
रात-दिन सवार होने को आतुर पति से
चिढ़ होने लगी उसे न जाने कब
और जाने कब और कैसे आ गया
उसके जीवन मे कोई दूसरा पुरूष
कोई नहीं जान पाया
पता लगा तब जब चली गयी वह
एक दिन बच्ची के साथ
चुपचाप नहीं सबको बताकर
अब वह छिनाल थी कुलटा थी
बचपन से ही बदचलन थी
किसी को याद नहीं था उसकी पंद्रह वर्षों की
त्याग-तपस्या ,मरना-खपना
याद था तो बस यही की उसने चुना था
जीने का नया विकल्प
कहाँ जानती थी चंदू
इस देश मे नहीं है स्त्री को
स्वेच्छा से जीने का अधिकार
और प्रेम तो वर्जित फल है
जिसके चखने पर निकाला जा सकता है
स्वर्ग से समाज से और जनमानस से
और यह भी कि प्रेम के लिए देता आया है समाज
स्त्री को स्वेच्छा से चुन कर पुरूष
चाहे वह गूंगा-बहरा ,बूढ़ा
या नपुंसक ही क्यों न हो
फिर घूमनी चाहिए स्त्री की दुनिया
उसी पुरूष के इर्द -गिर्द
अपनी इच्छा लांघनी है लक्ष्मण-रेखा
और अपने माथे पर 'कुलटा'गुदवाना है
जो जीते-जी नहीं मिटता
यह वह कालिख नहीं
जो किसी भी जल से धूल जाए
दहलीज लाँघती स्त्री खतरा है
उस महान संस्कृति के लिए
जिसके लिए स्त्री देवी है मानवी नहीं
यह बात सुनकर भी नहीं समझ पाई चंदू |


सुनो लड़की

ओ उदास लड़की

होश सँभालते ही

देखती आई हूँ तुम्हें

तुम हमेशा उदास रहती हो

क्या हुआ जो माँ ने नहीं चाहा तुम्हें

पिता का पा नहीं सकी दुलार

नहीं समझा कभी भाई-बहनों ने

सहोदरा तुम्हें

ऐसा इस देश की हजारों लड़कियों के साथ होता है

सब तो नहीं रहती उदास तुम्हारी तरह

तुम नहीं रहने देती मुझे भी खुश

क्योंकि रहती हो मेरे भीतर

साथ जन्मी..पली-बढ़ी

पढ़ी-लिखी और जी रही हो जिंदगी साथ ही

तुम्हारे ही कारण

मैं बालपन में हमउम्र लड़कियों की तरह

चहक न सकी

किशोर वय में महक न सकी

युवापन में बहक न सकी

नहीं कर सकी किसी से प्रेम

हमेशा अलग-थलग रही सबसे

तुमने कभी सामान्य नहीं रहने दिया मुझे

जाने तुम क्या चाहती हो

जो नहीं मिला कभी तुम्हें

तुम्हारे ही कारण उम्र के तीसरे पहर में भी

मैं अकेली हूँ

तुम समझौतों में विश्वास नहीं करती

जबकि रिश्ते समझौतों से ही बनते हैं

तुम्हें भी चाहत है प्रेम की.. साहचर्य की

निश्छल ..निर्दोष आत्मीय रिश्तों की

जो नहीं मिल सकता इस दुनिया में

इस दुनिया में रहकर

किसी दूसरी दुनिया का सपना देखना

समझदारी तो नहीं

तुम यथार्थ कब समझोगी लड़की

मैं जब भी ललकती हूँ देखकर

सखियों का घर-परिवार

पति-बच्चों रिश्ते-नातों का सुखी संसार

तुम्हारे होंठों पर कौध जाती है मोनालिसाई मुस्कान

जो कहती है –जो दिख रहा है

वह नहीं है सच

दिखावा है ..माया है ..भ्रम है  मृगतृष्णा है

कहीं किसी मृगतृष्णा की शिकार तो नहीं लड़की |

औ औ औरत

पुराने कुछ रिश्ते टूटे

कुछ बहुत ही पीछे छूटे

नया रिश्ता न बना

बना तो स्वार्थ सना

चल न सका साथ

कोई दो कदम

मैं ही कहाँ चली

किसी के साथ हर कदम

किसी के सांचे में न ढली

ना किसी को ढाल सकी

ना हो सकी पूरी तरह आजाद

न गुलाम ही बनी रही

ना छोड़ सकी सब कुछ

ना ही कहीं फँसी रही

ना किसी और के लिए बनी

ना किसी को अपना बना सकी

इसे नियति कहूँ

या और कुछ

कि मैं औ  औ औरत ना बन सकी |


स्त्री का अर्थ

वे कहते हैं

स्त्री शब्द में छिपा है इश्क

यानी स्त्री का अर्थ होता है इश्क

सोचो जब नहीं होगी स्त्री

कैसी होगी दुनिया ?

वे औरतें

वे भेड़-बकरियाँ नहीं थीं

कि झुंड में रहें

गंदगी में घास-फूस चरें

दाने के लोभ में जहर खाकर मरें

वे आदिवासी औरतें थीं एक साथ कई थीं

महीनों से बंद अस्पताल के

गंदे बिस्तरों पर पड़ी थीं

कुछ रूपयों के लालच में

कोख की उर्वरा खो रही थीं

उन्हें नहीं पता था क्या होता है संक्रमण

कैसे फैलता है

किस दवा में कितना है जहर

नहीं जानती थीं वे जानती थीं बस इतना

की ले लेंगी इन रूपयों से

नई साड़ी कंघी आईना पाउडर

या खाएँगी कुछ दिन परिवार सहित बढ़िया भोजन

या नई बनवा लेंगी जर्जर हो चुकी झोपड़ी

या खरीद सकेंगी कोई भेड़-बकरी

वे नहीं जानती थी की उस ‘तंत्र’ के लिए वे

भेड़-बकरियों से भी गयी-गुजरी हैं

जिसकी वो ‘लोक’ हैं |

रधिया

भयंकर सर्दी है

बाहर कुहरे की गाँती बाँधे

खामोश खड़े हैं पेड़

झोपड़े के एक कोने में सुलग रहा है

उपले का कौड़ा

घेर कर बैठे हैं जिसे रधिया के चार बच्चे

पुराने कपड़े की गांती बाँधे

कौड़े पर चढ़ी है कड़ाही

खदक रहा है जिसमें

रात का बचा हुआ बासी दाल-भात

दो-चार आलू भूलभुला रहे हैं

कौड़े  की राख में

जिनसे बनेगा अभी

लहसुन के पत्ते व हरी मिर्च वाला

सोंधा-सोंधा चोखा जिसे खा-खिलाकर

निकलेगी रधिया काम पर

बच्चे हाथ-मुँह धोकर

राख से मांजकर दाँत

जाएंगे सरकारी स्कूल

दोपहर के फ्री भोजन की उम्मीद में

लौटेगी शाम ढले रधिया

कई घरों में चौका-बासन करके

तब रात को जलेगा चूल्हा

बच्चे खा-पीकर जा लेटेंगे

पुआल के बिस्तर में

और जल्द ही उनके खर्राटों से

भर उठेगा सड़क के किनारे

लावारिस जगह पर बना वह झोपड़ा

जागती रहेगी रधिया

निहारती बच्चों का मुँह

पहाड़ की तरह लगता है

पहाड़ की रधिया को अपना जीवन

रात भर सुलगता है कौड़े की तरह

उसका युवा शरीर

थोड़ी दूर पर रहता है

दूसरी औरत के साथ घर बसाकर

उसका पियक्कड पति

वह बच्चों का मुँह देखकर

नहीं करती दूसरा घर

हालांकि नहीं हुई है अभी पूरे तीस की भी

जानती है औरत की मजबूरी

कि इस समाज में माँ सिर्फ देवी होती है

औरत नहीं |


आग


वे छिपकली नहीं हैं
रहती हैं उसी की तरह
घर के अंदर
जहाँ उनकी सुरक्षा है
छत है ,रोटी है
और भी बहुत कुछ
अपना कहने के लिए
मन बहलाने के लिए
कभी-कभी वे निकलती हैं
घर से बाहर
घर उनसे चिपका बाहर भी आ जाता है
इसलिए घर में ही बहला लेती हैं मन
बाहर के कीट-पतंगों का शौक नहीं पालती
घरवाले खुश कि होने से उनके
घर है साफ़-सुथरा,सुरक्षित
और वे निश्चिन्त
जा सकते हैं बाहर कहीं भी
जब-तक सब होते हैं घर में
चुप ही रहती हैं वे सुनती हैं सबकी चीख-पुकार
पर अकेले होते ही कट-कट की आवाज
गूँजने लगती है घर में
जैसे चिटक रही हो जलती लकड़ी से चिंगारी
क्या उनमें भी बची होती है आग ?

 

अमृत

मन-समुद्र में
होता रहता है
मंथन हर पल
निकलता है
हर बार विष
निराश नहीं हूँ
कभी तो निकलेगा
अमृत |


अजनबी स्त्री

जब भी देखती हूँ दर्पण

चौंक जाती हूँ

कौन है यह स्त्री ?

मैं खुद को नहीं पहचानती

जीवन में किया जो भी काम

जैसे मैंने नहीं किया

किया उसी अजनबी स्त्री ने

जब-जब मिली बधाइयाँ

या धिक्कार

मैं ताकती रह गयी

लोगों का मुँह

'क्या यह मैंने किया ?'

जब भी सोचा ज्यादा इस बारे में

हो गयी बीमार

इसलिए बस उसी पल को जीती रही

करती रही वही काम

जो होता रहा सामने और जरूरी

भविष्य के बारे में नहीं बना सकी योजना 

हालाँकि लोग जब कहते हैं-

छोटी उम्र में मैंने

किया है बहुत-सा काम

बड़ी डिग्री

कई किताबें

इतना नाम

रूप-रंग..भव्य व्यक्तित्व

क्या नहीं है मेरे पास!

मैं सोचने लगती हूँ-क्या ये कर रहे हैं

मेरे ही बारे में बात ?

वह कौन स्त्री है,जो इतनी आकर्षक है

जिसने किया है इतना सारा काम!

मैं तो नहीं हो सकती

क्या वह रहती है मेरे ही भीतर

जिसे लोग जानते-पहचानते हैं

मैं नहीं जानती !

कुछ मुझे बोल्ड कहते हैं

जो मैं नहीं हूँ

कुछ सफल कहते हैं

जो महसूस नहीं किया कभी खुद को

बेटी,बहन,प्रेयसी,पत्नी

यहाँ तक कि माँ कहकर

पुकारता है जब कोई

मैं परेशान हो जाती हूँ

क्या ये पूर्व जन्म के रिश्ते हैं

जिनके प्रेत लगे हुए हैं मेरे पीछे

जीने नहीं देते सामान्य जिंदगी मुझे

एक जन्म में कितनी बार जन्मी हूँ मैं

कितने रिश्तों को जीया है

जब भी गिनती हूँ

घबरा जाती हूँ

कि क्या ये मैं हूँ ?

मेरी बेचैनी का सबब यह भी है कि

मुझ पर जितने जीवन जीने का आरोप है

उसे जीया है दूसरी स्त्रियों ने,मैंने नहीं 

मैंने तो जब भी अपने बारे में सोचा है

आ खड़ी हुई है सामने

एक भोली,मासूम,निर्दोष बच्ची

जो चाहती है प्यार

वह ना तो बड़े काम कर सकती है

ना गलत

इसलिए दर्पण में खड़ी स्त्री को देखकर

विश्वास नहीं होता कि ये मैं हूँ

मेरी कविताओं में जो स्त्रियाँ हैं

उन्हें भी तो जीती हूँ मैं

तो क्या सभी स्त्रियाँ मैं ही हूँ

लोग दावा करते हैं मेरे बारे में

सब-कुछ जानने का

मैं भी कर सकती हूँ यह

उनके बारे में

पर नहीं कह सकती

दावे के साथ कि

कि मैं ..मैं ही हूँ

क्या ये कोई मनोरोग है !

माँ कहती है -तुम्हारा गणित

बचपन से ही कमजोर है |


घास छीलती स्त्री

कई दिन से देख रही हूँ

सामने के मैदान में

घास छीलती स्त्री को

साठ की उम्र

झुकी कमर व सफेद बाल

हाथों में कमाल इतना

कि एक पल में ही

लगा देती है घास का ढेर

'सहज होता होगा घास छीलना'

सोचा था बचपन में मैंने

छीनकर सुरसतिया के हाथ से खुरपी

छीलना चाहा था घास

और घायल करके अंगुलियाँ

पकड़ लिया था कान  .

'पढ़ोगी नहीं तो घास छीलोगी'

मास्टर साहब की ये बात

हमेशा याद रखी मैंने

सोचती हूँ-घास छिलती हुई स्त्री ने

शायद नहीं सुनी होगी अपने मास्टर की बात !

पास जाकर पूछती हूँ

स्त्री व्यंग्य से

देखती है कुछ पल मुझे

फिर पैर के पंजों पर तेजी से सरकती

घास का लगाने लगती है यूँ ढेर

मानों ढेर कर रही हो व्यवस्था |

--


व्यक्तिगत परिचय

जन्म – ०३ अगस्त को पूर्वी उत्तर-प्रदेश के पड़रौना जिले में।

आरम्भिक शिक्षा –पड़रौना में।

उच्च-शिक्षा –गोरखपुर विश्वविद्यालय से “’प्रेमचन्द का साहित्य और नारी-जागरण”’ विषय पर पी-एच.डी।

प्रकाशन –आलोचना, हंस, वाक्, नया ज्ञानोदय, समकालीन भारतीय साहित्य, वसुधा, वागर्थ, संवेद सहित राष्ट्रीय-स्तर की सभी पत्रिकाओं तथा जनसत्ता, राष्ट्रीय सहारा, दैनिक जागरण, हिंदुस्तान इत्यादि पत्रों के राष्ट्रीय, साहित्यिक परिशिष्ठों पर ससम्मान कविता, कहानी, लेख व समीक्षाएँ प्रकाशित।

अन्य गतिविधियाँ-साहित्य के अलावा स्त्री-मुक्ति आंदोलनों तथा जन-आंदोलनों में सक्रिय भागेदारी।२००० से साहित्यिक संस्था ‘सृजन’के माध्यम से निरंतर साहित्यिक गोष्ठियों का आयोजन। साथ में अध्यापन भी।

प्रकाशित कृतियाँ –

कविता-संग्रह –

मछलियाँ देखती हैं सपने [२००२]लोकायत प्रकाशन, वाराणसी

दुःख-पतंग [२००७], अनामिका प्रकाशन, इलाहाबाद

जिंदगी के कागज पर [२००९], शिल्पायन, दिल्ली

माया नहीं मनुष्य [२००९], संवेद फाउंडेशन

जब मैं स्त्री हूँ [२००९], नयी किताब, नयी दिल्ली

सिर्फ कागज पर नहीं[२०१२], वाणी प्रकाशन, नयी दिल्ली

क्रांति है प्रेम [2015]वाणी प्रकाशन, नयी दिल्ली

स्त्री है प्रकृति [2018]बोधि प्रकाशन, जयपुर

कहानी-संग्रह –

तुम्हें कुछ कहना है भर्तृहरि [२०१०]शिल्पायन, दिल्ली

औरत के लिए [२०१३]बोधि प्रकाशन, जयपुर

लेख-संग्रह –

स्त्री और सेंसेक्स [२०११]सामयिक प्रकाशन, नयी दिल्ली,

तुम करो तो पुण्य हम करें तो पाप [2018]नयी किताब, दिल्ली।

उपन्यास –

....और मेघ बरसते रहे ..[२०१३], सामयिक प्रकाशन नयी दिल्ली

त्रिखंडिता [2017]वाणी प्रकाशन, नयी दिल्ली।

संकलनों में रचनाएँ

कई महत्वपूर्ण संकलनों में कविताएं शामिल।

1-स्त्री सशक्तिकरण और भारतीय साहित्य –डा0 राजकुमारी गड़कर, आलेख प्रकाशन 2010

आलेख -स्त्री सशक्तिकरण और हिन्दी साहित्य, पृष्ठ 211-214

2-स्त्री सृजनात्मकता का स्त्री पाठ -डा0संदीप रणभिरकर, कल्पना प्रकाशन, 2016

आलेख-स्त्री कविता की दुश्वारियां, 293-299

3-यथास्थिति से टकराते हुए [दलित जीवन से जुड़ी कविताएं], लोकमित्र प्रकाशन, 2013—अनीता भारती, बजरंग बिहारी तिवारी

कविताएं, 236-240 --चलो होरी, जन-जागरण, वल्दियत, ललमुनिया, चींटियाँ

4-सामाजिक विमर्श के आईने में चाक –विजय बहादुर सिंह, राजकमल प्रकाशन, 2014

आलेख-स्त्री के जनतंत्र की संकल्पना –‘चाक’, 94-106

5-स्त्री होकर सवाल करती है [काव्य-संकलन ], डा0लक्ष्मी शर्मा बोधि प्रकाशन, 2012

कविताएं-273-277-माँ का प्रश्न, इंसान, स्त्री

6-समकालीन हिन्दी कविता, आलोक गुप्त, हिन्दी साहित्य अकादमी, 2011

स्त्री कविता, मैं औरत हूँ, गुठली आम की, 144-146

7-यथास्थिति से टकराते हुए [दलित –स्त्री –जीवन से जुड़ी कहानियाँ, अनीता भारती, बजरंग बिहारी तिवारी, लोकमीटर प्रकाशन, 2012

कहानी –सिलसिला जारी है, 199-204

अन्य उपलब्धियां

तमिल-टेलगू, मराठी, अङ्ग्रेज़ी आदि कई भाषाओं में कविताओं का अनुवाद

आउट लुक द्वारा राष्ट्रीय स्टार पर कराए गए सर्वे में 4 महत्वपूर्ण महिला कवियों में शामिल। देश के कई विश्व-विद्यालयों में कविताओं पर शोध कार्य|

सम्मान

अ .भा .अम्बिका प्रसाद दिव्य पुरस्कार[मध्य-प्रदेश]पुस्तक –मछलियाँ देखती हैं सपने|

भारतीय दलित –साहित्य अकादमी पुरस्कार [गोंडा ]

स्पेनिन साहित्य गौरव सम्मान [रांची, झारखंड]|पुस्तक-मछलियाँ देखती हैं सपने।

विजय देव नारायण साही कविता सम्मान [लखनऊ, हिंदी संस्थान ]पुस्तक –सिर्फ कागज पर नहीं।

भिखारी ठाकुर सम्मान [सीवान, बिहार ]


संपर्क –सृजन-ई.डब्ल्यू.एस-२१०, राप्ती-नगर-चतुर्थ-चरण, चरगाँवा, गोरखपुर, पिन-२७३013।

| ईमेल-dr.ranjana.jaiswal@gmail.com

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3842,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,336,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2786,कहानी,2116,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,486,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,17,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,831,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,4,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,315,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1920,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,648,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,688,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,55,साहित्यिक गतिविधियाँ,184,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,68,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: स्त्री विषयक कविताएं - डॉ. रंजना जायसवाल
स्त्री विषयक कविताएं - डॉ. रंजना जायसवाल
https://lh3.googleusercontent.com/-2yi3WCEk-cQ/W0hnhrb0oxI/AAAAAAABDbw/qQUTQ5IVy7IRxFKgDytriObUqnnqon1SQCHMYCw/image_thumb?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-2yi3WCEk-cQ/W0hnhrb0oxI/AAAAAAABDbw/qQUTQ5IVy7IRxFKgDytriObUqnnqon1SQCHMYCw/s72-c/image_thumb?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2018/07/blog-post_13.html
https://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2018/07/blog-post_13.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ