नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

राजेश माहेश्वरी की रचनाएँ

रक्षाबंधन

snip_20180629165252

मेरी इंदिरा नाम की एकमात्र बहन के स्वास्थ्य में अचानक गिरावट आने लगी थी और वह दिनोंदिन कमजोर होती जा रही थी। चिकित्सकों के द्वारा भी सभी तरह से इलाज किया गया परंतु दुर्भाग्यवश उसके प्राण नहीं बच सके। उसकी मृत्यु के बाद मैंने भावावेश में राखी का पर्व मनाना बंद कर दिया। एक दिन मैं पान की दुकान पर खडा था तभी अचानक ही एक युवा व्यक्ति जो कि मोटर साईकिल पर सवार था, एक गाय को बचाने के प्रयास में संतुलन खो बैठा और रोड डिवाइडर से टकराकर जमीन पर गिर गया। यह दृश्य देखकर आसपास के सभी लोग उसकी ओर दौड़ पडे। वह अर्धमूर्छित हो चुका था और उसके शरीर से काफी खून बह रहा था। उस भीड़ में से किसी ने कहा कि उसने इस दुर्घटना की सूचना एंबुलेंस सर्विस नं. 108 पर दे दी है और शीघ्र ही एंबुलेंस आती होगी।

हम सभी एंबुलेंस के आने इंतजार कर रहे थे परंतु जब दस मिनिट बीत गये और एंबुलेंस नहीं आई तो मैंने आगे बढ़कर उस घायल व्यक्ति को अन्य लोगों की सहायता से अपनी कार की पिछली सीट पर लिटा दिया और तुरंत गाडी लेकर मैं निकट के अस्पताल पहुँच गया। वहाँ पर उपस्थित चिकित्सकों ने भी तुरंत बिना समय गँवाए आपातकालीन कक्ष में ले जाकर उसका उपचार प्रारंभ कर दिया। मैं वहाँ पर आधे घंटे इंतजार करता रहा और तभी चिकित्सकों ने मुझे बाहर आकर बताया कि आप यदि 10 मिनिट और देर कर देते तो इस व्यक्ति का बचना बहुत मुश्किल हो जाता। अब वह खतरे से बाहर है और उसे पूर्ण रूप से स्वस्थ्य होने में समय लगेगा। अभी वह बेहोश है परंतु दो से तीन घंटे में उसे होश आ जाएगा। वहाँ के चिकित्सा अधिकारी ने उस व्यक्ति परिजनों के सूचित करने के लिये वहाँ पर उपस्थित स्टाफ के आदेशित किया।

इसके लगभग 20 मिनिट के बाद ही उसके माता पिता एवं एक नवविवाहिता महिला घबराये हुये, बदहवास से आँखें में आँसू लिये हुये आये। वहाँ पर उपस्थिति चिकित्सकों ने उसके परिवारजनों के बताया की अब उनका बेटा खतरे से बाहर है और यदि ये सज्जन सही समय पर उसे यहाँ लेकर नहीं आते तो उसके प्राण बचाना मुश्किल हो जाता। यह जानने के बाद वे सभी मेरे प्रति हृदय से कृतज्ञता व्यक्त कर रहे थे। मैंने उन्हें ढाँढस बँधाते हुये उस व्यक्ति की प्राण रक्षा के लिये ईश्वर को धन्यवाद करने के लिये कहा। उनसे बातचीत के दौरान मैं यह जानकर हतप्रभ रह गया कि यह उनका इकलौता लड़का है जिसका पिछले माह ही विवाह संपन्न हुआ था। उनकी बहू जिसका नाम निशा था, मेरी सूनी कलाई देखकर बोल पडी कि आज राखी के दिन आपकी कलाई पर राखी क्यों नहीं है ? मैंने उसे बताया कि मेरी बहन की असामयिक मृत्यु के कारण मैं राखी का पर्व नहीं मनाता हूँ।

यह सुनकर निशा बहुत विनम्रता से बोली कि मेरा भी कोई भाई नहीं है और यदि आज मैं आपको अपना भाई बनाना चाहूँ तो क्या आप इसे स्वीकार करेगें ? मुझे उस समय कोई जवाब नहीं सूझ रहा था तभी उसने अचानक ही अपनी साडी के पल्लू को फाडकर उसे मेरी कलाई पर बाँध दिया और बोली कि भईया आज की इस दुर्घटना में आपके ऋण को मैं कभी नहीं चुका सकती। मैंने उसे कहा कि मैं तुम्हें क्या उपहार दूँ तो वह बोली मेरे सुहाग को आपने बचा लिया इससे बडा उपहार और क्या हो सकता है ? मुझे ऐसा प्रतीत हो रहा था कि जैसे अनंत से मेरी बहन की आवाज आ रही हो कि मैं तो चली गई परंतु तुम्हारे लिए दूसरी बहन को भेज दिया है।


वह चिड़िया

चिड़िया बोले देखो प्यारी

मधुर, मधुरतम, माधुर्यमयी वाणी

सूर्यादय, सूर्यास्त की याद दिलाती

जनजीवन को गति सिखाती

प्रकृति प्रेमियों की कितनी दुलारी

प्यारी प्यारी चिड़िया प्यारी

बहुरंगी है कितनी न्यारी

जीवन में रंगों की याद दिलाती

प्रतिदिन प्रातः अंधेरे से उजाले की

दिशा दिखाती

सायंकाल अंधेरे में फिर  जाने

कहाँ खो जाती

सुबह शाम की याद दिलाती

बेजुबान रहकर भी

यह सिखलाती

जीवन में रहो संतुष्ट और सुखी तुम

पूर्णता पाकर ही

जीवन से होना है विदा

यही सीख हमें सिखाती

प्यारी प्यारी चिड़िया प्यारी।

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.