नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

जरा हटके - लघु कहानी - वहशी दरिंदे // देवेन्द्र सोनी

जरा हटके -  लघु कहानी -  वहशी दरिंदे


        रमेश सीधा - सादा अंतर्मुखी युवक था । स्नातक के अंतिम वर्ष तक आते आते भी महाविद्यालय में उसके कोई स्थाई मित्र नहीं बने थे । रमेश के इस व्यवहार से अनेक आवारा छात्र अक्सर उसे परेशान किया करते थे । खुद को असुरक्षित पाकर भी वह सबकी अनदेखी ही करता जिससे वे और कुपित होकर उसे परेशान करते। ऐसे में सुधीर उसे अक्सर बचाता रहता था जिससे धीरे - धीरे दोनों में मित्रता हो गई । वैसे सुधीर भी बिगड़ैल युवक ही था पर रमेश के लिए यह बात मायने नहीं रखती थी ।


        रमेश पढ़ाई में कुशाग्र था किंतु सुधीर कमजोर था । परीक्षा के समय रमेश ने उसकी मदद कर दी जिससे वे और नजदीक आ गए।
      एक दिन महाविद्यालय में " वहशी दरिंदों " पर वाद विवाद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था । रमेश इस पर खूब बोला और प्रथम स्थान पर आया । सभी ने उसकी तारीफ की । इसी बात का जश्न मनाने सुधीर ने रमेश से कहा - चलो आज पार्टी करते हैं और दोनों वहां से सुधीर की बाइक पर निकल गए । एक रेस्तरां में पहुंचकर सुधीर ने मनमानी करते हुए रमेश को भी शराब पिला ही दी । अब दोनों बहक रहे थे।
       रेस्तरां से निकल कर सुधीर और रमेश पहाड़ी इलाके में जा पहुंचे । उन्हें पता ही नहीं था कि वे जा कहाँ रहे हैं ? पास ही एक झरने को देखकर वे रुक गए । दोनों उन्मान्दित थे और उनका युवा मन हिलोरे मार रहा था । तभी उनकी नजर झरने पर नहाती हुई एक युवती पर पड़ी । वह अपनी धुन में गुनगुनाती हुई नहा रही थी ।


       रमेश ने सुधीर से वापस चलने को कहा पर सुधीर तो कुछ और ही सोच बैठा था । वह दबे कदमों से आगे बढ़ा और उसने उस युवती को लगभग खींचते हुए धर दबोचा। इस समय उस पर वासना की वहशियत और दरिंदगी सवार थी । युवती चीखती रही मगर सुधीर अपने निर्लज मकसद में कामयाब हो ही गया । यह देख रमेश भी खुद को रोक नहीं सका और टूट पड़ा उस अनजान युवती पर ।
      थोड़ी देर में ही युवती की चीख पुकार सुन ग्रामीण जन आ गए और दोनों को पकड़ लिया । पिटाई के बाद उनका जुलूस निकाल कर पुलिस के हवाले कर दिया। दोनों को सजा हो गई ।
       यह कैसी दरिंदगी और वहशीपन था जिसने एक पल के जुनून में अपना विवेक खोकर तीन जिंदगियां और परिवार बर्बाद कर दिए ।
                 - देवेन्द्र सोनी , इटारसी।

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.