नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

‘‘बाजारों में भटक रहा है बेचारा इंसान’’ // प्रमिला झरबड़े ‘‘मीता’’

photo

पिछले दिनों हिंदी भवन में आयेाजित काव्य गोष्ठी में वरिष्ठ कवि तेज कुमार तेज को सम्मानित किया गया। उनके गाये हुए गीत बाजारों में भटक रहा है बेचारा इंसान, थैले भर पैसों से लाता मुट्ठी भर सामान,’’ को सभी ने बहुत सराहा। कवि अशोक निर्मल जी ने कहा: ‘किश्तों पे मिल जाए तो तेरे नाम पे ताज लिखूं।’’

काव्यगोष्ठी में कवि हृदय अटल जी और रक्षाबंधन पर भी रचनाएं सुनाई गईं। कवयित्री निकिता ने ‘हिंद है ये देश मेरा, हिंदी इसकी भाषा है,’’ प्रेम कुमार ने प्रीति का सुख अनोखा सजन दे गए, चांदनी रात दी और तपन दे गए,’’ अशोक व्यग्र ने मुझ पर छाओ अमरबेल बन मैं वटवृक्ष बनूं’’ सुनाकर प्रसंशा पाई। शायर रामगोपाल ने गजल कही ‘तुम्हारी यादें चहक रही हैं, मेरे दिल में गजल बनके,’’ कवयित्री अनिता श्री ने पूर्व प्रधानमंत्री की स्मृति में बेटियों की सुरक्षा को लेकर कविता सुनाई मासूम की वेदना बहुत सताती है, इसलिए मुझको नींद नहीं आती है,’’ अशोक घायल ने रक्षाबंधन पर केन्द्रित भाई-बहिन को लेकर रचनापाठ किया। कवयित्री क्षमा ने भी बेटियों पर आधारित कविता पाठ किया। उन्होंने गीतबद्ध होकर कहा- बेटियों से हम सभी हैं, हम सभी मां-बेटियों से,’’ काव्य गोष्ठी का संचालन कर रहे भूपेश जी ने सुनाया सदा प्रेम का धागा बांधा ऐसे थे अटल जी,’’

गौरीशंकर नीर ने सुनाया एक बाग के फूल सभी एक चमन है हमारा,’’ विनोद कुमार ने नहीं थका मैं फिर भी अब तक,’’ सतीश श्रीवास्तव ने आने दो आने कभी चार आने,’’ आशीष शर्मा ने ‘‘कब होगा दीनानाथ प्रभू अवतार आपका,’’  डॉ. मीनू पांडे ने राशि समान हो तो भी काम समान नहीं होते,’’ ऊषा सक्सेना ने सूरज ने अनुबंध लिखे हैं’’ सुनाया। पुरूषोत्तम ने मन में कैसी पीड़ा है, आज न कोई गीत लिखा,’’ अंत में आभार प्रदर्शन कवि अशोक व्यग्र ने किया।

काव्य गोष्ठी में इस बार वरिष्ठ कवि तेज कुमार तेज को सम्मानित किया जाएगा। इससे पहले कवयित्री सीमा शर्मा का सम्मान किया जा चुका है।

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.