नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

लघुकथा // माँ तो माँ होती है // रचना सिंह"रश्मि"

अजय के घर में प्रवेश करते ही काव्या का गुस्सा फूट पड़ा ।

पूरे दिन कहाँ रहे? आफिस में पता किया, वहाँ भी नहीं पहुँचे! मामला क्या है?

वो-वो... मैं..."

अजय की हकलाहट पर झल्लाते हुए काव्या फिर बरसी, "बोलते नही? कहां चले गये थे। ये गन्दा बक्सा और कपड़ों की पोटली किसकी उठा लाये"

वो मैं माँ को लाने गाँव चला गया था। अजय ने  हिम्मत करके बोला।

क्या कहा? तुमने सासु जी को यहां ले आये? शर्म नहीं आई तुम्हें? तुम्हारे भाईयों के पास इन्हें क्या तकलीफ है। आग बबूला थी काव्या ने एक बार भी

साड़ी के पल्लू से आँखें पोंछती बीमार वृद्धा की तरफ देखा तक नहीं  ।

[post_ads]

काव्या ने इन्हें मेरे भाईयों के पास नहीं छोड़ा जा सकता। तुम समझ क्यों नहीं रहीं।"अजय ने दबी जुबान से कहा क्यों, यहाँ कोई कुबेर का खजाना रखा है? बच्चों की पढ़ाई,राशन बिजली के बिल और घर खर्च इतनी मंहगाई में कैसे घर चला रही मैं ही जानती हूँ! काव्या अब ये हमारे साथ ही रहेगी। अजय ने कठोरता से कहा।

मैं कहती हूँ, इन्हें इसी वक्त वापिस छोड़ कर आओ वर्ना मैं इस घर में एक पल भी नहीं रहूंगी  सासु माँ आप को यहाँ आते जरा भी लाज नहीं आई?" रामादेवी से अब और बर्दाश्त ना हुआ।

काव्या ।बेटी मेरी बात तो सुनो आवाज जानी पहचानी थी काव्या को मानो झटका सा लगा रामादेवी की तरफ देखा, तो पाँव तले से जमीन ही  खिसक गयी! माँ तुम? झेंपते हुए बोली।

हाँ काव्या ! तुम्हारे भाई और भाभी ने मुझे घर से निकाल दिया। दामाद जी को फोन किया, तो ये मुझे यहां ले आये मैं कहाँ जाती मैंने कहा मुझे वृद्धाश्रम छोड दो पर अजय जिद करके मुझे अपने साथ ले आये।

काव्या तुम क्यों चुप हो सामान फेंको। अब यही मैं तुम्हारी माँ के साथ करुँ तब जवाब दो।

काव्या सहमकर अजय को देखकर गिडगिडाने लगी माँ बीमार है कहाँ जायेगी बेबस सी अजय को देखे जा रही थी।

काव्या तुम परेशान मत हो माँ जी जब तक चाहे यहाँ रह सकती है मेरी माँ ने मुझे अच्छे संस्कार दिये है कहते कहते अजय की आँखें भर आई.

काव्या माँ तो माँ होती है! क्या मेरी क्या तेरी

                               रचनासिंह"रश्मि"

                           रचनाकार/साहित्यकार

                                 आगरा उ.प्र

1 टिप्पणियाँ

  1. आपकी लिखी रचना "साप्ताहिक मुखरित मौन में" शनिवार 15 सितम्बर 2018 को साझा की गई है.........https://mannkepaankhi.blogspot.com/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.