नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

तुम सर्दी की धूप - प्रेम ईश्वर का दिया अनूठा उपहार / कृष्णा वर्मा

image

तुम सर्दी की धूप

कविता संग्रह

कवि - रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

प्रकाशक -अयन प्रकाशन , 1/20 महरौली नई दिल्ली -110020,मूल्य : 280 रूपये, पृष्ठ :140, वर्ष :2018

काव्य संग्रह ‘तुम सर्दी की धूप’ शीर्षक को सार्थक करता ख़ूबसूरत कवर पेज देखते ही पढ़ने की उत्सुकता जगी। पुस्तक को खोलते ही न केवल कविताएँ ,बल्कि काव्य की विभिन्न विधाओं का भंडार पाया।

इस संग्रह में भाई काम्बोज जी की हृदय-स्पर्शी 28 कविताओं के साथ 314 दोहे, 74 मुक्तक, क्षणिकाएँ, फूल पाँखुरी, हाइकु, ताँका, माहिया और रजत-कण संगृहीत हैं ,जिसमें विविध काव्य विधाओं का रसास्वादन एक साथ मिलता है। इन कविताओं में विविधता, संप्रेषणीयता, भावों की गहन अनुभूति, शब्द चयन का सौंदर्य, प्रखर संवेदना बड़े प्रभावशाली रूप में नज़र आती है।

सहज, सरल शब्दों में जिए ,भोगे पलों की कोमल अनुभूतियों को उकेरते शब्द काल्पनिक नहीं लगते। कथ्य के अनुसार भाषा, प्रतीक–बिम्ब और शिल्प के अद्भुत प्रयोग ने सौन्दर्य भाव के साथ रचनाओं को प्राणवंत बनाया हैं। जीवन में घटित होने वाले लगभग सभी बिंदुओं को कवि ने छुआ है।

[post_ads]

प्रेम ईश्वर का दिया अनूठा उपहार है ,जो उम्र की सीमाओं से परे आत्मिक अनुभूति का विषय है। ’मैं और मेरी प्रियात्मना’ में कवि की प्रार्थना में आत्मीया के सुखों की ऐसी चाहना आज के समय में कोई पावन मन ही कर सकता है।

मेरी परम आत्मीया का न हो / कभी दुखों से सामना

XXX

इसके सब दुख देना मुझे / पुष्पित पथ पर / इसे आगे बढ़ाना।

लिख दूँ मैं बीज मंत्र’ ’आत्मा की प्यास तुम हो’ जैसी मन को छूती रचनाओं में किसी के दुख की रेखाओं को बदलने की तो किसी के ताप को हरने की कवि मन ने दुआएँ माँगी हैं।

जब परिवार टूटता है तब मन टूटता है। रिश्ते नाते सब जगह केवल स्वार्थ ही व्याप्त है। जीवन के निर्मम सच को उकेरती ’कि घर न टूटे’, रचना में तपते जीवन की व्यथा है।

यदि स्वप्न नहीं होगा तो महत्वाकांक्षा भी नहीं होगी। और इसके बिना मनुष्य किसी भी गम्भीर लक्ष्य तक पहुँचने में असमर्थ रहेगा। ’अपने और सपने’ रचना में सपनों के टूटने का दर्द स्पष्ट झलकता है।

अपने और सपने / बहुत चोट देते हैं

भ्रष्ट व्यवस्था आम आदमी का कैसे शोषण कर रही है क्या आम आदमी की यही नियति है कि वह अस्तित्व के लिए निरंतर संघर्ष करते- करते मिट्टी में मिल जाये। अपनी रचना ‘आम आदमी’ में कवि का कहना है--

आम आदमी / जिसे हर किसी ने आम समझ कर चूसा है।

[post_ads_2]

भीतर में उथल-पुथल मचाती भावनाओं, संवेदनाओं को कम से कम शब्दों में अभिव्यक्त करना, कोई कुशल कलाकार ही कर सकता है। सरल प्रवाहपूर्ण भाषा में गंभीर कथ्य को संप्रेषणीयता के साथ प्रस्तुत करने में दक्ष काम्बोज जी के दोहे, मुक्तक, क्षणिकाएँ, माहिया हों या हाइकु मन मस्तिष्क पर गहरी छाप छोड़ते हैं।

दोहा- रूप आज, कल है नहीं, आती जाती छाँव।

हमको पूरा चाहिए, तेरे मन का गाँव॥ (३९)

मुक्तक- तुम अकेले ही चले थे, फिर अकेले ही चलो,

बियाबाँ के दीप जैसे, तुम अकेले ही चलो,

जो बिछुड़ गए बाट में, कहीं न तुमको मिलेंगे

आँसुओं को पोंछ डालो, मत हिमालय बन गलो। (२३)

क्षणिकाएँ

-सूली पर लटकी / पल-पल मरती आशा / तुमने कहा- रिश्ता।

फूलपाँखुरी

मन-मंदिर में तुम्हीं रौशन ज्यों दिया।

पाकर के तुम्हें जग में सब पा लिया॥

हाइकु

सूनी घाटी / पुकार सुन भीगी / मन की माटी।

टूटा जो पेड़ / छोड़ गए थे पाखी / लता लिपटी।

आपके काव्य माणिकों से हिन्दी जगत निरंतर दीप्तिमान रहे। हार्दिक बधाई एवं बहुत-बहुत शुभकामनाएँ।

-0- ई -मेल kvermahwg@gmail.com

4 टिप्पणियाँ

  1. कृष्णा वर्मा जी, जितनी आकर्षक पुस्तक है उतनी ही सुंदर आपने समीक्षा की है।बधाई

    जवाब देंहटाएं
  2. 'तुम सर्दी की धूप' यह शीर्षक काव्य कृति एवं समीक्षा दोनों को प्रतिबिम्बित कर रहा है। आदरणीय श्री हिमांशु जी ने जिस श्रम से एक सुंदर कृति को जन्म दिया; उसी श्रम को स्वयं में समाहित करते हुए आदरणीया कृष्णा जी ने बहुत ही सारगर्भित एवं सटीक समीक्षा लिखी; रचनाकार के प्रणेता आदरणीय श्री रतलामी जी ने यथोचित स्थान प्रदान किया। रचयिता, समीक्षिका एवं रचनाकार तीनों को बधाई।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय कविता जी,आपकी विश्लेषणात्मक दृष्टि ने ने मेरा मनोबल बढ़ाया। इस रचनाकर्म के नेपथ्य में आप जैसे सहृदय रचनाकारों का बड़ा योगदान है। बहुत आभार।

      हटाएं
    2. प्रिय कविता जी,आपकी विश्लेषणात्मक दृष्टि ने ने मेरा मनोबल बढ़ाया। इस रचनाकर्म के नेपथ्य में आप जैसे सहृदय रचनाकारों का बड़ा योगदान है। बहुत आभार।

      हटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.