नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

आलेख // विश्वास // अजय अमिताभ सुमन

snip_20180912181730

अभी हाल फिलहाल में धर्म गुरुओं के साथ जिस तरह की घटनाएं घट रही हैं , उससे आम आदमी के मन में अविश्वास बढ़ता जा रहा है। मैंने अनेक महिलाओं को देखा है जिनकी आसाराम बापू में बहुत ज्यादा आस्था थी। अभी आसाराम बापू जिस तरह की घटनाओं में जेल गए हैं महिलाओं के साथ अपने किये गये गलत आचरण के कारण और अभी भी सजा काट रहें हैं।

इसी तरह की घटनाएं तथाकथित अन्य धर्मगुरुओं जैसे कि राम रहीम, गुरु रामपाल , स्वामी नित्यानंद जी महाराज आदि के साथ घटी हैं। इन तथाकथित धर्म गुरुओं के इस तरह के व्यवहार से आम आदमी के मन में भ्रम का माहौल व्याप्त हो चुका है । आम आदमी को समझ में नहीं आ रहा है कि आखिर में सद्गुरु है कौन? किस पर भरोसा करके भगवान की राह पर आगे बढ़ा जाए?

मुझे एक छोटी सी कहानी याद आती है। बहुत पुरानी बात है, तिब्बत में एक ख्यातिप्राप्त गुरु रहते थे। उसी तिब्बत में एक छोटा सा बालक रहता था। वह ईश्वर की प्राप्ति के लिए बहुत बेचैन था। वह उन गुरु के पास शिक्षा लेने के लिए पहुंचा। काफी अनुनय-विनय करने के बाद गुरु ने उसे अपना शिष्य बनाने के लिए स्वीकार कर लिया। वह बालक अपने गुरु की तन मन धन से सेवा करता।

वह बालक अपने गुरु को साक्षात ब्रह्म का अवतार मानता था। उसकी गुरु में आस्था को देखकर अन्य गुरुभाइयों में जलन होने लगी। उस बालक का मानना था कि गुरु की कृपा से कुछ भी संभव है। उसके गुरु भाइयों ने पूछा क्या गुरु कृपा से पानी पर चल सकते हो? उस बालक ने कहा बिल्कुल चल सकता हूं। फिर गुरु का नाम लेकर वह नदी के जल के ऊपर दौड़ते हुए चल पड़ा। गुरु का नाम लेकर वो अंगारों पे दौड़ लगाता। उसने गुरु के नाम पे अनगिनत चमत्कार कर दिखाए.

यह खबर उसके गुरु के पास भी पहुंची। उसके गुरु को कौतूहल हुआ कि आखिर मेरे नाम में ऐसी कौन सी बात है जिस कारण से वह पानी पर बड़े आराम से दौड़ रहा है? उसका गुरु गया नदी के पास खुद गया और अपने शिष्य से नदी के जल पर दौड़ने के लिए कहा। उस बालक ने बहुत श्रद्धा से गुरु के पांव छुए और गुरु का नाम लेकर नदी के जल पर दौड़ने लगा।

गुरु को बड़ा आश्चर्य हुआ। उसने सोचा यदि मेरे नाम में इतनी शक्ति है तो मैं भी नदी के जल के ऊपर जरूर दौड़ सकता हूँ। गुरु ने नदी के जल पर दौड़ने की पर वह डूब कर मर गया। यह देखकर चारों तरफ आश्चर्य की लहर फैल उठी। उसके गुरु भाइयों ने फिर बालक से पूछा क्या तुम अब भी नदी के जल के ऊपर दौड़ सकते हो? उसकी आस्था डगमगा चुकी थी। उसने ऐसा करने से मना कर दिया।

आखिर हुआ क्या था? बात बहुत छोटी सी थी। जब तक उस बालक की अपने गुरु में आस्था थी, जब तक वह बालक अपने गुरु को साक्षात ब्रह्म का अवतार समझता था, वह अपनी तीव्र आस्था के कारण पानी के ऊपर भी दौड़ जाता था। आग के उपर से भी बिना जले बाहर निकल आता था। जब उसने खुद देख लिया कि उसका गुरु इस तरह का व्यक्ति नहीं है तो उसकी आस्था डगमगा गई और वह चमत्कार दिखाने में असक्षम हो गया। कहने का तत्पर्य यह है कि एक व्यक्ति के विकास के लिए गुरु मात्र एक सहायक का काम करता है। गुरु की महत्ता बस इतनी सी हीं है। साधक तो अपनी तीव्र साधना के कारण हीं आगे बढ़ता है। यदि साधना प्रबल हो तो वह स्वयं हीं परम ब्रह्म का साक्षात्कार करने में सक्षम है। उसे किसी भी गुरु की जरूरत नहीं है।

महर्षि रमण को किस गुरु ने ज्ञान प्रदान किया? ओशो रजनीश को किसने ईश्वर का मार्ग दिखाया? रामकृष्ण परमहंस को काली के दर्शन किस गुरु ने कराये? महर्षि अरविंदो को श्रीकृष्ण के दर्शन किसने करवाये? मीरा को कृष्ण के दर्शन किसने कराए? मिलारेपा तो अपने गुरु से एक कदम आगे निकलकर अपने गुरु के मार्गदर्शन का स्रोत बना। रामकृष्ण परमहंस की त्वरित गति से अध्यात्मिक शिखर पर पहुँच जाना उनके मार्ग निर्देशकों के लिए दुनिया के आश्चर्यों में से एक था।

डाकू रत्नाकर केवल राम राम मंत्र के जाप से हीं सृष्टि का प्रथम कवि होने और वाल्मीकि रामायण रचने का गौरव प्राप्त किया और बाद ने वाल्मीकि मुनि के नाम से विश्व मे ख्याति प्राप्त की। इतिहास गवाह है, गुरु के मना करने पर भी शिष्य अपनी आस्था के बल पर ज्ञान प्राप्त कर लेता था। कौन नहीं जानता कि एकलव्य ने गुरु द्रोणाचार्य के मना करने पर भी अपनी आस्था के बल पर धनुर्विद्या में निपुणता उनकी मूर्ति मात्र स्थापित करके कर ली थी।

कहने का मतलब यह है कि गुरु ईश्वरप्राप्ति के मार्ग में सहायक है, मंजिल नहीं। साधक की साधना में एक साधन मात्र है, साध्य नहीं। कई बार ईश्वर गलत गुरुओं के पास भेजकर साधक की परीक्षा लेता है। यदि आसाराम, राम रहीम, गुरु रामपाल, नित्यानंद आदि ने गलत आचरण किये है तो उसके फल भी भुगत रहे हैं।

इन गुरुओं ने हमेशा सत्य आचरण , ब्रह्मचर्य , ईमानदारी , सेवा की बात की। हालाँकि वो स्वयं उन आदर्शों का पालन अपने जीवन मे नहीं कर सके। तो क्या हुआ? इनके द्वारा बताए गए आदर्शों का पालन करने से तुम्हें कौन रोकता है। ये कोई जरुरी नहीं कि बेहतरीन खिलाडी पैदा करने के लिए कोच भी बेहतरीन हो। ज्यादातर बेहतरीन कोच एक साधारण खिलाडी हीं रहें हैं। आदमी को राजहंस की तरह इन तथाकथि धर्मगुरुओं के मुख से निकले हुए अध्यात्म के कमल पुष्प का हीं पान करना चाहिए न कि इनके पतनोमुख चरित्र रूपी कीचड़ का।

गुरु के गलत होने से ईश्वर गलत नहीं होता। मार्ग गलत होने से मंजिल नहीं बदलती। आदमी मार्ग बदलने के लिए हमेशा से स्वतंत्र रहा है। गलत गुरु ईश्वर के द्वारा आपकी ली जा रही परीक्षा मात्र है। यदि आपकी आस्था नहीं डगमगाती है तो आपको मंजिल मिलेगी जरूर। गुरु का सही होना जरूरी नहीं , पर शिष्य का सही बने रहना बहुत जरूरी है।

1 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.