370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

कुछ बाल कवितायेँ // सुशील शर्मा

image
हम बच्चे

हम सभी प्यारे से बच्चे,
नहीं अक्ल के हैं हम कच्चे।
हम में न अभिमान है ,
न मान है सम्मान है।
न जात है न पांत है
ख़ुशी की बरसात है।
न सुख है न दुःख है ,
प्रेम ही प्रमुख है।

जल की रानी
 
मछली जल की रानी है,
ये तो बात पुरानी है। 
लहराती बल खाती चलती,
पानी में ये खूब उछलती।
नदी समंदर में रहती है ,
नीचे से ऊपर बहती है।
कभी झांकती ऊपर आकर,
वापस लौटे नीचे जाकर।
मछुआरे के जाल में फंस कर ,
ये मर जाती तड़फ तड़फ कर।
इसकी अज़ब कहानी है,
मछली जल की रानी है।


मौसम

बाग़ बगीचे सुंदर सुंदर
पेड़ों पर बैठे हैं बंदर। 
कोयल काकी कूक रही है ,
मैना मौसी ढूँक रही है।
खेत में फसलें चहक रहीं हैं
बैग में कलियाँ महक रहीं हैं।
सुंदर सुंदर फूल खिलें हैं ,
कितने अच्छे दोस्त मिलें हैं।

ठंडी 

मौसम कितना ठंडा ठंडा
मुर्गी भूली देना अंडा।
ओस की बूंदें जैसे मोती ,
धूप सुनहली दिन में सोती।
साल ओढ़ दादाजी आये ,
दादी मन मंद मुस्काये।
गर्म पकोड़े तलती मम्मी,
गर्म जलेबी यम्मी यम्मी।
पापा कहते रोज नहाओ,,
कोई इनको तो समझाओ।

कविता 935142825798225926

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव