---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

हुस्न तबस्सुम ‘निंहाँ‘ का कविता संग्रह - शरीफो, तुम प्रेम कर लो

साझा करें:

शरीफो, तुम प्रेम कर लो क्यूँ मर नहीं जातीं क्यूँ खप नहीं जातीं क्यूँ जिन्दा हो शरीफो कि ना लड़ती हो...ना झुकती हो... बस..,समय से तक़रार करती ह...

image

शरीफो, तुम प्रेम कर लो

क्यूँ मर नहीं जातीं

क्यूँ खप नहीं जातीं

क्यूँ जिन्दा हो शरीफो

कि ना लड़ती हो...ना झुकती हो...

बस..,समय से तक़रार करती हो

भाग्य को फटकारती हो

और

छुप-छुप के रोती हो...

सीती हो बे-पर के मंसूबे

बांधती रहती हो,

बिस्मिल डोंगियॉ

कि किस पार जाओगी शरीफो

जो डोंगी डाल दी है बीच धारा

में,

बनिस्बत इसके

खंजर उठाओ शरीफो

मोह का खंजर

दुनिया को एक-मेक कर दो

शरीफो,

तुम प्रेम कर लो

-------------

जब ‘पिता‘ नहीं थे मेरे पिता

’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’

जब ‘पिता‘ नहीं थे मेरे पिता....

तो हुआ करते थे

चन्दन-वट

इन्द्रदेव...

भरा-पूरा फिरोजी आकाश

सजे रहते तब कमनीय प्रेयसियों से

अटे पड़े थे स्वप्निल-कामनाओं से

दुनिया

नहीं लगती थी गोल

वंशी की धुन पे नचाते थे

तितलियों को

झूमता था सारा जंगल

अभावों, विरक्तियों से करते थे दो-दो

हाथ।

ललकार सकते थे भाग्य को

भाग्य-विधता को

सुना देते थे जली कटी सृस्टा को

धीमे से मुस्काता सृस्टा

झिटक देता था गर्दन

धत्

‘‘मेरी नैसर्गिक अनुकृति

तू भी ना‘‘

अब पिता हो गए हैं,सूनी अटारी

नून-तेल का हिसाब रखने वाला खूसठ

बनिया

बेटियों के लिए जोड़ते पाई-पाई

मॉ की साड़ियों के रंगों के साथ

उड़ गया है पिता के चेहरे का रंग

बेटों की बेकारी और

खाली कनस्तर के बीच निरन्तर

पिस रहे पिता होते जा रहे हैं

सूक्ष्म से सूक्ष्म

रेशों जैसे

मटमैलै कपड़ों में दीन-हीन

पिता को देख

स्मरण हो आते हैं वो

लकदक परिधानों में किरचियों के प्रति

नितांत सावधान पिता

अब कितने असावधान हो चुके अपने

प्रति

वर्ना...

कैसे आह्लाद और जिजीविसा से

भरे रहते थे पिता

तब,

जब‘‘पिता‘‘ नहीं थे,मेरे पिता

--

इन्सान बनने की कोशिश में ईश्वर

इन्सान तो आध्यात्म जीने से रहा,

सृष्टि ने भी हाथ समेट लिए

जीवन तो वहाँ है जहाँ सौंदर्य है, संगीत है,

सर्वहारा है

गांव के खलिहान में बैठा है ईश्वर

खरही से पीठ सटाए

और झूम रहा है किसी ओर से आती हुई

वंशी की धुन पर

उठ कर जाता है, सरोवर में दो-चार डुबकी

लगाता है...छप...छप तैरता है

गांव की संझा-सभा में शामिल होता है

पथिक बनके, फिर श्रोता बनता है, फिर

चलता बनता है

निकल जाता है खेतों में,

हरी-भरी सुगंध से रमे खेतों में बैठाई जा

रही है धान की फसल, गाई जा रही हैं

रोपन-लहरियां

धीमे से मुस्काता है ईश्वर, चलता होता है

शहर की ओर

सांवली संझा ने शहर को लपेट रखा है

मुलायम मखमल में

जल्दी की हौपड़ में सड़कें भागी जा रही हैं

इधर-उधर

जगमगाने लगी हैं नन्हें बल्बों से घरौंदों सी दुकानें

एक पान की दुकान पे दो-चार लोग

मस्ती में सिगरेट फूंक रहे हैं

चमत्कृत ईश्वर ने खुद बनाई है सिगरेट

पीने की मुद्रा और हठात्

मुस्कुरा उठता है,

आगे बढ़ के नल के पानी को छू के देखा

.....वा‘ह...

अब पार्क भी तो देखने थे, देख के हतप्रभ

कसमें वादे खाते हुए कितने सारे जोडे़

आदम-हव्वा की अनुपम अनुकृतियां

..क...कमाल है

मैं कहाँ था...?

कैसी सुखद अनुभूतियाँ

कैसी नैसर्गिक भंगिमाएं

सच है सर्वोच्चता निहंग कर देती है हमें

क्यूं ना कुछ दिन के लिए, इन्सान बन के

देखा जाए......!!!

----


होंठों के फूल

धानी होते जंगलों में

उतरती है सांझ दबे पांव जब-जब

डसके मौसमी गीत बहुत याद आते हैं

बेतरह और बेतरफ, बहुत

बेतरतीब हो के रह जाते हैं अंतस के

उजाले तब,

थोड़ी देर के लिए ठहर जाते हैं

सन्नाटे,

आँखों के सूने पन में झूम उठता है

गुलमोहर

जिसपे पंछी पांव रखते हैं

भर-नजाकत से

और मैं,

देर तक देखती रहती हूँ

अपने हिस्से में आती हुई

उसके हिस्से की गुलमोहरी धूप

और

नाजुक टहनियों से लिपटे हुए

हमारे नारंगी-नारंगी

होंठों के फूल।।

---


जुबैदा का सपना

जुबैदा ने देखा था सपना कि

एक घर बनाएगी

नितांत अपनी सांसों और धड़कनों वाला

अंगने में रोपेगी गेंदा/गुलाब और एक

नीम का बिरूआ/जिसपे सावन के सावन

पड़ा करेगा झूला

बौर बरखा भर आँगन में झूम-झूम के भींगेगी

फिर रातों में नीम बुखार में तपक र

हौले-हौले बड़बड़ाएगी

या अल्लाह....या अल्लाह....ह

और सुबह चंगी होके तलेगी पकौड़े

फिर-फिर सावन मनाएगी

किंतु/ एक कव्वे ने सब कर दिया गुड़गोबर

ऐसा कड़कड़ाया कि सपनों की चिंदियाँ

उड़ गईं।

ये कैसा सावन था आखिर जिस पे

सरी दुनिया करती रही आपत्ति

चहे अम्मा थीं या पति।

जब भी सपनों की जमीन पर कुछ लिखा

किसी ना किसी के हाथों ने आगे

बढ़ के मिटा दिया

चाहे अम्मा हों या पति।

शादी की सलीब पे चढ़ाया अम्मा ने

चीत्कारों वाला घर मिला

यहाँ ना जुबैदा है ना जुबैदा की सांसों

धड़कनों वाला घर,

न नीम का बिरूआ/ना गेंदा ना गुलाब

और तो और सावन भी नहीं,

है तो बस किच-किच से भरी बदबूदार

बारिश भर।।

जमीन के रंग के लिबास में वह

वह चूल्हा सुलगाती

बच्चे को गोद में सुलाती

अल्लाह.....अल्ला....ह सो जा...

की मीठी लोरी सुनाती सोचती जाती है वह

इत्ते बदसूरत तो नहीं थे उसके सपने

तसव्वुर में गुहारते हैं अब्बा-

‘‘बिटिय!

सपने देखना कभी बंद मर करना

जिस दिन ख्वाब मर जाते हैं,

आदमी मर जाता है‘‘

वह पुनः ढूंढने लगती है

किसी सपने का सिरा खुद को

जीवित रखने के लिए

इस बार सपने में वह घोड़े के मुँह वाले

अपने पति को

दीवार में चुनवा रही है।।

उजाला

और मैं हो गई शर्म से

पानी पानी,

जब पिता तुल्य हाजी जी ने

टटोलीं मेरी पिंडलियाँ

और में सकपका कर जम्पर

बराबर करने लगी।

इत्तेफाकन या दुभाग्य

बिजली गुल

उन्हें बल मिला

गदेलियाँ टहलने लगीं जम्पर के

आर-पार

फिर थिरकने लगीं उंगलियाँ

तक-धिन....धिन....

मैं कसमसाती देह लिए

उठ भागना चाहती हूँ

कि जकड़ लेती हैं उनकी

बाँहें...

चीखना चाहती हूँ कि मुँह पे

थप्पड पड़ते है

तभी खड़ाक से खुलते हैं

किंवांड़,

सामने मोमबत्ती लिए

आ खड़ी हुई हैं अम्मा

हाजी जी उछल के गिरते हैं

सोफे पर...

और कुर्ता तहमद बराबर करते

हुए रखते हैं रद्द-

‘‘अच्छा हुआ खातून,

ले आईं उजाला

अंधेरे में बड़ी दमस हो रही थी।

बड़ी समझदार है आपकी

बिटिया,

खूब बतियाती है

खूब पढाना इसे...

अभी इसकी उम्र ही क्या है।।


नजूमी

नजूमी मेरी गदेली देखते हुए

मुस्काया

‘‘तुम्हारी और संयोगों की तो

दांत काटी रोटी है।

इत्तेफाकन

तुम पे फूटेगा

ठींकड़ा आपदाओं का

जब सियोगी शलवार /सूट

तो कतर डालोगी उंगलियाँ

सांतवें आसमान से जब उतरेगा सूर्य

इजहार-ए-मुहब्बत के लिए

तो काट डालोगी कलाई की बारीक नसें

बुनोगी जब नन्हों की टोपियाँ, मोजे

और दास्ताने

तो बुन डालोगी सपनों के नर्म, मुलायम

दुशाले....

तुम्हारी आँखों पे पटटी बांध के जब

घुमाया जाएगा सरे राह

तुम कसम खा खा के कुबूल करेगी

अपने अनकिए गुनाह

कुछ भी नहीं करोगी ठीक ठाक

तुम्हें तो जन्म लेते ही

कत्ल कर देना चाहिए था।।

---


मेरे महबूब मुझे खत लिक्खा कर

नहीं, नहीं, फोन नहीं,

एस ए एस नहीं

ई मेल भी नहीं

हो सके तो खत लिक्खा कर

मेरे महबूब मुझे खत लिक्खा कर

कोई सबूत भी तो हो तेरी

चाहत का/कोई सामां तो हो

रूह ए जां की राहत का

मुझे कासिद की बाट जोहना अभी

भाता है

मुझे ओदी प्रतीक्षाओं का संबल दे दे

कितना सुख है गुलाबी रूक्के पे

बिखरे हुए नगीनों का

जैसे आकाश में छुवा छू खेलते

तारे नीले

बुरा हो साईंस का कि नोच डाले

जज्बे सब

कहाँ कि चूम चूम सौ बार पढ़े जाते थे खत

कहाँ कि सातों पहर फोन घनघनाता है

जरा सी देर में उड़ जाते हैं भाप बनके

हर्फ/या फिर सस्ते लफ्जों में एस एम एस

फड़फ़ाता है।/बाकी, ई मेल तो कल्चर ही

बिगाड़ जाता है/दिल की दुनियांओं के गुलशन

उजाड़ जाता है/

अपनी बेशकीमती रातों से कुछ लम्हे चुन कर

अपने बोसे उतार कागज पे

प्रेम पत्र लिखते हुए बा‘ज अच्छे लगते हैं लोग

और मुझे भाता है मन ही मन मुस्काना उनका

इसलिए

ऊदे कागज पे तारों का हाल लिक्खा कर

चाँद ओ अब्रों की शरारतें सारी/रात के तीसरे

पहर का कमाल लिक्खा कर

ना....ना

फोन नहीं, एस एम एस नहीं

ई मेल भी नहीं

मेरे महबूब मुझे खत लिक्खा कर

---


हम प्यार में हैं

प्रायः समय नहीं होता साथ

उस एक समय में

जब तुम होते हो साथ

चॉद की हर तारीख से पहले

धूल जाता है आसमां

और फैल जाता है फिरोजी रंग

उकड़ू बैठ के सितारे

छेड़ देते हैं अन्त्याक्षरी

कि तभी मस्त छैला सा टहलता

हुआ चाँद दिखाई दे जाता है

बर्फ की सिगरेट फूंकता

और हमारे चेहरे पे फूंक देता है

ठण्ठे यख़ छल्ले

फिर हँसता है हँसता जाता है

उसे कैसे पता कि

हम प्यार में हैं...!

---


एक असमानी दोस्त के नाम...

तू जरूर कोई फरिश्ता है

जो भोर से पहले ही फैल ही फैल जाता है

खयालों के फलक़ पे............

तू जरूर कोई फरिश्ता ही होगा

जो मृत्यु को जीवन कर देता है छू कर..

तू जरूर होता होगा पिछले जनम में

मेरा सूर्य............

हो ना हो,तू जरूर नफ़ा है मेरी की गई

नेकियों का..

तू महक है मेरे खोए हुए मौसम की,

कि रफ्ता-रफ्ता उतरा है रग़ ए जां में,

तू जरूर कोई दुआ है छूटी हुई ...

जो अब हुई है बा-असर......

तू मेरा टूटा हुआ सपना हो शायद...

जो लांघ आया है समन्दर....

तू जरूर कोई फरिश्ता ही होगा कि बातें

करता है सब

आसमानी.............

और

लारा-लप्पा करता करा लाता है

मुझे

किसी और दुनिया की सैर।।।

---


उड़ानें

कभी कभी

स्थगित कर देनी पड़ती हैं

तमन्नाएं, ख्वाहिशात और

आकांक्षाएं....

हत्ता कि प्रेम भी

तब,

जब नियतियाँ करने लगती हैं

हमारे होने की तफतीश

और

निरस्त कर दी जाती हैं

हमारी अग्रिम उड़ानें


दिखता है तो बस्स

हमने देखा है दरीचों से

उगता हुआ पीला सूरज

देखते जाना है डूबना इसका

हौले हौले....

दिखता जाता है खुदा नभ से

झुक के सरोवर में पानी पीते

हुए....

दिखती जाती हैं सदियाँ रेल की

मानिंद सामने से गुजरती हुई....

चलते जाते हैं बंजारों के झुंड

गाते-गाते जीवन के गीत

दिखते जाते हैं परिंदे हवाओं से

एक मेक होते हुए...

बस,

दिखते जाते हैं सब

मौसम-वौसम, चाँद-वाँद

पर्वत-वर्वत, धूल-वूल

घाम-वाम

बस्स,

नहीं दिखते हैं तो बस्स...

प्रीत-व्रीत, मीत-वीत

सांझ-वांझ, सपने-वपने

पीर-वीर, रतियाँ-वतियाँ

छाँह-वाँह.....

--


ये शहर

दिन भर छनती हैं नंगी तलवारें

दिन भर नंगी सड़कों पे चटकती हैं जूतियाँ

दिन-दिन भर भभके आते हैं जिस्मों की सड़ांध के

हर रोज भाग खड़ी होती हैं युवतियाँ

लंपट प्रेमियों के साथ और हर रोज पिछवाड़े

बजती हैं संदिग्ध सीटियाँ

हर रोज रोटियों के हिसाब में कम पड़ जाती है एक

और

भूखी रह जाती है माँ

हर रात चाँदनी में लोग चुनते हैं उदे फूल

जिनके रंग उड़ जाते हैं सुबह होते-होते

यहाँ भी किशोरियाँ सपने में बुनती हैं

रेशमी राजकुमार

जो सुबह की लौ के साथ रह जाते हैं भक़् से

कुछ बेरोजगार लड़के आए रोज करते

रहते हैं खुदकुशी

कुछ झोंपडियों पे रातों रात खड़ी हो गई हैं

ठोस इमारतें

हठात सब घटता है एक उद्वेग के साथ

यहाँ सूर्य उगना भी एक साजिश है

और अस्त होना भी एक वारदात

फिर भी, शुक्र है यह शहर

अपनी जगह है।

---


तुम हो

तुम हो

या नहीं हो

इतना ही है भ्रम,

भ्रम को दूर करने की

कोशिश भी नहीं,

अभी चमक रहा है सूरज

तो भी अंधेरा है कमरे में,

जब छत पर होंगे हम

चाँद भी होगा आसमान पर

तो भी खोजते हुए कुछ

कट जाएगी रात

ऐसे ही रात दिन....

पूरा करेंगे एक युग

हमारा और तुम्हारा समय

कौन खोजेगा?

हाँ, एक दूब उगेगी धरती के

किसी एक बिंदु पर,

एक मद्धिम तारा टिमटिमाएगा

इतने बड़े आकाश में,

अभी या कभी.....

एक दूब होना धरती के लिए

एक तारा होना आकाश के लिए

अच्छा है एक समय होना

इस पूरे युग के लिए।।

शेष

न रहेगी बांसुरी

न हृदयों के तिलस्म

ना सुनामी, ना चक्रवात

न मीठी मीठी बातें

न जुल्फों की छांव

न हिरणी के पांव

कुछ भी ना रह जाएगा

शेष....

न जलसों की श्रंखलाएं

न युद्धों का अह्वान

न इंद्रधनुषी पर्व

न मेघों की पद्चाप

भूख रहेगी ना तृप्ति

न वासनाओं के वरूण

न ईष्टों की जय जयकार

ना ऋतुओं के सिंगार

अंततः

कुछ ना बचेगा शेष कवि जी

इस भूमि पर बस...

प्रेम ही रह जाएगा.


अपने अपने खुदा

अपने अपने खुदाओं को

कांधे पे उठा के

चलो कहीं दूर छोड. आएं

यही मूल है सारी

नफ्सियात की

इसी के इशारे पे तमंचे

आग उगलते हैं

इसी के इशारे पे

बेवजह

खडे हो जाते हैं

फसाद

आम आदमी

आग की कलम से लिखी जा

रही हैं हवाओं की तकदीरें

लिखने वाले हाथ शाखाओं में

उग रहे हैं...

और किस्तों में दफ्न होता जा

रहा है आम आदमी

उसकी भूखी...नंगी चमडी पे

लिखा जा रहा है

सवा सवा दिन का हिसाब

और

अंगुल-अंगुल नापी जा

रही है

आए दिन उसकी औकात

’’’’’’’’’’’’’’’’’’’’


रंग-शाला

रंगशाला में

कितने प्रकार के

रंगों में,कितने आकार-प्रकार में

कठपुतलियों की परछाईयां

ट्रे में परोस परोस

बडे सलीके से

पेश कर रही हैं जीवन

येल्लो...

येल्लो....

पिओ आब-ए-हयात

और

अमर हो जाओ

हमारे साथ

हमारे ही साथ

’’’’’’’’’’’’’’’’


कवि

कवि ,

तुम कब लिखोगे

सुरमई रातों वाली कविता

कब लिखोगे भींगते

आकाशों का सुख

और सिर झुकाए खडी

दीन-हीन धरती

की पीडा,

कब लिखोगे सूर्य की

परास्त-विजय

कब रचोगे

कवि,

मेरे अन्तस का

संसार

--


आजादी

धर्मों के नागपाश में

छटपट करते लोग

मुक्ति चाहते हैं अपने असमानों की

उन्हें /उनका

आकाश दे दो

हवा दे दो

ताप दे दो

और कुछ नहीं तो इतना

ही दे दो

अपनी तिरोहित

चाँदनियों में मुँह छुपा के

विलुप्त हो जाने की

आजादी

--


आँखें

नेपथ्य में

चँद्रमा उगते हैं

जब,

मुस्काती हैं

तुम्हारी आँखें

बादल

मौसमों, बताओं जरा

किसको

याद करके

रो देते हैं

बादल..?

--


नदियों....

नदियों......

क्यूँ पुकारती रहती हो

अमलताश के

रंगों को .....

वो नहीं सुनेंगे

नहीं सुनेंगे

नहीं सुनेंगे।।

--


झरने

जब....,

फालसायी असमान से-

फूटते हैं

झरने

ते

कैसा कैसा

होता है!

--

खुदकुशी

खुदकुशी करने की

वहिद

चार वजहें हैं

डिग्री बेमतलब गई,

मेहबूब ने दामन

झिटका,

आत्मियों ने धिक्कारा

या...

वक्त ने दो हत्था

मारा।।

--


सुंदरियों

सुंदरियों!

मत देखो ख्वाबों में

रेशमी राजकुमार

देखती हो

तो देखो

पसीनों से सने

किसान

जिनकी महक

हवाओं में

वल्लाह.....!

वल्लाह....!

क्रती है।।

--


उड़ानें

कभी कभी

स्थगित कर देनी पड़ती हैं

तमन्नाए, ख्वाहिशात और

आकांक्षाएं....

हत्ता कि प्रेम भी

तब,

जब नियतियाँ करने लगती हैं

हमारे होने की तफतीश

और

निरस्त कर दी जाती हैं

हमारी अग्रिम उड़ानें

---


दिखता है तो बस्स

हमने देखा है दरीचों से

उगता हुआ पीला सूरज

देखते जाना है डूबना इसका

हौले हौले....

दिखता जाता है खुदा नभ से

झुक के सरोवर में पानी पीते

हुए....

दिखती जाती हैं सदियाँ रेल की

मानिंद सामने से गुजरती हुई....

चलते जाते हैं बंजारों के झुंड

गाते-गाते जीवन के गीत

दिखते जाते हैं परिंदे हवाओं से

एक मेक होते हुए...

बस,

दिखते जाते हैं सब

मौसम-वौसम, चाँद-वाँद

पर्वत-वर्वत, धूल-वूल

घाम-वाम

बस्स,

नहीं दिखते हैं तो बस्स...

प्रीत-व्रीत, मीत-वीत

सांझ-वांझ, सपने-वपने

पीर-वीर, रतियाँ-वतियाँ

छाँह-वाँह.....

---------


हुस्न तबस्सुम ‘निंहाँ‘

महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्व विद्यालय

गांधी हिल्स, वर्धा महाराष्ट्र

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4039,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3000,कहानी,2253,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,540,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,96,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,345,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,67,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,28,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,242,लघुकथा,1248,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2005,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,708,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,793,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,17,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,83,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,204,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,77,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: हुस्न तबस्सुम ‘निंहाँ‘ का कविता संग्रह - शरीफो, तुम प्रेम कर लो
हुस्न तबस्सुम ‘निंहाँ‘ का कविता संग्रह - शरीफो, तुम प्रेम कर लो
https://lh3.googleusercontent.com/-Y7oKvDoPt4I/XDWXXRb_3VI/AAAAAAABGhU/aOPPXX1WpF4YIypf-yz7a_L09XSvuxQjQCHMYCw/image_thumb?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-Y7oKvDoPt4I/XDWXXRb_3VI/AAAAAAABGhU/aOPPXX1WpF4YIypf-yz7a_L09XSvuxQjQCHMYCw/s72-c/image_thumb?imgmax=800
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2019/01/blog-post_9.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2019/01/blog-post_9.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ