370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

सुंदरता - कविताएँ - विनोद सिल्ला

1.
अवर्णित

पौराणिक कथाओं में
वर्णित है
ब्रह्मा के मुख से
उत्पन्न हुआ ब्राह्मण
भुजाओं से
उत्पन्न हुआ क्षत्रिय
उदर से
उत्पन्न हुआ वैश्य
पैरों से
उत्पन्न हुआ शूद्र
यहूदी, मुस्लिम, इसाई
अन्य मतावलंबी
अन्य जीव-जंतु
किस इंद्री से उत्पन्न हुए
अवर्णित है जाने क्यों?

-विनोद सिल्ला©
2.
अहिंसा का पुजारी

उसकी अहिंसा
यरवदा जेल में
पूना पैक्ट में
साबित हुई घातक
वंचितों के लिए
उसकी अहिंसा ने की
वंचितों के
अधिकारों की हत्या
उनके शासक बनने के
अवसरों की हत्या
समता मूलक समाज की
परिकल्पना की हत्या
विपन्नता से
संपन्नता की ओर
अग्रसर होने के
हौसलों की हत्या
वो फिर भी
अपने जीवन के
अंतिम क्षण तक रहा
अहिंसा का पुजारी

-विनोद सिल्ला©
3.
सुंदरता

सुंदर चेहरे
नहीं होते सदैव सुंदर
यह सुंदरता
बाह्य आकार-प्रकार
बाह्य मापदंड
आधारित होती है
जरूरी नहीं यह
व्यवहार की कसौटी पर
अक्सर खरी उतरे
व्यवहार आधारित सुंदरता
होती है सदैव सुंदर
यह सुंदरता
होती है वास्तविक सुंदरता
इसके लिए
नहीं जाना होता
ब्यूटी-पार्लर
इसके लिए
नहीं होती आवश्यकता
सौंदर्य प्रसाधनों की
यही होती है
विशुद्ध सुंदरता

-विनोद सिल्ला©
4.
बसंत

इसे मधुमास भी
कहते हैं
पीले फूल सरसों के
चने के बूटे
लदे हुए हैं
हरे चनों से
शरद की रुत
तैयार है
विदा होने को
जर्रे-जर्रे में उमंग
फाल्गुन में खोने को
आएंगी पेड़ों पर
कोमल कोपल
इंसान भी गर
रंग जाए
इसी रंग में
जीवन से नीरसता
विदा हो जाएगी

-विनोद सिल्ला©
5.
खारा ही रहा

सागर की तरह
मानव जीवन में
मीठे जल की
कितनी ही
नदियाँ मिलीं
फिर भी
मानव जीवन
सागर की तरह
खारा ही रहा
जबकि नदियों ने
खो दिया अस्तित्व
सागर को
मीठा करने के लिए

-विनोद सिल्ला©
6.
बाह्य मूल्यांकन

कोट-पैंट टाई ने
बाह्य व्यक्तित्व
बना दिया आकर्षक
गिटपिट भाषा ने
बना दिया
इक्कीसवीं शदी का
लेकिन अंदर
आदमी था वही
पंद्रहवीं सत्रहवीं
शदी पुराना
वर्णाश्रम के
सांचे में ढला
जातिवाद की
भट्ठी में पका
पितृ सत्ता का
प्रबल समर्थक
बाह्य आवरण से
नहीं किया जा सकता
व्यक्ति का मूल्यांकन

-विनोद सिल्ला©
7.
मातम

समझ नहीं आता
मातम किसका करूं
सीमा पर
जान गंवाने वाले
जांबाजों की
शहादत का
या फिर
खादी पहने
जिंदा ही
मरने वालों का
या फिर
टी वी चैनलों में बैठ
हिन्दू-हिन्दू
मुस्लिम-मुस्लिम
चिल्लाने वालों का
समझ नहीं आता
परखचे उड़ी
लाशों को सहेज कर
श्रद्धा-सुमन
अर्पित करूं
या फिर
निंदा करती
चलती-फिरती
जिंदा लाशों का
मातम मनाऊं

-विनोद सिल्ला©
8.
परिवर्तन

मन के द्वार
देती हैं दस्तक
बार-बार
गमी व खुशी
चिन्ता व बेफिक्री
कभी हो जाता है
मन भारी
मानो पड़ा है इस पर
कई मण भार
कभी हो जाता है
फूल के माफिक
हल्का-फुल्का
तरो-ताजा
बदलती रहती है
मनोस्थिति
हुआ प्रतीत
कुछ भी नहीं है स्थाई
जीवन में

परिवर्तन है
प्रकृति का
अभिन्न अंग

-विनोद सिल्ला©
9.
लाने ही वाले हैं

मित्रों
बयालीस के बदले
चार सौ बीस सिर
लाने ही वाले हैं
तीन सौ सत्तर
हटाने ही वाले हैं
काला धन
विदेशों से
लाने ही वाले हैं
पंद्रह लाख खातों में
आने ही वाले हैं
अच्छे दिन
आने ही वाले हैं
बुरे दिन
जाने ही वाले हैं
थोड़ा सब्र कीजिए

-विनोद सिल्ला©
10.
जीत गया चुनाव

जीत कर चुनाव
किए वादों की
करते-करते वादाखिलाफी
बीत गए साढे़ चार साल
अब नेता जी को
आए पसीने
पृथ्वी देने लगी दिखाई
छोटी-सी
लगने लगा
निर्वाचन क्षेत्र भयावह
दरकता नजर आया
जनसमर्थन का किला
तो खोल दिए
उस तहखाने के मुंह
जिसमें रखी थी
काली कमाई की
काली दौलत
कुछ टिकट के बदले
हाईकमान को दे दी
कुछ को मीडिया कर्मी
चाट गए
कुछ को बूथ कैप्चर
आपस में बांट गए
और नेता जी
फिर से चुनाव जीत गए

-विनोद सिल्ला©

परिचय

नाम - विनोद सिल्ला
शिक्षा - एम. ए. (इतिहास) , बी. एड.
जन्मतिथि -  24/05/1977
संप्रति - अध्यापन

प्रकाशित पुस्तकें-

1. जाने कब होएगी भोर (काव्यसंग्रह)
2. खो गया है आदमी (काव्यसंग्रह)
3. मैं पीड़ा हूँ (काव्यसंग्रह)
4. यह कैसा सूर्योदय (काव्यसंग्रह)
5. जिंदा होने का प्रमाण(लघुकथा संग्रह)

संपादित पुस्तकें

1. प्रकृति के शब्द शिल्पी : रूप देवगुण (काव्यसंग्रह)
2. मीलों जाना है (काव्यसंग्रह)
3. दुखिया का दुख (काव्यसंग्रह)

सम्मान

1. डॉ. भीम राव अम्बेडकर राष्ट्रीय फैलोशिप अवार्ड 2011
(भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा)
2. लॉर्ड बुद्धा राष्ट्रीय फैलोशिप अवार्ड 2012
(भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा)
3. उपमंडल अधिकारी (ना) द्वारा
26 जनवरी 2012 को
4. दैनिक सांध्य समाचार-पत्र "टोहाना मेल" द्वारा
17 जून 2012 को 'टोहाना सम्मान" से नवाजा
5. ज्योति बा फुले राष्ट्रीय फैलोशिप अवार्ड 2013
(भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा)
6. ऑल इंडिया समता सैनिक दल द्वारा
14-15 जून 2014 को ऊना (हिमाचल प्रदेश में)
7. अम्बेडकरवादी लेखक संघ द्वारा
कैथल  में (14 जुलाई 2014)
8. लाला कली राम स्मृति साहित्य सम्मान 2015
(साहित्य सभा, कैथल द्वारा)
9. दिव्यतूलिका साहित्य सम्मान-2017
10. प्रजातंत्र का स्तंभ गौरव सम्मान 2018
(प्रजातंत्र का स्तंभ पत्रिका द्वारा) 15 जुलाई 2018 को राजस्थान दौसा में
11. अमर उजाला समाचार-पत्र द्वारा
'रक्तदान के क्षेत्र में' जून 2018 को
12. डॉ. अम्बेडकर स्टुडैंट फ्रंट ऑफ इंडिया द्वारा
साहब कांसीराम राष्ट्रीय सम्मान-2018
13. एच. डी. एफ. सी. बैंक ने रक्तदान के क्षेत्र में प्रशस्ति पत्र दिया, 28, नवंबर 2018

पता :-

विनोद सिल्ला
गीता कॉलोनी, नजदीक धर्मशाला
डांगरा रोड़, टोहाना
जिला फतेहाबाद (हरियाणा)
पिन कोड-125120

ई-मेल vkshilla@gmail.com

कविता 4402597633486800067

एक टिप्पणी भेजें

  1. आदरणीय श्रीमान विनोद सिल्ला जी की रचनाएं हमने पढ़ी ! सुन्दर रचनाओं के लिए हार्दिक धन्यवाद यद्यपि आपकी प्रकाशित पुस्तक प्रकृति के शब्द शिल्पी : रूप देवगुण (काव्यसंग्रह)2. मीलों जाना है (काव्यसंग्रह)3. दुखिया का दुख (काव्यसंग्रह) मुझे पढ़ने के अवसर नहीं मिले हैं फिर भी अच्छी ही होंगी | कहावत है कि आइना भांप लेता है , चेहरा देखने के बाद | रचनाकार को बहुत बहुत बधाइयां | (googl+sukhmangal)

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेनामी4:27 pm

    नवाजिश के लिए बहुत बहुत धन्यवाद मान्य.सुखमंगल सिंह साहब

    -विनोद सिल्ला

    उत्तर देंहटाएं
  3. हार्दिक शुभकामनाएं आपको आदरणीय श्री मान जी

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव