370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघुकथा - अछूत - ज्योत्सना सिंह

(अछूत )

“सुन,मेरी सलवार में दाग़ आ गया है। मैं न घर जा रही हूँ और चार पाँच दिन मैं स्कूल नहीं आ पा आऊँगी तो तू न मुझे सारी पढ़ाई घर आ के बता जाना।”

सहेली की बात सुन नीरू हँसने लगी और फिर सहजता से सखि को जागरूक करते हुए बोली।

“यूँ स्कूल से छुट्टी ले कर एकदम क्यूँ जाना?

हम सरकारी स्कूल की छात्रायें हैं हमारे स्कूल में इन सुविधाओं के लिये समुचित व्यवस्था रहती है चल आ टीचर दीदी जी के पास चलते हैं।”

उसने ख़ुद को संकोच से समेटते हुए कहा।

“न,न सबको पता चल जायेगा सब रहते हैं आस-पास।”

वह फिर समझदारी से बोली।

“तो क्या हुआ जो किसी को पता चल जायेगा?”

वह सर नीचे कर बोली।

“माँ कहती है ये शर्म की बात है इन दिनों हम अछूत होते हैं हमें कुछ भी साफ़ सुथरा छूना नहीं चाहिये और अपने बड़ों भी दूर रहना चाहिये।”

नीरू ने आत्मविश्वास से भर उससे कहा।

“सखि, हम अछूत नहीं हैं पूज्य हैं अगर हममें यह चक्र नहीं होगा तो जीवन चक्र ही रुक जाएगा हम सृष्टि की रचना कर पाते हैं क्यूँ कि हम इस चक्र से गुज़रते हैं।

एक बात बता तो,जो भी तू यहाँ पढ़ती हैं वह क्या केवल पास होने के लिये पढ़ती है टीचर दीदी जी का पढ़ाया पाठ से सीख ले कर जीवन जीना सीख हम बदले हुए भारत की बेटियाँ हैं।”

और अब ली हुई छुट्टी की अर्ज़ी को फाड़ते हुए वह दोनों स्कूल की पहली सुरक्षा सुविधा दवा वाले कमरे में जा रहीं थी।


ज्योत्सना सिंह

गोमती नगर

लखनऊ

लघुकथा 8792452326966516048

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव