नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

स्त्रियों का साहित्य सृजन बेहद खास

महिला दिवस पर गुफ्तगू की ओर से हुआ आयोजन

‘आखिर मैं हूं कौन’, ‘किसकी रचना’ और ‘प्रेम विरह में आलोकित’ का विमोचन प्रयागराज।

एक दौर था जब हम अपने घरों में फिल्मी गाने नहीं गा सकते थे, इसे बहुत ही खराब माना जाना था, अंताक्षरी के खेल में भी हम रामचरित मानस और देशभक्ति गीत ही गा सकते थे। मगर आज बेहद खराब से लेकर अश्लील गीत गीत गाये और गुनगुनाए जा रहे हैं। इसके विपरीत इस दौर में भी आज की स्त्रियां साहित्य सेवा कर रही हैं, कविताएं गढ़ रही हैं, समाज को दिशा दे रही हैं। आज महिला दिवस पर तीन कवयित्रियों की किताबों का विमोचन होना साबित करता है कि स्त्री समाज और देश के प्रति सजग हैं और साहित्य का सृजन कर रही हैं। ये तीनों की कवयित्रियों बेहद बधाई की पात्र हैं। यह बात एडीआरएम अनिल कुमार द्विवेदी ने ‘गुफ्तगू’ द्वारा शनिवार की शाम सिविल स्थित बाल भारती स्कूल में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर तीन पुस्तकों के विमोचन करते हुए कही। कार्यक्रम के दौरान ऋतंधरा मिश्रा की पुस्तक ‘आखिर मैं हूं कौन’, रचना सक्सेना की पुस्तक ‘किसकी रचना’ और कुमारी निधि चौधरी की पुस्तक ‘प्रेम विरह में आलोकित’ का विमोचन किया गया।

गुफ्तगू के अध्यक्ष इम्तियाज़ अहमद ग़ाज़ी ने कहा कि इन तीनों पुस्तकों की कवयित्रियों ने अथक परिश्रम करके कविता का सृजन किया और इसके बाद पुस्तक प्रकाशित कराया, यह एक बहुत बड़ा काम है। इसके लिए तीन ही कवयित्रियां बधाई की पात्र हैं, लेकिन इन्हें ग़लतफ़हमी में नहीं रहना चाहिए, अभी इससे भी बेहतर रचनाएं की जा सकती हैं, क्योंकि हमेशा और बेहतर करने की संभावना बनी रहती है। गलतफ़हमी बनी रहने से और बेहतर सृजन की संभावना समाप्त हो जाती है। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे पं. राम नरेश त्रिपाठी ने कहा कि कविता का सृजन ईश्वर की देन है, ईश्वर द्वारा जो मनुष्य को प्रदान किया जाता है, उसे ही मनुष्य सृजन के रूप में अपने अंतर्मन से बहार निकालता और लोगों के समाने प्रस्तुत कर देता है।

आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर जिन महिलाओं की पुस्तकों का विमोचन हुआ है, इन्होंने भी इसी तरह का सृजन करके लोगों के सामने प्रस्तुत किया है। महिला दिवस पर पुस्तकों का विमोचन होना ख़ास मायने रहता है। उन्होंने कहा कि यह निराला, फिराक, महादेवी, पंत और अकबर इलाहाबादी की सरज़मीन है, यही पर इस तरह के सराहनीय काम हो सकते हैं। नंदल हितैषी, शिवाशंकर पांडेय, डा. ताहिरा परवीन, नेरश महरानी, डा. राम लखन चौरसिया, प्रदीप बहराइची, संपदा मिश्रा और शैलेंद्र जय ने इन तीन पुस्तकों पर विचार व्यक्त किया, और इन तीनों पुस्तकों की प्रशंसा की।

कार्यक्रम का संचालन मनमोहन सिंह तन्हा ने किया। दूसरे दौर में मुशायरे का आयोजन किया गया। जिसमें शिवपूजन सिंह, अनिकेत चैरसिया, अनिल मानव, कविता उपाध्याय, उर्वशी उपाध्याय, ललिता पाठक नारायणी, गीता सिंह, शांभवी, असद गाजीपुरी, अशोक कुमार स्नेही, महक जौनपुरी, मीरा सिन्हा, प्रकाश तिवारी पुंज, अजीत शर्मा आकाश आदि ने कलाम पेश किया।

- डॉ. राम लखन चैरसिया

मीडिया प्रभारी-गुफ़्तगू

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.