नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

इश्क मरने का तसव्वुर तो नहीं, ज़ख़्म गहरे हैं समन्दर तो नहीं। तेजपाल सिंह ‘तेज’ की दस ग़ज़लें


-एक-

आज का इंसान जब भी लौटकर घर आता है,

टूटा बदन, हारा-थका विश्वास लेकर आता है।

​​

कि धर्म की मीनार पर बैठा समूचा आदमी,

बौना तो बौना, दरअसल शैतान नजर आता है।

​​

कि पीते-पीते ता-उमर दस्तूर का मिथ्या गरल,

आदमी तो आदमी, दस्तूर तक मर जाता है।

​​

देखकर वादों की माला मालिकों के हाथ में,

भुखमरी की माँग में सिन्दूर सा भर जाता है।

​​

हादसों के शहर में न ‘तेज’ इतना मुस्करा, कि

देखकर सहसा हँसी यहाँ आदमी डर जाता है।

​​

<><><>

-दो-

इश्क मरने का तसव्वुर तो नहीं,

ज़ख़्म गहरे हैं समन्दर तो नहीं।

​​

हमने जाना कि लोग दुनिया के,

बहुत जालिम हैं सिकंदर तो नहीं।

​​

उनके आने का इंतिजार तो है,

उनकी राहों में मिरा सिर तो नहीं।

​​

वो जो बैठा है मेरी चौखट पे,

माना अपना है मुंतजिर तो नहीं।

​​

इश्कबाजी में ख़ाक होने का,

रंज बेशक है तहस्सुर तो नहीं।

​​

कि बातों- बातों में सिमट जाएगा,

’तेज’ इतना भी मुख़्तसर तो नहीं।

​​

<><><>

-तीन-

सत्तासीन मग़रूर हो गये,

बन्दर अब लंगूर हो गये।

​​

थके पाँव टूटी राहों पर,

चलने को मजबूर हो गये।

​​

नई सभ्यता के आँगन में,

अस्त-व्यस्त दस्तूर हो गये।

​​

गाँव और शहरों के रस्ते,

एक दूजे से दूर हो गये।

​​

‘तेज’ बदलते युग में दंगे,

मानव को मंजूर हो गये।

​​

<><><>

-चार-

उनके घर में भी आज पत्थर हैं,

जिनके अपने भी काँच के घर हैं।

​​

जिनके पापों का सफर लम्बा है,

उनके कन्धों पे आज भी सिर हैं।

​​

फूल पूजा के सुगन्धित है मगर,

खुशबू - खुशबू में पगे ख़ंजर हैं।

​​

जब भी लिखते हैं खून लिखते हैं,

कि लोग दुनिया के बड़े शातिर हैं।

​​

सहरा - सहरा में ‘तेज’ चर्चा है,

बस्ती - बस्ती में घने बंजर हैं।

​​

<><><>

-पांच-

अनुबन्धों सा टूट रहा मैं,

हक अपनों का लूट रहा मैं।

​​

विज्ञानी होकर भी नाहक,

ठंडा लोहा कूट रहा मैं।

​​

काल-चक्र की शुष्क धरा पर,

रोज बमों सा फूट रहा मैं।

​​

नित्य बदलते गतिमानों में,

हर पल पीछे छूट रहा मैं।

​​

शतरंजी चालों के जरिए,

’तेज’ हुकूमत लूट रहा मैं।

​​

<><><>

-छ:-

उँगलियां इज़्जत पे उठें तो कहना,

प्रश्न जो अस्मत के उठें तो कहना।

​​

मैं फ़क़त प्यासा हूँ तेरी खुशबू का,

होंठ जो होंठों से सटें तो कहना।

​​

मन से मन को ही मिला रहने दो,

दूरियां बिस्तर की घटें तो कहना।

​​

अभी अश्क आँखों में बहुत बाकी हैं

यदि प्रश्न रोने के उठें तो कहना।

​​

तन्हा - तन्हा यूँ चलोगे, कब तक,

बात जो रहबर की उठें तो कहना।

​​

<><><>

-सात-

लगा रहे खुद अपनी बोली अब्बाजान,

कि बना रहे बंजर में खोली अब्बाजान।

​​

देख - देखकर हैरत भी है, गैरत भी,

कि खेल रहे सावन में होली अब्बाजान।

​​

बाल हुए हैं गोरे कुछ तो शरम करो,

लड़की इक धीरे से बोली अब्बाजान।

​​

कि नए दौर का उनपर ऐसा रंग चढ़ा,

सिला रहे बीवी को चोली को अब्बाजान।

​​

रफ़्ता - रफ़्ता ‘तेज’ कैंचुली उतरेगी,

किस्मत बहुत पुरानी होली अब्बाजान।

​​

<><><>

-आठ-

रौशनी तारीकियों में खोजिए,

ख़ामुशी आबादियों में खोजिए।

​​

आजकल जिन्दादिली के मायने,

वक्त की नाकामियों में खोजिए।

​​

ज़िन्दगी का अर्थ मोटे तौर पर,

मौत की बारीकियों में खोजिए।

​​

बस्तियों की भीड़ है हरसू यहाँ,

घर मगर वीरानियों में खोजिए।

​​

‘तेज’ सावन की घटा की पुरनमी,

धूप की चिंगारियों में खोजिए।

​​

<><><>

-नौ-

साख़ वतन की बढ़ा रहा मैं.

के रोज कबूतर उड़ा रहा मैं।

​​

बेशक इंसानी रिश्तों को,

नित सूली पर चढ़ा रहा मैं।

​​

समय बहुत तेजी से गुजरा,

भाग न पाया खड़ा रहा मैं।

​​

कुछ सत्ता-सुख रहे भोगते,

सीमाओं पर अड़ा रहा मैं।

​​

आयातित शब्दों की गरिमा,

नित संसद में बढ़ा रहा मैं।

​​

<><><>

-दस-

पग-पग प्रेम लुटाना सीख,

गाना और बजाना सीख।

​​

इक-दूजे से मिल रहने को,

जीवन-ज्योति जलाना सीख।

​​

कि तू-तू मैं-मैं की पीड़ा से,

खुद को सदा बचाना सीख।

​​

क़दम-क़दम पर मानवता के,

हरियल पेड़ लगाना सीख।

​​

पढ़ना-लिखना एक बात है,

पढ़कर नीड़ बनाना सीख।

​​

<><><>

( ‘ट्रैफिक जाम है’ (ग़ज़ल संग्रह) से प्रस्तुत)

तेजपाल सिंह ‘तेज’ (जन्म 1949) की गजल, कविता, और विचार की कई किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं- ‘दृष्टिकोण ‘ट्रैफिक जाम है’, ‘गुजरा हूँ जिधर से’, ‘तूफाँ की ज़द में’ व ‘हादसों के दौर में’ (गजल संग्रह), ‘बेताल दृष्टि’, ‘पुश्तैनी पीड़ा’ आदि (कविता संग्रह), ‘रुन-झुन’, ‘खेल-खेल में’, ‘धमा चौकड़ी’ आदि ( बालगीत), ‘कहाँ गई वो दिल्ली वाली’ (शब्द चित्र), पाँच निबन्ध संग्रह और अन्य सम्पादकीय।

​​

तेजपाल सिंह साप्ताहिक पत्र ‘ग्रीन सत्ता’ के साहित्य संपादक, चर्चित पत्रिका ‘अपेक्षा’ के उपसंपादक, ‘आजीवक विजन’ के प्रधान संपादक तथा ‘अधिकार दर्पण’ नामक त्रैमासिक के संपादक रहे हैं।

​​

स्टेट बैंक से सेवानिवृत्त होकर आप इन दिनों स्वतंत्र लेखन के रत हैं।

​​

सामाजिक/नागरिक सम्मान सम्मानों के साथ-साथ आप हिन्दी अकादमी (दिल्ली) द्वारा बाल साहित्य पुरस्कार ( 1995-96) तथा साहित्यकार सम्मान (2006-2007) से सम्मानित किए जा चुके हैं।

​​

आजकल आप स्वतंत्र लेखन में रत हैं।

​​

सम्पर्क  : E-mail — tejpaltej@gmail.com

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.