नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

तीन मिसरी शायरी तिरोहे - डॉ सत्येन्द्र गुप्ता

सत्येन्द्र गुप्ता नजीबाबाद जिला बिजनौर उत्तर प्रदेश का रहनेवाले हैं. आपने छंद रूबाई मुक्तक को चार लाइनों में कहने की अपेक्षा तीन मिसरों में पूरा किया है जिससे कहने और सुनने वाले को अतिरिक्त आनंद की प्राप्ति होती है इस विधा को  नाम दिया है तिरोहे.  इसमें पहला मिसरा स्वतंत्र है दूसरा और तीसरा मिसरा रदीफ और काफिए में है जैसे -
पांव डूबोए बैठे थे पानी में झील के
चांद ने देखा तो हद से गुजर गया
आसमां से उतरा पांव में गिर गया

उसकी शान में कुछ  तो अता कर
सब कुछ मिल जाता है दुआ से
मांग कर तो देख ले तू खुदा से

बहुत तकलीफें सहकर पाला मां ने
मां की झुर्रियां बेटे की जवानी हो गई
वक्त बीतते-बीतते मां कहानी हो

शान  से ले जाती है जिसे भी चाहे
दर पर खडी मौत फकीर नहीं होती
उसके पास कोई तहरीर नहीं होती

     इस विधा पर   इअंडियन यूनिवर्सिटी फार पीस एंड एजुकेशन बंगलौर ने डा सत्येन्द्र गुप्ता  को डाक्टर आफ  हिंदी   साहित्य की मानद उपाधि से सम्मानित किया है

         ------ डा सत्येन्द्र गुप्ता
        
तीन मिसरी शायरी -तिरोहे

हुस्न ढ़ल गया मगर  गुरूर अभी बाकी है
नशा  उतर गया पर सुरूर अभी बाकी है
जवानी चली गई पर फ़ितूर अभी बाकी है

उम्र तमाम गुज़र गई बड़े सख्त इम्तिहां में
दिल टूटने का मन्ज़र ज़रूर अभी बाकी है
वक़्त गर्दिश का भी भरपूर अभी बाकी है

कभी तो बरसेंगी रहमतें उसकी मुझ पर
दुआ में आरज़ू यही ज़रुर अभी बाकी है
दिल में हसरतों का सिन्दूर अभी बाक़ी है

सिमेट लो अपनी उंगलियों की पोरों में मुझे
आरती में जलाने को कपूर अभी बाकी है
हद से गुजरने का दस्तूर अभी बाकी है

         ------ डा सत्येन्द्र गुप्ता

तीन मिसरी शायरी- तिरोहे

क्या खूब तूने  मेरे दिल को महका रखा है
मुझे अपनी खुशबू का टुकड़ा बना रखा है
तेरी खुशबू से मैंने भी तो गौना करा रखा है

मदमस्त किए रहती है मुझे तेरी ही खुशबू
क्या खूब इसने दिल में  उधम मचा रखा है
दिल को मेरे अपना महबूब बना रखा है

मेरी तन्हाई मुझसे बातें करती है अक्सर
क्या खूब तूने महल इश्क़ का सजा रखा  है
इश्क़ ने तुझे कितना बावला बना रखा है

लब खामोश हैं हो रही हैं नजर से बातें
यह हुनर तूने मुझको भी सिखा रखा है
हमने हर गम तेरा दिल में सजा रखा है

नशा गजब का है नशीली आंखों में तेरी
तूने आंखों में कोई मैखाना छिपा रखा है
हमने भी खुद को पैमाना बना  रखा है
       ---- डा सत्येन्द्र गुप्ता

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.