नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

जीना भी नहीं आसाँ, मरना भी नहीं आसाँ। तेजपाल सिंह ‘तेज’ की दस ग़ज़लें

तेजपाल सिंह ‘तेज’ की दस ग़ज़लें

-एक-

अपना-अपना मिज़ाज़ है साहिब,

किसको किसका लिहाज है साहिब।

​​

वो जो कहता है नास्तिक खुद को,

रोज पढ़्ता नमाज़ है साहिब।

​​

अपने हिस्से में चन्द साँसे हैं,

उम्र उनकी दराज़ है साहिब।

​​

मै तो मर-मर के भी जी लूँगा,

मुझको इसका रियाज़ है साहिब।

​​

चिंता कफ़न की ‘तेज’ को क्यूँ हो,

कि दोस्त उसका बज़ाज है साहिब।

​​

<><><>

-दो-

यूँ ही मत बवाल कर,

कि कुछ नए सवाल कर।

​​

रौशनी के वास्ते,

उठ जरा धमाल कर।

​​

थके-थके दिमाग है,

कि ताज़गी बहाल कर।

​​

मिलने को मिलिए रोज पर,

दामन जरा सम्भाल कर।

​​

कि आदमी की जात का,

’तेज’ कुछ ख़याल कर।

​​

<><><>

-तीन-

बन्द आँखे खुल गईं तेरी ज़फा के बाद,

जिन्दगी रौशन हुई तेरी ज़फा के बाद।

​​

कल तलक खुश्बू मिरी उलफत में कैद थी,

बसकि हवा में घुल गई तेरी ज़फा के बाद।

​​

कि बातों पे अपनी था तुझे बेहद गुरूर,

पर बात मेरी सिर हुई तेरी ज़फा के बाद।

​​

सादगी को ओढ़ लूँ कि छोड़ दूँ मैं क्या करूँ,

खुद की खुद से ठन गई तेरी ज़फा के बाद।

​​

कल भी थी, है आज भी अपनी हवा ऐ! ‘तेज’,

उलफ़त मगर रुसवा हुई तेरी ज़फा के बाद

<><><>

-चार-

गो शहर-भर आवारगी बर्पा हुई,

संसद में लेकिन शून्य-भर चर्चा हुई।

​​

लोग कहते है कि कल निन्दा थी पर,

है आजकल इंसानियत मुर्दा हुई।

​​

शायरी के मायने कुछ हों न हों,

शायरी पर हर समय फ़तवा हुई।

​​

बेईमानी का असर कुछ् यूँ बढ़ा,

ईमानदारी खुद ही बेपर्दा हुई।

​​

मौत बेशक मूल भी है ब्याज भी,

जिन्दगी पर ‘तेज’ बस खर्चा हुई।

​​

<><><>

-पांच-

मुद्द्त बाद खुली है आँखें,

सरसे फूल खिली हैं पाँखें।

​​

अपना कोई आसपास है

फिर काहे को बगले झांके।

​​

बाजार गर्म है अनुबन्धों का.

मत कर संबन्धों की बातें।

​​

जीवन-भर रो-धोके गुज़रा,

दिन सँवरे न सँवरी रातें।

​​

कुर्सी पाने के लालच में,

’तेज’ लगी हैं लंबी पाँरें।

​​

<><><>

-छ:-

कि रेत का सागर सही, सागर तो है,

घर मिरा खस्ता सही, पर घर तो है।

​​

वो आँएं याकी न आँएं पर मुझको,

हाँ! उनके आने का तसव्वुर तो है।

​​

खाकसारी को मौज-मस्ती का,

ख़्वाब ही सही, मयस्सर तो है।

​​

होने को तो है, वो आदमी बेघर,

बात में उसकी मगर असर तो है।

​​

‘तेज’ समझे कि न समझे खुद को,

उसमें जीने का कुछ हुनर तो है।

​​

<><><>

-सात-

बात में बात मिलाना कैसा,

आँख से आँख मिलाना कैसा।

​​

हर पल रंग बदलते है जो,

उनसे हाथ मिलाना कैसा।

​​

जब माली ही गंध चुराए,

फिर-फिर फूल खिलाना कैसा।

​​

जब मन-आँगन हो अंधियारा,

चौमुख दीप जलाना कैसा।

​​

‘तेज’ हिमालय की चोटी पर’

हरियल दूब उगाना कैसा।

​​

<><><>

-आठ-

सपने कब हुए अपने,

सपने बस हुए सपने।

​​

इंसा भी कहाँ बाकी,

इंसा भी हुए फितने।

​​

जीना है अँधेरों में,

खाई है कसम हमने।

​​

पाँवों का सफर छीना,

दी कैसी सजा रब ने।

​​

गैरों से गिला कैसा,

अपने भी कहाँ अपने।

​​

<><><>

-नौ-

जीना भी नहीं आसाँ,

मरना भी नहीं आसाँ।

​​

हम हैं कि हुए पाहन,

गलना भी नहीं आसाँ।

​​

चलने की हिदायत है,

रुकना भी नहीं आसाँ।

​​

शोला है बदन अपना,

जलना ही नहीं आसाँ।

​​

हो ‘तेज’ से मुखातिब,

लिखना भी नहीं आसाँ।

​​

<><><>

-दस-

पीने का जो असर हुआ है,

निन्दा अपना हुनर हुआ है।

​​

आँखों-आँखों चपल चाँदनी,

पाँवों-पाँवों सफर हुआ है।

​​

बस्ती – बस्ती सन्नाटा है,

बेशक कोई कुफर हुआ है।

​​

बंजर संबन्धों के चलते,

अनुबन्धों का गुजर हुआ है।

​​

खुद अपनी हस्ती पहचानो,

’तेज’ निरा कम-नज़र हुआ है।

​​

<><><>

(‘गुज़रा हूँ जिधर से’ ग़ज़ल संग्रह से प्रस्तुत)

तेजपाल सिंह ‘तेज’ (जन्म 1949) की गजल, कविता, और विचार की कई किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं- ‘दृष्टिकोण ‘ट्रैफिक जाम है’, ‘गुजरा हूँ जिधर से’, ‘तूफाँ की ज़द में’ व ‘हादसों के दौर में’ (गजल संग्रह), ‘बेताल दृष्टि’, ‘पुश्तैनी पीड़ा’ आदि (कविता संग्रह), ‘रुन-झुन’, ‘खेल-खेल में’, ‘धमा चौकड़ी’ आदि ( बालगीत), ‘कहाँ गई वो दिल्ली वाली’ (शब्द चित्र), पाँच निबन्ध संग्रह और अन्य सम्पादकीय।

​​

तेजपाल सिंह साप्ताहिक पत्र ‘ग्रीन सत्ता’ के साहित्य संपादक, चर्चित पत्रिका ‘अपेक्षा’ के उपसंपादक, ‘आजीवक विजन’ के प्रधान संपादक तथा ‘अधिकार दर्पण’ नामक त्रैमासिक के संपादक रहे हैं।

​​

स्टेट बैंक से सेवानिवृत्त होकर आप इन दिनों स्वतंत्र लेखन के रत हैं।

​​

सामाजिक/नागरिक सम्मान सम्मानों के साथ-साथ आप हिन्दी अकादमी (दिल्ली) द्वारा बाल साहित्य पुरस्कार ( 1995-96) तथा साहित्यकार सम्मान (2006-2007) से सम्मानित किए जा चुके हैं।

​​

आजकल आप स्वतंत्र लेखन में रत हैं।

​​

सम्पर्क :  E-mail — tejpaltej@gmail.com

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.