विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका -  नाका। प्रकाशनार्थ रचनाएँ इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी इस पेज पर [लिंक] देखें.
रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -

पिछले अंक

कहानी - परछाई मूल लेखक – निर्झरी महेता - अनुवादक - डॉ॰ रानू मुखर्जी

साझा करें:

कलचरल सेन्टर के समीप ही नम्रा खड़ी थी, पार्किंग से गाड़ी लाकर सुजीत ने एकदम से उसके नजदीक ही खड़ी कर दी। पीछे से आने वाली गाड़ियों का हो हल्ला श...

thumbnail


कलचरल सेन्टर के समीप ही नम्रा खड़ी थी, पार्किंग से गाड़ी लाकर सुजीत ने एकदम से उसके नजदीक ही खड़ी कर दी। पीछे से आने वाली गाड़ियों का हो हल्ला शुरू हो उससे पहले ही नम्रा दरवाजा खोलकर झटपट कार में बैठ गई। अपनी कॉन्फिडेंट अदा के साथ कार को गेट से बाहर निकलते हुए सामने के रोड कट से घूमकर अपने घर के रास्ते की ओर दोनों बढ़ गए। तीन दिवसीय संगीत समारोह के दूसरे दिन की सुबह के सेशन की सुर लहरी की खुमारी में नम्रा डूबी हुई थी। संगीत के सुमधुर माहौल ने उसे अपने में लपेट लिया था।

घर गृहस्थी और बैंक की नौकरी ने उसके पूरे समय पर अपना कब्जा जमा लिया था। नौकरी में से निवृत होने पर उसे थोड़ा वक्त मिला था। दोनों बच्चे विदेश में रचबस कर अपना-अपना घर संभाल रहे थे। घर गृहस्थी का काम तो अपनी रॉ में चल ही रहा था पर उसमें व्यस्तता की क्षण अब पहले से कम हो गए थे। नम्रा को संगीत से प्रेम था। ईश्वर की मेहरबानी से उसका कंठ भी सुरीला था। कॉलेज में होनेवाले संगीत स्पर्धाओं में और यूथ फेस्टिवल में भी उसे अनेक इनाम मिले थे। फिर तो पारिवारिक जीवन की व्यस्तता के कारण संगीत से वह एकदम से सब कट सी गई थी फिर भी घर के बाहर होने वाले कार्यक्रमों में या गेट टू गेदरों में कभी कभार थोड़ा बहुत गा लेती थी। वी॰ आर॰ एस॰ लेने के बाद एकदिन वे शहर की प्रतिष्ठित संस्था ‘सूरदीप’ के एक कार्यक्रम में गए थे। वहीं इन्टरवेल में संस्था के संगीत प्रेमी उपाध्यायजी से मुलाक़ात हो गई। शायद उन्होंने नम्रा को कहीं किसी गेट टु गेदर में सुना होगा। नम्रा के निवृत होने की बात सुनते ही संस्था से जुडने का आग्रह किया।

“नम्रा आप “सूरदीप” में आइए न, आपका कंठ बहुत सुरीला है। नियमित प्रेक्टीस से कंठ में और निखार आएगा”।

और फिर तो नम्रा संस्था से जुड़ गई। नियमित रियाज़ होने लगा। स्थानीय कार्यक्रमों में वह गाने लगी। बाहर से निमंत्रित गायकों के कार्यक्रम में गाए जाने वाले प्रार्थना आदि के लिए उसका ही चुनाव होने लगा। इन सब से उसे आंतरिक संतोष मिलता था। फिर तो पति सुजित भी रिटायर हो गए। कार्यक्रमों में नम्रा के साथ वो भी जाने लगे। जिस संस्था से नम्रा जुड़ी थी वहाँ भी जाने लगे। पर वो तो ठहरे मैनेजमेंट वाले । मौजिले, व्यवहारिकता से लबरेज। ऐसे निपुण व्यवस्था वाले व्यक्ति कुछ ही दिनों में संस्था के, कलाकारों के चहेते बन गए। सुजित के “व्यवस्थास्पर्श” से वहाँ के सभी कार्यक्रम सुचारू रूप से सम्पन्न होने लगे।

इस बार तीन दिवसीय संगीत समारोह का आयोजन किया गया। स्थानीय और बाहर से निमंत्रित संगीतज्ञ कलाकारों के लिए अलग-अलग बैठकों की व्यवस्था बड़ी तटस्थता पूर्वक की गई। सुबह तथा शाम की बैठक के पश्चात कलाकारों कार्यकारों के भोजन की व्यवस्था तथा बाहर से आनेवाले कलाकारों के लिए ठहरने आने-जाने की बड़ी शानदार व्यवस्था की गई थी। अंतिम दिन में रात के कार्यक्रम में शहर के प्रतिष्ठित संगीतकार चन्द्रेश शर्मा जी और संगीत रत्न पं. विमल प्रसाद जी का था। कार्यक्रम के पश्चात चन्द्रेश शर्मा जी को बाहर जाना था। अतः वे कार्यक्रम समाप्ति के तुरंत बाद ही निकल जाने वाले थे। परंतु संगीतरत्न जी का कार्यक्रम तो रात के दस-ग्यारह बजे तक चलनेवाला था। पहले दिन प्रार्थना श्लोक के पश्चात नम्रा की अगुवानी में सभी का आरंभागान था। इसकी पूरी कल्पना नम्रा की थी। “सत सृष्टि तांडव रचयितां धिक-ताम” – स्तुति गान में सप्तक के विभिन्न सूरों का एक के बाद एक का प्रयोग करके नम्रा द्वारा किए गए इस स्वरायोजन ने सभी को मोह लिया। आज सुबह का आरंभगान उसका सोलो गान था। “सात सूरों के संग हम आपसे मिलने आए” – लगातार बजते रहने वाली तालियों की गड़गड़ाहट से वो अभी तक उबरी नहीं थी। ऐसे में गाड़ी के स्टियरिंग को मोड़ते हुए सूजित ने नम्रा की भावनाओं को भी मोड दिया।

“नमु कल रात को संगीतरत्न पं॰ विमल जी के प्रोग्राम के बाद मे होनेवाला डिनर हम अपने घर पर रख लें – कमिटी के दस बारह मेम्बरो के साथ।“

इसे सुनकर नम्रा के की जुबान से अचानक “हें” निकल गया। सुनसान अंधेरी राह पर अनमने भाव से चले जा रहे हो और अचानक हॉर्न बजाते हुए वाहन चारों ओर से आकार घेर लें तो जैसी हालत होती है वैसी हालत नम्रा की हो गई।

“ऐसे हें। हें। क्या कर रही है? जैसे मैंने डिनर की नहीं स्पेसटूर पर जाने की बात की हो!”

घर गृहस्थी की ज़िम्मेदारी को उसने बड़ी सिद्धत से निभाया। साथ ही साथ अतिथिपरायणता की ज़िम्मेदारी को निभाने में भी उसने कोई कसर नहीं छोड़ी। अपने अंतर की गहराई में छुपे संगीत के बहते रसमय प्रवाह का आनंद तो उसने अभी आभी ही लेना आरंभ किया था। इस समारोह का आनंद तो और किसी भी व्यवस्था से जुड़े बिना ही पूर्ण रूप से उठाना होता है। सभी व्यवस्था बाहर से ही किया गया है केवल नाश्ते के सिवाय। बड़ी किस्मत से ऐसे मौकों में हिस्सा लेने का अवसर मिलता है। इसके आयोजन के समय से ही वह मन ही मन में झूम रही थी कि न जाने कहाँ से बास के अंकुर की तरह रात के भोजन वाली बात फूट निकली।“ पंडितजी ने तो कहलवाया है न कि अक्सर रात के प्रोग्राम देर से समाप्त होते है, उम्र अधिक हो जाने के कारण देर रात में केवल खाखरा और दूध लेने का ही निश्चय किया है। नर्मदाबहन से कह देंगे वो दो चार तरह के खाखरा बना देगी। वही डिनर के लिए लेकर चलेंगे।“

“इतने उम्रदराज और विख्यात संगीतकार को हम लोग बाहर खाना खिलाएँगे?“

“सूजित – जो खिलाएँगे उसे मुझे ही खिलाना है। हम लोगों नहीं। तीन दिन के संगीत समारोह का आयोजन इस शहर में पहली बार हुआ है। सारा दिन मैं उसमें व्यस्त रहती हूँ। पंद्रह लोगों के लिए रात के भोजन का पूरा आयोजन अकेले कैसे कर पाऊँगी?”

“नमु तुम्हारे लिए डिनर की तैयारी करना कोई नई बात नहीं है न ! न जाने कितने लोगों के लिए डिनर की व्यवस्था की है तुमने अकेले ही की है। पंडित जी का प्रोग्राम तो अंतिम दिन पर है।उस दिन देर तो होगी ही, सो होटलवाला असंतुष्ट हो रहा था बड्बडा रहा था। दूसरे कार्यकर्ता तो बाहर खा लेंगे। पर उपाध्याय और उनसे जुड़े दूसरे लोग पंडित जी को खिलाने के लिए बाहर ले जाने में अचकचा रहे थे। तो मैंने भी उनकी समस्या का समाधान कर दिया । बोला – हमारे घर भोजन करेगें पंडित जी। आप सब भी उनके साथ आना। उनका जितना संगत तुम्हें मिले उतना समय ही तुम्हारे लिए खास है क्यों ठीक है न?”

इस प्रकार के इवेंटस तो उसके गृहणी पद की कलगियाँ थी। गृहस्थी की परछाई की तरह कभी न छूटने वाली। पर पीछे से पड़नेवाली परछाईयों से पार पाया जा सकता है पर जब पढ़ने लिखने के लिए या किसी सूक्ष्म काम के लिए पीछे से पड़ने वाली रोशनी की परछाई से तो अभी भी छुट्कारा पाया जा सकता पर है अगर परछाई सामने पड्ती हैं तो हमारी ही परछाई ह्मारे लिऍ विघ्न उपस्थित करती है।और तभी अंधेरे का ये कटआउट बहुत भारी पड जाता है। किस्मत से मिलनेवाले संगीत समारोह का आनंद उठाने में झूमती नम्रा के झूले में रुकावट आ गई। वह फंस गई। कल रात के डिनर की व्यवस्था के लिए उसका मन बेचैन हो उठा था। उसका मन उसी दिशा में दौड़ने लगा।

घर पहुँचकर सेंटर टेबल पर कार की चाबी को रखकर बेडरूम की ओर जाते हुए सुजीत ने कहा, “नमु मैं एक झपकी ले लेता हूँ फिर तो शाम की दौड़ा-दौडी को भी संभालना है न!”

नम्रा डाइनिंग एरिया में रखे फ्रिज की ओर मुड़ गई – देख ले जरा सब्जियों का कितना स्टॉक है॰॰॰? खाने पीने की सारी व्यवस्था तो तीन दिन तक समारोह में ही होनी थी। इसलिए, स्टॉक तो भरपूर होनी चाहिए – सब भरपूर था। बनाने वाले व्यंजनों के अनुसार जरूरी चीजों की लिस्ट वो बनाने बैठी। अब॰॰॰ सुजीत तो शाम की व्यवस्था के लिए अभी से तैयार बैठे थे। उनसे कुछ मदद की आशा नहींवत थी। सब्जीवाले और किरानेवाले को फोन कर लिस्ट लिखा दी। और तुरंत सामान भेजने की व्यवस्था करने के लिए कहा। वह बाहर पड़े सोफ़े पर ही लेट गई। माल अभी आता ही होगा। आधे घंटे में ही फोन की रिंग घनघनाई, “हमारा आदमी खाना खाकर अभी तक नहीं लौटा हैं और आने की संभावना भी नहीं है। आपको माल लेकर जाना पड़ेगा।“ टू व्हीलर और घर की चाबी लेकर वो निकाल पड़ी। लौटते वक्त किराने के साथ-साथ सब्जियाँ भी लेती आई। सब्जियाँ काटने-कुटने के काम को लेकर डाइनिंग टेबल पर बैठी। चार बजे सुजित उठे।

“अरे तुम्हारा यज्ञ तो शुरू हो गया।“ कब उठी?”

“आपकी महरबानी ने सोने ही कब दिया?”

“ओह यस॰॰॰! ये डिनर तो तुम्हें ज्यादा महेनत कराएगी”

“चलो अब चाय तो बनाओ। निकलना भी तो है न!”

टेबल पर के सारे सामान बिखरे के बिखरे ही पड़े रहे। चाय बनी। और तैयार होकर समारोह में जाने का वक्त भी आ गया। रह गया तो बस कल के अधिवेशन के आरंभगान का रियाज। शाम और रात के अधिवेशन की समाप्ति के पश्चात डिनर के समय मन खोलकर कार्यक्रम की सफलता पूर्वक समाप्ति की चर्चा होती है। कल तो उसे इस प्रकार की चर्चा में बड़ा मजा आया था। पर आज तो वह अधीर हो रही थी। टेबल पर बिखरे सामान उसे आवाज दे रहे थे, “आ जा, आ जा।“ बेसब्र होकर उसने सुजीत को घर चलने के लिए इशारा किया। वो उठा तो सही पर पूरे रास्ते बड़बड़ाता ही रहा।

“नमु तुम्हें कुछ समझ में नहीं आता है। ये संगीत समारोह तो तुम्हारे लिए बहुत महत्व रखता है और तुमहें ही आज घर लौट आने की जल्दी पड़ी थी।“

“समारोह मुख्य तो जब था तब था। अब तो कल का डिनर “मुख्य” हो गया है। उसके लिए पहले से तैयारी न की जाय तो हंसी होगी न?” समारोह के कार्यक्रम में से जितना हो सके समय निकालकर उसने अपनी तैयारी जारी रखी। तीसरे दिन का आरंभगान के समय तो उसने एकदम से तद्रूप होकर गाया। तालियाँ भरपूर पड़ी। पर उसके मन को छू न सकी। सुबह के सेशन के पश्चात के लंच को छोड़कर वह घर चली गई। भर ग्लास जूस पीकर वह काम करने में जुट गई। दो कूकर और एक मिक्सर की मदद से रसोई के कार्यक्रम को आंजाम देने में वह जूट गई। देर रात के लिए तो पूरी पराठा रोटी रखना ही है। पर एक अकेली से तो इतना संभव नहीं था। इसलिए दो परतों वाली रोटियों की थप्पी भर उतार ली। चौकोंन-त्रिकोणाकार में घी लगाकर डब्बे में बंद करके रख दिया। रात को सबसे पहला काम यह करना है कि गरम पानी की देगची में इनको गर्म करने के लिए रख देना है। चलो कुछ तो निपटा।

आज तो सुजीत एयरपोर्ट पर पंडित जी को लेकर होटल पर ही उपाध्याय तथा अन्यलोगों के साथ ही रहनेवाले थे। तैयार भी उधर ही होने वाले थे। डिनर के लिए क्रोकरी आदि की व्यवस्था भी कर ली। नहा धोकर रिक्शा में बैठकर वह हाल पर पहुँच गई। उसे आया देख सुजीत और उपाध्याय उसकी ओर दौडे आए। “नम्राजी, सभी का कहना है कि पंडित जी के बैठक से पहले “सतसृष्टि” प्रस्तुत की जाय।“ उपाध्याय जी बड़े उत्साहित होकर बोल रहे थे। रसोई की सारे झमेले से और मसाले की गंध से तो वह निपट आई थी पर क्या वह “सतसृष्टि” गाने की हालत में थी। पर इसे तो करना ही है। उसने प्रस्तुत किया। तालियाँ भी खूब पड़ी। पंडित जी की बैठक ने तो सबका मन मोह लिया। समारोह की सफलता परिपूर्णत: संतोष आनंद की लहर चारों ओर लहरा रही थी। उसने मोबाइल देखा – ग्यारह बजे हैं। हाल से निकल आई – कोई घर पहुंचाने वाला मिल जाए तो .... सुजीत तो आने से रहा। पंडित जी को घर लाने का काम वो किसी दूसरे पर छोड़ सकता है भला।

बाहर अंकित खड़ा मिला – “हाय मैडम!।“

“तुम घर जा रहे हो अंकित? मुझे घर छोडते हुए जाओगे?”

“स्योर मैडम। पर मेरे पास बाइक है मैडम।“

“कोई बात नहीं” अंकित की बाइक पर जैसे तैसे बैठकर वह घर की ओर भागी। अंकित संस्था से 4/6 महिने पहले ही जुड़ा है, पर गाता अच्छा है। इसलिए “सतसृष्टि” के कोरस में उसे शामिल कर लिया गया है। रास्ते से ही उसने सुजीत को व्हाट्सएप्प कर दिया कि “मैं घर जा रही हूँ।“ फिर भी घर पहुँचते ही फोन बज उठा।

“कहाँ हो? पंडित जी को साथ लेकर घर जाना तुम्हें अच्छा लगेगा सोचकर मैंने उन्हें अपनी गाड़ी में घर ले जाने का सोचा है।“

“सुजीत मैं घर पहुँच गई हूँ। डिनर के प्रिपेरेशन के लिए घर तो आना है न। आप लोग आ जाइए।“

फिर तो उसने गरम पानी का पतिला – माइक्रो कूकर के साथ व्यंजनों को गरम किया। सब कुछ केसरोल में सही तरीके से जमा दिया। पानी के जग-प्याले-पेपर-नेपकिन को सही जगह पर रखा। और तभी सब वहाँ आ पहुंचे। ड्राइंग रूम में डिनर बुफ़े की व्यवस्था की गई थी। शुरुआती दौर में तो सभी ने अपने आप ही परोस लिया। पंडित जी को नम्रा ने अपने हाथों से डिश में भोजन परोस कर दिया। उनके लिए खाखरा रखा था वो भी दिया। सुजीत के उत्साहभरे अतिथ्येतता की फरमाइश भी कभी कभार हो रही थी – “प्रदीप को पापड़ सेककर दो न ! उसे तला हुआ नहीं खाना है।“ “उपाध्याय को सब्जी जरा माईक्रों करके दो न। उसे गरम गरम व्यंजन प्रिय है।“ अपनी डिश को किनारे पर रखकर सुजीत के सभी आदेशों को पूरा करते हुए वह सभी की जरूरतों को पूरी करती रही। अंत में जब वह पंडित जी के लिए खाखरा लेकर गई तब उन्होने कहा – “नम्रा जी आओ यहाँ बैठे, मुझे कुछ नहीं चाहिए।“ वह अपनी डिश लेकर बैठ गई। उसके पाँव में पीड़ा हो रही थी। शायद मन में भी। “आपका नाम नमना जी है न?” पंडित जी पूछ रहे थे। नम्रा या नयना जो भी हो – अपने मन की करने के बदले उस पर जो कुछ भी थोपा जाय उसे नतमस्तक होकर निभाते जाना है क्यों?” उसका ध्यान भटक गया था। देखा तो पंडित जी कुछ कह रहे थे।

“नमना जी मैंने कहलवाया तो था कि मैं केवल दूध और खाखरे ही लूँगा। क्यों इतनी सारी झंझट कर दी आपने! हम कलाकारों को मिताहारी होना चाहिए, तभी तो हम सूर के सर्वोच्च शिखर तक अटारी तक पहुंच सकेंगे ।“ वह मुस्कुराई। पंडित जी ने अपने जीवन के कुछ वर्ष गुजरात में बिताए थे पर मूलतः वे हिन्दी भाषी थे, उनकी मिश्र भाषा बहुत मधुर थी। उन्होने फिर से बात करना शुरू किया। ऐसा लग रहा था जैसे कि उनको नम्रा के साथ बहुत सारी बातें करनी हो और नम्रा को भी तो बातें करनी थी।

“आपने सतसृष्टि गीत में सात सप्तकों का सुंदर विन्यास किया है। संगीत को इसी तरह संभालते रहिए। अभिनंदन आपको।“ डिश लेकर टहलते हुए उपाध्याय जी ने पंडित जी की अभिव्यक्ति को सुना।

“पंडित जी, उदघाटन अधिवेशन में तो नम्राजी ने out of the world गाया था। आज उनकी श्वासों में जरा भारीपन का आभास हो रहा था।“

पंडित जी ने डाइनिंग टेबल की ओर भोजन कर रहे सभी लोगों की ओर भर नजर देखा। और फिर बड़ी सहृदयता से नम्रा की ओर देखा। नम्रा के मन में शीतलता छा गई। बाकी तो क्या कहे और किससे कहे।

“आपका नाम नम्रा है। पर मेरा मन कहता है सात सूरों को नमन करती नमना हो। आपने उदघाटन अधिवेशन में जो गाया था उसकी रेकोर्डिंग तो होगी न?” नम्रा के कुछ कहने से पूर्व ही वहाँ सुजीत आ पहुंचे, “नम्रा उधर उपाध्याय जी को जरा ॰॰॰॰ तभी उनका ध्यान पंडित जी की ओर गया। “ओह! पंडित जी साथ हैं।“ नम्रा सुजीत की ओर ताकती रह गई – इन सारी व्यवस्था का “एक कारण” और है, “ये कि तुम्हें पंडित जी के साथ थोड़ा समय मिले!” किसने कहा था?

“अरे सुजीत इस सत्कार समारंभ की धूरी है नम्रा जी जाइए आप अपना कर्तव्य संभालिए हम बाद में बात कर लेंगे।“ वह उठी, उपाध्याय जी का उनका पसंदीदा व्यंजन परोसकर लौट आई। सुजीत अब भी वहीं बैठे थे। “आ गए आतिथ्य धर्म निभाकर। अति उत्तम। मैं सुजीत से आपके गीतों की रेकार्डिंग के विषय में बात कर रहा था।“

“होना तो चाहिए ही। सभी सेशन के रेकार्डिंग की तो मैंने पूरी व्यवस्था की थी। पता करता हूँ।“ कहते हुए सुजीत उठ गए।

“पता चल रहा है मेनेजमेंट के क्षेत्र से है।“ सौम्य मार्मिकता से भरे मुस्कुराए पंडित जी।

“इनके जुडने से हमारे संगीत क्षेत्र के कलाकार इन सभी व्यवस्था से निश्चित रहते हैं।“ वो जानती थी “व्यवस्था में व्यस्त इंसान” दूसरी व्यवस्था में फँसकर इस “पता” करनेवाली बात को भूल जाने वाले है। इसलिए उसने बात को आगे बढाते हुए कहा,

“मैंने मेरे फोन पर रेकोर्डिंग तो चालू किया था, पर पूरा नहीं हो पाया होगा – मेरे इन्स्ट्रुमेंट में टाइमरेंज ज्यादा नहीं है।“

“कुछ हर्ज नहीं। जितना है उतना ही मेरे फोन पर भेज देना। मुझे अधूरा भी सुनना अच्छा लगेगा। और ये तो मुझे यह भी याद दिलाता रहेगा कि आप स्त्रियाँ अपना कितना कुछ अधूरा छोडकर हमें भरपूर देने में अपने जीवन की कितनी अवधि बीता देती हों।“ भारी आँखों से उसने पंडित जी की ओर देखा। संगीत के सात सूरों के साथ साथ जीवन की अनेकानेक आभाओं की न जाने कितनी छटाओं को उन्होने अपने भीतर उतारा है।

“पंडित जी यह स्पष्ट है कि संगीत के साथ-साथ जीवन संगीत का भी आपने गहन अध्ययन किया है। ऐसा योग बड़ी मुश्किल से देखने में आता है।

“बहना ! आपको ये सब संभालते हुए देखकर एक बात कहने का दिल करता है – कहूँ?” पंडित जी पूछ रहे थे। नम्रा की दबी हुई मुस्कान में छिपी मौन स्वीकृति को समझकर उन्होने कहा,

“नमना जी आपका कंठ स्वर तो ईश्वर का वरदान है। पर नादब्रहम के सूर की साधना तो आपकी तपस्या है। अधिकांशत: हमारे जीवन के संयोग सूर से हमें दूर रहने पर मजबूर करते हैं। पर सही बात यह है कि इस जगत के प्राण ईश्वर ने ऋग्वेद में कहा है कि वह इस जगत में सर्वत्र व्याप्त है, छाया हुआ है। फिर भी वह इन सबसे दस अंगुली ऊपर रहता है। वो तो ठहरा ईश्वर और हम तो इंसान है। दस अंगुली भले न सही, पर जीवन की घनघटाओं से भले न सही, पर जीवन की घनघटाओं से अपने विशेष अहम सत्व को एक आध अंगुली भी ऊपर रख सकें तो भी बहुत है।“ फिर तो अंगुली की एक नोक को दिखाकर कहा, "इतना भी रहे तो भी बहुत है। आपके पिंड में वह सामर्थ्य है। यह मैंने महसूस किया है।“

पंडित जी की बातों से नम्रा का अंतर परितृप्त हो गया। उनके स्वाती योग जैसे बोल उसके मन में एक अद्भुत भाव जगा रहे थे। अचानक उसका ध्यान बंट गया। उसके पीछे से गुजरते लोगों की परछाइयाँ “स्पार्कलिंग व्हाइट” दीवार पर पड़ रही थी। मकान के रंग रोगान के समय सुजीत ने इस रंग सी दीवार को रंगने का विशेष दबाव डाला था। और आज सुबह ही कार्यक्रम में जाने से पहले कम वोल्टवाले बल्ब को बदलकर हाइवोल्ट वाले बल्ब को लगा दिया। “डाईनिंग एरिया में रोशनी तेज रहेगी तो तुम्हारे लिए ही ठीक रहेगा आँखें चुधियाएंगी नहीं।“ सामने की दीवार पर उसी बल्ब की रोशनी से होती परछाइयाँ अंग प्रत्यंग को तोड़ मरोड़कर छाया नृत्य करती मुद्राएँ ध्यान को भटका रही थी। और तभी सुजीत ने सूचित किया, “अरे नम्रा इन सबको क्लीयर करके स्वीट डिश सर्व करें क्यों? – “मधुरेन समापयेत” कहते हुए सुजीत अपनी विशेष मुद्रा में अट्ठाहास कर उठा। उठाते हुए नम्रा ने पंडित जी की डिश उठा ली । “आप उठाओगे, ये नहीं हो सकता” आप तो हमारे विशिष्ट अतिथि हैं। ये तो सौभाग्य है हमारा।“ “चलो बुजुर्ग हूँ तो फ़ेवर स्वीकार करता हूँ। वर्ना जो नहीं होना चाहिए वही हो रहा है।“ कहते हुए उन्होने तिपाई आदि पर बिखरी पड़ी डिश पेपर नैपकिन के ढेरों की ओर नजर डाली। प्लेट लेकर वह खड़ी हो गई। सामने की दीवार पर उसकी ही परछाई डोल उठी। डिशों को लेकर वो डाईनिंग टेबल के पास गई। दीवार के नजदीक रखे स्टूल पर के प्लास्टिक टब में कुछेक डिश पड़े थे उसने अपने हाथ के डिश को कोटन में उंडेल दिया।

“सब क्लीयर कर देते हैं” कहनेवाला सुजीत दो तीन लोगों के साथ, डाईनिंग टेबल के पास के प्रकाशोज्ज्वल लेम्प के नीचे निश्चित होकर खड़े थे। उन सभी के प्लेट और टिश्यू पेपर भी टेबल पर बिखरे हुए थे। हेंड वाईपर की मदद से उसने प्लासटीक के टब में सब को डाल दिया। फिर हाथ धोकर कटोरी में स्वीट डिश परोस कर सबको अपनी-अपनी जगह पर पकड़ा आई।

पंडित जी की अनुभवजन्य बातों को सुनने का मन हो रहा था। उनके साथ बैठना चाहती थी – नोक जितना नहीं तो नाखून के कोने जितना समय भी संसार के झमेले में अपने लिए निकाल सको तो बहुत है। परंतु गृहस्थी और साथ जुड़े ये मेहमानवाजी सियामी जुडवे जैसे है। चेहरे पर पड़ने वाली परछाइयों की तरह ही बाधा उपस्थित करती है। सामने से पड़नेवाली छाया हमारा ध्यान भंग करती है तो फिर सामने से पड़ती रोशनी से आँखों में अंधेरा छा जाता है। फिर भी रोशनी का सामना तो करना ही पड़ता है न। परछाई के कट आउट को रन आउट किए बिना छुटकारा नहीं है। “ऊंगली भर का हो या नोक जितना” – छोड़ सबको - मन ही मन में कहकर “अवाउट टर्न” लिया। अब तो इस समारोह रूपी समुद्र अपने आप को पूरी तरह स्वाहा कर देता है भल्ली वाई। नहीं तो शौम्य उजाले की शीतलता स्वास्थ्यता रन आउट हो सकती है और वह डाईनिंग ड्रोईंग के जोइण्ट पर बिखरे अवशेषों को इकट्ठा करने में लग गई।

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * || * उपन्यास *|| * हास्य-व्यंग्य * || * कविता  *|| * आलेख * || * लोककथा * || * लघुकथा * || * ग़ज़ल  *|| * संस्मरण * || * साहित्य समाचार * || * कला जगत  *|| * पाक कला * || * हास-परिहास * || * नाटक * || * बाल कथा * || * विज्ञान कथा * |* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4099,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,341,ईबुक,196,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3066,कहानी,2276,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,542,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,112,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,346,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,68,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,29,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,245,लघुकथा,1271,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,19,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,340,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2014,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,715,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,805,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,18,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,92,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,212,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: कहानी - परछाई मूल लेखक – निर्झरी महेता - अनुवादक - डॉ॰ रानू मुखर्जी
कहानी - परछाई मूल लेखक – निर्झरी महेता - अनुवादक - डॉ॰ रानू मुखर्जी
https://drive.google.com/uc?id=1Dqv18oP-pnJGT2t5cCfaP-aS6LpwcMhp
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2019/06/blog-post_94.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2019/06/blog-post_94.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ