नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

लघुकथा - भिक्षुक भोज - प्रियंका कौशल

यहां भिक्षुक भोज हो रहा है, आप सादर आमंत्रित हैं। बाबा रामदेव पीर मंदिर के बाहर लगे बैनर को पढकर सुधा चहक उठी। चलो यहीं खाना खा लेते हैं। मंदिर है, भगवान का दर है। सुधा की बात रमेश को बेतुकी लगी। हम यहाँ खाना खा लें, वह मुंह बिचका कर बोला। मेरे और तुम्हारे स्टेटस की जरा भी चिंता है तुम्हें। कुछ भी कहने के पहले सोच लिया करो। तुम केंद्रीय विद्यालय की टीचर हो और मैं एक बैंक मैनेजर, और किसी मंदिर के भिक्षुक भोज में खाना खाएँगे। इतना सुनकर सुधा बोल उठी कि क्यों कल ही तो आप भगवान से मांग रहे थे कि हमारा एक बंगला हो जाए। इतना होने के बाद भी हम सब भगवान के आगे भिक्षुक ही तो हैं। हर वक्त ईश्वर से कुछ ना कुछ मांगते रहते हैं, याचना करते रहते हैं। केवल इस बात को मानना नहीं चाहते। सुधा की बात सुनकर रमेश बिना कुछ बोले भिक्षुक भोज के पंडाल की तरफ बढ़ गया।

--

प्रियंका कौशल
संक्षिप्त लेखक परिचय -लेखिका पिछले 15 वर्षों से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय हैं। नईदुनिया, दैनिक जागरण, लोकमत समाचार, जी न्यूज़, तहलका जैसे संस्थानों में सेवाएं दे चुकी हैं। वर्तमान में भास्कर न्यूज़ (प्रादेशिक हिंदी न्यूज़ चैनल) में छत्तीसगढ़ में स्थानीय संपादक के रूप में कार्यरत् हैं। मानव तस्करी विषय पर एक किताब "नरक" भी प्रकाशित हो चुकी है।

ईमेल आई.डी-priyankajournlist@gmail.com

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.