---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

हास्य-व्यंग्य : मैं एक पति हूँ - पतरस बुख़ारी - अनुवादक : डॉ. आफ़ताब अहमद

साझा करें:

अनुवादक : डॉ. आफ़ताब अहमद व्याख्याता, हिंदी-उर्दू, कोलंबिया विश्वविद्यालय, न्यूयॉर्क मैं एक पति हूँ पतरस बुख़ारी मैं एक पति हूँ। दब्बू व आज्ञा...

Aftab Ahmad-Photo

अनुवादक : डॉ. आफ़ताब अहमद

व्याख्याता, हिंदी-उर्दू, कोलंबिया विश्वविद्यालय, न्यूयॉर्क


मैं एक पति हूँ

पतरस बुख़ारी

मैं एक पति हूँ। दब्बू व आज्ञाकारी। अपनी पत्नी रौशन आरा को अपनी ज़िन्दगी की हर एक बात से आगाह रखना जीवन का मूल सिद्धांत समझता हूँ और हमेशा से इसका पालन करता रहा हूँ। ऐ ख़ुदा मेरा अंत भला हो।

अतः मेरी पत्नी मेरे दोस्तों की सारी आदतों व अवगुणों से आगाह है, जिसका नतीजा यह है कि मेरे दोस्त जितने मुझको प्यारे हैं उतने ही रौशन आरा को बुरे लगते हैं। मेरे मित्रों की जिन अदाओं ने मुझ पर जादू कर रखा है, उन्हें मेरी पत्नी एक सज्जन पुरुष के लिए शर्मिंदगी का कारण समझती है।

आप कहीं यह न समझ लें कि ख़ुदा-न ख़्वास्ता वे कोई ऐसे आदमी हैं जिनका ज़िक्र किसी सभ्य समूह में न किया जा सके। कुछ अपने हुनर के कारण और कुछ इस नाचीज़ की सोहबत की बदौलत सबके सब ही सफ़ेदपोश हैं। लेकिन इस बात को क्या करूँ कि उनकी दोस्ती मेरे घर की शांति व सुकून को ऐसा भंग करती है कि कुछ कह नहीं सकता।

मसलन मिर्ज़ा साहब ही को लीजिए। अच्छे ख़ासे और भले आदमी हैं। हालाँकि वन-विभाग में एक उचित पद पर आसीन हैं लेकिन शक्ल व सूरत ऐसी पवित्र पाई है कि मस्जिद के इमाम मालूम होते हैं। जुआ वे नहीं खेलते, गिल्ली-डंडे का उनको शौक़ नहीं, जेब कतरते हुए कभी वे नहीं पकड़े गए। अलबत्ता कबूतर पाल रखे हैं। उन्हीं से जी बहलाते हैं। हमारी पत्नी की यह मनोदशा है कि मुहल्ले का कोई बदमाश जुए में क़ैद हो जाए तो उसकी माँ के पास मातमपुर्सी तक को चली जाती हैं। गिल्ली-डंडे में किसी की आँख फूट जाए तो मरहम पट्टी करती रहती हैं। कोई जेबकतरा पकड़ा जाए तो घंटों आँसू बहाती रहती हैं। लेकिन वे सज्जन जिनको दुनिया भर की ज़बान “मिर्ज़ा साहब”, “मिर्ज़ा साहब” कहते थकती नहीं, हमारे घर में "मुऐ कबूतर-बाज़" के नाम से याद किए जाते हैं। कभी भूले से भी मैं आसमान की तरफ़ नज़र उठाकर किसी चील, कव्वे, गिद्ध, शिकरे को देखने लग जाऊँ तो रौशन आरा को तुरंत आशंका हो जाती है कि बस अब यह भी कबूतरबाज़ बनने लगा।

[post_ads]

इसके बाद मिर्ज़ा साहब की शान में एक क़सीदा (प्रशस्ति) शुरू हो जाता है। बीच में मेरी ओर विषयांतर। कभी लंबी बहर (छंद) में कभी छोटी बहर में।

एक दिन जब यह घटना घटित हुई तो मैंने पक्का इरादा कर लिया कि इस मिर्ज़ा कम्बख़्त को कभी पास न फटकने दूँगा। आख़िर घर का हक़ सबसे पहले है। पति-पत्नी के आपसी प्रेम की तुलना में दोस्तों की ख़ुशी क्या चीज़ है? अतः हम ग़ुस्से में भरे हुए मिर्ज़ा साहब के घर गए। दरवाज़ा खटखटाया।

कहने लगे, “अंदर आ जाओ।”

हम ने कहा, “नहीं आते। तुम बाहर आओ।”

ख़ैर, अंदर गया। बदन पर तेल मलकर एक कबूतर की चोंच मुँह में लिए धूप में बैठे थे।

कहने लगे, “बैठ जाओ।” हम ने कहा, “बैठेंगे नहीं।”

आख़िर बैठ गए। मालूम होता है हमारे तेवर कुछ बिगड़े हुए थे।

मिर्ज़ा बोले, “क्यों भई! ख़ैर तो है!”

मैंने कहा “कुछ नहीं।”

कहने लगे, “इस वक़्त कैसे आना हुआ?”

अब मेरे दिल में जुमले खौलने शुरू हुए। पहले इरादा किया कि एक दम ही सब कुछ कह डालो और चल दो। फिर सोचा कि मज़ाक़ समझेगा। इसलिए किसी ढंग से बात शुरू करो। लेकिन समझ में न आया कि पहले क्या कहें। आख़िर हम ने कहा:

“मिर्ज़ा! भई कबूतर बहुत महंगे होते हैं।”

यह सुनते ही मिर्ज़ा साहब ने चीन से लेकर अमरीका तक के तमाम कबूतरों को एक-एक करके गिनवाना शुरू किया। इसके बाद दाने की महंगाई के बारे में गीत गाते रहे और फिर सिर्फ़ महंगाई पर भाषण देने लगे। उस दिन तो हम यूँ ही चले आए लेकिन अभी खट-पट का इरादा दिल में बाक़ी था। ख़ुदा का करना क्या हुआ कि शाम को घर में हमारी सुलह हो गई। हमने कहा, “चलो अब मिर्ज़ा के साथ बिगाड़ने से क्या फ़ायदा? इसलिए दूसरे दिन मिर्ज़ा से भी सुलह-सफ़ाई हो गई।

लेकिन मेरी ज़िंदगी कड़वी करने के लिए एक न एक दोस्त हमेशा उपयोगी होता है। ऐसा लगता है कि प्रकृति ने मेरे स्वभाव में स्वीकृति और सलाहियत कूट-कूटकर भर दी है क्योंकि हमारी पत्नी को हममें हर समय किसी न किसी दोस्त की आदतों की झलक नज़र आती रहती है। यहाँ तक कि मेरा अपना निजी व्यक्तिगत चरित्र बिल्कुल ही लुप्त हो चुका है।

शादी से पहले हम कभी-कभी दस बजे उठा करते थे, वरना ग्यारह बजे। अब कितने बजे उठते हैं? इसका अंदाज़ा वही लोग लगा सकते हैं जिनके घर नाश्ता ज़बरदस्ती सुबह के सात बजे करा दिया जाता है, और अगर हम कभी मानवीय दुर्बलता के कारण मुर्गों की तरह तड़के उठने में कोताही करें तो तुरंत कह दिया जाता है कि यह उस निखट्टू ‘नसीम’ की सोहबत का नतीजा है। एक दिन सुबह-सुबह हम नहा रहे थे। सर्दी का मौसम। हाथ पाँव काँप रहे थे। साबुन सिर पर मलते थे तो नाक में घुसता था कि इतने में हमने ख़ुदा जाने किस रहस्यमय भावना से उत्प्रेरित होकर ग़ुसलख़ाने में अलापना शुरू किया और फिर गाने लगे कि “तोरी छल-बल है न्यारी...........” इसको हमारी अत्यंत अरसिकता समझा गया और इस अरसिकता का मूल स्रोत हमारे दोस्त पण्डित जी को ठहराया गया।

लेकिन हाल ही में मुझपर एक ऐसा हादसा गुज़रा है कि मैंने तमाम दोस्तों को छोड़ देने की क़सम खा ली है।

तीन चार दिन का ज़िक्र है कि सुबह के वक़्त रौशन आरा ने मुझसे मायके जाने की इजाज़त माँगी। जबसे हमारी शादी हुई है रौशन आरा सिर्फ़ दो दफ़ा मायके गयी है। और फिर उसने कुछ इस सादगी और दीनता से कहा कि मैं इनकार न कर सका।

कहने लगी, “तो फिर मैं डेढ़ बजे की गाड़ी से चली जाऊँ।”

मैंने कहा “और क्या?”

वह झट तैयारी में व्यस्त हो गयी और मेरे दिमाग़ में आज़ादी के विचारों ने चक्कर लगाने शुरू किए। यानी अब बेशक दोस्त आयें। बेशक ऊधम मचाएँ । मैं बेशक गाऊँ। बेशक जब चाहूँ उठूँ। बेशक थिएटर जाऊँ। मैंने कहा :

“रौशन आरा जल्दी करो। नहीं तो गाड़ी छूट जाएगी।”

साथ स्टेशन पर गया। जब गाड़ी में सवार करा चुका तो कहने लगी:

“चिट्ठी ज़रूर लिखते रहिए!”

[post_ads_2]

मैंने कहा, “हर रोज़। और तुम भी!”

“खाना वक़्त पे खा लिया कीजिए और हाँ धुले हुए मोज़े और रूमाल अलमारी के निचले ख़ाने में पड़े हैं।”

इसके बाद हम दोनों ख़ामोश हो गए और एक दूसरे के चेहरे को देखते रहे। उसकी आँखों में आँसू भर आए। मेरा दिल भी बेताब होने लगा और जब गाड़ी रवाना हुई तो मैं देर तक गुमसुम प्लेटफ़ॉर्म पर खड़ा रहा।

आख़िर आहिस्ता-आहिस्ता क़दम उठाता हुआ किताबों की दुकान तक आया और पत्रिकाओं के पन्ने पलट-पलटकर तस्वीरें देखता रहा। एक अख़बार ख़रीदा। तह करके जेब में डाला और आदत के अनुसार घर का इरादा कर लिया।

फिर ख़याल आया कि अब घर जाना ज़रूरी नहीं। अब जहाँ चाहूँ जाऊँ। चाहूँ तो घंटों स्टेशन पर ही टहलता रहूँ। दिल चाहता था क़लाबाज़ियाँ खाऊँ।

कहते हैं, जब अफ़्रीक़ा के वहशियों को किसी सभ्य मुल्क में कुछ अरसे के लिए रखा जाता है तो वे वहाँ की शानो-शौकत से बहुत प्रभावित होते हैं। लेकिन जब वापस जंगलों में पहुँचते हैं तो ख़ुशी के मारे चीख़ें मारते हैं। कुछ ऐसी ही दशा मेरे दिल की भी हो रही थी। आज़ादी से भागता हुआ स्टेशन से बाहर निकला। आज़ादी के लहजे में तांगे वाले को बुलाया और कूदकर तांगे में सवार हो गया। सिगरेट सुलगा लिया। टांगें सीट पर फैला दीं और क्लब को रवाना हो गया।

रस्ते में एक बहुत ज़रूरी काम याद आ गया। ताँगा मोड़कर घर की तरफ़ पल्टा। बाहर ही से नौकर को आवाज़ दी।

“अमजद!”

“हुज़ूर!”

“देखो, हज्जाम को जाकर कह दो कि कल ग्यारह बजे आए।”

“बहुत अच्छा।”

“ग्यारह बजे। सुन लिया न? कहीं रोज़ की तरह फिर छह बजे न टपक पड़े।”

“बहुत अच्छा हुज़ूर।”

“और अगर ग्यारह बजे से पहले आए, तो धक्के देकर बाहर निकाल दो।”

यहाँ से क्लब पहुँचे। आज तक कभी दिन के दो बजे क्लब न गया था। अंदर दाख़िल हुआ तो सुनसान। मानव जाति का नामो-निशान तक नहीं। सब कमरे देख डाले। बिलियर्ड का कमरा ख़ाली। शतरंज का कमरा ख़ाली। ताश का कमरा ख़ाली। सिर्फ़ खाने के कमरे में एक नौकर छुरियाँ तेज़ कर रहा था। उससे पूछा “क्यों बे आज कोई नहीं आया?”

कहने लगा, “हुज़ूर! आप तो जानते ही हैं। इस समय भला कौन आता है?”

बहुत मायूस हुआ। बाहर निकलकर सोचने लगा कि अब क्या करूँ? और कुछ न सूझा तो वहाँ से मिर्ज़ा साहब के घर पहुँचा। मालूम हुआ अभी दफ़्तर से वापस नहीं आए। दफ़्तर पहुँचा। देखकर बहुत आश्चर्यचकित हुए। मैंने सब हाल बयान किया। कहने लगे, “तुम बाहर के कमरे में ठहरो, थोड़ा सा काम रह गया है। बस अभी भुगता के तुम्हारे साथ चलता हूँ। शाम का प्रोग्राम क्या है?”

मैंने कहा, “थिएटर!”

कहने लगे, "बस बहुत ठीक है! तुम बाहर बैठो, मैं अभी आया।”

बाहर के कमरे में एक छोटी सी कुर्सी पड़ी थी। उस पर बैठकर इंतज़ार करने लगा और जेब से अख़बार निकालकर पढ़ना शुरू कर दिया। शुरू से आख़िर तक सब पढ़ डाला और अभी चार बजने में एक घंटा बाक़ी था। फिर से पढ़ना शुरू कर दिया। सब विज्ञापन पढ़ डाले और फिर सब विज्ञापनों को दुबारा पढ़ डाला।

आख़िरकार अख़बार फेंककर बिना किसी संकोच या लिहाज़ के जमाहियाँ लेने लगा। जम्हाई पे जम्हाई, जम्हाई पे जम्हाई। यहाँ तक कि जबड़ों में दर्द होने लगा। उसके बाद टांगें हिलाना शुरू किया। लेकिन इससे भी थक गया। फिर मेज़ पर तबले की गतैं बजाता रहा। बहुत तंग आ गया तो दरवाज़ा खोलकर मिर्ज़ा से कहा, “अबे यार! अब चलता भी है कि मुझे इंतज़ार ही में मार डालेगा? मरदूद कहीं का! सारा दिन मेरा बरबाद कर दिया।”

वहाँ से उठकर मिर्ज़ा के घर गए। शाम बड़े मज़े में कटी। खाना क्लब में खाया और वहाँ से दोस्तों को साथ लिए थिएटर गए। रात के ढाई बजे घर लौटे। तकिए पर सिर रखा ही था कि नींद ने बेहोश कर दिया।

सुबह आँख खुली तो कमरे में धूप लहरें मार रही थी। घड़ी को देखा तो पौने ग्यारह बजे थे। हाथ बढ़ाकर मेज़ पर से एक सिगरेट उठाया और सुलगाकर तश्तरी में रख दिया और फिर ऊँघने लगा। ग्यारह बजे अमजद कमरे में दाख़िल हुआ। कहने लगा, “हुज़ूर! हज्जाम आया है।”

हमने कहा, “यहीं बुला लाओ।” यह ऐश मुद्दत के बाद नसीब हुआ कि बिस्तर में लेटे-लेटे हजामत बनवा लें। इत्मिनान से उठे और नहा धोकर बाहर जाने के लिए तैयार हुए। लेकिन मन में वह उमंग न थी जिसकी उम्मीद लगाए बैठे थे। चलते समय अलमारी से रुमाल निकाला तो ख़ुदा जाने क्या ख़याल दिल में आया। वहीं कुर्सी पर बैठ गया और दीवानों की तरह उस रूमाल को तकता रहा। अलमारी का एक और ख़ाना खोला तो सुरमई रंग का एक रेशमी दुपट्टा नज़र आया। बाहर निकाला। हल्की-हल्की इत्र की ख़ुशबू आ रही थी। बहुत देर तक उस पर हाथ फेरता रहा। दिल भर आया। घर सूना मालूम होने लगा। बहुतेरा अपने आपको संभाला लेकिन आँसू टपक ही पड़े। आँसूओं का गिरना था कि बेक़रार हो गया और सचमुच रोने लगा। सब जोड़े बारी-बारी निकालकर देखे। लेकिन न जाने क्या-क्या याद आया कि और भी बेक़रार होता गया।

आख़िर न रहा गया, बाहर निकला और सीधा तार-घर पहुँचा। वहाँ से तार दिया कि, “मैं बहुत उदास हूँ, तुम तुरंत आ जाओ!”

तार देने के बाद दिल को इत्मिनान हुआ। यक़ीन था कि रौशन आरा अब जितना जल्द हो सकेगा आ जाएगी। इससे कुछ ढारस बंध गई और दिल पर से जैसे एक बोझ हट गया।

दूसरे दिन दोपहर को मिर्ज़ा के मकान पर ताश का खेल गर्म होना था। वहाँ पहुँचे तो मालूम हुआ कि मिर्ज़ा के पिताजी से कुछ लोग मिलने आए हैं। इसलिए सलाह यह ठहरी कि यहाँ से किसी और जगह सरक चलो। हमारा मकान तो ख़ाली था ही। सब यार लोग वहीं जमा हुए। अमजद से कह दिया गया कि हुक़्क़े में अगर ज़रा भी देरी हुई तो तुम्हारी ख़ैर नहीं, और पान इस तरह से बिना रुके पहुँचते रहें कि बस तांता लग जाए।

अब उसके बाद की घटनाओं को कुछ पुरुष ही अच्छी तरह समझ सकते हैं। शुरू-शुरू में तो ताश बाक़ायदा और नियम के अनुसार होता रहा। जो खेल भी खेला गया बहुत माक़ूल तरीक़े से, नियम-क़ायदे के मुताबिक़ और गंभीरता व ईमानदारी के साथ। लेकिन एक दो घंटे के बाद कुछ चंचलता शुरू हुई। यार लोगों ने एक दूसरे के पत्ते देखने शुरू कर दिए। यह हालत थी कि आँख बची नहीं और एक आध काम का पत्ता उड़ा नहीं, और साथ ही ठहाके पर ठहाके उड़ने लगे। तीन घंटे के बाद यह हालत थी कि कोई घुटना हिला-हिलाकर गा रहा है। कोई फ़र्श पर बाज़ू टेके सीटी बजा रहा है। कोई थिएटर का एक आध मज़ाक़िया जुमला लाखों बार दोहरा रहा है। लेकिन ताश बराबर हो रहा है। थोड़ी देर के बाद धौल-धप्पा शुरू हो गया। इन मनोरंजनों के दौरान में एक मसख़रे ने एक ऐसे खेल का प्रस्ताव रखा जिसके आख़िर में एक आदमी बादशाह बन जाता है, दूसरा वज़ीर, तीसरा कोतवाल और जो सबसे हार जाए वह चोर। सबने कहा, “वाह! वाह! क्या बात कही है!” एक बोला, “फिर आज जो चोर बना, उसकी शामत आ जाएगी।” दूसरे ने कहा, “और नहीं तो क्या। भला कोई ऐसा-वैसा खेल है। सलतनतों के मामले हैं, सलतनतों के!”

खेल शुरू हुआ। बदक़िस्मती से हम चोर बन गए। तरह-तरह की सज़ाएँ सुझाई जाने लगीं। कोई कहे, “नंगे पाँव भागता हुआ जाए और हलवाई की दुकान से मिठाई ख़रीद के लाए।” कोई कहे, “नहीं हुज़ूर! सबके पाँव पड़े और हर एक से दो-दो चाँटे खाए।” दूसरे ने कहा, “नहीं साहब, एक पाँव पर खड़ा होकर हमारे सामने नाचे।” आख़िर में बादशाह सलामत बोले, “हम हुक्म देते हैं कि चोर को काग़ज़ की एक लम्बूतरी नोकदार टोपी पहनाई जाए और उसके चेहरे पर स्याही मल दी जाए और यह इसी हालत में जाकर अंदर से हुक़्क़े की चिलम भरकर लाए।” सबने कहा, “क्या दिमाग़ पाया है हुज़ूर ने! क्या सज़ा सुझाई है! वाह! वाह!”

हम भी मज़े में आए हुए थे। हमने कहा, “तो हुआ क्या? आज हम हैं कल किसी और की बारी आ जाएगी।” निहायत ख़ुशदिली से अपने चेहरे को पेश किया। हँस-हँसकर वह बेहूदा सी टोपी पहनी। एक बेनियाज़ी की शान के साथ चिलम उठाई और ज़नाने का दरवाज़ा खोलकर बावर्ची-ख़ाने को चल दिए और हमारे पीछे कमरा ठहाकों से गूँज रहा था।

आँगन में पहुँचे ही थे कि बाहर का दरवाज़ा खुला और एक बुर्क़ापोश ख़ातून अंदर दाख़िल हुई। मुँह से बुर्क़ा उल्टा तो रौशन आरा!

दम सूख गया। बदन पर एक थरथरी सी तारी हो गई। ज़बान बंद हो गई। सामने वह रौशन आरा जिसको मैंने तार देकर बुलाया था कि, “तुम तुरंत आ जाओ। मैं बहुत उदास हूँ।” और अपनी यह हालत कि मुँह पर स्याही मली है, सिर पर वह लम्बूतरी सी काग़ज़ की टोपी पहन रखी है, और हाथ में चिलम उठाए खड़े हैं, और मर्दाने कमरे से ठहाकों का शोर बराबर आ रहा है।

जान जम सी गई, और सारी इन्द्रियों ने जवाब दे दिया। रौशन आरा कुछ देर तक चुपकी खड़ी देखती रही और फिर कहने लगी........... बस मैं क्या बताऊँ कि क्या कहने लगी? उसकी आवाज़ तो मेरे कानों तक जैसे बेहोशी की हालत में पहुँच रही थी।

अब तक आप इतना तो जान ही गए होंगे कि मैं अपने-आप में बेहद शरीफ़ आदमी हूँ। जहाँ तक मैं मैं हूँ। मुझसे बेहतर पति दुनिया पैदा नहीं कर सकती। मेरी ससुराल में सबकी यही राय है, और मेरी अपनी धारणा भी यही है। लेकिन इन दोस्तों ने मुझे बदनाम कर दिया है। इसलिए मैंने पक्का इरादा कर लिया है कि अब या घर में रहूँगा या काम पर जाया करूँगा। न किसी से मिलूँगा और न किसी को अपने घर आने दूँगा। सिवाए डाकिए या हज्जाम के। और उनसे भी बहुत संक्षिप्त बातें करूँगा।

“चिट्ठी है?”

“जी हाँ।”

“दे जाओ। चले जाओ।”

“नाख़ुन तराश दो।”

“भाग जाओ।”

बस इससे ज़्यादा बात न करूँगा। आप देखिए तो सही!

---

अहमद शाह पतरस बुख़ारी

(1 अक्टूबर 1898- 5 दिसंबर 1958)

असली नाम सैयद अहमद शाह बुख़ारी था। पतरस बुख़ारी के नाम से प्रशिद्ध हैं। जन्म पेशावर में हुआ। उर्दू अंग्रेज़ी, फ़ारसी और पंजाबी भाषाओं के माहिर थे। प्रारम्भिक शिक्षा से इंटरमीडिएट तक की शिक्षा पेशावर में हासिल की। लाहौर गवर्नमेंट कॉलेज से बी.ए. (1917) और अंग्रेज़ी साहित्य में एम. ए. (1919) किया। इसी दौरान गवर्नमेंट कॉलेज लाहौर की पत्रिका “रावी” के सम्पादक रहे।

1925-1926 में इंगलिस्तान में इमानुएल कॉलेज कैम्ब्रिज से अंग्रेज़ी साहित्य में Tripos की सनद प्राप्त की। वापस आकर पहले सेंट्रल ट्रेनिंग कॉलेज और फिर गवर्नमेंट कॉलेज लाहौर में प्रोफ़ेसर रहे। 1940 में गवर्नमेंट कॉलेज लाहौर के प्रिंसिपल हुए। 1940 ही में ऑल इंडिया रेडियो में कंट्रोलर जनरल हुए। 1952 में संयुक्त राष्ट्र संघ में पाकिस्तान के स्थाई प्रतिनिधि हुए। 1954 में संयुक्त राष्ट्र संघ में सूचना विभाग के डिप्टी सेक्रेटरी जनरल चुने गए। दिल का दौरा पड़ने से 1958 में न्यू यार्क में देहांत हुआ।

पतरस ने बहुत कम लिखा। “पतरस के मज़ामीन” के नाम से उनके हास्य निबंधों का संग्रह 1934 में प्रकाशित हुआ जो 11 निबंधों और एक प्रस्तावना पर आधारित है। इस छोटे से संग्रह ने उर्दू पाठकों में हलचल मचा दी और उर्दू हास्य-साहित्य के इतिहास में पतरस का नाम अमर कर दिया। उर्दू के व्यंग्यकार प्रोफ़ेसर रशीद अहमद सिद्दिक़ी लिखते हैं “रावी” में पतरस का निबंध “कुत्ते” पढ़ा तो ऐसा महसूस हुआ जैसे लिखने वाले ने इस निबंध से जो प्रतिष्ठा प्राप्त करली है वह बहुतों को तमाम उम्र नसीब न होगी।....... हंस-हंस के मार डालने का गुर बुख़ारी को ख़ूब आता है। हास्य और हास्य लेखन की यह पराकाष्ठा है....... पतरस मज़े की बातें मज़े से कहते हैं और जल्द कह देते हैं। इंतज़ार करने और सोच में पड़ने की ज़हमत में किसी को नहीं डालते। यही वजह है कि वे पढ़ने वाले का विश्वास बहुत जल्द हासिल कर लेते हैं।” पतरस की विशेषता यह है कि वे चुटकले नहीं सुनाते, हास्यजनक घटनाओं का निर्माण करते और मामूली से मामूली बात में हास्य के पहलू देख लेते हैं। इस छोटे से संग्रह द्वारा उन्होंने भविष्य के हास्य व व्यंग्य लेखकों के लिए नई राहें खोल दी हैं । उर्दू के महानतम हास्य लेखक मुश्ताक़ अहमद यूसुफ़ी एक साक्षात्कार में कहते हैं “….पतरस आज भी ऐसा है कि कभी गाड़ी अटक जाती है तो उसका एक पन्ना खोलते हैं तो ज़ेहन की बहुत सी गाँठें खुल जाती हैं और क़लम रवाँ हो जाती है।”

पतरस के हास्य निबंध इतने प्रसिद्द हुए कि बहुत कम लोग जानते हैं कि वे एक महान अनुवादक (अंग्रेज़ी से उर्दू), आलोचक, वक्ता और राजनयिक थे। गवर्नमेंट कॉलेज लाहौर में नियुक्ति के दौरान उन्होंने अपने गिर्द शिक्षित, ज़हीन और होनहार नौजवान छात्रों का एक झुरमुट इकठ्ठा कर लिया। उनके शिष्यों में उर्दू के मशहूर शायर फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ शामिल थे।

--

डॉ. आफ़ताब अहमद

व्याख्याता, हिंदी-उर्दू, कोलंबिया विश्वविद्यालय, न्यूयॉर्क


जन्म- स्थान: ग्राम: ज़ैनुद्दीन पुर, ज़िला: अम्बेडकर नगर, उत्तर प्रदेश, भारत

शिक्षा: जवाहर लाल नेहरु यूनिवर्सिटी, दिल्ली से उर्दू साहित्य में एम. ए. एम.फ़िल और पी.एच.डी. की उपाधि। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, अलीगढ़ से आधुनिक इतिहास में स्नातक ।

कार्यक्षेत्र: पिछले आठ वर्षों से कोलम्बिया यूनिवर्सिटी, न्यूयॉर्क में हिंदी-उर्दू भाषा और साहित्य का प्राध्यापन। सन 2006 से 2010 तक यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया, बर्कली में उर्दू भाषा और साहित्य के व्याख्याता । 2001 से 2006 के बीच अमेरिकन इंस्टीट्यूट ऑफ़ इन्डियन स्टडीज़, लखनऊ के उर्दू कार्यक्रम के निर्देशक ।

विशेष रूचि: हास्य व व्यंग्य साहित्य और अनुवाद ।

प्रकाशन: सआदत हसन मंटो की चौदह कहानियों का “बॉम्बे स्टोरीज़” के शीर्षक से अंग्रेज़ी अनुवाद (संयुक्त अनुवादक : आफ़ताब अहमद और मैट रीक)

मुश्ताक़ अहमद यूसुफ़ी के उपन्यास “मृगमरीचिका” का अंग्रेज़ी अनुवाद ‘मिराजेज़ ऑफ़ दि माइंड’(संयुक्त अनुवादक : आफ़ताब अहमद और मैट रीक)

पतरस बुख़ारी के उर्दू हास्य-निबंधों और कहानीकार सैयद मुहम्मद अशरफ़ की उर्दू कहानियों के अंग्रेज़ी अनुवाद ( संयुक्त अनुवादक : आफ़ताब अहमद और मैट रीक ) कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित।

सम्प्रति: हिन्दी-उर्दू लैंग्वेज प्रोग्राम, दि डिपॉर्टमेंट ऑफ़ मिडिल ईस्टर्न, साउथ एशियन एंड अफ़्रीकन स्टडीज़, कोलम्बिया यूनिवर्सिटी, न्यूयॉर्क से सम्बद्ध।

--

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4039,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3001,कहानी,2254,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,541,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,96,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,345,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,67,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,16,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,28,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,242,लघुकथा,1248,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2005,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,709,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,793,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,17,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,83,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,204,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,77,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: हास्य-व्यंग्य : मैं एक पति हूँ - पतरस बुख़ारी - अनुवादक : डॉ. आफ़ताब अहमद
हास्य-व्यंग्य : मैं एक पति हूँ - पतरस बुख़ारी - अनुवादक : डॉ. आफ़ताब अहमद
https://drive.google.com/uc?id=1DUxc4sYj2tOmw2jqYC9VNNEkVO0W-Awh
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2019/08/blog-post_72.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2019/08/blog-post_72.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ