नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

हालात - खान मनजीत भावड़िया मजीद

पराई

जब हम छोटे थे
तब हमें समझाते थे
की लड़की
पराया धन है
जब
थोड़े बड़े होते गए
अब समझ में आया
अपनी लड़की
बहन बेटी बुआ
यह सब है
लड़की वो भी  है
जो हमारे घर में आई है
मम्मी दादी पत्नी चाची ताई
पर यह तो हो
पराई नहीं है
मां की ममता
दादी की कहानी
पत्नी की सेवा
चाची का प्यार
ताई की मोहब्बत
इन सब के साथ
यह जुड़ी हुई है
फिर हम अपनी लड़की
को पराई क्यों समझते हैं
क्या कारण है इसके पीछे
लड़की
किरण बेदी कल्पना चावला
झांसी की रानी प्रतिभा पाटिल इंदिरा गांधी आदि
यह भी लड़कियां रही है किसी की
आजकल
घर हो या रण का मैदान
लड़कियां कभी पीछे नहीं हटती
यह हमारे दिमाग का
वहम है
यह कब खत्म होगा
पता नहीं
क्या है इसके पीछे मानसिकता
जरा सोचो
खुल कर सोचो.......।

---

हालात

आज मेरी नाजुक हालात
शारीरिक ,राजनीतिक ,सामाजिक
लोग मुझ पर तंज कसते हैं
नाजुकात के
यह नाजुकता
समाज ने दी
ऐसे हालात घर से बने
आज लोग मेरी नाजुकता का
फायदा उठाते हैं
क्योंकि शरीर कमजोर हो गया है
अब बस मैं और मेरी कमजोरी
बसे हुए हैं और इन दोनों का मेल है
इस जैसे मांसपेशी और हड्डी
आप समझो
ऐसी हालात क्यों बनी
आज मुझ पर लोग हंसते हैं

--

खान मनजीत भावड़िया मजीद
गांव भावड तहसील गोहाना जिला सोनीपत

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.