|नाटक_$type=sticky$au=0$label=1$count=4$page=1$com=0$va=0$rm=1$d=0$tb=black

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका -  नाका। प्रकाशनार्थ रचनाएँ इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी इस पेज पर [लिंक] देखें.
रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -

पिछले अंक

संपादकीय व भूमिका - प्रांत-प्रांत की कहानियाँ - संकलन व अनुवाद - देवी नागरानी

साझा करें:

प्रांत -प्रांत की कहानियाँ (हिंदी-सिन्धी-अंग्रेजी व् अन्य भाषाओँ की कहानियों का अनुवाद) देवी नागरानी भारतीश्री प्रकाशन, दिल्ली-110032 Prant ...

प्रांत-प्रांत की कहानियाँ

(हिंदी-सिन्धी-अंग्रेजी व् अन्य भाषाओँ की कहानियों का अनुवाद)

देवी नागरानी


भारतीश्री प्रकाशन, दिल्ली-110032

Prant Prant Ki Kahaniyaan

—Year: 2018

—Price: Rs. 400

—Pages: 150

—ISBN-978-81-88425-79-2

—Prakashan: Bharat Shree

11/19 Patel Gali, Vishwa nagar, shahdara, Delhi 110032


अनुक्रम

फिर छिड़ी बात.. -रमेश जोशी 7

अहसास के दरीचे.... -डा. रेनू बहल 10

भूमिका -कविता वाचक्नवी 13

देश में महकती एकात्मकता -देवी नागरानी 18

1. ओरेलियो एस्कोबार (गर्शिया मारकुएज) -मेक्सिकन 21

2. आबे-हयात (नसीब अलशाद सीमाब) -पश्तू 24

3. आखिरी नज़र (वाहिद ज़हीर) -बराहवी 28

4. बारिश की दुआ (आरिफ़ जिया) -बराहवी 31

5. बिल्ली का खून (फरीदा राज़ी) -ईरानी 34

6. खून (भगवान अटलाणी) -सिन्धी 38

7. दोषी (खुशवंत सिंह) -उर्दू 47

8. घर जलाकर (इब्ने कंवल) -उर्दू 54

9. गोश्त का टुकड़ा (जगदीश) -ताशकंद 58

10. कर्नल सिंह (बलवंत सिंह) -पंजाबी 66

11. कोख (अरुणा जेठवाणी) -अंग्रेजी 78

12. द्रोपदी जाग उठी (रेणु बहल) -पंजाबी 84

13. क्या यही ज़िंदगी है(डा. नइमत गुलची) -बलूची 97

14. महबूब (मैक्सिम गोर्की) -रूसी 103

15. मुझपर कहानी लिखो (द. ब. मोकाशी) -मराठी 109

16. सराबों का सफ़र (दीपक बुड्की) -उर्दू 117

17. तारीक राहें (अली दोस्त बलूच) -पश्तू 123

18. उल्लाहना (हेनरी ग्राहम ग्रीन) -ब्रिटेन 130

19. उम्दा नसीहत (हमरा ख़लीक़) -कश्मीरी 138


लेखक परिचय 113


फिर छिड़ी बात.....

आज जिस तरह से प्रगति और विकास के नाम पर आदमी उड़ा जा रहा है उसमें गति तो है लेकिन लक्ष्य नहीं दिखता। जब लक्ष्य नहीं तो दशा और दिशा दोनों ही अपरिभाषित और अस्पष्ट रहती हैं। ऐसे में अपने मूल्यों से चिपटे रहना या उन्हें अपनी साँसों में बसाए रखना दीवानापन कहा जा सकता है। लेकिन दिल और दुनिया दोनों की अपनी-अपनी जिद हैं।

आज शताब्दियाँ बीत जाने पर भी आदमी अपनी जड़ें ढूँढ़ता है। किताबों में रखे ख़त और गुलाब खोजता है। यही जुनून आदमी की ताक़त और यही उसकी कमजोरी है। भारत के इतिहास में विभाजन आज भी एक अविस्मरणीय त्रासदी है जिसे कोई भी प्रभावित व्यक्ति न तो जीवन भर भूल सकता है और न ही घटिया राजनीति उसे भूलने देगी। हाँ, दोनों के अनुभव अलग-अलग हैं। जिस तरह योरप का इतिहास और साहित्य दो विश्व युद्धों के इर्द-गिर्द घूमता रहा है वहीं इस उपमहाद्वीप का इतिहास और साहित्य भी विभाजन की त्रासदी के चारों ओर घूमता रहा है। यशपाल का दो भागों में लिखा विराट उपन्यास ‘झूठा सच’ इस त्रासदी का एक प्रामाणिक महाकाव्य है। टोबा टेक सिंह, मलबे का मालिक, सिक्का बदल गया, पानी और पुल आदि इस दर्द की कुछ प्रसिद्ध कहानियाँ हैं। आज भी उन यादों का दर्द, उन रिश्तों की खुशबू सारी पाबंदियों के बावजूद सरहदों के आर-पार बेखौफ आती जाती रहती है।

धीरे-धीरे भाषाओं की भिन्नता मुखर होती गई लेकिन इसके बावजूद संवेदनशील लेखकों और अनुवादकों के इस सिलसिले को टूटने नहीं दिया और आज भी जोड़ने में लगे हुए हैं। सिन्धी और पंजाबी भारत और पाकिस्तान की दो ऐसी भाषाएँ हैं जो पाकिस्तान और भारत की सरहदों के आरपार हवाओं की तरह बहती हैं। दोनों देशों में विशेषकर भारत में पंजाबी और सिन्धी भाषी लेखकों ने कभी इसे अपनी मातृभाषा तो कभी अनुवाद के माध्यम से संजोने और एक पुल बनाने की कोशिश ज़ारी रखी है।

आज इस क्षेत्र में जो लोग निरंतर सक्रिय हैं उनमें देवी नागरानी का नाम भी प्रमुख है। उन्होंने कविता, कहानी में मौलिक हिंदी और सिन्धी लेखन के अलावा दोनों भाषाओं में आपस में अनुवाद भी पर्याप्त किये हैं। दोनों देशों के साहित्यकारों के संपर्क में हैं और नैतिक मूल्यों पर आधारित रचनाओं का पारस्परिक अनुवाद कर रही हैं। भारत जैसे बहुभाषी देश में तो अनुवाद का महत्त्व सबसे ज्यादा है। इतनी भाषाओं में मूलरूप से सब कुछ पढ़ पाना तो किसी राहुल संकृत्यायन के वश का भी नहीं है। इसलिए अनुवाद का महत्त्व तो रहेगा ही। यदि अनुवाद का काम नहीं होता तो शायद यह दुनिया बहुत से ज्ञान से वंचित हो जाती।

यह सच है कि अनुवाद में वह बात नहीं आ सकती जो मूल भाषा में हम अनुभव करते हैं। समीक्षक इसे किसी दुभाषिये के माध्यम से किया जाने वाला प्रेम कहते हैं। पर प्रेम की शुरुआत तो हो। फिर यदि इश्क में कशिश हुई तो अपने आप कोई और बेहतर रास्ता निकाल लेगा। लेकिन यह भी सच है कि यदि अनुवादक उसी भाषा का हो और दोनों भाषाओं का ज्ञाता हो तो यह काम इतने सुन्दर और परिपूर्ण ढंग से कर सकता है कि मूल और अनुवाद का फर्क ही मिट जाए। देवी नागरानी के साथ यह संयोग है कि वे दोनों भाषाओं पर समान अधिकार रखती हैं और स्वयं रचनाकार भी हैं। इसलिए उनके किए अनुवाद पाठकों को निश्चित रूप से मूल रचना का सा आनंद देंगे।

उन्होंने इस कहानी संकलन के लिए जिन कहानियों का चयन किया है वह भी एक खास महत्त्व रखता है। इनमें नए और पुराने, बुज़ुर्ग और ज़वान दोनों प्रकार के कहानीकार शामिल हैं लेकिन एक समान बात सभी कहानियों में है कि ये कहानियाँ केवल लिखने के लिए नहीं लिखी गई हैं और न ही फैशन में आकर कोई विमर्श को इनमें ढोने का नाटक किया गया है। ये सब सरल मानवीय जीवन, संबंधों, आशाओं और आकांक्षाओं, उसकी कमजोरियों और ताक़तों की सजीव कहानियाँ हैं।

तो फिर फूलों की बात छिड़ी है, खुशबू की बात छिड़ी है। गुलाबों की खुशबू की। जिसमें कांटें भी हैं तो न भूल सकने वाली गुलाबों की खुशबू भी। रिश्तों और साहित्य की यही तो लज्ज़त है कि वे हर रंग में मज़ा देते हैं।

मेरा विश्वास है कि ये कहानियाँ पाठकों को बहुत दिनों तक याद रहेंगी। मैं सोचता हूँ कि पाठक मूल लेखकों के साथ अनुवादक को भी याद रखेंगे जिसकी मेहनत और चुनाव के बिना वे कैसे सरहदों के आर पार यह साहित्यिक यात्रा करते।

रमेश जोशी

प्रधान संपादक ‘विश्वा’,

अंतर्राष्ट्रीय हिंदी समिति अमरीका की त्रैमासिक पत्रिका

4758, DARBY COURT, STOW., OH., U.S.A। 44224


email: joshikavirai@gmail.com


अहसास के दरीचे...

मुख्तलिफ मुल्कों, मुख्तलिफ सूबों की मिट्टी की सौंधी सौंधी खुशबू समेटकर देवी नागरानी जी ने एक नया गुलशन सजा दिया जिसमें बलूची, कश्मीरी, पंजाबी, हिंद-सिंध की सिंधी कहानियाँ, मराठी, ताशकंद, ईरान, इंग्लैंड, मेक्सिको, रूस व् लैटिन की महक से पाठकों को सरशार करने की भरपूर कोशिश की है। किसी ज़ुबान के अदब को पढ़ना समुद्र में गोता खाने से कम नहीं और फिर उस समुद्र से मोती चुन कर उसे उसकी असली सूरत को कायम रखते हुए हिंदी पाठकों के सामने पेश करना जो उस ज़बान के अदब से बिल्कुल नावाकिफ़ है, इस हुनर में देवी नागरानी को महारत हासिल है। अब तक उनके आठ कहानी संग्रह प्रकाशित हुए हैं& ‘‘और मैं बड़ी हो गई, सिंधी कहानियाँ, सरहदों की कहानियाँ, पंद्रह सिन्धी कहानियाँ, अपने ही घर में, दर्द की एक गाथा, (सिन्धी से हिंदी, और बारिश की दुआ व् अपनी धरती (हिंदी से सिन्धी)। एक अच्छी कहानीकार और शायरा होने के साथ साथ देवी जी एक माहिर तर्जुमानिगार भी हैं, यह मैं नहीं कह रही, इस बात की गवाही उनका काम देता है।

इस संग्रह में उनकी 18 कहानियाँ शामिल हैं, जो भिन्न भाषाओं के परिवेश से परिचित करवा रही हैं। ‘आखिरी नज़र’ वहीद ज़हीर की ऐसी कहानी है जो चौकीदार की नफसीयात को बहुत खूबसूरती से बयान करती है। चौकीदारी की आदत से मजबूर बाप, अपनी जवान बेटी पर शक़ करने लगता है और उसकी चौकीदारी शुरू कर देता है। ‘मुझ पर कहानी लिखो’, मराठी के मशहूर कहानीकार मोकाशी की कहानी है। एक लड़की की ज़िन्दगी में कैसे कैसे उम्र और हालात के साथ सोच बदलती है, उसे बहुत दिलचस्प अंदाज में पेश किया है। ‘उलाहना’ ग्राहम ग्रीन इंग्लैंड की कहानी दो बुजुर्गों के ज़िन्दगी के हालात और उनकी ख्वाइशात का मुजाहरा करती है। मगरबी तहजीब का रंग भी इस में नुमायाँ है।

‘खँडहर’ गुनो सामतानी की सिंधी कहानी है जो दो बिछड़े हुए प्रेमियों को एक अरसे बाद आमने सामने कर उनके हालात और जज्बात की अक्काशी करती है। कहानी खूबसूरत भी है और उसका असलूब भी निराला है।

‘बारिश की दुआ’ आरिफ जिया की बलूची कहानी, एक मासूम बच्ची की मासूम कहानी है जिसकी सच्चे दिल से की हुई ‘बारिश न पड़ने की दुआ’ कबूल हो जाती है। ‘चोरों का सरदार’ हमारा खलीक़ की कश्मीरी कहानी है जो खासतौर से बच्चों के लिए लिखी गई है। ‘गोश्त का टुकड़ा’ जगदीश द्वारा लिखी ताशकंद की उर्दू कहानी है जिसमें इंसान की गरीबी, पेट की आग बुझाने की ज़रूरत, खानदान की जिम्मेदारी की भागदौड़ उसके सभी जज़बात खत्म कर देती है और धीरे-धीरे वह सिर्फ़ चलता फिरता गोश्त का टुकड़ा ही रह जाता है। कहानी की चन्द पंक्तियाँ दिल को छू जाती हैं।

‘अब माँ की ममता, बीवी के आँसू और बच्चे का प्यार उसके दिल की हरकत को तेज़ नहीं कर सकते थे। वह अब कटे हुए जानवर के गोश्त के टुकडे की तरह था जिस पर स्पर्श का कोई असर नहीं होता।’

‘कर्नल सिंह’ बलवंत सिंह की लिखी खूबसूरत उर्दू कहानी है जिसमें पंजाब की मिट्टी की खुशबू आती है, गांव की जिंदगी इस अंदाज से बयान की है कि सारी तस्वीरें आँखों के सामने घूमने लगती हैं। कहानी की पहली दो पंक्तियाँ ‘‘सिख जाट की दो चीजों में जान होती है&उसकी लाठी और उसकी सवारी की घोड़ी या घोड़ा।’’ इस कहानी का सार बहुत दिलचस्प अंदाज़ में कर्नल सिंह की खोई हुई घोड़ी की तलाश से शुरु होकर चोर तक पहुँच जाती है, और कर्नल सिंह मूछों को ताव देने के बजाय मूछों की छांव तले एक मासूम मुस्कुराहट बिखेरने पर मजबूर हो जाता है।

कहानियाँ चाहे किसी भी मुल्क की हों, किसी भी प्रांत की हों, जब तक वे आम जिंदगी से जुड़ी रहेंगी, लोगों के जज़्बात, उनकी परेशानियाँ, उनकी महरूमियाँ और मजबूरियाँ, उनकी मोहब्बत और उनकी नफरतों को बयान करती रहेंगी।

कहानियाँ इंसान की बनाई हुए सरहदों से परे हैं। इनकी मिटटी की महक मुख्तलिफ हो सकती है, मगर इनकी रूह की सरशरी एक सी ही है। देवी नागरानी जी को मेरी तरफ से ढेरों शुभकामनायें और दुआ करती हूँ कि वे इसी तरह पाठकों को अपनी साहित्य सफ़र की यात्रा में साथ साथ हमसफ़र बना कर आगे बढती रहेंगी।

डॉ. रेनू बहल

संपर्कः 1505, सैक्टर 49-बी,

चंडीगढ़-160047



विश्व कथा-साहित्य का सहज अनुवाद

कहानी की बात जब-जब उठती है, तो मुझे बचपन में सुनी हुई दादी-नानी की किस्सागोई और बच्चों को बहलाने-सिखलाने के लिए जीवन के किसी स्मरणीय, प्रेरणादायी, रोमांचक या रोचक प्रसंग/घटनाओं को अपने ढंग से कहने के दिन याद आते हैं। साहित्य जब पढ़ना प्रारम्भ किया था तो लगता था कहानी की परम्परा कुछ इसी तरह से प्रारम्भ हुई होगी, घटनाओं को इस तरह प्रस्तुत करना कि वह कलात्मकता के साथ रुचिपूर्ण-सुरुचिपूर्ण संवेदनात्मकता के साथ हो जाए और साथ ही धीरे-धीरे उनसे कुछ वैचारिक प्रेरणा भी मनुष्य ग्रहण कर सके।

साहित्य और विधाओं की सैद्धान्तिकी पर काव्य-शास्त्रियों की गम्भीर मीमांसाएँ और गवेषणाएँ लगभग प्रत्येक समुन्नत भाषा में कमोबेश उपलब्ध हो जाएँगी/जाती हैं। प्रकारान्तर से जीवन की जटिलताओं के बढ़ने के साथ-साथ विधाओं के विषय, शैली व कला रूपों में भी परिवर्तन हुए। किन्तु निस्सन्देह गद्य की सर्वाधिक प्रिय विधा के रूप में कहानी विश्व साहित्य की धुरी बनी हुई है। अन्तर यह आया है कि कल्पना या काल्पनिक जीवन की अटारी से हटकर कथा-साहित्य यथार्थ जीवन के धरातल पर अधिक दृढ़ता से आ खड़ा हुआ है। इस यथार्थ के प्रतिरूपण के मध्य, मूल्य और यथार्थ का द्वंद्व कहानीकार को कितना व कैसे घेरता है अथवा यथार्थ के चित्रण में वह अपनी कृति के लिए सीमा बाँधता है अथवा जानबूझ कर विद्रूप और मूल्यहीनता की चौहद्दियों को लाँघने में इसे चौंकाने वाले तत्व के रूप में सम्मिश्रित करने की भरसक चेष्टा से उसे ‘हटकर सबसे अनोखा किया’ का आनन्द आता है, यह विचारणीय है। आलोचना का ध्यान इस पर कितना जाता है और दूसरी ओर लेखक का हाशिए पर जीने वालों, अशक्तों तथा वंचितों के प्रति लगाव शिल्प में कितनी सहजता और अनौपचारिकता से रूपाकार पाता है, यह भी ज्ञातव्य होना चाहिए। कहानी के प्रचलित प्रतिमानों या तत्वों की औपचारिक उपस्थिति मात्र किसी घटना के कलात्मक निरूपण को कहानी बना सकने के लिए पर्याप्त नहीं रह गए हैं। कथावस्तु की प्रासंगिकता और कालोत्तरता कहानी को विशिष्टता देते हैं।

अनूदित कहानियों को पढ़ने पर मूल लेखक की भाषा की संरचनात्मक विशिष्टताओं तथा भाषिक व्यञ्जना का अनुमान लगाना सम्भव नहीं होता। यह कार्य अनुवादक की स्रोत भाषा पर पकड़ के स्तर के परिमाण में उसी के द्वारा सम्भव हो सकता है। अनुवादक से अपने प्राक्कथन में इसे इंगित करने की अपेक्षा पाठकों व आलोचकों को बनी रहती है।

देवी नागरानी द्वारा विश्व की विविध भाषाओं की हिन्दी में अनूदित कहानियों की पाण्डुलिपि मेरे हाथ में है। ये कहानियाँ पश्तो, बलूची, ईरानी, सिन्धी, कश्मीरी उर्दू, रूसी, पंजाबी, मराठी, मेक्सिकन, अंग्रेज़ी आदि भाषायी अंचलों का प्रतिनिधित्व करती हैं। विविध देशों, सभ्यताओं और भाषाओं में लिखी होने बावजूद एक बात इनमें समान है कि ये सभी मानव जीवन की दुरुहताओं और जटिलताओं को व्यक्त करती हैं। सम्वेदना के स्तर पर विश्वमानव और विश्वमानस समान हैं, उसके सुख-दुःख, आवश्यकता-अभाव, संवेग-पीड़ाएँ एक समान हैं; परिस्थितियाँ, घटनाक्रम, स्थान, काल और नाम भले भिन्न-भिन्न होते हैं।

संकलन की पहली कहानी के रूप में बलूची कहानी ‘आबे-हयात’ सन्तान शोक से कई बार गुजर चुकी इकलौते पुत्र की डरी हुई माँ की कहानी है, जो पुत्र को मृत्यु के स्थायी भय में पालती है और उस भय से पार होने का जो नुस्खा पुत्र अपनाता है, वह केवल वीरों की माँ जान सकती है। बलूचिस्तान के समाज पर निरन्तर होते अत्याचारों के समाचारों से परिचित होने के कारण पाठक की संवेदना कथा पढ़ते हुए विशेषतया अंत तक आते-आते विगलित-सी हो जाती है।

दूसरी कहानी भी बलूची कहानी ही है, पश्तो भाषा में कही गई ‘आखिरी नजर’ ; जो पुरुष के मन की सन्देह वृत्ति घातक परिणाम की सम्भावना को पुष्ट करती है। साधारण जीवन जीने वाले नागरिकों के जीवन के ऊहापोह की कहानी है। स्त्रियों को लेकर पुरुषों का मन आधुनिक समय में भी कुछ खास बदला नहीं है।

एक और बलूची कहानी ‘बारिश की दुआ’ झोंपड़ी में रहने वाली निर्धन बच्ची की कथा है जिसका निश्छल मन और स्मृति तथा संसार सब अभावग्रस्त जीवन की यातना से त्रस्त और आप्लावित है। लेखक ने मौलवी और प्रार्थना के बरक्स निरपराध बाल-मन की आस्था को रख कर, उसे बड़ा बताया है।

ईरानी कहानी ‘बिल्ली का खून’ अपने आसपास घटने वाली कुछ बहुत ही सामान्य-सी प्रतीत होती घटनाओं में से एक को लेकर बुनी हुई कहानी है जिसे एक सम्वेदनशील ही भली प्रकार पकड़ सकता है। बिल्ली या किसी भी पशु को लेकर लिखी गई ऐसी कहानियाँ बहुधा पढ़ने में नहीं आतीं। जिस काल में मनुष्य अपने साथ रहने वाले व्यक्ति की वेदना और पीड़ा से अनजान है, उस काल में पशु के जीवन को कथावस्तु के रूप में पढ़ना पाठक की मनोभूमि को उमगा सकता है।

कश्मीरी कहानी ‘चोरों का सरदार’ बचपन में पढ़ी कहानियों की तरह की कहानी प्रतीत होती है। इस कहानी को पढ़ते हुए कश्मीर को वहाँ के साहित्य में देखने की इच्छा-सी पैदा हुई, एक अपेक्षा-सी कहानी से जगी किन्तु कहानी वैसा कुछ यथार्थ प्रस्तुत नहीं कर पाई।

पंजाबी कहानी ‘द्रौपदी जाग उठी’, संकलन की अन्य कहानियों की तुलना में कुछ लम्बी है और वर्णानात्मकता के चलते साहित्यिक कहानी जैसा भाव तो जगाती है, किन्तु पटाक्षेप पंजाब की पृष्ठभूमि पर लिखी गयी स्त्री की एक ख़ास प्रकार की कहानियों के दौर की कहानी का आभास देती है।

उर्दू कहानियों के रूप में त्रासद यथार्थ की मार्मिक कथा ‘घर जलाकर’ के साथ ही खुशवंत सिंह की उर्दू कहानी ‘दोषी’ भी इसमें सम्मिलित है। ‘कर्नल सिंह’ पर्याप्त रोचक व विवरणात्मक शैली में लिखी गयी कहानी है। संकलन की एक अन्य उर्दू कहानी ‘सराबों का सफर’ एकदम समकालीन मुद्दों की नवीनतम कहानी है, जिसमें राजनीति का गन्दला रूप अपने यथार्थ के साथ उकेरने का यत्न किया गया है। इसी विषय पर केन्द्रित बलूची कहानी ‘तारीक राहें’ राजनीति के अपराधीकरण को मुद्दा बनाती हैं। मेक्सिकन कहानी ‘ओरलियो एस्कोबार’ भी मूलतः राजनीति, प्रशासन और सत्ता के कलुष की ही कहानी है। अलग-अलग भाषाओं और अलग देश-काल की इन कहानियों में एक समानता है।

ताशकंद की कहानी ‘गोश्त का टुकड़ा’ गाँव के तथाकथित पढ़े-लिखे व्यक्ति की कहानी है जो हाथ के काम को कमतर और मजदूर बन कर जीवन खो देता है। कथावस्तु का यह पक्ष ‘गोदान’ की एक विसंगति का अनायास स्मरण करवाता है।

एक अन्य बलूची कहानी ‘क्या यही जिंदगी है’ की बिम्बात्मकता इसे अन्य कहानियों से अलगाती है&

‘‘हवाएँ तलवार की तरह काट पैदा कर रही थीं। तेज़ झोकों ने तूफ़ान बरपा कर रखा था। दरख़्तों ने ख़िज़ाँ की काली चादर ओढ़ ली थी। यूँ लगता था जैसे गए मौसमों का सोग मना रहे हैं।

कोई क्या जाने ये क्यों दुखी हैं? रातों की स्याही अब दिन में भी नज़र आती है। परिंदे, हवाओं में उड़ते सारे समूह अपने घोंसलों में पनाह लेकर, अपनी जमा की हुई पूँजी पर ज़िन्दगी बसर कर रहे थे।’’

‘‘सूरज ढलकर क्षितिज पर झुक रहा था। दक्षिण की तरफ़ से काले-काले बादल झूम-झूम कर बढ़ रहे थे, थोड़ी ही देर में सूरज गायब हो गया। अंधेरा बढ़ गया। बादलों ने बढ़कर सारे आसमान को ढाँप लिया। एक तो रात का अंधेरा, ऊपर से बादलों की स्याही। घोर अंधेरे में हाथ को हाथ सुझाई नहीं दे रहा था। खूब बूंदा-बांदी और मूसलाधार बारिश हुई। ओले तड़तड़ाने लगे। बारिश ने यूँ समाँ बाँधा कि जैसे आज ही टूट कर बरसना है। भेड़-बकरियों ने सहमकर जोर-जोर से मिमियाना और डकरना शुरू कर दिया। अमीर अपने पक्के घरों में और ग़रीब अपने बेहाल झोपड़ों में फटे-पुराने कपड़ों में दांत बजा रहे थे। बारिश रुक गई। जानवरों की आवाज़ें आनी बंद हो गईं मगर अब भी कहीं कहीं से अभी पैदा हुए बच्चों के कराहने की आवाज़ आती तो अपनी गिरी हुई झोंपड़ियों से आग की तमन्ना लिये दांत बजाते, बगलों में हाथ दे, सहमे हुए सर्दी का दुख झेल रहे थे। यूँ लगता था कि ये कहावत सही है&‘गुलाबी जाड़ा भूखे-नंगे लोगों की रज़ाई है।’

यह कथा सम्भवतः इस संकलन की सर्वाधिक मार्मिक, यथार्थ और विडम्बनात्मक कहानी है।

मैक्सिम गोर्की की रूसी कहानी ‘महबूब’ मानव मन की तहें खोलती है, प्रेम के अभाव में व्यक्ति का रुक्ष और कठोर हो जाना या कठोर व्यक्ति के निजी जीवन का अकेलापन और अभाव दोनों एक के दो पक्ष हैं।

मराठी कहानी ‘मुझपर कहानी लिखो’ का कथ्य रोचक है और इन अर्थों में विशेष है कि यह एकसाथ कई मूलभूत प्रश्नों को छूती है।

इंग्लैण्ड की कहानी ‘उलाहना’ (ग्राहम ग्रीन) में प्रेम विवाह के बावजूद गृहस्थ जीवन की विसंगतियों का चित्रण है। प्रेम के अभाव में निभती गृहस्थियाँ भारतीय समाज के लिए मानो सामान्य-सी घटना है।

कुल मिलाकर संकलन की अधिकांश कहानियाँ पारिवारिक-सामाजिक जीवन के मार्मिक विघटन तथा मनुष्य की सम्वेदन-हीनता की कहानियाँ हैं। अनुवाद बहुत सहज व मूल भाषा में कहानी पढ़ने का-सा आनन्द देता है, जिसके लिए अनुवादक देवी नागरानी बधाई की पात्र हैं। कुछ स्थलों पर वर्तनी व व्याकरण पर विशेष ध्यान दिए जाने की आवश्यकता अनुभव होती है। जिस अनुवादक के पास विभिन्न भाषाओं से अनुवाद का सामर्थ्य है, सहज ही उस अनुवादक से श्रेष्ठ समकालीन कथा-साहित्य के अनुवाद की अपेक्षा जगती है। आशा है, वे भविष्य में उत्तरोत्तर अधिक गम्भीर वैश्विक साहित्य से हिन्दी के पाठकों का परिचय करवाती रहेंगी। इस संकलन के लिए उन्हें बधाई और शुभ कामनाएँ देते हुए मैं हर्ष का अनुभव कर रही हूँ।

(डॉ.) कविता वाचक्नवी

(ह्यूस्टन, अमेरिका)


देश में महकती एकात्मकता

हिन्दी भारत की जननी है, भाषाओं की जड़ है, और भारतीय संस्कृति की नींव व हर हिंदुस्तानी की पहचान है। बावजूद इसके प्रांतीय भाषाएँ भी अपनी अस्मिता चाहती हैं, जिनका संस्कार व आचरण प्रदर्शन करने का माध्यम सिर्फ़ प्रांतीय भाषाओं को ज़िंदा रखकर किया जा सकता है। भाषा संवाद का माध्यम है। हरेक प्रांतीय भाषा के साहित्य से भी उस प्रांत की सभ्यता की जड़ों तक पहुँचा जा सकता है। भाषओं के माध्यम से शब्दों की यात्रा शुरू होती है जो नदी की धार की तरह आपने आँचल में हर परिवर्तन को समेटते हुए प्रवाहित होती है।

भाषा के साथ ज्ञान जुड़ा हुआ होता है&एक नहीं अनेक भाषाओं का ज्ञान, उन भाषाओं की शब्दावली, उनके सुगंधित संस्कार जो परिवेश में पाये जाते हैं। चिंतन की अभिव्यक्ति, अनुभूति की अभिव्यक्ति लिखने और बोलने वाले व्यक्ति में समय के साथ बदलती हुई सोच में नवनिर्माण का बीज बोती है। प्रंतीय भाषाओं के संदर्भ में कहा गया सत्य दोहराते हुए यह मानना होगा कि ‘‘मौलिक चिंतन यदि अपनी मात्र भाषा में ही किया जाये तो उसका परिणाम अनुकूल होता है। भाषा की स्थिति जटिल तब होती है जब वह प्रयोग में नहीं आती हो या अपनी पहचान खो देती है।’’

जहाँ भाषा व सभ्यता की प्रगति दिन- ब-दिन बढ़ रही है, वहीं विविधताओं से युक्त भारत जैसे बहुभाषा-भाषी देश में एकात्मकता की परम आवश्यकता है और अनुवाद साहित्यिक धरातल पर इस आवश्यकता की पूर्ति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने में सक्षम है। अनुवाद वह सेतु है जो साहित्यिक आदान-प्रदान, भावनात्मक एकात्मकता, भाषा समृद्धि, तुलनात्मक अध्ययन तथा राष्ट्रीय सौमनस्य की संकल्पनाओं को साकार कर हमें वृहत्तर साहित्य-जगत् से जोड़ता है। अनुवाद-विज्ञानी डॉ. जी. गोपीनाथन लिखते हैं&‘‘भारत जैसे बहुभाषा-भाषी देश में अनुवाद की उपादेयता स्वयंसिद्ध है। भारत के विभिन्न प्रदेशों के साहित्य में निहित मूलभूत एकता के स्परूप को निखारने, दर्शन करने के लिए अनुवाद ही एकमात्र अचूक साधन है। इस तरह अनुवाद द्वारा मानव की एकता को रोकने वाली भौगोलिक और भाषायी दीवारों को डाहकर विश्वमैत्री को और भी सुदृढ़ बना सकते हैं।’’

यहीं से अनुवाद का अध्याय शुरू होता है। अनुवाद की अपूर्णता के बारे में चाहे कुछ भी कहा जाए, परन्तु सच्चाई यह है कि संसार के व्यावहारिक कार्यों के लिए उसका महत्व असाधरण और बहुमूल्य है। जब तक अनुवादक मूल रचना की अनुभूति, आशय और अभिव्यक्ति के साथ एकाकार नहीं हो जाता तब तक सुन्दर एवं पठनीय अनुवाद की सृष्टि नहीं हो पाती। मूल रचनाकार की तरह अनुवादक भी कथ्य को आत्मसात् करता है, इसलिए अनुवादक में सृजनशील प्रतिभा का होना अनिवार्य है।

शब्द का प्रयोग भी एक कला है। उन्हें कैसे, कहाँ, किस संदर्भ में प्रयोग करना है यह रचनाकार की अपनी रचनात्मक क्षमता है। इसके लिए भाषा ज्ञान का होना अनिवार्य है। भाषाई संस्कार परिवेश से पाया जाता है, जहाँ मातृभाषाई ज़बान में बाल शिशु को पहली पहचान मिलती है। वह किसी भी प्रांत की भाषा हो सकती है। भारत में अनेक भाषाओं का प्रचलन व प्रयोग है, जिनमें से कुछ दबी हुई हैं, कुछ उभरी हुई हैं, कुछ विलूप सी होती जा रही हैं। पर यह निश्चित है कि हर भाषा के साहित्य के भंडार का कुछ अंश लोगों को विरासत में मिला होगा, जो कितने ही कारणों से मध्य पीढ़ी व आज की नव पीढ़ी के पल्ले नहीं पड़ा है। इस का मूल कारण भाषा ज्ञान की कमी, या बालावस्था में पाठशालाओं में वह भाषा उस प्रदेश में न पढ़ाई जाती हो। यही बात हमारी सिंधी भाषा पर लागू होती है।

मानव का संबंध मानव से, भाषा का संबंध भाषा से है। एक भाषा में कही व लिखी बात अनुवाद के माध्यम से दूसरी भाषा में अभिव्यक्त करके, हिन्दी भाषा के सूत्र में बांधते हुए शब्दों के माध्यम से भावनात्मक संदेश पाठकों तक पहुँचाना ही इस अनुवाद की प्राथमिकता है। अनुवाद किया हुआ साहित्य पाठक को अनुवाद नहीं बल्कि स्वाभाविक लगे, यही अनुवाद की मौलिकता है, और अनुवाद किये गए साहित्य के सही बिम्ब अंकित करने में अनुवादक की सार्थकता होती है।

भाषा की समृद्धि में शायद हम अपना विकास देख रहे हैं। आज प्रांतीय भाषाओं से हिन्दी में, और हिन्दी से अन्य भाषाओं में अनुवाद हो रहा है। इसी एवज़ साहित्य की समृद्धि निश्चित रूप से हो रही है। यही सबब है कि पाठक गण को सिर्फ़ एक परिवार नहीं, एक परिवेश, एक नए निर्माणित समाज, एक समृद्ध राष्ट्र की समृद्ध भाषाओं के माध्यम से पठनीयता का अधिकार मिलता रहे और चिंतन मनन के लिए खाद प्राप्त होता रहे!

इसी प्रयास के महायज्ञ में एक छोटी सी कोशिश मेरी मात्रभाषा सिन्धी से हिन्दी में अनुवाद के माध्यम से हुई, और हिन्दी कथाकारों की कहानियाँ भी सिन्धी भाषा में संग्रह के रूप में आई हैं। इस संग्रह की कहानियाँ मैंने उर्दू, सिन्धी और अंग्रेजी भाषा से की हैं। बलूचिस्तान की भाषाओं&पश्तू, बराहवी और बलूची की कहानियाँ उर्दू से अनुवाद हुई हैं। इन कहानियों में वहाँ के परिवार व परिवेश की झलकियाँ मौजूद हैं। मेरी दिली ख्वाहिश है कि सिन्धी व अन्य प्रांतीय भाषाई सौहार्द अदब-अदीबों के बीच पनपता रहे और भाषाई सीमाएं सिमट कर एक आँचल तले फलते-फूलते मुक्त फिज़ाओं को महकाती रहे।

मैं प्रकाशक की तहे दिल से शुक्रगुजार हूँ, जो इन प्रांतीय भाषाओं की खुशबू से सराबोर मेरे इस कहानी-संग्रह के प्रयास में अपना सहयोग देते हुए समय की अनुकूलता के साथ आप तक पहुँचाने में सक्रिय रहे हैं। संग्रह में योगदान देने वाले साहित्यकारों की कहानियाँ उनकी अनुमति से शामिल हैं!

इसी सद्भावना के साथ आपकी अपनी,

देवी नागरानी

न्यू जर्सी (यू.एस.ए.)


टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=three$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * || * उपन्यास *|| * हास्य-व्यंग्य * || * कविता  *|| * आलेख * || * लोककथा * || * लघुकथा * || * ग़ज़ल  *|| * संस्मरण * || * साहित्य समाचार * || * कला जगत  *|| * पाक कला * || * हास-परिहास * || * नाटक * || * बाल कथा * || * विज्ञान कथा * |* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आत्मकथा,1,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4121,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,343,ईबुक,198,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3096,कहानी,2309,कहानी संग्रह,246,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,544,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,123,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,346,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,69,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,17,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,29,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,245,लघुकथा,1278,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,19,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,348,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2021,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,715,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,815,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,19,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,93,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,212,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: संपादकीय व भूमिका - प्रांत-प्रांत की कहानियाँ - संकलन व अनुवाद - देवी नागरानी
संपादकीय व भूमिका - प्रांत-प्रांत की कहानियाँ - संकलन व अनुवाद - देवी नागरानी
http://1.bp.blogspot.com/-0KU8kvXy4aA/Xf7yGaxfWEI/AAAAAAABQiA/c6R1OSHUTB8W1Gpb2GrMT2i1Fgae5KGBgCK4BGAYYCw/s320/prant%2Bprant%2Bki%2Bkahani-706441.png
http://1.bp.blogspot.com/-0KU8kvXy4aA/Xf7yGaxfWEI/AAAAAAABQiA/c6R1OSHUTB8W1Gpb2GrMT2i1Fgae5KGBgCK4BGAYYCw/s72-c/prant%2Bprant%2Bki%2Bkahani-706441.png
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2019/12/blog-post_5.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2019/12/blog-post_5.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ