|नाटक_$type=sticky$au=0$label=1$count=4$page=1$com=0$va=0$rm=1$d=0$tb=black

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका -  नाका। प्रकाशनार्थ रचनाएँ इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी इस पेज पर [लिंक] देखें.
रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -

पिछले अंक

सरहदों के पार महकती कहानियाँ - समीक्षक - गोवर्धन यादव

साझा करें:

समीक्षक - गोवर्धन यादव सरहदों के पार महकती कहानियाँ साहित्य जगत में अपनी ओजस्विता लिए प्रकट होने वाली लेखिका सुश्री देवी नागरानी जी, किसी अत...


IMG-20180710-WA0041

समीक्षक - गोवर्धन यादव

सरहदों के पार महकती कहानियाँ

साहित्य जगत में अपनी ओजस्विता लिए प्रकट होने वाली लेखिका सुश्री देवी नागरानी जी, किसी अतिरिक्त परिचय की मोहताज नहीं है. अपने जन्म के साथ ही आपका सिंधी और ऊर्दू भाषा पर अच्छा खासा अधिकार रहा है. हिन्दी, अंग्रेजी ,मराठी तथा तेलुगु आदि भाषा में निष्नात, कवि, लेखक, कहानीकार, गजलकार, अनुवादक देवी नागरानी ( न्यु जर्सी-अमेरिका) द्वारा अनुवादित कहानी संग्रह “प्रांत-प्रांत की कहानियां” आपका दूसरा संग्रह है, जो सरहदों के पार महकती कहानियों का गुलदस्ता हैं. इससे पहले आपका एक संग्रह “ पन्द्रह सिंधी कहानियाँ” हिन्दी साहित्य निकेतन,बिजनौर से प्रकाशित हुआ था. इस संग्रह में कुल मिलाकर पन्द्रह कहानियाँ संग्रहित हैं. सभी लेखक सिंध(पाकिस्तान) से हैं. प्रांत-प्रांत की कहानियों में मेक्सिकन, पश्तु, वराहवी, ईरानी, ताशकंद, बलूच, रुस, ब्रिटेन आदि के लब्ध प्रतिष्ठ कहानीकारों द्वारा रचित कहानियाँ, उम्र के हर मोड़ पर पाठकों के जेहन से टकराती रही होंगी, कभी लिखित रूप में, तो कभी वाचिक रुप में. तो कभी सुदूर देशों के भूगोल-इतिहास को लांघ कर लंबा सफ़र तय किया होगा. इन कहानियों ने हमारे स्मृति-कोष को समृद्ध ही किया है तथा इन तमाम कहानीकारों की गहरी मानवीय दृष्टि, मार्मिक सृष्टि और बृहत्तर अभिप्रायों से जन-जन को भी प्रभावित किया होगा, कुछ ने इन्हें अपना पाथेय भी माना होगा. अपने-अपने प्रदेशों में बड़े चाव के साथ पढ़ी और दोहराई जाती रही होंगीं. अनुवादक . सुश्री देवी नागरानी जी ने इन कहानियों को बड़ी धैर्यता-कुशलता और कड़ी मेहनत करते हुए, हिंदी में अनुवादित कर हम सब तक पहुँचाया. वे शायद ऐसा न कर पातीं तो हम निश्चित ही सरहद के पार रची जा रही कहानियों से कदापि परिचित नहीं हो पाते. निश्चित ही वे बधाई की पात्र हैं.

विश्व के कई देशों की कहानियों का अध्ययन हमें न सिर्फ़ जीवन के व्यापक फ़लक से परिचित कराता है, बल्कि उसके माध्यम से संसार के विभिन्न हिस्सों में रह रहे लोगों के रहन-सहन, उनका खान-पान, उनकी नैतिक मान्यताओं, वर्जनाओं, दुःखों और प्रसन्नता से भी हम अवगत होते हैं. यह सिर्फ़ जानकारियाँ बढ़ाने का मसला नहीं है, वरन दुनियां को अपनी नजरों से देखना-परखना भी होता है. इस तरह हम एक उदार नजरिया भी विकसित करते चलते है. यह निर्विवाद सत्य है कि कहानियाँ दुनिया की सबसे प्राचीन विधाओं में से एक है. कहानियों की सम्प्रेषण शक्ति को विशेष रुप से पहचाना गया. इस तरह कहानियाँ विश्व के एक छोर से दूसरे छोर का सफ़्रर करती रहीं. हम सभी इस बात से वाकिफ़ हैं कि संसार की सभी भाषाऒ के अपने कुछ महान कथाकार होते हैं, जो अपने जीवन-काल और उसके बाद भी लोगों के हमसफ़र रहे हैं और आगे भी होते रहेंगे.

हिंदी साहित्य निकेतन, (बिजनौर) के निदेशक डा.गिरिराजशरण जी अग्रवाल लिखते हैं-“ यह निर्विवाद सत्य है कि अनुवाद मूल लेखन से कहीं अधिक कठिन कार्य है. मूल लेखक जहाँ अपने विचारों की अभिव्यक्ति में स्वतंत्र होता है, वहीं अनुवादक एक भाषा के विचारों को, दूसरी भाषा में उतारने में, अनेक तरह से बंधा होता है. उन दोनों भाषाऒ की सूक्ष्मतम जानकारी के अतिरिक्त विषय की तह तक पहुँचने की क्षमता तथा अभिव्यक्त की पूर्ण कुशलता अच्छे अनुवादक के लिए अपेक्षित है. वे यह भी लिखते हैं कि अनुवाद यांत्रिकी प्रक्रिया नहीं अपितु मौलिकता का स्पर्ष करता हुआ कृतित्व है. इसके एक छोर पर मूल लेखक होता है और दूसरी छोर पर अनुवादक. इन दोनों के बीच होती है अनुवाद की प्रक्रिया. एक कुशल अनुवादक अपने आपको मूल लेखक के चिंतन की भूमि पर प्रतिष्ठित कर, अपनी सूझबूझ एवं प्रतिभा के बल पर स्त्रोत-सामग्री को, अपनी कला और कुशलता से प्रस्तुत करता है, ताकि उसका “अनुवाद” मौलिक रचना के स्तर तक पहुँच सके.

मेरा अपना मानना है कि अनुवाद प्रक्रिया “परकाया प्रवेश” जैसा कठिन और दुष्घर्ष कर्म है. जितनी ऊर्जा लेखक को इसमें खपानी पड़ती है, उससे कहीं ज्यादा परिश्रम अनुवादक को करना होता है और यह तभी संभव हो पाता है जब अनुवादक का दूसरी भाषा पर समान रूप से अधिकार हो. ऎसा होने पर ही कहानी की आत्मा बची रहती है.

कहानीपन की सबसे पहली अनिवार्य शर्त को रेखांकित करती हुई “इसाबेल अलैंदे” कहती हैं कि-“यह सांस्कृतिक गहराई और इस गहराई में पाठकों को अपने साथ उतार ले सकने की सर्जक क्षमता ही अंततः कहानी या सांस्कृतिक विधा के “कहानीपन” की सबसे पहली और अनिवार्य शर्त होती है. वहीं मैंडल स्टाम” का कथन है- “स्मृति के द्वंदात्मकता में ही रचना अपनी वांछित ऊँचाइयाँ तक पहुँच पाती हैं”.

ह्युस्टन-अमेरिका की डा.कविता वाचक्नवी जी ने विश्व-कथा साहित्य का सहज अनुवाद लिखते हुए इस बात का उल्लेख किया है-“अनुदित कहानियों को पढ़ने पर मूल लेखक की भाषा की संरचनात्मक विशिष्टताओं तथा भाषिक व्यंजना का अनुमान लगाना संभव नहीं होता. यह कार्य अनुवादक की स्त्रोत भाषा पर पकड़ के स्तर के परिमाण में उसी के द्वारा संभव हो सकता है”.

मेरे अपने मतानुसार कहानियाँ भी कई तरह की होती हैं. कुछ का जन्म सुनाते समय होता है और भाषा ही इनकी जान होती है. जब तक कोई इन्हें शब्दों में नहीं ढालता, वे महज एक आभास, एक हल्का सा आवेग, एक बिंब या एक अस्पष्ट याद भर होती है. कुछ कहानियां भरी-पूरी होती हैं, किसी समूचे सेब की तरह. इन्हें अर्थ बदल जाने का खतरा उठाए बगैर अनन्त काल तक बार-बार दुहराया जा सकता है. कुछ कहानियां यथार्थ की सच्चाई से ली गई होती हैं और प्रेरणा के सहारे उन्हें आकार मिलता है. जबकि कुछ प्रेरणा के किसी क्षण में जनमती है और सुनाई जाने के बाद सच्ची हो उठती हैं. अनुवादक सुश्री देवी नागरानी जी ने इन सुक्ष्म सतहों को बारिकी से परखा होगा, जाना होगा, तब जाकर वे उन अठारह कहानियों का हिंदी में कुशलतापूर्वक अनुवाद कर पायीं. देवी नागरानी ने एक मौन साधक की तरह इस पार और उस पार के बीच की लक्ष्मण रेखा को विलीनता के हाशिये पर लाने का सफल प्रयास किया है. “अनुवादक” के इस मकाम को हासिल करने के लिए लेखिका ने एक लंबा और मुश्किल, लेकिन सही और सुचिंतित रास्ता चुना है. उसे मालूम है कि रचना की दुनिया में शार्टकट कहीं नहीं ले जाते. इस प्रक्रिया में सृजन की यातना का सामना भी उसे करना होता है. प्रांत-प्रांत की कहानियों का यह बेशकीमती गुलद्स्ता हिंदी-साहित्य-जगत के लिए एक अनुपम उपहार होगा, ऐसी मेरी अपनी मान्यता है. उन्हें कोटिशः बधाइयाँ-शुभकामनाएँ.

प्रांत-प्रांत की कहानियों में सबसे पहले उन्होंने मेक्सिकन नोबेल प्राइज विजेता “गर्शिया मरकुएज” की कहानी –ओरेलियो एस्कोबार का चुनाव किया है. यह कहानी एक ऐसे डाक्टर की है जो फ़र्जी तो है, लेकिन दांत निकालने के काम में उसे महारत हासिल है. शहर का मेयर यह सब जानता होगा, यदि वह चाहता तो उसे शहर से बाहर भी करवा सकता था,लेकिन उसकी कार्यकुशलता को देखते हुए, वह अपना दांत निकलवाने के लिए बिना डिग्री वाले इसी डाक्टर के पास आता है. दांत निकल जाने के बाद मेयर बड़ी ठसक के साथ कहता है-“ बिल भिजवा देना”. जिस ठसक के साथ मेयर कहता है, लगभग उसी ठसक और लापरवाह अंदाज में वह भी जवाब देता है- “किसके नाम...तुम्हारे या फ़िर कमेटी के नाम”. इस कहानी का शिल्प बरबस ही आपको आकर्षित कर अपने सम्मोहन में बांध लेता है. सच ही कहा है किसी ने कि जीवन में कुछ अर्थ और सौंदर्य भी होना चाहिए.

पश्तु कहानी-आबे हयात- कहानीकार-नसीब अलहाद सीमाव-

आदमी मरना नहीं चाहता. जीवित रहने के लिए वह अनेकानेक प्रयास करता है,लेकिन अंततः उसे मरना ही होता है. ऐसी मान्यता है कि यदि आदमी “आबे हयात” का पान कर ले, तो वह अमर हो जाता है. भारत में भी इस मान्यता के पुट मिलते हैं कि कोई अमृत का पान कर ले, तो वह अमर हो जाता है. माँ-बेटे के बीच इसी कशमकश को लेकर कहानी चल निकलती है. बेटा फ़ौज में भरती हो जाता है और युद्ध में शहीद हो जाता है. शहीद होकर वह अमरता प्राप्त कर लेता है. किसी शायर ने लिखा भी है “अमर वो नवजवां होगा, वतन पर जो फ़िदा होगा”. बात सच है कि शहीद कभी मरा नहीं करते. उनका शरीर मरता है लेकिन उनकी स्मृतियाँ देशवासियों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत बनी रहती हैं. सीमाव ने इस कहानी को लिखते हुए यह लिखा-किसी मकसद की चाहत में ईमान की सच्चाई की चाश्नी शामिल तो तो आदमी अपनी मंजिल जरूर पा सकता. अगर वह यह नहीं भी लिखता तो, कहानी की खूबसूरती में कोई फ़र्क नहीं पड़ता. अनावश्यक जान पड़ते हैं ये वाक्य.

बराहवी कहानी- आखिरी नजर- वाहिद जहीर-

मामा गिलू, अंधी बीबी और जवान होती बेटी लाली की कहानी है. बेटी जब जवानी की देहलीज पर कदम रखती है, तो उसके पिता की नजर उसकी पीठ पर चिपकी होती है. वह कहाँ जाती है, कहाँ उठती बैठती है आदि का मुआयना करने लगता है. पिता जैसे ही बेटी की तितलियों-सी उड़ान से वकिफ़ होता है, तो वह मजबूरी की दीवार तोड़कर, अपनी इज्जत की दीवार बचाने की जद्दोजहद में लग जाता है. घर-घर की कहानी है यह. हर पिता का यह उत्तरदायित्व बनता है कि वह अपनी बेटियों को गलत रास्ते पर चलने से बचाए और उसे सही मार्गदर्शन दे.

बराहवी कहानी-बारिश की दुआ. आरिफ़ जिया.

नन्हीं जेबू और उसकी माँ को बारिश का डर सताता है. डर इस बात का कि यदि बरिश हुई तो उसकी झोपड़ी ढह जाएगी, सामान भींग जाएगा और जीवन जीना दुभर हो जाएगा. वह नन्हीं बालिका अल्लाह से दुआ मांगती है कि बारिश न हो. वहीं दूसरी तरफ़ गर्मी की तपिश से निजाद पाने के लिए लोग बारिश होने की गुहार लगा रहे होते है. अंततः बारिश नहीं होती. जेबू की जीत होती है और वह बहुत खुश होती है. गरीबी का दंश झेल रहे परिवार की मार्मिक कहानी दिल और दिमाक को झकझोरती है.

ईरानी कहानी- बिल्ली का खून- फ़रीदा राजी-

आदमजात हो या फ़िर पशु-पक्षी, सभी में एक से ही नैसर्गिक गुण विद्यमान होते हैं. प्रेम करना, प्रेम में पड़ना, वियोग की अग्नि में झुलसना, मन के और शरीर के उत्पातों को सहना आदि-आदि. यह कहानी एक बिल्ली को लेकर लिखी गई है, एक बिल्ले को वह प्राणपन से चाहने लगती है. उसे रोकने का भरपूर प्रयास किया जाता है. तो वह बगावत पर भी उतर आती है. अन्दर ही अन्दर घुटती रहती है और एक दिन मर जाती है. कहानी बिना कुछ बोले, बहुत कुछ बोल जाती है.

सिंधी कहानी-खून-भगवान अटलानी-

एक ऐसे डाक्टर की कहानी है जो स्वयं अभावों से जूझ रहा होता है, एक गरीब मरीज के इलाज के लिए निकल पड़ता है. फ़ीस भी वसूल होगी या नहीं, इसी कशमकश में वह हलाकान-परेशान होता रहता है. उधर उस मरीज का परिवार भीषण तंगी में जी रहा होता है. यहाँ तक की वह डाक्टर से इलाज कराने की स्थिति में भी नहीं है और न ही उसके पास दवा-दारु के लिए पैसे ही हैं. डाक्टर को प्राण-रक्षक इंजेक्शन लगाना ही पड़ता है. वह जानता है कि फ़ीस भी नहीं मिलेगी और इंजेक्शन के पैसे भी उसे अपनी जेब से भरना पड़ेगा. पैसों के अभाव में बालक गंभीर अवस्था में पहले ही पहुँच चुका होता है और उसका करुणिक अंत हो जाता है. घर का बुजुर्ग किसी तरह एक पांच का और दो का नोट डाक्टर को देते हुए कहता है...बस इतनी ही रकम है उसके पास फ़ीस देने के लिए. अटलानी जी की इस मार्मिक और कारुणिक कहानी को पढ़कर आँखे स्वतः भर आती है. अटलानी जी ने इस कहानी को कुछ इस तरह ढाला है कि वह पाठक को अपने रौं में बहाकर ले जाती है और रोने के लिए विवश कर देती है. यही कहानी की सफ़लता भी है.

ऊर्दू कहानी- दोषी- खुशवंतसिंह.

कलम के धनी कहानीकार,पत्रकार,व्यंग्यकार, उपन्यासकार,इतिहासकार और एक सफ़ल वकील खुशवंतसिंह जी की लेखनी से भला कौन परिचित नहीं होगा? उनका चर्चित उपन्यास “ट्रेन टू पाकिस्तान” एक यादगार उपन्यास है. प्रेम का त्रिकोण बनाने में वे सिद्धहस्त रहे है. शब्दों को किस तरह जानदार बनाना है, वे इस कला को अच्छी तरह से जानते थे.

ऊर्दू कहानी- घर जलाकर- इबने कंवल

अमीरों का गरीबों पर जुल्म ढाना और गरीबों पर मुसिबतों का पहाड़ टूट पड़ना..कोई नयी बात नहीं है. यह खेल सदियों से चला आ रहा है. इस विषय को लेकर लिखी गई कहानी में गरीब-गुर्गों की बस्ती जला दी जाती है. बेघर हुए लोगो को पचास हजार और हादसे में मारे गए परिवार को एक लाख की रकम सरकार की तरफ़ से दी जाती है. रकम मिलते ही लोग-बाग गम को भूलने से लगे थे. जिनके बदन पर कपड़े नहीं थे, वे नए कपड़े में नजर आ रहे थे और जिन्हें दो वक्त का खाना भी नसीब नहीं होता था, मालपुआ उड़ाने में मगन थे. हादसे के समय मिलती सहानुभूतियां भी धीरे-धीरे खत्म हो जाती है. अभाव और बेचारगी का अहसास फ़िर उस बस्ती में लौट आता है, तंगहाली झेलते बच्चे नज्जू अपनी माँ से पूछता है कि हमारी झोपड़ी फ़िर कब जलेगी? यह कहानी का क्लाईमेक्स है.

इस संग्रह में ताशकंद के जगदीश की कहानी-गोश्त का टुकड़ा है. गरीबी-मुफ़लिसी में जीवन जीते एक ऐसे इन्सान की कहानी है जो अपने खानदान की इज्जत बचाने के लिए गोश्त का एक टुकड़ा भर रह जाता है. पंजाबी लेखक-बलवंत सिंह की कहानी-कर्नलसिंह, सिख जाट की असली पहचान उसकी लाठी और घोड़ी होती है. चोरी हो चुकी घोड़ी की तलाश पर घूमती रोचक कहानी है मराठी-द.व.मोकाशी की कहानी- मुझ पर कहानी लिखो- एक लड़की की जिन्दगी में उम्र के कैसे-कैसे हालात और बदलाव आते हैं,को लेकर लिखी गई कहानी है. ब्रिटिश-हेनरी ग्राहम ग्रीन की कहानी-उल्लाहना-दो बुजुर्गों की जिन्दगी के हालत और उनकी बिंधी इच्छाओं को उजागर करती कहानी है, तथा कश्मीर-की हमरा खलीफ़ की कहानी-उमदा नसीहत, अंग्रेजी--अरुणा जेठवानी की-कहानी “कोख”, पंजाबी -रेणू बहल की कहानी- द्रोपदी जाग उठी, पंजाबी-, बलूच-लेखिका- डा.नइमत गुलदी की कहानी-क्या यही जिन्दगी है, रुसी-मेक्सिम गोर्की की कहानी-महबूब, ऊर्दू-..दीपक बुदकी की कहानी-सराबों का सफ़र, पश्तु- अली दोस्त क्लूच की कहानी-तारीक राहें, कुल जमा ये लाजवाब कहानियाँ हें, कहानियों में शब्दों का संयोजन, लयबद्धता और भरपूर रोचकता का पुट लिए हुए है, जो पाठक को अपने रौ में बहाकर, एक ऐसे दिव्य-लोक में ले जाती हैं, जिसकी कल्पना तक हमने नहीं की होगी.

कश्मीर की हसीन वादियों में जन्में श्री दीपक बुदकी (आई.पी.एस.) सेवानिवृत्त, मेम्बर पोस्टल सर्विसिज बोर्ड, नई दिल्ली ) का कहानी संग्रह “चिनार के पंजे” सन 2005 में उर्दू में प्रकाशित हुआ जिसे चन्द्रमुखी प्रकाशन, नई दिल्ली ने सन 2011 में हिन्दी में प्रकाशित किया. आपके अब तक “अधूरे चेहरे” उर्दू तथा हिन्दी में क्रमशः 1999 तथा 2005, चिनार के पंजे ( 2005-2011) , जेबरा क्रासिंग पर खड़ा आदमी (2007), उर्दू आलोचना “असरी तहरीरें (2006) तथा असरी श’अर (2008) में प्रकाशित हुए . आपने कश्मीर समस्या का उद्भव एवं अनुच्छॆद 370-एन.डी.सी. को प्रस्तुत किया गया शोध-प्रबन्ध प्रकाशित हो चुका है. आपको अनेकानेक संस्थाओं ने सम्मानीत-पुरस्कृत किया है. मुझे इस बात पर फ़क्र है कि मैंने “चिनार के पंजे” तथा “अधूरे चेहरे” पर समीक्षा आलेख लिखा था. ऊर्दू में आपकी एक कहानी-सराबों का सफ़र” का चुनाव नागरानी जी के किया है. उन्हें साधुवाद.

सुश्री देवी नागरानी जी के इस दुर्घष प्रयास को, जिसे जिद कहें तो ज्यादा उचित होगा कि चाहे जितनी शारीरिक,मानसिक थकान का सामना करना पड़े, चाहे जितना श्रम करना पड़े, वे हर हाल में विश्व की श्रेष्ठ कही जाने वाली कहानियों का हिन्दी में अनुवाद करेंगी. यह उनकी जिद का ही परिणाम है कि हमें एक-से बढ़कर-एक कहानियाँ पढ़ने का सौभाग्य प्राप्त हुआ. उन्हें हृदय से आभार-साधुवाद. साधुवाद इसलिए भी कि उन्होंने हिन्दी के खजाने को अक्षुण्य बनाने में बड़ी भूमिका का निर्वहन किया है. उनके इस अथक प्रयास को र्रेखांकित करते हुए ”येरोस्लाव सइफ़र्न” की कविता बरबस ही मुझे याद हो आयी. वे लिखती हैं..

फ़िर एक फ़ूलदान में मैंने एक गुलाब लगाया एक मोमबत्ती जलाई और अपनी पहली कविताएं लिखना शुरु किया “जागो मेरे शब्दों की लपट ऊपर उठो ! “ चाहें जल जाएं मेरी उँगलियाँ

आपको एक बार फ़िर ,आपकी लगन, मेहनत और उस जिद को प्रणाम. साधुवाद ,जिसके चलते. लगभग समूचा विश्व इस संग्रह में समा पाया.

कहानी संग्रह –“प्रांत-प्रांत की कहानीयां” में प्रकाशित सभी कहानियों को हृदयंगम करते हुए मैंने महसूस किया है कि जो दुःख-दर्द, आशा-निराशा, स्मृतियाँ-विस्मृतियाँ, विडम्बनाएँ, कौतुहल, पाखण्ड, छल-छलावा-कपट तथा धुर्धताओं ने लगभग समूचे विश्व को बलात घेर रखा है. कहीं खाने को रोटी नसीब नहीं है, तो कहीं बेहजमी से आदमी मर रहा है. भारत हो या फ़िर विश्व का कोई भी देश, सभी में एक से हालात हैं. कोई भी देश इससे अछूत नहीं है. कहानियों के पात्र और स्थान भले ही अलग-अलग हों,लेकिन वास्तविकताएँ लगभग एक जैसी ही होती है. शायद यही कारण था कि मुझे बार-बार निदा फ़ाजली साहब की गजल याद हो आती है. वे लिखते हैं

इन्सान में हैवान, यहाँ भी हैं वहाँ भी,*अल्लाह निगहबान यहाँ भी है, वहाँ भी है खूँखार दरिंदों के फ़कत नाम अलग है*शहरों में बयाबान, यहाँ भी है, वहाँ भी है रहमान की कुदरत हो,या भगवान की मूरत,* हर खेल का मैदान,यहाँ भी है वहाँ भी हिंदू भी मजे में है, मुस्लमां भी मजे में है,* इन्सान परेशान,यहाँ भी है, वहाँ भी है उठता है दिलोजां से धुआँ दोनों तरफ़ ही* ये मीर का दीवान,यहाँ भी है,वहाँ भी है.

संसार मे व्याप्त पशुता के विरुद्ध लोग उठ खडे नहीं होते, ऐसा नहीं है. मनुष्यता को बचाए रखने की रचनात्मक कोशिशें आदि काल से होती रही हैं. मनुष्य विरोधी विचार हर काल में नये-नये रूपों में उभरते रहे हैं. रचनाकार भी उसी के अनुरूप समाज में मानवीयता बचाए रखने की पहल बराबर करते रहे हैं.

फ़िर छिड़ी बात में “विश्वा”पत्रिका-(अमेरिका) के संपादक श्री रमेश जोशी जी का वक्तव्य यहां प्रासंगिक है कि भारत जैसे बहुभाषी देश में अनुवाद का महत्व तो रहेगा ही. इतनी भाषाओं में मूलरुप से सब कुछ पढ़ पाना तो किसी राहुल सांस्कृत्त्यान के वश का भी नहीं है. इसलिए अनुवाद का महत्व तो रहेगा ही. यदि अनुवाद का काम नहीं होता तो, दुनिया बहुत से ज्ञान से वंचित हो जाती.

चण्डीगढ़ की डा.रेणुका बहल जी एवं ह्युस्टन अमेरिका की डा.कविता वाचक्नवी जी ने काफ़ी रोचकता के साथ इस संग्रह पर समीक्षा आलेख लिखें है, जो इस पुस्तक में दर्ज है. उन्हें साधुवाद.बधाइयां. सुश्री देवी नागरानी जी—“देश की महकती एकात्मकता” शीर्षक से अपनी मन की बात को रेखांकित करते हुए लिखती है-“मानव का संबंध मानव से, भाषा का संबंध भाषा से है. एक भाषा में कही व लिखी बात अनुवाद के माध्यम से दूसरी भाषा में अभिव्यक्त करके, हिन्दी भाषा के सूत्र में बांधते हुए शब्दों के माध्यम से भावनात्मक संदेश, पाठकों तक पहुँचाना ही इस अनुवाद की प्राथमिकता है.

सच है. मनुष्य प्रकृति का ही तो एक अंग है. वह न होता तो शायद ही प्रकृति बन पाती. प्रकृति में शामिल मानव चेतना-संपन्न है...आत्म-सजग है. इसी आत्मचेतना और सजगता के सम्मिश्रण से देवी नागरानी जी ने, अलग-अलग देशों की विभिन्न भाषाओ के मध्य, एक सेतु निर्माण का उल्लेखनीय काम किया है. एक ऐसा सेतु जो एक मनुष्य से दूसरे मनुष्य के बीच परस्पर संप्रेषण और सौहार्द का माध्यम बनता है. अपने छोटे-छोटे निजी दुःखों के बीच रहते हुए देश-देशांतर की कहानियों का सफ़रनामा लिखने को उत्सुक देवी जी की कहानियों में, उनका आत्मगत संसार बार-बार व्यक्त होता है. असंभव की संभावनाओं के इस दौर में उन्होंने काफ़ी कुछ हिन्दी साहित्य को दिया है, जो एक नयी समझ-नयी प्रेरणा और नए-उत्साह और नयी आशाओं से भर देता है. सुश्री देवी नागरानी जी की जितनी भी प्रशंशा की जाए, कम ही प्रतीत होगी. हिन्दी भवन भोपाल के मंत्री-संचालक मान. श्री कैलाशचन्द्र पंत जी एवं मध्यप्रदेश राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, जिला इकाई छिन्दवाड़ा (म.प्र.) की ओर से उन्हें हिन्दी भाषा के प्रति अगाध प्रेम रखने के लिए साधुवाद-शुभकामनाएं और अनेकानेक बधाइयां

-----------------------------------------------

गोवर्धन यादव

103, कावेरी नगर,छिन्दवाड़ा (म.प्र.)

अध्यक्ष मप्र.राष्ट्रभाषा प्रचार समिति E.mail-goverdhanyadav44@gmail.com जिला इकाई,छिन्दवाड़ा (म.प्र.)-480001

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=three$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$h=100

प्रायोजक

--***--

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * || * उपन्यास *|| * हास्य-व्यंग्य * || * कविता  *|| * आलेख * || * लोककथा * || * लघुकथा * || * ग़ज़ल  *|| * संस्मरण * || * साहित्य समाचार * || * कला जगत  *|| * पाक कला * || * हास-परिहास * || * नाटक * || * बाल कथा * || * विज्ञान कथा * |* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$h=110$d=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आत्मकथा,1,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4121,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,343,ईबुक,198,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,112,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3096,कहानी,2309,कहानी संग्रह,246,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,544,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,123,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,346,बाल कलम,25,बाल दिवस,4,बालकथा,69,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,17,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,29,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,245,लघुकथा,1278,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,19,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,348,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2021,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,715,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,815,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,19,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,93,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,212,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: सरहदों के पार महकती कहानियाँ - समीक्षक - गोवर्धन यादव
सरहदों के पार महकती कहानियाँ - समीक्षक - गोवर्धन यादव
https://1.bp.blogspot.com/-0KU8kvXy4aA/Xf7yGaxfWEI/AAAAAAABQiA/c6R1OSHUTB8W1Gpb2GrMT2i1Fgae5KGBgCK4BGAYYCw/s320/prant%2Bprant%2Bki%2Bkahani-706441.png
https://1.bp.blogspot.com/-0KU8kvXy4aA/Xf7yGaxfWEI/AAAAAAABQiA/c6R1OSHUTB8W1Gpb2GrMT2i1Fgae5KGBgCK4BGAYYCw/s72-c/prant%2Bprant%2Bki%2Bkahani-706441.png
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2020/01/blog-post_5.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2020/01/blog-post_5.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ