नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

कहानी - ब्लैकहोल - प्रताप दीक्षित

कहानी -


ब्लैकहोल

प्रताप दीक्षित

बुच्ची बाबू को पूरी उम्मीद थी कि परिषद की विशेष सभा में इस बार पुस्तकालय के लिए, कुछ न कुछ, निर्णय अवश्य लिया जाएगा। उन्होंने पूरी योजना पहले से ही बना रखी है। किताबें, जिसमें मुख्य रूप से उपन्यास, कथा साहित्य, कविताएं और कला संबंधी पुस्तकें, मंगवानी ही होंगी। क्रय की जा सकने वाली संभावित पुस्तकों की उन्होंने सूची भी बना रखी है। इसका आधार अनुमानित बजट होता। बरसों से पुस्तकालय में केवल अनुदान वाली पुस्तकें ही आती रही हैं। इसमें भी अधिकांश शोध प्रबंध, सरकारी विभागों के संदर्भ ग्रंथ. पिछले दो वर्षों से तो वह भी नहीं।

पुरानी पुस्तकों की भी हालत अच्छी नहीं है। इनके रख-रखाव, जिल्दसाजी की जरूरत है। जरूरत तो भवन की सफाई –पुताई और फर्नीचर, नया न सही, की मरम्मत की भी है। मालूम नहीं इतना बजट है भी या नहीं? गत तीन सालों में तो इस के नाम पर कुछ हुआ नहीं है।

‘प्रवासी साहित्य परिषद’ द्वारा संचालित इस पुस्तकालय में बुच्ची बाबू लगभग पन्द्रह वर्षों से कार्यरत हैं। असली नाम तो लोग भूल चुके थे। वह घर बाहर बुच्ची बाबू के नाम से प्रसिद्ध थे। लंबे, दुबले, गहरा सांवला रंग, माथे पर पीछे की ओर खींचे-संवारे गए सफेद बाल, उनके गंजेपन को और भी स्पष्ट कर देते। आंखों पर चौड़े फ्रेम और मोटे लेंसों वाला चश्मा। वह एक स्वायत्तशाषी जैसी संस्था से रिटायर हुए थे। संस्थान कभी का बंद हो चुका था। उन को बराएनाम, एक बहुत मामूली सी राशि, जिसे पेंशन कहा जाता, मिलती। परिवार के दायित्व अभी बाकी थे। बेरोजगार पुत्र, शादी की उम्र बीत गई एक बेटी का विवाह. भले नाम मात्र की, लेकिन एक मुस्तकिल आमदनी, पढ़ने की रुचि और अपने को व्यस्त बनाए रखने का बहाना ऐसे कितने कारण बुच्ची बाबू की इस लायब्रेरी वाली नौकरी के पीछे गिनाए जा सकते थे।

समय से पुस्तकालय खोलना, बंद करना, किताबों की सार-संभाल, कैटलॉगिंग, पुराने अखबारों की फाइलें तैयार करने से लेकर सदस्यों को कार्ड पर पुस्तकें निर्गम करने तक के सभी काम उनके जिम्मे थे। इसके अलावा के कामों - बिजली का बिल जमा करना, मेजों पर जमी धूल की सफाई , सचिव या अध्यक्ष महोदय के बुलावे पर हाजिरी आदि को क्या आप काम मानते हैं?

नगर में ‘प्रवासी साहित्य परिषद’ की स्थापना गत सदी के प्रारंभ में हुई थी। मुल्क की राजधानी के स्थानान्तरण की प्रक्रिया में इनसे जुड़े लोगों के हित भी बदले और एक स्थान से दूसरे तक, उनका पलायन भी हुआ। इसी क्रम में संस्था की स्थापना हुई थी। समाज सेवा, सांस्कृतिक गतिविधियों के अतिरिक्त अनेक विद्यालय, प्रकाशन संस्थान तथा अनुषांगिक संस्थाएं इसका प्रमाण हैं। प्रारम्भ में रायसाहब, रायबहादुर और स्वतन्त्रता के बाद पद्म उपाधियाँ इनकी सेवा-पारायणता का प्रमाण हैं।

नगर के मुख्य चौराहे चौराहे से अंदर की ओर जाने वाली सड़क पर पुस्तकालय भवन स्थित था। भारतीय और रोमन कैथोलिक स्थापत्य में दो मंजिला भवन के द्वार के ऊपर ‘प्रवासी साहित्य परिषद’ और इसके स्थापना वर्ष उकेरे गए थे। बाहरी दीवालें पीले-मटमैले रंग की थीं। भवन के दोनों ओर चौड़े मार्ग, जिनमें अब बड़ी बड़ी दुकानें खुल गई थीं। भवन के मुख्य हाल में दो कतारों में लगी मेजों पर दैनिक-साप्ताहिक समाचार-पत्र, पत्रिकाएं लगी रहती। दीवाल से सटी अल्मारियों में पुस्तकें चुनी हुई थीं। छत से लटकते हुए, शेड लगे, बल्बों की पीली रोशनी मेजों पर फैली रहती।

काम था ही कितना? बुच्ची बाबू सब सम्हाल लेते। किताबों की देखभाल के क्रम में वह छत पर उन्हें धूप दिखाते, उनकी धूल झाड़ते, पैस्टीसाइड्स का छिड़काव करते। दोनों हाथों में भर कर, बहुत आहिस्ते से, पतले जीने से किताबें छत पर ले जाते। इसमें उन्हें किसी तरह की तकलीफ न महसूस होती। बुच्ची बाबू को अक्सर घर में बूढ़ी माँ को गोद में उठा कर छत पर ले जाने और वापस लाने की आदत थी।

स्वतंत्रता के उपरांत जो विकास नगर में सात-आठ दशकों तक नहीं देखा-सुना गया था, वह अब, सदी के अंतिम दिनों में चतुर्दिक दृष्यमान था। पुरानी दुकानें वातानुकूलित स्टोर्स में तब्दील हो रही थीं। पार्क, स्कूलों के मैदान, मोहल्लों के खाली पड़े चौराहों, नुक्कड़ों, जहां किसी समय लड़के धमाचौकड़ी मचाते थे, लुप्त हो रहे थे। इनके स्थान पर बहुमंजिले भवन, रिहायशी फ्लैट्स, एपार्टमेंट्स आदि बनवाए जा रहे थे. सरकारी दफ्तरों, बैंकों आदि की बरसों पुरानी पुरानी ब्रिटिश स्थापत्य की ऊंची छतों वाली इमारतों को धराशायी कर उनके स्थान पर स्कार्इ-स्क्रैपर्स उग रहे थे।

झोपड़पट्टी के इलाकों का फैलाव इन स्कार्इ-स्क्रैपर्स के पिछवाड़े, बाउण्ड्री के बाहर, आसपास हो रहा था। अधबने ओर बनने की प्रक्रिया मे भवनों में राज-मिस्त्री, मजदूर, कामगार औरतें रहते। बच्चे मौरंग, बालू, चूने के ढेरों पर ‘स्कूल-स्कूल’ खेलते। कागज-पोलिथिन बीनने के लिए, सुअरों-कुत्तों के बीच, कूड़े के ढेर खंगालते। कभी कुछ खाने की वस्तु, बासी ब्रेड, सड़े-गले फेंक दिए गए फल आदि मिल जाते। सूअरों-कुत्तों से छीना झपटी होती। लेकिन सबल वे सूखे हुए बच्चे ही पड़ते। उनके चेहरे खिल उठते। छोटी-मोटी चोरियां करते, गालियां देते, पिटते। सामूहिक रूप से प्रात:-शांय निवृत्त होते। औरतें बच्चे जनतीं। अक्सर औरतों और किशोर बच्चों को, ठेकेदारों के मुंशी-कारिन्दे रात में उन अधबने कमरों में ले जाते, जिनमें अभी खिड़की-दरवाजे भी नहीं लगे थे। अगल-बगल आबाद हो रहे फ्लैट्स में बस गए लोग नाक-भौं सिकोड़ते, समाज में बढ़ती नैतिकता के पतन पर, जमाने को कोस कर रह जाते।

नगर के प्रमुख बिल्डर बी0आर0रंगवाली की वातानुकूलित कार जब भी इस मार्ग से गुजरती वह तनावग्रस्त हो जाते, उनका रक्तचाप बढ़ जाता। आकाश से बातें करते, जगमगाते भव्य भवनों वाले गुलजार इलाके में, पुस्तकालय भवन देख, प्रत्येक बार उन्हें लगता, जैसे किसी फाइव स्टार होटल में चल रही पार्टी के बीच कोई गलीज-अंधा भिखारी रास्ता भूल कर घुस आया है। इस बौनी इमारत का अस्तित्व बार बार अपना मुंह चिढ़ाता प्रतीत होता। वह क्षुब्ध हो जाते, गहरी सांसें भरते, अनुलोम-विलोम करते हुए ध्यान मुद्रा में डूब जाते। उन्हें अपने किए गए प्रयासों पर तंज होता। उन्हें आशंका होने लगती कि कहीं उनके प्रतिद्वंद्वी बिल्डर बाजी न मार ले जाएं।

उन्होंने बहुत पहले ही इस ‘प्रवासी साहित्य परिषद’ के तत्कालीन अध्यक्ष से संपर्क साधा था। अध्यक्ष ने लायब्रेरी की उपयोगिता, उसके इतिहास, पाठकों ओर कार्यकारिणी के सदस्यों के एतराज जैसी बातों पर मामला टाल दिया था। उनके मुंह में कड़वाहट घुल गई । ऊपर से संयमित, मुस्कराते रहे, अंदर ही अंदर कई मोटी गलियां लायब्रेरी के नाम पर दे डालीं। साले कूप-मंडूक! कौन पूछता है किताबों को आज? वह भी दीमक लगी, सीलन से भरी, जिनके पन्ने पलटते ही उबकाई आती है। फुरसत किसको है पढ़ने की आज? इसी लिए देश की तरक्की नहीं हो पा रहीं है। उनके आफिस में शायद ही कोर्इ फाइल या कागज का एक टुकड़ा भी मिलता। पूरा रिकार्ड कंप्यूटर में है। सभी अभिलेखों का बैकअप सी0डी0 के अतिरिक्त डिजास्टर व्यवस्था के अंतर्गत पूरी तरह सुरक्षित है। कागज के नाम पर, पाश्चात्य यूरोपियन-कमोड के साथ लगा, सफाई के काम आने वाला, टायलट रोल मात्र है। शेयर मार्केट के भाव वह निफ्टी की वेब साइड में देख लेते.

अचानक ही उनके मस्तिष्क एक नयी योजना का विचार, मूर्त रूप में, जन्म लेने को अकुलाया। बुद्धत्व हो अथवा न्यूटन, आर्इंस्टीन जैसे वैज्ञानिकों की नायब खोजें, उनका प्रस्फुटन ऐसे अचानक क्षणों में ही तो हुआ होगा। घर पहुंच कर, देर रात गए तक, कई जगह फोन करते रहे। अंतिम फोन संस्था के अध्यक्ष महोदय को किया था। अगले दिन वह उनके पास एक नए प्रस्ताव के साथ मिले। मुलाकात से पहले अध्यक्ष महोदय के पास कई फोन, कमेटी मेंबरों से लेकर प्रांत के शिक्षा मंत्री तक के, आ चुके थे।

‘प्रवासी साहित्य परिषद’ की आगामी सभा में, जिसकी बुच्ची बाबू को बेसब्री से प्रतीक्षा थी, स्वागत, पिछली कार्यवाही का अनुमोदन, धन्यवाद प्रस्ताव आदि औपचारिकताओं के बाद अध्यक्ष महोदय ने बड़ी सावधानी एवं निस्प्रह भाव से एक प्रस्ताव सदस्यों के विचारार्थ प्रस्तुत किया। प्रस्ताव में देश के अग्रणी भवन निर्माता माननीय रंगवानी साहब को पुस्तकालय भवन के हस्तांतरण के बाद, उनके द्वारा, उस स्थान पर, एक भव्य मार्केटिंग कॉंप्लेक्स के साथ मल्टी स्टोरी भवन बनाने तथा संस्था के साथ तीस वर्षों की लीज का प्रस्ताव शामिल था।

‘‘ना ना! चिंता करने की जरूरत नहीं है। आपके प्रिय पुस्तकालय के विकास का कार्यक्रम भी इसमें है’’, उन्होंने गहरी सांस ली, फिर बात आगे बढ़ाई - रंगवानी जी ने सभी पुस्तकों के साथ अन्य सामग्री को एक वेबसाइट पर उपलब्ध कराने की व्यवस्था करने का वायदा किया है। इस संबंध में संपूर्ण व्यय रंगवानी साहब द्वारा वहन किया जाएगा। इस सब में एक-दो साल लग सकते हैं। तब तक पुस्तकालय के पाठकों को जरूर धैर्य धारण करना होगा। इसके बाद वे घर बैठे, किसी भी इण्टरनेट कैफे में जाकर इसका लाभ उठा सकेंगे। इस सुविधा के लिए इस कॉम्प्लेक्स में भी एक स्थान होगा, जिसमें सामग्री का प्रिंट आउट, सामान्य दरों में, उपलब्घ कराने की व्यवस्था का विचार है। बिल्डर ने इसके लिए वायदा किया है। इस वेब साइट के नाम का सुझाव, ‘’हम चाहेंगे, जरूर आप दें। नाम जरूर कुछ, क्या कहते हैं, कल्चरल-वलचरल सा होना चाहिए।’’ उन्हें बोलने में कुछ कठिनार्इ हुई, ‘‘जैसे कवी कालीदास, प्रेमदास - -क्या कहते हैं उसे - -हॉं, निराला - जैसा कुछ! मैंने भी एक नाम सोचा है - www रवीन्द्रा.कॉम।‘’ एक ओर बात बताना जरूरी है कि इससे हमारी संस्था की बचत कितनी होगी। प्रति माह मिलने वाले लीज के किराए के अतिरिक्त किताबों, अल्मारी, फर्नीचर आदि के व्यर्थ के खर्चों की बचत।

मीटिंग के अगले दिन बुच्ची बाबू बहुत उत्साह में थे। सुबह-सुबह अध्यक्ष महोदय ने उन्हें बुलवाया था। उन्होंने शेव की। धुली पैण्ट-शर्ट के साथ आज टाई भी लगाई । ऐसे अवसर कम ही आते। वह अपनी खुशी छिपा नहीं पा रहे थे। उन्होंने परिवार के सदस्यों के आगे बोलना शुरू कर दिया - देर जरूर हुई, लेकिन मैं कहता था न कि इस बार पुस्तकालय के लिए अवश्य कुछ किया जाएगा। मेरी जिम्मेदारियों का बोझ और बढ़ गया। आखिर इतनी बड़ी तादाद पुस्तकों की खरीद कोई हंसी-ठट्ठा है? दूसरा कोई होता तो कमीशन में ही वारे न्यारे कर लेता। परंतु मैं, देखो तुम लोग कोई टोका टोकी नहीं करना, मैं उस पैसे को हाथ भी नहीं लगाऊंगा। उस कमीशन के पैसे से भी किताबें ही आएंगी। लेकिन है बड़ी झंझट वाला काम! क्या करूं! अध्यक्ष महोदय का कहा भी तो नहीं टाला जा सकता। कितना मानते हैं। कल ही तो मीटिंग हुई है। सुबह-सबेरे ही खुशखबरी देने बुलवा लिया - - ! उन्हें पता ही नहीं चला कि कब कमरा खाली हो गया, पत्नी-बच्चे जा चुके हैं।

मुलाकात होने पर अध्यक्ष महोदय ने बधाई दी तो उन्होंने भरपूर गर्मजोशी से उन्हें धन्यवाद दिया परंतु जब मीटिंग के प्रस्ताव की पूरी जानकारी उन्हें हुई तो हतप्रभ रह गए। उन्हें यकीन ही नहीं हुआ, मजाक समझा। लेकिन सत्यता जानने और सदमे से उबरने के बाद पुस्तकों के महत्व, उनकी जरूरत, सच्चा मित्र, उनका विकल्प न होने जैसे कितने तर्कों के तरकश खाली कर दिए।

अध्यक्ष महोदय चुपचाप मुस्कराते हुए सब सुनते रहे फिर एक प्रश्न किया था, ‘‘आपके पुस्तकालय में प्रतिदिन लगभग कितने लोग आते हैं और सदस्य कितने होंगे?’’

‘‘जी होंगे करीब पचास-साठ।’’ उन्होंने संख्या कुछ बढ़ा कर ही बतायी थी,

‘‘वेबसाइट पर तीन लाख और इससे भी ज्यादा लोग इस सुविधा का एक साथ लाभ उठा सकते हैं।’’ अध्यक्ष महोदय मुस्कराए।

‘‘परंतु - - परंतु- -’’ वह हकला गए।

‘‘और पुस्तकालय का खर्चा, आप का वेतन - इसकी भी तो बचत है।’’

‘‘क्या मेरे वेतन के लिए - -?’’ वह उत्तेजित हुए, फिर चुप, शांत!

‘‘नहीं मेरा यह मतलब नहीं। आप हमारे पुराने आदमी हैं, पिता जी के समय से। रंगवानी जी से बात करनी होगी। आपके लिए कुछ न कुछ जरूर करेंगे। कितने तो प्रोजेक्ट हैं उनके। किसी ठेकेदार के साथ हिसाब-किताब करने में रख लेंगे। अभी नहीं तो कुछ दिनों बाद।’’ अध्यक्ष महोदय ने उन्हें सांत्वना दी।

‘‘अरे! आप क्या समझते हैं कि मैं हजार रुपए के लिए यहां काम कर रहा हूं? मुझे सरकारी पेंशन मिलती है।’’ बुच्ची बाबू अचानक तैश में आकर अपने को न रोक सके। लेकिन पेंशन की राशि याद आते ही सम पर आ गए, ‘‘यह पुस्तकालय मेरी माँ। की तरह है। मेरा शौक, जुनून, कुछ भी कह लें। मैं बिना वेतन काम करने को तैयार हूं। नई पुस्तकें न मंगवाइए। लेकिन इसे बंद न करें। इमारत बिल्डर को न सौपें।’’ उन्होंने हाथ जोड़ लिए। गला रुंध गया, हांफ गए वह।

बुच्ची बाबू की व्यस्तताएं बढ़ती गईं । न दिन देखते, न रात। कमेटी मेबरों और पुस्तकालय के सदस्यों के घर दौड़ते। पूरी शिद्दत से अपनी बात समझाने की कोशिश करते। अखबारों में, पाठकों के पत्र वाले कॉलम के लिए, विभिन्न नामों से पत्र लिखते। लायब्रेरी के आस पास दुकानों, बैंकों में उनके कर्मियों, रिहायशी क्षेत्रों में जाकर लोगों से पुस्तकालय के सदस्य बनने के लाभ गिनाते। शहर में कितने तो स्कूल-कॉलेज हैं, प्रवासी संस्था के विद्यालयों में ही पांच हजार से ज्यादा ही विद्यार्थी होंगे। आधे भी सदस्य बन जाएं तो कितनी राशि तो सिक्योरिटी में ही जमा हो जाएगी! सुबह-शाम लायब्रेरी में लग जाते। सुबह, लायब्रेरी का समय न होने पर भी चले जाते। किताबों की झाड़-पोंछ करते, उन्हें निहारते, अल्मारी से निकाल कर, बहुत आहिस्ते से खोलते, बुदबुदाते जैसे बातें करते। जाने कब से उन्हें धूप नहीं दिखाई गई थी। कैटलॉग, रजिस्टर पुराने हो गए थे। वह नया कैटलॉग बनाने में जुट गए।

‘‘हुंह! इंटरनेट पर क्या सूचना, जानकारी मिलेगी? मैंने पढ़ी हैं किताबें। मैं बता सकता हूं किस विषय पर कौन किताब किसके लिए अच्छी है।’’ वह अकेले बुदबुदाते रहते। जाने कितनी किताबों के उद्धरण उन्हें पृष्ठ संख्या सहित याद थे।

लायब्रेरी में आने वाले पुराने पाठक, यदा-कदा कमेटी मेंबर भी आते, उनकी व्यस्तता देख पूछ लेते, ‘‘अरे अब आप क्यों हलकान हैं? कुछ ही दिनों की तो बात है। और अब आपकी उम्र भी तो आराम करने की है।‘’

‘‘वाह! अभी मेरी उम्र हुई ही कितनी है? रिटायर हुए केवल पन्द्रह साल ही तो हुए हैं।’’ रिटायरमेंट का वर्ष बताते बताते उन्हें लगता कि सामने वाले को उनकी आयु ज्यादा लग रही होगी, वह धीरे से कहते, ‘‘मेरी उम्र स्कूल में लिखी कुछ अधिक थी। इस लिए जल्दी रिटायर हो गया।’’ फिर बात बदल देते, ‘‘मैं बिल्कुल ठीक हूं। एकदम फिट।’’ वह सीधे तन कर कुर्सी से उठ खड़े होते.

वह बोलते-बोलते हांफ जाते, चेहरे का पसीना पोंछते। उन्होंने सुना था कि बिल्डर से बात काफी आगे बढ़ गई है, एग्रीमेंट होने ही वाला है। वह कई दिनों से अस्वस्थ थे। परंतु पुस्तकालय नियमित रूप से पहुंचते। जब तक सांस, तब तक आस। क्या मालूम कुछ चमत्कार हो जाए। जितने दिन देख सकते हैं, काम कर सकते हैं, काम कर लें। उन्हे पिता की बीमारी की याद आ गर्इ। पिता बिस्तर पर पड़े रहते, अंतिम दिन थे। वह दफ्तर से लौटते समय रास्ते में प्रार्थना करते रहते- प्रभु आज का दिन पार कर देना। पिता देखने को मिल जाएं। घर आकर पिता पुत्र एक दूसरे को देख कर मुस्कराते। उनकी आंखें भीगी होतीं।

आज पहली तारीख थी। कल रात से उनका दमा उभरा हुआ था। पुस्तकालय तो आना ही था। विवाहित बेटी की विदायी होनी थी। घर में कुछ नहीं था। आज वेतन मिल सकता था। लेकिन वेतन तो उन्होंने पिछले माह भी नहीं लिया था। वेतन के लिए अध्यक्ष महोदय के यहां जाना पड़ता। जब एक बार बिना वेतन के लिए काम करने को कह दिया तो किस मुंह से जाते उनके यहां। अध्यक्ष महोदय ने भी किसी से कहलाया तक नहीं। उनका आदमी रोज ही तो लायब्रेरी आता जाता है।

उन्होंने सोचा कि यदि अध्यक्ष महोदय ने जोर दिया तो वह दोनों माह का वेतन उठा लेंगे। पेंशन मिलती ही कितनी ही है?

पुस्तकालय बंद होने का समय रात साढ़े आठ का था। बुच्ची बाबू लायब्रेरी बंद करते समय कोने वाली चाय की दुकान से अक्सर किसी को बुला लेते थे। कमजोर नज़र के कारण ताला बंद करने में कुछ परेशानी होती। रात नौ बज गए थे। बुलाए न जाने पर आज वह स्वयं चला आया, ‘‘बुच्ची बाबू, आज बंद नहीं कराना है क्या?’’ उसने आवाज दी।

बुच्ची बाबू ने सुना नहीं। बुच्ची बाबू मेज के पीछे बैठे हुए थे। सिर कुर्सी की पीठ से टिका हुआ था। नौकर ने फिर से आवाज दी, लगता है - थके होने से सो गये हैं, बूढ़ा शरीर, उसने सोचा। जवाब न मिलने पर उसने कंधे को छुआ, हिलाना चाहा। बुच्ची बाबू एक ओर लुढ़क गए। आंखें निष्पलक खुली रह गई थीं। होंठों पर मुस्कराहट थी - मैं बिल्कुल ठीक ठाक हूं।


प्रताप दीक्षित

एम0डी0एच0 2/33, सेक्टर एच,

जानकीपुरम, लखनऊ 226 021

Email dixitpratapnarain@gmail.com

--

परिचय

नामः प्रताप दीक्षित

जन्मः 30 सितंबर 1952

शिक्षाः एम0ए0 (हिंदी)

रचनाएं: हंस, वागर्थ, नया ज्ञानोदय, वर्तमान साहित्य, कथाक्रम, कथादेश, वर्तमान साहित्य, पाखी, संचेतना, लमही, उत्तर प्रदेश, जनसत्ता, दैनिक जागरण, अमारउजाला, अक्षरा, शुक्रवार, जनसत्ता, हिन्दुस्तान, नवभारत, पंजाबकेसरी जनसंदेश टाइम्स आदि में 150 से अधिक कहानियां, समीक्षाएँ, लघुकथाएं, आलेख, व्यंग्य प्रकाशित।

दो कहानी संग्रह (‘विवस्त्र एवं अन्य कहानियां‘ तथा ‘‘पिछली सदी की अंतिम प्रेमकथा’) प्रकाशित।

उत्तर प्रदेश हिन्दी प्रचारिणी सभा द्वारा आयोजित कविता प्रतियोगिता में तत्कालीन राज्यपाल उत्तर प्रदेश (श्री अकबर अली खान द्वारा पुरस्कृत 1973

प्रताप दीक्षित के रचनाओं पर रूहेलखंड विश्वविद्यालय में एक छात्रा द्वारा पी.एचडी हेतु शोध.

संप्रतिः भारतीय स्टेट बैंक में प्रबंधक पद से सेवानिवृत्ति के बाद स्वतंत्र लेखन.

जानकीपुरम, लखनऊ 226 021

संपर्कः Email dixitpratapnarain@gmail.cpm

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.