नाका - विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका. 

विविध विधाओं में से चुनकर पढ़ें -

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---

यहाँ की विशाल ऑनलाइन लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोज कर पढ़ें -

 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com  रचनाकार के वाट्सएप्प नंबर 8989162192 (कृपया कॉल नहीं करें, कॉल रिसीव नहीं होगी, तथा इसका उपयोग केवल प्रकाशनार्थ रचना भेजने के लिए ही करें) पर भी वाट्सएप्प से रचनाएँ अथवा रचना पाठ के वीडियो प्रकाशनार्थ भेजे जा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ [लिंक] देखें.

--

कहानी - पिछली सदी की अंतिम प्रेमकथा - प्रताप दीक्षित

कहानी -

पिछली सदी की अंतिम प्रेमकथा

(इस कहानी में पात्र, स्थान, घटनाओं के अतिरिक्त कुछ भी कल्पित नहीं है)

प्रताप दीक्षित

बात तब की है जब उस धूल और धुएँ से भरे शहर में शनि का सातवाँ मंदिर और सत्रहवां ब्यटी पार्लर एक ही दिन खुले थे। मंदिर एक पौश कॉलोनी में, और ब्यटी पार्लर फट्टेवाली गली में। मंदिर तो कॉलोनी के बाशिंदों के लिए तो आश्चर्य का सबब नहीं था। रातों-रात अकूत संपत्ति बढ़ने के साथ लाजिमी तौर पर बढ़ती असुरक्षा की भावना पर शनिदेव स्पीड्ब्रेकर का काम करते। लेकिन उस पुराने मुहल्ले की गली में खुला ब्यूटी पार्लर लोगों के बीच चर्चा का विषय बना रहा। मोहल्ले वालों ने सक्सेना साहब के घर के बाहरी हिस्से में, कई दिनों से, कुछ मरम्मत.निर्माण जैसा काम चलते देखा था। शहर का पुराना हिस्सा था। कई घरों में पढ़े लिखे बेरोजगार लड़कों को नीचे के हिस्से में दुकानें खुलवा दी गई थीं। दुकानों में रोजमर्रे की जरूरतों की थोडी बहुत चीजें रहतीं। हिल्ले रोजी का बहाना तो था ही। कल शाम जब सक्सेना साहब की दूसरे नम्बर की लड़की . माधुरी ने पार्लर के उद्घाटन संबंधी कार्ड पड़ोस के घरों में बांटे तब लोगों को पता चला। अगले दिन मकान के बाहरी दरवाजे पर बाकायदा ‘ला-बोहीम ब्यूटी पार्लर’ का बोर्ड भी टंग गया था।

पिछले दिनों से शहर में जो परिवर्तन आए थे उन्हें देखते हुए ब्यूटी पार्लर का खुलना आश्चर्य की बात नहीं थी। सिविल लाइन्स और मुख्य बाज़ार वाली सड़क पर तो पहले से ही कितने ब्यूटी पार्लर, इण्टरनेट कैफ़े जैसी दुकानें जाने कब से थीं। परन्तु फट्टे वाली गली जैसे पुराने, पिछड़े मोहल्ले में यह चल सकेगा, इसमें लोगों को संदेह था। घरों के नलों में प्रेसर की कमी से पानी तक तो आता नहीं था। कुछ घरों में पानी खींचने के मोटर अवश्य लग गए थे, बाकी लोग सुबह शाम गली के मुहाने पर सरकारी हैण्डपम्प से पानी भरते नज़र आते। बिजली की कटौती भी नियमित होती ही। लेकिन मोहल्ले के युवाओं ने जरूर नए जमाने की दस्तक महसूस की थी।

यह कस्बाई मानसिकता वाला, वर्षों से एक तरह की जिन्दगी गुजारते हुए भी, न ऊबने वाला शहर था। बुजुर्गों ने जो परिवर्तन शायद पूरी उम्र नहीं देखे होंगे, वह बीतती सदी के अंतिम दिनों में, न केवल महसूस कर रहे थे बल्कि एक तरह से आत्मसात भी। ऐसे में जनार्दन शास्त्री द्वारा मेरा दरवाजा खटखटा कर अपनी चिंता व्यक्त करना अवश्य मुझे आश्चर्यजनक लगा।

सुबह सुबह मेरी नींद उनके पुकारने से खुली थी। बाहर जनार्दन शास्त्री थे। उन्होंने गम्भीर स्वर में कहा, ‘प्रदीप जी आपको नहीं मालूम नहीं, सक्सेना साहब की लड़की ने मोहल्ले में ब्यूटी पार्लर खोला है!’

रात की ड्यूटी से लौट कर नींद टूटने से वस्तुस्थिति समझने में मुझे देर लगी। जनार्दन जी आगे बोले, ‘आप तो अखबार में हैं। क्या आपका कर्तव्य नहीं इस पर कुछ लिखें। हमारी संस्कृति का प्रश्न है। आखिर मोहल्ले में बहू बेटियां हैं या नहीं?’

मुझे हंसी आ गई, ‘उन्हीं के लिए तो खुला है।‘

ऐश्वर्या राय, सुस्मिता सेन, प्रियंका चोपड़ा, लारा दत्ता युक्तामुखी आदि की भुवन-विजय ने लड़कियों में सोया हुआ सौन्दर्य बोध एकाएक जगा दिया था। फिर फट्टे वाली गली अप्रभावित कैसे रह जाती। यहां के लोगों की इच्छाएं, सपने, समस्याएं, संघर्ष उन लोगों से अलग तो नहीं थीं जैसे मुल्क, सूबे अथवा शहर के अन्य हिस्सों में रहने वालों की।

सक्सेना साहब की तीनों लड़कियां विवाह की प्रतीक्षा में दो. दो, तीन. तीन विषयों में एम0ए0, कम्प्यूटर आदि में डिप्लोमा कर चुकी थीं। बाज़ार में सरकारी नौकरी वाले तो दूर, एम0आर0-सेल्समैनी करने वालों के जो रेट थे, बोली लगाने में असमर्थ सक्सेना साहब ने सब कुछ भाग्य सहारे छोड़ दिया था। उनकी बेटी माधुरी ने ऐसी ही किसी मांग पर, उसे देखने आए लड़के वालों को न केवल घर से निकाला था, पुलिस में रिपोर्ट की धमकी भी दी थी। उसने छह माह का ब्यूटीशियन का कोर्स कर बैंक से प्रधानमंत्री रोजगार योजना में ऋण लेकर घर के नीचे ब्यूटी पार्लर खोल लिया था।

टी0वी0 चैनलों द्वारा फैशन शो, सौन्दर्य प्रतियोगिताओं और प्रायोजकों के सजीव प्रसारण वाले कार्यक्रमों के साथ साथ लुभावने विज्ञापनों ने आम लड़कियों में ही नहीं बल्कि उनके परिवार के सदस्यों में भी सजगता पैदा कर दी थी। गोरेपन की क्रीमें, लोशन, पाउडर, शैम्पू, रेशम जैसी त्वचा के लिए हेयर रिमूवर क्रीम आदि सौन्दर्य प्रसाधनों की मांग देखते देखते कई गुना बढ़ गई थी। अब तो दो से दस रुपए तक के पाउचों में यह उपलब्ध थीं। छोटे छोटे शहरों में भी फैशन शो में लड़कियां स्टेज पर कैटवाक करतीं। सौन्दर्य प्रतियोगिताओं में तीज क्वीन, मिस सावन, मिस विंटर, मिस समर आदि चुनी जातीं।

ऐसे ही किसी आयोजन में बिट्टो और गुड्डन की प्रेमकथा का प्रारंभ हुआ था। बिट्टो स्थानीय महाविद्यालय में बी0ए0 की छात्रा थी। माँ-बाप की लाडली बिट्टो भी अन्य लड़कियों की तरह धण्टों अपने को शीशे में कई कोणों से निहारती। भव्य विज्ञापनों ने उन्हें इतना तो सिखा ही दिया था कि फलां शैम्पू, फलां क्रीम, फलां कम्पनी की ब्रेजियर पहनने के बाद स्वयं को उस मॉडल के स्थान पर प्रतिस्थापित कर लेती। बिट्टो में तो बचपन से ही संकोच ऐसा कुछ नहीं था। पांच-छह साल की उम्र में ही, मेरे हाथों में नौ नौ चूड़ियां हैं, गाते हुए कमर मटकाती तो परिवार वाले निहाल हो जाते। उसमें ओर कुछ हो न हो, इतना तो उसके व्यक्तित्व में था ही कि जो मिलता, देखता आकृष्ट हो जाता। बोलती हुई आंखें और बोल्डनेस। बिजली-पानी का बकाया बिल वसूल करने वाला अमीन तेज आवाज में बोलता, घर के सामने किसी ने अपने घर का कचड़ा डाल दिया हो अथवा सरकारी राशन की दुकान पर चीनी खत्म हो जाने की नोटिस चस्पा होती, वह सीधे मोर्चा सम्हाल लेती। माँ-पिता समझाने की कोशिश मात्र करते क्योंकि अपनी आज्ञा पालन का नतीजा वे पहले से ही जानते होते।

फट्टेवाली गली में खुले ब्यूटीपार्लर की सम्भवत: पहली ग्राहक वही थी। लायन्स, रोटरी की तर्ज पर बने एक नए नए क्लब और स्थानीय साड़ी के व्यापारी द्वारा प्रायोजित कालेज-क्वीन प्रतियोगिता में वह रनरअप रही थी। परन्तु उसके बोल्ड और बेबाक वक्तव्य ने उसे चर्चित कर दिया था। शहर के एक होटल में एक दिन पहले पुलिस ने कुछ कालगर्ल्स और ग्राहकों की गिरफ्तारी की थी। अखबारों ने इसे प्रमुखता से छापा था। सौन्दर्य प्रतियोगिता के स्थल पर उपस्थित एक चलते-पुर्जे, घुटे हुए रिपोर्टर ने उस समाचार पर लड़कियों की टिप्पणी जाननी चाही थी।

बिट्टो ने अन्य प्रतिभागियों की तरह उन्हें समाज का कलंक .अभिशाप जैसा कुछ नहीं कहा था। उसने यह उन लड़कियों का निजी निर्णय और मौलिक अधिकार बताया था – ‘सती बना कर जीवित जला दिए जाने की नियति को बिना प्रतिरोध स्वीकार करने, महिमामण्डित की जाने वाली सतियों से तो कम दर्जा उन्हें नहीं मिलना चाहिए।‘ आयोजन स्थल और पूरे शहर में हड़कम्प मच गया था। पर बिट्टो भी एक ही पागल! उसे क्या चिंता होती।

बिट्टो . गुड्डन का प्रेम और शहर में आने वाली तब्दीलियां लगभग एक ही समय में शुरू हुए थे। विकास की प्रक्रिया में एक ओर बहुमंजली इमारतें, दूसरी ओर अनधिकृत मलिन बस्तियों की वृद्धि हो रही थी। पुलिस और ठेकेदारों के गुर्गे अवैध तरीके से रहने की वसूली करते। बालू-मौरंग के ढेरों पर उनके बच्चे स्कूल-स्कूल खेलते। अधबने भवनों में, जिनमें दरवाजे-खिड़कियां लगना बाकी होता, खाली थे। रात में ठेकेदार, उनके मुंशी जवान कामगार औरतों ओर किशोर वय के लड़कों को वहाँ ले जाते। जो एपार्टमेण्ट्स बस गए थे, उनकी ऊपरी मंजिलों की खिड़कियों से सब कुछ दिखता। वहां रहने वाले नाक-भौं सिकोड़ते। नैतिकता के पतन पर जमाने को कोस कर रह जाते। शनिवार को शनि के मंदिर में लाइन में लग कर तेल चढ़ाते, दान-पेटी में कुछ सिक्के डाल देते। टूटी फूटी सड़कों पर जमा मलबे, ईंट-रोडों के ढेर से मार्ग अवरुद्ध रहते। वाहनों, जेनरेटरों का धुआं और शोर कान फोड़ता। पतनोन्मुख विकास का अभिशाप को झेलने के लिए लोग अभिशप्त थे।

गुड्डन महाशय गौर वर्ण, लम्बा-दुबला शरीर, आंखों पर मोटे लेन्सों का चश्मा। खादी का गहरे रंग का कुरता-पाजामा या जीन्स। कंधे पर झोले में कॉलेज से लेकर पब्लिक लायब्रेरी तक से जारी कराई गई पुस्तकें। वह उन दिनों इतिहास में एम0ए0 कर रहे थे। उनके शुभचिंतकों का कहना है कि गुड्डन ने प्रत्येक कार्य गलत समय पर प्रारम्भ किया। जब उनके पिता ने अपने एकलौते पुत्र से अपना ज्योतिष और पौरोहित्य का काम सम्हालने को कहा। उस समय वह इण्टर विज्ञान के छात्र थे। उन्हें इंजीनियर बनने की धुन सवार थी। अन्तत: पिता की विरासत एक चचेरे भाई ने सम्हाल ली। आज उस भाई के क्लाइण्ट्स में बड़े बडे उद्योगपति, व्यापारी, सरकारी अधिकारी और मन्त्री आदि हैं। उसका अधिकांश समय देश की राजधानी में बीतता है।

ऐन प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा पास कर लेने के बाद गुड्डन को इसकी निस्सारता समझ में आई। बेरोजगार इंजीनियरों की भीड़ और भ्रष्ट इंजीनियरों को देख कर उन्होंने बी0ए0 करने का निर्णय लिया। पिता और मित्रों ने लाख समझाया। पर गुड्डन ही क्या जो अपनी जिद छोड़ते। वामपंथ की ओर भी उनका झुकाव तब हुआ जब लोगों ने संसार के मानचित्र से इसके प्रवर्तक दुर्ग को ढहते देखा।

कॉलेज के लम्बे सूने गलियारे, लायब्रेरी, शहर की धूल भरी सड़कें उनके प्रेम की साक्षी थीं। मालूम नहीं यह कैसा प्रेम था! उनमें बहसें होतीं, झगड़े की हद तक। फिर भी एक दिन भी एक दूसरे से अलग रहना मुश्किल हो जाता। बिट्टो आधुनिकता की पक्षधर थी। गुड्डन विकास के इन्हें विकसित देशों की साजिश मानते। वे शहर से दूर नदी तट तक चले जाते। घाट की सीढ़ियों पर पानी में पांव दिए, मन्दिरों के खंडहरों में अथवा नदी के पार बालू के ढूहों में उगी कंटीली झाड़ियों के पीछे बैठे रहते। यहां बिट्टो की मुखरता समाप्त हो जाती। गुड्डन तो पहले ही कम बोलते। बिट्टो उनका चश्मा उतार लेती। गुड्डन को सब कुछ धुंधला दिखता। बिट्टो उनके होंठों पर उंगली रख देती, ‘श्श- -। .कुछ कहना मत। मैं केवल तुम्हारा साथ महसूस करना चाहती हूं।‘ बिट्टो का सिर गुड्डन के कंधे पर होता अथवा उनका सिर बिट्टो की गोद में। बंद आंखों से वह उसकी सांसो की छुअन अपने चेहरे, होठों पर महसूस करते। किसी प्रतीक्षा में अपनी सांस रोक लेते।

यह वह समय था जब परिवर्तन बाहर ही नहीं अंदर भी हो रहे थे। वस्तुओं के साथ साथ समय, संबंध, खुशियां, यातनाएं, आंसू, मनुष्य के प्रत्येक कार्य कलाप वस्तुओं में बदल रहे थे। मूल्य प्रतिफल पर निर्भर करता था। ऐसे मे उनका प्रेम कैसे अप्रभावित रहता। समय बीतने के साथ बिट्टो को उनकी बाते किताबी, सुझाव उपदेश और प्रतिबंध लगने लगे थे। गुड्डन को अपना अध्ययन और मिशन छूट गया लगने लगता। फिर प्रेम होता भी तो चन्द्रमा की तरह है. यदि बढ़ता नहीं तो घटने लगता है। दोनों में ही शायद अपनी परिधि के अतिक्रमण का साहस और सामर्थ्य नहीं थी।

ऐसी ही एक देर शाम तेज बारिश के बीच सुनील गुप्ता ने उन्हें अपनी कार में लिफ्ट दी थी। बिट्टो और गुड्डन लगातार मौन थे। सुनील उनके साथ एक साल पढ़ चुका था। बीच में पढ़ाई छोड़ वह अपने पैतृक व्यवसाय में लग गया था। वह उनके संबंध में सब कुछ जानता था। उसमें संभावनाओं के आकलन की अपूर्व क्षमता थी। सुनील ने आकलन कर लिया। तीसरे दिन उसने बिट्टो को प्रपोज किया था। बिट्टो बिफर पड़ी। उसने इंकार कर दिया। सुनील ने धैर्य के साथ प्रतीक्षा की। अगले सप्ताह बिट्टो से, उसके माता-पिता के सामने, फिर मिला था। बिट्टो के पिता-माँ ने सुखद आश्चर्य से अपना भाग्य सराहा था। अपनी जाति बिरादरी का उच्च, संपन्न परिवार का रिश्ता घर चल कर आया था। क्या रखा है उस नामुराद गुड्डन में। पिता बिट्टो के आगे कातर हो उठे थे। सुनील को सफलता मिलनी ही थी।

फिर इतनी जल्दी सब कुछ हुआ कि बिट्टो समझ में ही नहीं आया कि वह क्या करे। गुड्डन से बोलचाल बंद थी। कई दिनों से मुलाकात भी नहीं हुई थी। उसने माल रोड के बुक स्टाल, पब्लिक लायब्रेरी, नदी तट के चक्कर लगाए जहां उनसे मिलने की संभावना हो सकती थी, परन्तु वह कहीं नहीं थे। उनके कमरे में ताला लगा था। पहले भी अक्सर ऐसा होता। लेकिन वह कहीं न कही से उन्हें ढूंढ़ निकालती थी। वह द्वंद्व में थी। एक ओर माता-पिता की अकेली संतान होने के नाते उनकी इच्छाओं की पूर्ति, सुनील का आकर्षक व्यक्तित्व, तेज जीवन शैली, उसके साथ आकाश छूने की महत्वकांक्षाएं। दूसरी ओर उसके पहले और शायद आखिरी होने जा रहे प्रेम का मिथक। और गुड्डन मिले तब, जब उसका वर्तमान अतीत हो चुका था।

इसके बाद समय में इतनी तेजी से परिवर्तन आए कि वर्तमान क्षण कब हाथ से निकल जाता, पता भी न चलता। लोगों की ही नहीं समाज की प्राथमिकताएं बदल रही थीं। वैभव और भोग को सर्व स्वीकृति मिल चुकी थी। बाज़ार में सब कुछ उपलब्ध था। साधनों पर प्रश्न उठाना बेमानी हो गया था।

शादी के पांच वर्ष बाद की कल्पना तो स्वयं बिट्टो ने भी नहीं की थी। व्यस्तता के साथ गति बढ़ गई थी। क्योंकि समय कम था। वह तेज कार चलाती, पार्टियां अरेन्ज करती, बिजनेस डील भी। महत्वपूर्ण अतिथि होते। सजना-संवरना अब उसका शौक नहीं, जरूरत थी। पति का आग्रह था. उसे नियमित अंतराल पर शहर के महंगे ब्यूटी-पार्लर जाना होता। पति का व्यवसाय कई स्तरों पर फैल गया था। प्रतिस्पर्धा भी कम नहीं थी। कल का कुछ निश्चित नहीं था। खर्चे बहुत बढ़ गए थे। नए फ्लैट, कार, फर्नीचर की किश्तें। क्लबों की मेम्बरशिप, पाटियों के बेइन्तिहा खर्चे। पाटिर्यों में मंहगे ड्रिंक्स होते ही। नृत्य और तेज स्वर में पाश्चात्य संगीत भी। उसके सिर में दर्द हो जाता। वह पार्टी छोड़ कर आराम करना चाहती। परन्तु सुनील भी तो कम व्यस्त नहीं था। अक्सर पार्टी चलती होती, सुनील का मोबाइल बजता और वह अतिथि से क्षमा मांग कर चला जाता। वह होस्ट थी। अतिथि का ध्यान रखना उसका कर्तव्य था। ऐसे वक्त कभी उसे सौन्दर्य प्रतियोगिता के समय रिपोर्टर को, दिए जवाब की याद आ जाती।

सुनील नींद के लिए डिंक्स लेता ही। बिट्टो को भी देर तक नींद न आती। वह किसी मेले में अकेले छूट गई बच्ची की तरह नितांत अकेला महसूस करती। अक्सर उसे भी एक दो पैग लेने पड़ जाते। एक रात सुनील के सोने के बाद उसे अपनी बचकानी हरकत याद आई थी। विवाह के एक दिन पहले वह गुड्डन के पास गई थी। बिट्टो ने उससे सीधे सीधे पूछा था, ‘क्या तुम मुझे, आज रात किसी ऐसी जगह, कमरे या होटल में ले चल सकते हो?’

‘लेकिन क्यों . .कहां . .’ गुड्डन हकबका गए थे।

‘मैं तुम्हारे बच्चे की माँ बनना चाहती हूं।‘ गुड्डन का चेहरा विवर्ण हो गया था। फिर तेज ठहाका लगाया था। वह तो उसके पागलपन की बातें सदा से जानते रहे थे। बिट्टो जानती थी कि यह हंसी कितनी नकली है। इसके पीछे कितनी यातना छिपी है। वह लौट आई थी।

गुड्डन से यदा कदा मुलाकात हो जाती। एक ही शहर था। उनकी एक कॉलेज में अस्थायी पद पर नियुक्ति हो गई थी। उनके चश्मे का नम्बर बढ़ गया लगता था। दुबले और हो गए थे। कंधे के झोले में किताबों के साथ तमाम अन्तर्राष्ट्रीय बुलेटिनें रहने लगी थीं। प्रो0 प्रेम भूषण उर्फ गुड्डन अब इतिहास और वर्तमान की तिथियों के बीच साम्य ढूंढ़ा करते थे। बी0ए0 प्रथम वर्ष के बैच में छात्रों से परिचय के बाद प्रश्न पूछा था, ‘आप इस वर्ष चुनी गई मिस यूनिवर्स की फिगर्स जानते हैं?’

छात्राएं कुछ संकुचित हो गई थीं। परन्तु छात्र उत्साहित हो उठे। एक ने कहा था, ’36-26-34’

‘यह प्रतियोगिताएं स्त्री को वस्तु बनाती है। बहु-राष्ट्रीय कम्पनियों द्वारा सौन्दर्य प्रसाधन बाज़ार के दोहन के लिए आयोजित की जाती हैं।‘ प्रो0 गुड्डन कहते। प्रो0 गुड्डन कॉलेज में छात्रों के बीच लोकप्रिय हो गए थे। नई सत्ता ने पद-ग्रहण किया था। वह देर तक शून्य में देखते रहे थे फिर कहा था, ‘क्लाइव ने आज ही के दिन 1757 में मीर जाफ़र को गद्दी पर बैठाया था। जिसने इतिहास की गति विलोम कर दिया।‘

एक दिन उन्होंने इतिहास की कक्षा में कहा, ‘अजब संयोग है कि सिएटल में विश्व व्यापार संगठन द्वारा जिस दिन एण्टी डम्पिंग कानून पास करके भारत के कृषि उपज निर्यात को सीमित किया गया ठीक इसी दिन 1762 में मुंगेर संन्धि द्वारा अंग्रेज व्यापारियों पर नौ प्रतिशत और भारतीय व्यापारियों पर तीस प्रतिशत महसूल लगाया गया था।‘

वह तारीखों के बीच जीते थे। एनरॉन, दभोल, उद्योगों का विनिवेश सबके समानान्तर इतिहास की काली तारीखें, जिनमे ‘ईस्ट इंण्डिया कम्पनी’ने देश को विपन्न करने के कानून पारित किए या सन्धियां कीं, सब उन्हें जुबानी याद थीं। एक दिन उन्हें प्रधानाचार्य ने बुलाया था, ‘मि0 त्रिवेदी, मुझे रिपोर्ट मिली है कि आप बच्चों को अनर्गल बातें बता रहे हैं। आपको अपने विषय तक सीमित रहना चाहिए। और अभी आप कन्फर्म भी नहीं हुए है।‘

‘मैं अपना विषय और सीमाएं जानता हूं। परन्तु क्या आप जानते हैं कि बिसलेरी को प्याऊ क्यों नहीं पसंद हैं?’ प्रधानाचार्य को असमंजस में छोड़ उन्होने दूसरा प्रश्न किया, अच्छा इसे छोड़िए, इतिहास के विषय में अलबरूनी ने क्या कहा है?’

प्रधानाचार्य उन्हें मौन घूरते रहे। गुड्डन ने आगे कहा, ‘अलबरूनी कहता है कि, इतिहास अपनी प्रवृतित्यों से कितनी तरह की भ्रांतियां पैदा करता है, जिनसे बचना आवश्यक है।‘ कह कर गुड्डन उठ गए थे।

उस दिन बिट्टो की कार फट्टेवाली गली के बाहर रुकी थी। शाम को सुनील ने एक पार्टी आयोजित की थी। उसने एक शीतल पेय कम्पनी की स्थानीय डीलरशिप के लिए आवेदन किया था। कम्पनी के भारत स्थित, क्षेत्रीय कार्यालय के उप-प्रमुख को, नगर में सर्वेक्षण हेतु आना था। पार्टी उनके स्वागत में दी जा रही थी। नगर के अन्य पार्लर बंद होने के कारण उसे यहां आना पड़ा था। गली से निकल कर कार तक जाते हुए उसे गुड्डन मिले थे।

‘कैसे हो?’ उसने पूछा था। पूछने के साथ ही उसके दिल में हूक सी उठी थी। गुड्डन हड्डियों का ढांचा मात्र रह गए थे। कपड़े न जाने कब से नहीं बदले होंगे। गुड्डन गंभीर थे, ‘जानती हो आज कौन सी तारीख है?’

वह मुस्कराई। उसे देर हो रही थी। घड़ी की ओर देखते हुए उसने याद करने की कोशिश की, फिर बोली, ‘मैं सोचती हूं कि मुझे कॉलेज में इतिहास चाहिए था।‘

‘आज ही के दिन क्लियोपेट्रा को सीजर ने प्राप्त किया था, जो कालान्तर में रोम के पतन का कारण बना।‘ गुड्डन ने कहा था।

उसके पास गुड्डन से करने को बहुत सी बातें थीं. उनकी छूट गयी नौकरी, उनका स्वास्थ्य और बहुत कुछ जिसे वह स्वयं नहीं जानती थी। लेकिन गुड्डन नहीं रुके थे। बिट्टो को पार्टी के बाद देर रात याद आया था उस दिन उसके विवाह की वर्षगांठ थी, न उसे याद रहा, न सुनील को।

उसी दिन शाम को मुख्य चौराहे पर कोल्ड ड्रिंक की बड़ी सी दुकान के सामने गुड्डन चीख रहे थे। कार से उतर कर एक सभ्रांत से दिखने वाले परिवार के हाथों में शीतल पेय की बोतलें थीं। गुड्डन की आवाज भर्रा गई थी, ‘आप जानते हैं कि आप क्या पी रहे हैं? यह उन किसानों का खून है जिन्होंने आत्महत्याएं की हैं। उन्हें अपनी फसलों के लिए पानी नहीं मिल पा रहा था। वहीं इस शीतल पेय कम्पनी को पानी पचास पैसे गैलेन दिया जा रहा है। इसमें उन किसानों का रक्त मिला है। आप इन हत्याओं में शामिल हैं।‘

परिवार की औरतें, बच्चे सहम कर अपनी कार की ओर बढ़ने लगे थे। तभी दुकानदार ने उतर कर उन्हें धकियाया था। वह गिर पड़े, उनका चश्मा टूट गया था। पास खड़े लोगों ने ठहाका लगाया था। दूसरे दिन सुबह फोन आया था। सुनील को कम्पनी की डीलरशिप नहीं मिल सकी थी। उसको पूरी उम्मीद थी। उसने कोई कसर नहीं छोड़ी थी। वह तो पार्टी में नहीं था। लेकिन बिट्टों से तो अतिथि का ख्याल रखने को कह ही गया था। फोन रख कर उसने तिक्त स्वर में कहा, ‘डीलरशिप अरोड़ा ले मरा! जानती हो उसकी बीवी कितनी स्मार्ट है! बिहाइण्ड एवरी ग्रेट मैन देयर इज़ अ वोमेन’ फिर हैंगओवर की चिड़चिड़ाहट में वह देर तक बड़बड़ाता रहा। पूरे दिन सोता, जागता रहा।

शाम को नहाने के बाद बिट्टो ने हल्का सा मेकअप किया। उसने ढेर सारी चूड़ियां पहनी थीं। उसने सुनील से कहा, ‘अब सोचो मत। तुम्हारा कांट्रेक्ट वाला काम तो है न। बहुत होगा मैं भी कहीं नौकरी कर लूंगी। आज शाम हम घर पर ही रहेंगे।‘ उसने मोहक नज़रों से सुनील को निहारा था, ‘शादी के कितने दिन हो गए। अब मैं माँ बनना . . .।‘ उसने बात पूरी नहीं की। शरमा कर नीचे देखने लगी।

सुनील ने इंपीरियल ब्ल्यू की बोतल खोल ली थी। वे देर रात तक पैग पर पैग पीते रहे थे। नशे के तेज होने पर बिट्टो को विवाह उपरांत हनीमून के मंदिर दिन और मादक रातें याद हो आईं। उसने लड़खड़ाती आवाज में कहा था, ‘तुमने मुझे कब से प्यार नहीं किया है!’

उसे बार बार आज सुनील का उन्मुक्त और बहु आयामी प्रेम याद आ रहा था। बाजार में उपलब्ध बहुराष्ट्रीय कम्पनियों द्वारा निर्मित, प्रचारित कण्डोम के विज्ञापनों, पोस्टरों और रैपर्स पर उत्तेजक रति-मुद्राओं वाले चित्रों कल्पना को निस्सीम आयामों तक मुक्त कर दिया था। एक पारिवारिक पत्रिका के तीसरे कवर पर एक कण्डोम का विज्ञापन पूरी गरिमा से छपा था - खुले गगन तले ऊंचे पेड़ से लटकती झूलेनुमा रस्सी पर एक निर्वस्त्र प्राय: युवक-युवती रतिमुद्रा में पेंग लेते हुए आकाश छूने का आभास दे रहे थे। उसने सुनील की आँखों मे झाँका। जाने कितनी आदिम-अतृप्त कामनाएँ थी वहाँ। नशे के तेज असर में सुनील की उस मुद्रा में प्रेम की याचना ने उसे द्रवित कर दिया। किसी तरह सुनील अपनी कुंठाओं से बाहर आ सके। उनकी सांसें भारी और उखड़ी हुई थीं। उन्होने कहीं से रस्सी ढूंढ़ी थी। लड़खड़ाते कदमों से सुनील ने विज्ञापन की भांति रस्सी का झूलेनुमा सिरा मेज पर चढ़ कर छत के कुण्डे से डलने का उपक्रम किया था।

अगले दिन सुबह जब काम वाली आई तो सुनील नशे में धुत फर्श पर औंधा पड़ा हुआ था। छत से लटकती रस्सी में बिट्टो की निर्वस्त्र लाश झूल रही थी।

ठीक उस समय जब पुलिस एम्बूलेन्स में बिट्टो की लाश पोस्टमार्टम के लिए ले जा रही थी, उसी समय गुड्डन के बूढ़े पिता उसे, पागलखाने में भर्ती कराने के लिए, उसके साथ ट्रेन में बैठ रहे थे। अगले दिन समाचार पत्रों में बिट्टो की खबर प्रमुखता से छपी थी। परन्तु गुड्डन के विषय में किसी को पता भी नहीं चला था।

--


प्रताप दीक्षित

एम0डी0एच0 2/33, सेक्टर एच,

जानकीपुरम, लखनऊ 226 021

Email dixitpratapnarain@gmail.com

--

परिचय

नामः प्रताप दीक्षित

जन्मः 30 सितंबर 1952

शिक्षाः एम0ए0 (हिंदी)

रचनाएं: हंस, वागर्थ, नया ज्ञानोदय, वर्तमान साहित्य, कथाक्रम, कथादेश, वर्तमान साहित्य, पाखी, संचेतना, लमही, उत्तर प्रदेश, जनसत्ता, दैनिक जागरण, अमारउजाला, अक्षरा, शुक्रवार, जनसत्ता, हिन्दुस्तान, नवभारत, पंजाबकेसरी जनसंदेश टाइम्स आदि में 150 से अधिक कहानियां, समीक्षाएँ, लघुकथाएं, आलेख, व्यंग्य प्रकाशित।

दो कहानी संग्रह (‘विवस्त्र एवं अन्य कहानियां‘ तथा ‘‘पिछली सदी की अंतिम प्रेमकथा’) प्रकाशित।

उत्तर प्रदेश हिन्दी प्रचारिणी सभा द्वारा आयोजित कविता प्रतियोगिता में तत्कालीन राज्यपाल उत्तर प्रदेश (श्री अकबर अली खान द्वारा पुरस्कृत 1973

प्रताप दीक्षित के रचनाओं पर रूहेलखंड विश्वविद्यालय में एक छात्रा द्वारा पी.एचडी हेतु शोध.

संप्रतिः भारतीय स्टेट बैंक में प्रबंधक पद से सेवानिवृत्ति के बाद स्वतंत्र लेखन.

जानकीपुरम, लखनऊ 226 021

संपर्कः Email dixitpratapnarain@gmail.cpm

0 टिप्पणियाँ

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.