रचनाएँ खोजकर पढ़ें

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


जन्मेजय कु0पाण्डेय की कविताएँ

साझा करें:

जागरण गीत जाग उठो अब देश के वीरों, आन तुझे निज देश का। पर्दाफाश करो सूरमाओं का, लेकर नाम गणेश का। चीख-चीख कर बुला रही है, देखो माता भारती। ज...

जागरण गीत

जाग उठो अब देश के वीरों,

आन तुझे निज देश का।

पर्दाफाश करो सूरमाओं का,

लेकर नाम गणेश का।

चीख-चीख कर बुला रही है,

देखो माता भारती।

जाग उठो अब देश के वीरों

माता तुम्हें पुकारती।-

-----------------------------

सब कह रहे हैं दिग-दिगंत,

कर दो अरि दल का विध्वंस।

सदियों से झेल रही है माता,

जिन भुजंगों का गरल दंश।

भरो वीरता खुद में इतनी,

मिट जाओ निज शान पर।

शीश चढ़ा दो वलिवेदी पर,

राष्ट्र हित रख ध्यान में।

शिरोच्छेदन से पुर्व न जाये,

कभी कृपाण म्यान में।

काल के रथ का घड़-घड़ नाद सुनो,

गीता का अर्जुन -कृष्ण संवाद सुनो।

कान्हा आज स्वयं बनें हैं,

तेरे रथ का सारथी।

जाग उठो अब देश के वीरों,

माता तुम्हें पुकारती।

---------------------------

दुष्टहीन कर दो धरती को,

तलवारों की धार से।

रक्तिम सरिता बहे धरा पर,

भाला,बर्छी,कटार से।

कोलाहल मच जाये जग में,

"जय महाकाल" हुंकार से।

पट जाए यह पृथ्वी सारी,

वीरों की पुकार से।

हो जाये सब एक सभी,

हो नाम सभी का भारती।

जाग उठो अब देश के वीरों,

माता तुम्हें पुकारती।

--------------------------------------------

नारी शक्ति

------------------

नारी, नारी है तो,घर है, परिवार है, सुन्दर संसार है।

नारी है तो, अनुशासन है, चरित्र है, व्यवहार है।

_______

नारी , नारी तुम शक्ति हो,भोली भाली रुप हो।

गूलाब की महक,जुही की कली हो।

चंदा की पूनम और फूलों की डाली हो।

तू ही सीता, सावित्री,और शक्ति रुप काली हो।

-----------------------------

नारी, नारी तुम प्यार हो, बहनों की प्ररेणा,और माता की सीख हो।

तुम बेटी की सेवा हो,

बहुओं के हाथ की मिठी कलेवा हो।

नानी की कहानी हो,

दादी के हाथों की मिश्री और मेवा हो।

नारी, नारी है तो घर है, परिवार है,स्वर्ग सा मकान है।

बिन नारी यह सृष्टि श्मशान है।

--------------------------

नारी, नारी तुम सीता की सतीत्व हो,

वात्सल्य की मूर्ति यशोदा मैया हो।

तू भक्ति की शैल शिखा,

अहिल्या, सबरी, अनसुईया हो।

नारी तुम पूजा हो, रोली हो, पूजा की थाली हो।

नारी तुम गुल हो, गुलशन हो, गुलशन का माली हो।

नारी ही से प्यार है,

परिवार है,

मीठी तकरार है।

बिन नारी सब श्री हीन,

सूना संसार है।

-----------------------

पर्यावरण संरक्षण

___________

आओ पर्यावरण बचाएं,

आओ मिलकर पेड़ लगाएं ।

कर के पेड़ों से हरा भरा,

हम शस्य श्यामला धरा बनाएं।

आओ पर्यावरण बचाएं,

आओ मिलकर पेड़ लगाएं।

देकर वृक्षों को अभयदान,

कर के जलश्रोतों का परित्राण।

भारत की संस्कृति अपनाकर,

अपने पुरखों का रखें मान।

माता है यह धरा हमारी,

हम इसका सम्मान करें।

क्यों बिगड़ी है इसकी हालत?

इन बातों का ध्यान करें।

भला हो जिससे सब जीवों का,

आदत हम सब अपनाकर।

देव दुर्लभ इस धरती का,

स्वर्ग से ऊंचा मान बढ़ाएं।

आओ पर्यावरण बचाएं,

आओ मिलकर पेड़ लगाएं।

---------------------------------------------

कुएं, तालाबों का फिर से,

जीर्णोद्धार करें।

प्लास्टिक के कूड़ा -करकट से,

अब धरती का उद्धार करें।

नदियां की अविरल धाराएं,

वसुधा की है रक्त वाहिनियां।

इनकी कल-कल बहती धाराओं को,

आओ मिलकर निर्बाध करें।

बंजर होती हैं धरती,

जिन विषैले रसायन से।

धूल, धुआं,और धूलकण फ़ैल रहे,

लेकर रुप कोई डायन सा।

कभी करोना, कभी इबोला,

इन सब का संहार करें।

जल, जीवन, हरियाली से,

हम धरती का श्रृंगार करें।

आओ मिलकर हम यह संदेश,

जन-जन को पहुंचाएं।

आओ पर्यावरण बचाएं,

आओ मिलकर पेड़ लगाएं।

-----------------------------------------

हे! कलम किसानों का जय बोल।

जो नर रुप नारायण है,

हल हाथ लिए रहते हैं सदा।

जो न करे आराम कभी,

करते हैं हर दिन काम सदा।

सियासत दान सियासत के

क्या करेंगे उनका मोल।

हे! कलम किसानों का जय बोल।।

--------------------------------------------

कड़कती सर्दियों में,धूप में,

पत्थर में, पानी में।

अड़े, लड़ कर सदा ही जो,

अपनी जिंदगानी में।

कभी भी हार ना मानें,

जो काली घटाओं से।

नतीजा चाहे जो भी हो,

दुष्कर आपदाओं के।

मुश्किलों से रार है ठाना,

नतीजा चाहे जो भी हो।

मगर फिर टूट जाता है,

सदा जी कर अभावों में।

सियासत खूब होती है,

इन्हें मुद्दा बनाते हैं।

खुद ही घाव देते हैं,

तो खुद मरहम लगाते हैं।

चुनावी मौसम में आकर,

इन्हें सब पूजते हैं लोग।

सभी यश गान करते हैं,

सभी आश्वासन देते हैं।

हमेशा कागज़ों पर ही,

ऋण की माफ़ी होती है।

दो गूना आय कर देंगे,

सुना कर मीठे-मीठे बोल।

हे!कलम किसानों का जय बोल।।

------------------------------------------

वो महान बन गये

______

देश तोड़ने वाले महान बन गये।

दे कर गालियां मां भारती को,

कई राजनीतिक सूरमा ,

तो कई युथ आईकान बन गये।

देश तोड़ने वाले---------

_______

कह कर काटने को,

खुलेआम हिन्दुओं को,

कई रहनुमा ए कौम,

तो कई मुस्लिमों के पहचान बन गये।

देश तोड़ने वाले--------

_______

माना कि अधिकार है,

विरोध जताने का।

आजादी है अभिव्यक्ति की,

कुछ भी कहे जाने का।

मगर , क्यों जली दिल्ली?

क्यों जले मकान?

क्यों बिछी लाशें?

क्यों लुटें दुकान?

खौफजदा लोग, सड़कें सुनसान,

गलियां वीरान।

ना जानें कई नालें,

श्मशान बन गये।

देश तोड़ने वाले महान बन गये।

________

किसने दी आजादी?

अरे ओ मानवतावादियों,

भटके नौजवानों,

शांतिदूतों,जिन्ना के संतानो।

बंद करो झूठा स्वांग,

यह शांति वाद नहीं है।

जिस दिन कोइ आग ना उगलो,

हमको याद नहीं है।

अब हो गये ये बेनकाब,

वाहियात बे हया इन्सान बन गये।

देश तोड़ने वाले महान बन गये।

______

कोरोना एक समस्या

-------------

हालात बेहद गम्भीर है,

राजनीति मत करो यारो ।

सब मिलकर साथ लड़ो ,

बे वज़ह मत अड़ो यारो ।।

देश है तो हम हैं ,

हम हैं तो मज़हब है धर्म है ।

आपदा गम्भीर है,

हालात बड़े नर्म है ।

पार्टी संगठन से ऊपर उठकर,

सब एक सुर में लड़ो यारो ।

सब मिलकर साथ लड़ो,

बे वज़ह मत अड़ो यारो ।।

मोदी जी के निर्देशों को,

तोड़ मरोड़ करो ना ।

हालात बेहद नाजुक है,

राजनीती करो ना ।

श्रृंखला तोड़ो विषाणुओं के,

प्रसार का ।

बंद करो यात्राएं ,

हाट और बाजार का ।

भीड़-भाड़ वाले जगहों से,

बस थोड़े दिन बचो ना ।

महामारी कोरोना से,

सब मिलकर साथ लड़ो यारो ।

हालात बेहद गम्भीर है,

राजनीति मत करो यारो ।।

सत्ता पक्ष या हो विपक्ष,

यह सबकी जिम्मेवारी है ।

खुद जागें ,और जगाएं सबको,

यह गम्भीर बीमारी है ।

मेलों-जलसों में तकरीरें देकर,

पंडे-मुल्ले तुमको भटकाते हैं ।

क्या क्या खूब दलीलें देते,

क्या क्या टोटके बतलाते हैं ।

पंडों-मुल्लों के तकरीरों में,

तुम बे वज़ह मत पड़ो यारों ।

हालात बेहद नाजुक है,

राजनीति मत करो यारों ।।

राजनीति मत करो यारों ।।

------------------

।।जय बिहार जय जय बिहार ।।

------------------

जय बिहार जय जय बिहार,

जय बिहार जय जय बिहार ।।

तू मेरा अभिमान है,

तू हीं मेरी हो दशा ।

तेरा उन्नत भाल रहे,

हर पल मुझको है यही नशा ।

तेरी गरिमा की खातिर,

मैं कर दूं अपनी जां निसार ।

जय बिहार जय जय बिहार,

जय बिहार जय जय बिहार ।।

तू आर्यभट्ट की ज्ञान पुंज,

तू गौतम बुद्ध की वेणु कुंज ।

तू खगोल का है प्रमाण,

तूने ही शून्य से दिया ज्ञान ।

तेरी गौरवमयी अतीत को,

आज सारा विश्व है रहा निहार ।

जय बिहार जय जय बिहार,

जय बिहार जय जय बिहार ।।

वैशाली की पावन धरती ने,

महावीर को दिया ज्ञान ।

मोक्ष दायिनी धरा गया की,

होता पित्रों का पिण्डदान ।

राष्ट्र चिन्ह अशोक स्तम्भ ने,

है दिया तुझे अनूठा मान ।

तेरी गौरवमयी अतीत को,

आज सारा विश्व है रहा निहार ।

जय बिहार जय जय बिहार,

जय बिहार जय जय बिहार ।।

तीन कठिया आन्दोलन चम्पारन का।

राज रतन राजेंद्र हमारे,

गौरव भाल हैं सारण का।

देश रत्न की यह धरती है,

जो राष्ट्र पति थे बने प्रथम ।

सिक्खों को यह धरती,

प्राणों से प्यारा है ।

गुरु गोविन्द का त्याग,

मानव मूल्यों में न्यारा है ।

तख्त श्री हरि मंदिर साहिब,

सिक्ख गुरु थे बने दशम ।

तेरी गौरवमयी अतीत को,

आज सारा विश्व है रहा निहार ।

जय बिहार जय जय बिहार

जय बिहार जय जय बिहार ।।

माता सीता का जन्म स्थान,

तू विदेह का पुण्य धाम।

अंग प्रदेश का राजा कर्ण,

जिसका दानवीर था नाम ।

तू मौर्य ध्वज की तपोभूमि,

तुझमें रहसु का परम धाम ।

विद्यापति की भक्ति तुझमें,

दिनकर की लेखनी शक्ति तुझमें।

तेरी गौरवमयी अतीत है,

जिसे देख रहा पुरा संसार ।

जय बिहार जय जय बिहार,

जय बिहार जय जय बिहार ।।

जिसके रज कण में लोट पोट ,

चाणक्य आचार्य भी खेले थे।

गोरों के ताक़त को बाबू,

कुंवर सिंह जी तौले थे।

वीर बलिदानी कुंवर सिंह की,

अमर गाथाएँ याद हमें ।

जे0पी0के आन्दोलन को,

पूरे भारत नें देखा था ।

सत्ता को जागीर समझने,

वालों को रास्ते पर फेंका था ।

वशिष्ठ नारायण की प्रतिभा को,

अमरीका भी मान गया ।

हम प्रतिभा के धनी रहे हैं,

अपनी थाती रखें सम्भार ।

आओ हम सब करें पुकार,

जय बिहार जय जय बिहार,

जय बिहार जय जय बिहार ।।

--

सियासत के रुप अनेक

---------------

कभी जाट,गुर्जर, मुस्लिम दलितों,

का आरक्षण है सियासत ।

कहीं भू माफिया, गुण्डों ,को,

संरक्षण देती है सियासत ।

कहीं किसानों मजदूरों, गरीबों,

का शोषक है सियासत ।

आतंकी, चरमपंथ, देशद्रोहियों,

का पोषक है सियासत ।

अभिव्यक्ति की आजादी के नाम,

पर ठुमका लगाती है सियासत ।

कहीं कोसकर सेना को,

गीत गाती है सियासत ।

जे0एन0यू0 में राष्ट्र द्रोह का,

पाठ पढ़ाती है सियासत ।

कहीं धर्म के नाम पर रंग,

बताती है सियासत ।

कहीं आम जन मुद्दों पर,

टांग अड़ाती है सियासत ।

सामाजिक सरोकारों से कहीं दुर,

जाती है सियासत ।

क्षेत्रवाद, भाषावाद माओवाद को,

जगाती है सियासत ।

कहीं देश के गद्दारों संग

बिरियानी खाती है सियासत ।

कहीं अपनी संस्कृति को,

बौना बनाती है सियासत ।

बेशर्मी की सारी हदें,

लांघती है यह सियासत ।

---------------

दिहाड़ी मजदूर ।।

-----------------

वह किस्मत से मजबूर ,

एक दिहाड़ी मजदूर है।

जिनकी आंखों से,

सपने भी कोसों दूर है ।

वह भारत का दिहाड़ी मजदूर है।

दो वक़्त की रोटी पाने को,

बोझ उठाने को,

चढ़ती दुपहरी हो,

या तपती डगर हो।

रोटी पाने की चाहत,

ही आठों पहर है।

मेहनत के बदले,

दो वक़्त की रोटी पाना है ।

पढ़ाकर अपने बच्चों को,

बस आदमी बनाना है ।

अदना सी चाहत है,

चाहतों के सपने हैं ।

सपनों के जहान में,

हर-पल वह जीता है ।

आत्म संतोष ही,

उसका लक्ष्य है ।

गरीबी बेबसी,

दिख रहा प्रत्यक्ष है।

अपना लक्ष्य पाने को,

स्वाभिमान बचाने को ।

भुखमरी, लाचारी की,

कड़वी घूंट पीता है ।

फटे चीथड़ों में,

सदियों से जीता है ।

नदियों को रोक कर,

बाँध बनाता है ।

तपती गर्मी में जलकर,

जो सड़कें चमकाता है ।

नव निर्माण हमेशा करता है ।

पहाड़ों को काटकर,

सड़कें बनाता है ।

हालात के संगीन थप्पड़ों से,

उसके सपनें चकनाचूर है।

वह भारत का दिहाड़ी मजदूर है।

शायद विधाता की नजरों से दूर है ।

वह भारत का दिहाड़ी मजदूर है ।


( चार पंक्तियाँ उनके लिए जो गुजरात, दिल्ली, पंजाब से पैदल ही बिहार एवं उत्तर प्रदेश के लिए निकल पड़े हैं)

दूर तक सूनसान रास्ते पर,

केवल सन्नाटा पसरा है ।

भूख प्यास की परवाह नहीं,

ऊपर वाले का आसरा है ।

जनता कर्फ्यू के कारण,

छिन गया है रोजगार ।

अपनों से मिलने को आतुर,

पैदल चलने को साकार ।

रुकें तो रुकें कहां ,

मालिक क़ोई रखता नहीं ।

दर्द उनके अनकहे हैं,

क़ोई भी लखता नहीं है ।

अपने ही हाल पर,

आज वह मजबूर है ।

वह भारत का दिहाड़ी मजदूर है ।

-----------------

संकट सकल धरा पर आई

-----------------

हम किससे लड़ें?

महामारी से या नादानी से ।

या जनता कर्फ्यू,

न मानने की नादानी से ।

विपक्ष के अनर्गल प्रलाप से,

या अफवाहों के,

बेबुनियाद मंत्र जाप से ।

पूर्वाग्रह से ग्रसित,

आलोचनात्मक तथ्यों से ।

ना समझ जनता से,

या श्रीमंतों के कर्तव्यों से ।

धर्म के ठेकेदारों से,

या कठमुल्लों के जिद्द से ।

महामारी को भयंकर रूप,

देने पर तुले नर गिद्धों से।

पीएम केयर फंड पर,

नामकरण की राजनीति से ।

या क्षत्रपों की ओछी सोंच से,

होने वाली गतिविधि से।

मेलों-जमातों में घूम रहे कोरोना वाहकों से ।

या फिर मेलेजलसों के आयोजकों से।

उन्हें खुली छूट देने वाली सरकार से ।

कुछ लोगों ने माना है,

कोरोना को हराना है,

ये सच्चे देशभक्त हैं जिन्हें वतन से प्यार है ।

चंद लोग जो रोग फ़ैला रहें हैं,

ये हमारे है ही नहीं ये तो किरायेदार हैं ।

इनकी सोच जग जाहिर है,

गिरगिट भी शर्मा जाए,

ये रंग बदलने में माहिर हैं ।

मोदी का कहना क्यों करें,

कर्फ़्यू से ये क्यों डरें ।

दुनिया भले भाड़ में जाय,

शहर भले हीं साफ़ हो जाय ।

राजनीति चमकाने को,

झूठी अफवाह फैलाने को,

सरकार को विफल दिखाने को,

इनकी यही सोच है ।

ये नर नहीं निरा पशु, निशिचर पोंच हैं ।

--------------

मैं दीपक हूँ मुझको जलना है ।

अणु अणु गल कर घुल जाना है ।

बहादुर लड़ाकुओं के शान में,

राष्ट्र के सम्मान में,

मोदी जी के आह्वान पर तुम्हें मुझको जलना है ।

मैं दीपक हूँ मुझको जल जाना है ।।

------------------

काट कर संकट के तिमिर को,

छाट कर भ्रम जाल को,

बाँधूं एकता के सूत्र में,

माँ भारती के पुत्रों को ।

संरक्षित करने के लिए,

तेरी जान माल को ।

जन जन में संदेश यही,

अब मुझको फैलाना है ।

मैं दीपक हूँ मुझको जल जाना है ।।

---------------

मैं सकार का हूँ प्रतीक,

नकारात्मकता जल जायेगी ।

मिल जुल कर तुम लड़ो यदि,

अंधियारी छंट जायेगी ।

मैं रूप हूँ सुख शांति का ।

मैं मशाल हूँ किसी क्रांति का ।

मैं साक्षी हूँ तेरे कर्म का।

मैं प्रदीप तेरे धर्म का ।

युगों युगों से मैं जलता हूँ,

तुझमें साहस मैं भरता हूँ ।

फिर जलने को ठाना है,

मुझको तुम्हें जलाना है ।

मैं दीपक हूँ मुझको जल जाना है ।।

------------------

मुझे देख ऊर्जा मिलती है,

मैं तुझमें साहस भरता हूँ ।

तुमको जगाने की खातिर,

हर पल मैं जलता जाता हूँ ।

नव प्रभात हो भारत में,

तब तक मुझको जलना है ।

मैं दीपक हूँ मुझको जल जाना है ।।-

-----------------------------

जनता कर्फ्यू एक जनभागीदारी

------------------

यदि करते हैं अपनों से प्यार,

तो दूरियां रखें बरकरार ।

ना निकले कोई सड़क पर,

ना जाये कोई हाट बाज़ार ।

पूरा विश्व डोल रहा है,

हर कोई अब बोल रहा है ।

कोरोना डायन सी चल रही,

फ़ैल रही है पाँव पसार ।

यदि करते हैं अपनों से प्यार,

तो दूरियां रखें बरकरार ।।

--------------

चाइना, फ्रांस, इटली में देखो,

सब के सब हैं पड़े बीमार ।

हाल ना हो भारत में वैसा,

मिलकर हम सब करें विचार ।

तोड़ना है श्रृंखला इसके प्रसार का,

रखना है महफ़ूज यदि अपने परिवार को।

खिंच दो लक्ष्मण रेखा अपनी दहलीज पर ।

आप और आपका प्रियजन,

कोई भी ना करे पार ।

यदि करते हैं अपनों से प्यार,

तो दूरियां रखें बरकरार ।।

-------------

कुछ हमारी और कुछ आपकी,

यह सबकी जिम्मेवारी है ।

सुरक्षा मानकों का ध्यान रहे,

यह जन भागीदारी है ।

सारी गतिविधियां बंद करें हम,

क़ैद हो जाये घर के अंदर ।

इसके जद में हैं सभी,

कोई अदना हो, या हो सिकंदर ।

जनता कर्फ्यू ही माध्यम है,

जिससे हम सब बच सकते हैं ।

आओ मिलकर हम करें पुकार,

यदि करते हैं अपनों से प्यार,

तो दूरियां रखें बरकरार ।।

------------

जन्मेजय कु0पाण्डेय

ग्राम शिव नगरी

थाना मुफस्सिल

छपरा सारण

बिहार ।

-----****-----

|दिलचस्प रचनाएँ:_$type=blogging$count=5$src=random$page=1$va=0$au=0$meta=0

|समग्र रचनाओं की सूची:_$type=list$count=8$page=1$va=1$au=0$meta=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आत्मकथा,1,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4290,आलोक कुमार,3,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,374,ईबुक,231,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,269,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,113,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3240,कहानी,2361,कहानी संग्रह,247,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,550,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,141,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,32,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,152,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,2,बाल उपन्यास,6,बाल कथा,356,बाल कलम,26,बाल दिवस,4,बालकथा,80,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,20,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,31,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,288,लघुकथा,1340,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,20,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,378,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,79,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2075,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,730,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,847,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,21,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,98,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,216,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: जन्मेजय कु0पाण्डेय की कविताएँ
जन्मेजय कु0पाण्डेय की कविताएँ
http://1.bp.blogspot.com/-CxedmlML1bk/XowsN4nrR1I/AAAAAAABR80/Qsb2qtmRmUEFXUMQ_CXM2_ocFTrGfOJ6gCK4BGAYYCw/s320/bapakfnfdhcojmdd-759629.png
http://1.bp.blogspot.com/-CxedmlML1bk/XowsN4nrR1I/AAAAAAABR80/Qsb2qtmRmUEFXUMQ_CXM2_ocFTrGfOJ6gCK4BGAYYCw/s72-c/bapakfnfdhcojmdd-759629.png
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2020/04/0.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2020/04/0.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ