रचनाएँ खोजकर पढ़ें

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


हास्यास्पद वस्तुओं के सम्बन्ध में कुछ सामान्य सिद्धांत (प्रोफ़ेसर हेनरी बर्गसां का हास्य-दर्शन) पतरस बुख़ारी

साझा करें:

अनुवादक : डॉ۔ आफ़ताब अहमद व्याख्याता, हिंदी-उर्दू, कोलंबिया विश्वविद्यालय, न्यूयॉर्क -- हास्यास्पद वस्तुओं के सम्बन्ध में कुछ सामान्य सिद्धां...

अनुवादक : डॉ۔ आफ़ताब अहमद

व्याख्याता, हिंदी-उर्दू, कोलंबिया विश्वविद्यालय, न्यूयॉर्क

--

हास्यास्पद वस्तुओं के सम्बन्ध में कुछ सामान्य सिद्धांत

(प्रोफ़ेसर हेनरी बर्गसां का हास्य-दर्शन)

पतरस बुख़ारी

( यह लेख आज से छत्तीस वर्ष पूर्व का है। उस समय फ़्रांस के सुप्रसिद्ध दार्शनिक हेनरी बर्गसां का दर्शन अत्यंत प्रसिद्ध था। पश्चिम की दुनिया में “स्वप्नावस्था”, “मस्तिष्क व शक्ति” और “हास्य” के सम्बन्ध में उसके विचारों की धूम मची हुई थी। पतरस ने उसके हास्य के दर्शन से उर्दू को पहली दफ़ा परिचित कराया। यह लेख अनुवाद नहीं बल्कि लेखक ने उसके दर्शन में डूबकर अंग्रेज़ी उदाहरणों को अपने समाज के अनुरूप बनाने में रचनात्मक शक्ति का प्रदर्शन किया है।—इदारा)

हँसी के क्या अर्थ हैं? किसी हास्यास्पद वस्तु में हंसाने वाला तत्व कौन सा है? हम कभी किसी के मुँह चिढ़ाने पर, कभी किसी के हास्यास्पद वाक्य पर, और कभी किसी व्यक्ति के रूप आकार पर हंस देते हैं। इन सब में समान बात कौन सी है? हम किस उपाय से हास्य की इस परी को शीशे में उतार सकते हैं जो एक आत्मा की तरह विभिन्न रूप धारण कर लेती है और हास्य सामग्री में इतनी विभिन्नता पैदा कर देती है? यह एक ऐसी समस्या है जिसपर अरस्तू से लेकर आज तक अक्सर दार्शनिक अपना दिमाग़ खपाते रहे हैं, लेकिन जो हमेशा उनके हाथों से निकल-निकलकर फिर उनके सामने आ खड़ी हुई और उनकी हँसी उड़ाती रही।

हास्य का प्राण, या हँसी की आत्मा या हास्यास्पद तत्व, जो नाम भी आप इस परी के लिए सुझाएँ, इस नाम को तर्कशास्त्र के सिद्धांतों पर किसी परिभाषा के बंधनों में जकड़ देना निरर्थक है। हम इतना जानते हैं कि हँसी की आत्मा एक सजीव वस्तु है। इसलिए हमें इसका आदर व सम्मान करना चाहिए और एकाध वाक्य में इसके सम्पूर्ण अस्तित्व को लिख डालना इसका अपमान करना है। हम केवल यही कर सकते हैं कि यह देखें कि यह किस तरह जन्म लेती है और किस तरह फलती फूलती है। देखें कि किस-किस ढंग से यह तरह-तरह के रूप धारण करती है। संभव है कि हम इस दीर्घकालिक जान-पहचान व दोस्ती के कारण इसको अच्छी तरह जानने लगें और हमें इस बात की आवश्यकता ही न रहे कि कोई एक वाक्य की सीमाओं के अन्दर इसको बंद करके हमारे सामने काग़ज़ पर रख दे। और संभव है यह जान-पहचान व मित्रता हमारे लिए बहुत ही लाभदायक साबित हो। क्योंकि हँसी की आत्मा का भी एक तर्क है। उसकी भी अपनी एक सुनिश्चित कार्यपद्धति है, चाहे वह कितनी ही आवारा और अनियंत्रित क्यों न हो। क्योंकि कई हास्यास्पद बातें ऐसी हैं जिनको पूरी दुनिया जानती है और उनसे आनन्दित होती है। जिन पर एक पूरा-का-पूरा राष्ट्र हंस पड़ता है। जिनपर एक देश-का- देश दोहरा हो-हो जाता है। तो यह कैसे हो सकता है कि अगर हम हँसी की आत्मा से अच्छी तरह परिचित हो जाएँ तो साथ ही हमें जनता-जनार्दन के विचारों का भी कुछ-न-कुछ ज्ञान प्राप्त न हो जाए। हँसी स्वयं जीवन से जन्म लेती है और कला की बहुत ही निकट की सम्बन्धी है। तो संभव है यह जीवन और कला पर भी बहुत सा प्रकाश डाले।

आरम्भ में यह आवश्यक मालूम होता है कि हँसी से सम्बंधित तीन मौलिक सिद्धांत बयान कर दिए जाएँ। इन सिद्धांतों का स्वयं हास्यास्पद वस्तुओं से बहुत सम्बन्ध नहीं, लेकिन इनको मद्देनज़र रखते हुए हास्य के क्षेत्र की सीमा-बंदी की जा सकती है।

बहस के दौरान में सबसे पहली बात जिसकी तरफ़ हमें अपना ध्यान केन्द्रित करना चाहिए यह है कि कोई हास्यास्पद सामग्री इंसानी दायरे से बाहर नहीं पाई जाती। किसी समुद्र या पहाड़ी का दृश्य संभव है कि सुन्दर हो, या संभव है कि रमणीय व आकर्षक हो, या संभव है कि बिल्कुल ही तुच्छ और कुरूप हो। लेकिन हास्यास्पद हरगिज़ नहीं हो सकता। संभव है कि कभी-कभी हमें एक जानवर को देखकर अनायास हँसी आ जाए। लेकिन इसका कारण केवल यही होता है कि हमारी दृष्टि को उस जानवर के अस्तित्व में कोई मनुष्यों जैसा व्यवहार या मनुष्यों जैसा हाव-भाव महसूस हो जाता है जो हास्यास्पद सामग्री बन जाता है। संभव है कि कभी-कभी आप एक लंबोतरी नोकदार काग़ज़ी टोपी को देखकर हंस पड़ें। लेकिन इसमें जो चीज़ हास्यास्पद है वह उस टोपी का काग़ज़ नहीं। हँसी की वजह उस टोपी का रूप है। वह रूप जिसको यूँ अस्तित्व में लाने का कारण कोई मानव हाथ ही है। यानी टोपी की बनावट हास्यास्पद है, जो इस कारण हास्यास्पद है कि वह किसी मानव मस्तिष्क के एक विचित्र व हास्यास्पद विचार की द्योतक है। यह आश्चर्य की बात है कि ऐसा अहम और स्पष्ट नुक्ता विद्वानों की खोजबीन से इस क़दर अछूता रहा है कि अक्सर लोग मनुष्य को “हंसौड़ जंतु” के नाम से पुकारते हैं। और अगर ग़ौर से देखा जाए तो इंसान न सिर्फ़ “हंसौड़ जंतु” बल्कि “हास्यास्पद जंतु” भी है। अगर कोई अन्य जंतु या निर्जीव वस्तु कभी हँसी का कारण बनती है तो यह हमेशा देखा गया है कि हास्यास्पद तत्व या तो कोई मानवीय समरूपता होती है या मनुष्य के सृजन का कोई रूप, और या फिर हँसी वह काम होता है जो कोई मनुष्य उस वस्तु से ले रहा हो।

दूसरी बात जिसका बयान कर देना आवश्यक है यह है कि अक्सर बार हँसी के समय भावनाएँ लुप्त होती हैं। ऐसा मालूम होता है मानो कोई हास्यास्पद वस्तु अपना प्रभाव पैदा ही नहीं कर सकती जब तक मानव मन पूर्ण शान्ति और ठहराव की अवस्था में न हो। इससे यह न समझा जाए कि हम एक ऐसे व्यक्ति की हँसी नहीं उड़ा सकते जिसपर हम तरस खाते हों, या जिससे हमारा प्रेम या लगाव का सम्बन्ध हो। लेकिन यह बात अवश्य है कि ऐसे व्यक्ति की हँसी उड़ाने के अवसर पर हम उतनी देर के लिए दया और प्रेम का मुँह बंद कर देते हैं। चंद ऐसे व्यक्तियों के समूह में, जो केवल मस्तिष्क-ही-मस्तिष्क रखते हैं और जिनका हृदय (इन अर्थों में कि वह भावनाओं का भण्डार होता है) लुप्त हो, शायद कोई व्यक्ति भी कभी रोता हुआ न पाया जाए। लेकिन हँसने वाले फिर भी उसमें मौजूद होंगे। उसकी तुलना में एक समूह अत्यंत संवेदनशील स्वभाव वाले व्यक्तियों का है जिनका हृदय जीवन के महत्त्व के साथ पूर्ण रूप से लयबद्ध है। यानी वे व्यक्ति जिनको दिलवाले या भावुक कहा जाता है और जिनके स्वभाव में हर एक घटना एक भावुक दशा पैदा कर देती है (जो हमेशा पराकाष्ठा को पहुँचती रहती है) ऐसे व्यक्ति न तो हँसी से परिचित हैं न उसे समझ सकते हैं। जो ध्वनियाँ आपके कानों तक पहुँचती हैं, या जो हरकतें या हाव-भाव आपके सामने प्रकट होते हैं, अगर आप उनके साथ हार्दिक लगाव पैदा करलें, अगर आप विचार व कल्पना में औरों के व्यवहारों में उन्हीं की तरह शरीक हो जाएँ और उन्हीं की तरह सब कुछ महसूस करने लगें, संक्षिप्त में यह कि अगर आप अपनी हमदर्दी की भावना को पूरी तरह विस्तार देदें तो तुच्छ-से-तुच्छ वस्तु आपकी दृष्टि में इतनी अधिक महत्वपूर्ण बन जाएगी मानो किसी चमत्कार ने वस्तुओं की प्रकृति को अचानक बदल दिया है। इसका एक परिणाम यह होगा कि सारी इन्द्रियों पर एक अन्धकार छा जाएगा और आपको हँसी से वंचित कर देगा। अब अगर आप जीवन के संघर्षों से अलग हटकर और अपने आपको बिल्कुल निर्लिप्त करके उसको देखें तो कई बातें आपके लिए हास्यास्पद बन जाएँगी। अगर कहीं संगीत के साथ नियमित ताल पर नाच हो रहा हो तो आप उससे आनंदित होते हैं। लेकिन अगर आप अपने कानों को इस तरह बंद कर लें कि संगीत की ध्वनि आप बिल्कुल न सुन सकें तो नृत्य का नक़्क़ारा हास्यास्पद हो जाता है। शायद ही कोई अन्य मानव क्रिया ऐसी हो जो इस प्रकार की परीक्षा में पूरी उतरेगी। अगर हम क्रियाओं व चेष्टाओं को भावनाओं के लयबद्ध संगीत से पृथक करके उन पर दृष्टि डालें तो उनमें से कई ऐसी होंगी जो तुरंत शालीनता व गरिमा से गिरी हुई नज़र आएँगी। सिद्ध हुआ कि किसी हास्यास्पद वस्तु के पूर्ण रूप से प्रभावकारी होने के लिए भावनाओं का एक अस्थाई अस्तमन आवश्यक है। हास्य-उत्पादन का सम्बन्ध बुद्धि और विवेक और केवल बुद्धि और विवेक से है।

लेकिन हँसी के लिए यह बात भी आवश्यक है कि एक मनुष्य का मस्तिष्क दूसरे मनुष्यों के मस्तिष्कों से बहुत दूर न हो। और यह तीसरा बिंदु है जो ध्यान देने योग्य है। अगर आप अपने आपको बिल्कुल अकेला और मित्रहीन महसूस करें तो आप हास्यास्पद वस्तुओं से प्रभावित नहीं हो सकते। हँसी के लिए हमेशा एक गूँज, एक प्रतिध्वनि अर्थात भागीदारी और सहचारिता का होना आवश्यक है। आप स्वयं हँसी की ध्वनि को ध्यान से सुनिए। यह स्पष्ट व पारदर्शी, नपी-तुली और शुद्ध ध्वनि नहीं। स्वयं इस ध्वनि के स्वभाव में गूंजते रहने की इच्छा निहित प्रतीत होती है कि एक धमाके की तरह एकाएक जैसे ज़ोर से फटकर शुरू होती है और एक अविच्छिन्न कंपन के साथ जारी रहती है। मानो पहाड़ों में बादल गरज रहे हैं, लेकिन इसके होते हुए भी यह नहीं हो सकता कि यह गरज अनंत तक गूंजती रहे। इसके प्रसारण का दायरा जितना भी विस्तृत हो, आख़िर दायरा ही है और इसलिए सीमित है। यानी हमारी हँसी हमेशा एक समूह या एक दायरे तक सीमित होती है। आपको रेल की यात्रा में कभी यह देखने का अवसर प्राप्त हुआ होगा कि आपके कुछ सहयात्री आपस में ऐसी बातें कर रहे हैं जो उनके लिए निश्चित रूप से हास्यास्पद हैं, क्योंकि वे दिल खोलकर हँसते हुए नज़र आ रहे हैं। अगर आप भी उनकी संगत में शरीक होते तो आप भी निश्चित रूप से हँसते। लेकिन चूँकि आप उनसे अलग हैं, आपको हँसी नहीं आती। एक दफ़ा एक शहर की जामा मस्जिद में उस शहर के बड़े मौलवी प्रवचन दे रहे थे। उनका प्रवचन इतना प्रभावशाली था कि सब उपस्थित जन फूट-फूटकर रो रहे थे, सिवाय एक के जो बिल्कुल शांत बैठा था। जब उस व्यक्ति से उसके बिल्कुल प्रभावित न होने का कारण पूछा गया तो उसने उत्तर दिया “ मैं इस शहर का रहने वाला नहीं। मैं तो अजनबी हूँ।” रोने के सम्बन्ध में उस व्यक्ति ने जो विचार प्रकट किया वह हँसने के सम्बन्ध में और भी अधिक सही है। हँसी हमें एक अनियंत्रित अवस्था मालूम होती है। लेकिन यह सही है कि एक हँसने वाले को हँसने के लिए दूसरे हँसने वालों के साथ (चाहे वे वास्तव में मौजूद हों या केवल कल्पना में) साज़िश करनी पड़ती है और कभी-कभी तो वह केवल दूसरों की मदद ही से हँसता है। आप देखते हैं कि थिएटर में तमाशा देखने वालों की संख्या जितनी अधिक होती है उतनी ही हुजूम की हँसी भी अधिक निरंकुश होती है। और आप देखते हैं कि एक भाषा में बहुत सी हँसी की बातें ऐसी होती हैं जिनका अनुवाद अगर किसी दूसरी भाषा में किया जाए तो वह हँसी से रिक्त रह जाती है। इसका कारण यह है कि उनकी हँसी एक विशेष समुदाय के रीति-रिवाज व विचारों से सम्बन्ध रखती है। जिन्होंने इस नुक्ते को नज़रअंदाज़ किया है वही लोग हैं जिनके निकट हँसी एक अत्यंत तुच्छ मनोरंजन से अधिक ध्यान देने योग्य बात नहीं और जो हँसी को मानव जीवन के अन्य संघर्षों से बिल्कुल ही असम्बद्ध सी वस्तु मानते हैं। अक्सर लोग हँसी की यूँ व्याख्या करते हैं कि “हँसी एक मानसिक तुलना का नाम है” या “हँसी एक अनुभूत अशिष्टता का नाम है।” संम्भव है ये परिभाषाएं ठीक हों। लेकिन ये इस प्रश्न का उत्तर देने में बिल्कुल अक्षम हैं कि आख़िर कुछ वस्तुओं पर हमें हँसी क्यों आती है? क्या कारण है कि कुछ अनुभूतियाँ तो ऐसी हैं कि उनको देखते या सुनते ही हमारे पेट में बल पड़-पड़ जाते हैं, हालाँकि और हज़ारों वस्तुएँ भी दुनिया में मौजूद हैं जिनका बिल्कुल कोई असर नहीं होता? हँसी का सत्य समझने के लिए हमें हँसी को हँसी के घर में जाकर देखना चाहिए। और यह स्पष्ट है कि हँसी का घर इंसानों की सोसायटी है।

उपर्युक्त विस्तृत बहस से तीन बातें स्पष्ट होती हैं।

1. हास्यास्पद सामग्री मनुष्य के दायरे से बाहर नहीं पाई जाती।

2. हँसते समय भावनाएँ स्थगित हो जाती हैं।

3. हँसी के लिए एक से अधिक (वास्तविक या काल्पनिक) हँसने वालों का होना आवश्यक है। यानी हँसी उस समय पैदा हो सकती है जब मनुष्यों का एक समूह अपना ध्यान अपने एक व्यक्ति की ओर इस प्रकार केन्द्रित करता है कि अपनी भावनाओं को स्थगित कर देता है और केवल अपनी बुद्धि व विवेक से काम लेता है।

एक व्यक्ति बाज़ार में दौड़ता चला जा रहा है। एकाएक वह ठोकर खाकर गिर पड़ता है। लोग हंस देते हैं। अब अगर लोगों को यह मालूम होता कि वह गिरा नहीं बल्कि जानबूझकर यूँ ज़मीन पर बैठ गया है तो वे उस पर न हँसते। लोग हँसते इसलिए हैं कि उस व्यक्ति का ज़मीन पर यूँ बैठ जाना उसकी एक अनियंत्रित क्रिया थी। यानी हँसी का कारण उस व्यक्ति के व्यवहार का यूँ एकाएक परिवर्तित हो जाना नहीं, बल्कि इस परिवर्तन में ‘अनियंत्रण’ के तत्व का पाया जाना है। उस व्यक्ति को चाहिए था कि जिस पत्थर से उसे ठोकर लगी है उससे हटकर चलता या अपनी रफ़्तार बदल देता। उसने ऐसा नहीं किया और चूँकि उसके बदन में अचानक कतराकर निकल जाने की योग्यता न थी या शायद वह किसी और विचार में मग्न था (यानी उसका विचार अनुपस्थित था) और उसके शरीर में इतनी लचक और मुड़ने-तुड़ने की योग्यता न थी कि वह विचार के पुनः उपस्थित हो जाने पर अपने बिगड़े संतुलन को तुरंत संभाल लेता। इसलिए उसके होशोहवास अपनी पहली क्रिया अर्थात आगे को चलने के व्यवहार ही में व्यस्त रहे। हालाँकि परिवर्तित परिस्थितियाँ कुछ और चाहती थीं। यही कारण था कि वह गिर पड़ा और यही वजह थी कि लोगों को हँसी भी आयी।

अब एक ऐसे व्यक्ति का उदाहरण लीजिए जिसका नित्यकर्म अत्यंत नियमित और संतुलित है और जो छोटी से छोटी बात में भी अपने नित्यक्रम से बाल बराबर भी विचलित नहीं होता। उसकी सारी वस्तुएँ एक सुनिश्चित क़रीने और क्रम से रखी रहती हैं और वह बहुत ही नियमित रूप से उनको इस्तेमाल करता है। अब मान लीजिए कोई शरारती लड़का आकर उन सारी वस्तुओं का क्रम बदल देता है । अब वह व्यक्ति मेज़ पर से क़लम उठाने लगता है तो उसके हाथ में चाक़ू आ जाता है। जब वह अलमारी में से चिकित्साशास्त्र की किताब निकालता है तो उसकी जगह “मख़ज़नI” का फ़ाइल निकल आता है। जब वह कुर्सी पर बैठने लगता है तो धम्म से ज़मीन पर जा गिरता है। सारांश यह कि उससे कोई काम ठीक नहीं हो सकता। आदत उसको मजबूर करती है कि जब उसे कुर्सी पर बैठने की ज़रुरत हो तो वह एक विशेष स्थान पर पहुँचकर बैठ जाए। अब यदि असामान्य रूप से कुर्सी वहाँ मौजूद नहीं, तो चाहिए यह था कि वह अपनी बैठने की क्रिया को रोक लेता या उसकी दिशा को मोड़ देता। लेकिन उसने ऐसा न किया। बल्कि एक मशीन की तरह सीधी रेखा में चलता रहा। तो मतलब यह कि जो व्यक्ति इस प्रकार की शरारत का निशाना बनाया जाता है उसकी स्थिति भी एक प्रकार से उसी व्यक्ति जैसी है जो दौड़ने में ठोकर खाकर गिर पड़ता है। हास्यास्पद-सामग्री दोनों परिस्थितियों में एक ही है और वह यह कि इन दोनों व्यक्तियों में इन विशेष अवसरों पर कतराकर निकल जाने या लचक जाने की योग्यता पर्याप्त मात्रा में नहीं होती। और चूँकि हम एक इंसान से इस बात की आशा रखते हैं कि वह बहुत सचेत रूप से कोई काम करे और उसमें लचक व मुड़-तुड़ जाने की योग्यता पाई जाए। इसलिए हमें उन पर हँसी आती है। इन दो व्यक्तियों की हास्यास्पद स्थितियों में अंतर इतना है कि एक स्थिति में तो गिरने का कारण संयोग था और दूसरी स्थिति में एक लड़का। इन दो कारणों से उन दो व्यक्तियों में तुरंत कतराकर निकल जाने की योग्यता की कमी प्रकट हुई।

लेकिन इन दोनों में यह बात भी समान है कि जो हास्यास्पद परिणाम प्रकट हुआ उसका कारण बाहरी था। यानी उन व्यक्तियों के अपने अस्तित्व में नहीं जन्मा था। अब अगर इस लचक की कमी के प्रकट होने के लिए सड़क पर किसी पत्थर या पेड़ के होने या किसी शरारती लड़के की शरारत की ज़रुरत न हो, बल्कि यह कमी प्राकृतिक और स्वाभाविक ढंग से स्वयं अपने भण्डार में से अपने प्रकट होने के लिए कोई अवसर निकाल ले तो हास्यास्पद-सामग्री का स्रोत बाहरी न रहेगा बल्कि आतंरिक बन जाएगा। एक ऐसे व्यक्ति का उदाहरण लीजिए जिसका मस्तिष्क अपने पिछले व्यवहारों के बारे में व्यस्त रहता है और इस बात की ओर कभी ध्यान नहीं देता कि वह फ़िलहाल क्या कर रहा है। यानी उसके विचार वर्तमान समय से हमेशा एक क़दम पीछे रहते हैं। अगर आप उससे कोई प्रश्न पूछते हैं तो वह उसका वही उत्तर देता है जो सुबह उसने किसी और बात के बारे में दिया था। अगर उसके सामने एक गाड़ी आकर ठहर जाती है तो वह उस पर उसी तरह चढ़ना शुरू कर देता है जिस तरह वह सुबह अपने मकान की सीढ़ियों पर चढ़ता था। यानी चढ़ता चला जाता है। इसका अर्थ यह है कि उसकी इन्द्रियों और बुद्धि दोनों में लचक और मुड़ने-तुड़ने की ऐसी कमी और अभाव है कि वह वर्तमान समय में वो ध्वनियाँ सुनता है जो कुछ समय पहले ध्वनित हुईं, और वह कुछ देखता है जो आँखों से कब का ओझल हो चुका। उसकी इन्द्रियों और बुद्धि में इतनी लचक नहीं कि वह उन पर ज़ोर डालकर उनके गिर्द-पेश के हालात के साथ तालमेल बिठाता रहता। जबकि उसके लिए अनिवार्य यह है कि उसके व्यवहार वर्तमान परिस्थितियों के अनुसार हों। ऐसी हालत में हास्यास्पद-सामग्री और उसके प्रकट होने का कारण उस व्यक्ति के अस्तित्व के अन्दर उपस्थित है। ऐसा व्यक्ति कभी-कभी बहुत हास्यास्पद होता है। और यदि आप थोड़ा ध्यान दें तो आपको शेख़ चिल्ली की कई ऐसी बातें याद आ जाएँगी जो इस विचार की तर्जुमानी करेंगी।

विचार की अनुपस्थिति का जो परिणाम प्रकट होता है उसका हास्यास्पद होना कभी-कभी अन्य कारणों से और भी अधिक ऊर्जा प्राप्त करता है। उदहारण स्वरूप अगर आपको किसी व्यक्ति के विचार के यूँ अनुपस्थित रहने के सारे इतिहास का ज्ञान हो, उसकी बेहोशी मानो आपकी आँखों के सामने पैदा हो, और आपको यह बात भी ज्ञात हो कि वह कैसे बढ़ती रहती है और किन कारणों से विकसित हो रही है तो आपको और भी अधिक हँसी आएगी। मान लीजिए एक व्यक्ति रात-दिन मजनूँ व फ़रहाद के क़िस्से पढ़ता रहता है और चौबीस घंटे उसका दिल और दिमाग़, प्रेम के पागलपन, आवारगी, आत्म-विस्मरण, मस्ती और अन्य भावनाओं में व्यस्त रहता है, यहाँ तक कि मजनूँ और फ़रहाद का चरित्र उसे इतना मनमोहक व आकर्षक प्रतीत होता है कि वह उसका अनुकरण करने लग जाता है। अब वह अपने आपको बिल्कुल मजनूँ समझता है और उसके विचार और इरादे उसकी ओर उन्मुख होते-होते बिल्कुल उसी की तरह हो गए हैं। अगर कुछ समय तक उसकी यही हालत रही तो एक दिन ऐसा आएगा कि वह अगर और लोगों की संगत में शरीक होगा तो इस प्रकार मानो एक अटूट स्वप्न में मग्न है और वह इसी स्वप्नावस्था में इधर-उधर चल फिर रहा है। उसकी बातें इस तरह की होंगी जैसे कोई नींद में बड़बड़ा रहा हो। अब उसकी तमाम गतिविधियाँ किसी दूसरी दुनिया से सम्बन्ध रखती हैं। ऐसे व्यक्ति में हास्यास्पद-सामग्री किसी हद तक शक्तिशाली व सघन होती है। जब आप उससे समय पूछते हैं तो वह एक शेर पढ़ देता है और कभी वह आपको अपना प्रियतमा समझके आपका स्तुतिगान करने लग जाता है। ऐसे व्यक्ति के विचार की अनुपस्थिति में यह बात शामिल है कि उसका विचार अनुपस्थित तो अवश्य है लेकिन इसके अतिरिक्त किसी और जगह उपस्थित भी है। जहाँ वह परिवेश से बेख़बर है वहाँ विचारों से अवगत भी है। यानी सिर्फ़ यही नहीं कि वह गिर्द-पेश में बेकार है बल्कि वह एक और दुनिया में व्यस्त भी है। ऐसा व्यक्ति उस व्यक्ति से अधिक हास्यास्पद है जिसके विचार के सम्बन्ध में आप सिर्फ़ जानते हैं कि अनुपस्थित है लेकिन यह नहीं मालूम कि आख़िर वह है कहाँ? परन्तु जब आप को इस बात का ज्ञान हो जाए कि वर्तमान घटनाओं से बेख़बर उसका मस्तिष्क किस बात में व्यस्त है तो वह अधिक हास्यास्पद हो जाता है। ऐसे व्यक्तियों को आम तौर पर जुनूनी या पागल कहते हैं। इन दीवानों को देखकर जब हमें हँसी आती है तो हमारे जीवन के वाद्य में वही तार कंपित हो उठते हैं जो किसी ऐसे व्यक्ति को देखकर कंपित हुए थे जो एक शरारती लड़के की शरारत का निशाना बनता है या जो बाज़ार में दौड़ता हुआ फिसल कर गिर पड़ता है। ये दीवाने भी एक उद्देश्य की ओर दौड़ रहे थे और इस दौड़-धूप में किसी सख़्त और खुरदरे सत्य से ठोकर खाकर गिर पड़ते हैं। वास्तविकता तो यह है कि ये लोग इस बात में बढ़े हुए हैं कि इनकी बेख़बरी निरंतर व संगठित होती है और एक विशेष केंद्र के गिर्द चक्कर लगाती रहती है। इनकी आपबीती और इनके जीवन की दुर्घटनाएँ कार्य-कारण की एक विशेष कड़ी में जकड़ी हुई हैं जो सचेत मनुष्यों के तर्क से किसी प्रकार कम नहीं। इनकी बुद्धि में लचक की एक ऐसी कमी है जिसके होते हुए ये अपने होशोहवास का तालमेल अपनी दुनिया से मोड़कर इस दुनिया की चेतना के साथ स्थापित नहीं कर सकते।

उपर्युक्त व्यक्ति के एक विशेष विचार में इस क़दर हठ और ज़िद है कि वह मस्तिष्क में से बाहर ही नहीं निकलता। इसलिए विचार उसके मस्तिष्क में जगह नहीं पा सकते। उसका परिणाम यह होता है कि वह व्यक्ति हास्यास्पद हरकतें करता है। अब ज़रा इससे आगे चलिए और ग़ौर कीजिये कि जो सम्बन्ध एक विशेष विचार की हठ का मनुष्य के मस्तिष्क से है, वही सम्बन्ध कुछ दोषों को मनुष्य के चरित्र से है। यहाँ पर यह समझ लेना चाहिए कि दोष दो प्रकार के होते हैं। कुछ दोष ऐसे होते हैं कि मानव आत्मा अपनी सम्पूर्ण शक्तियों और ऊर्जाओं समेत उनमें कूद पड़ती है और अपने जीवन से उन दोषों को मानो जीवन प्रदान करके उनको अपने साथ-साथ घसीटती चली जाती है और इस प्रकार विभिन्न रूपों में उन्हें प्रकट करती रहती है। ऐसे दोष पीड़ादायक व दुखमय होते हैं। इसके विपरीत हास्यास्पद दोष मानो एक चौखटा सा होता है जिसमें मनुष्य को खड़ा कर दिया जाता है। बजाय इसके कि वह हममें प्रवेश कर जाए, वह हम पर सवार हो जाता है। बजाय इसके कि हम उसको अपनी विविधता के रंगों में रंग दें, वह हमें अपनी एकरूपता का वस्त्र पहना देता है। नाटक और कामेडी में अंतर सिर्फ़ इसी से है। संभव है कि नाटक में कुछ ऐसे दोषों का चित्रण किया गया हो जिनको विशेष नाम दिए जा सकते हैं। लेकिन वो कुछ इस प्रकार से पात्रों का अभिन्न अंग बन जाते हैं कि हमें उन दोषों के नाम भूल जाते हैं। हम उनकी विशेषताओं को भुला देते हैं। यहाँ तक कि हमें उन दोषों का विचार तक नहीं आता। इसके बजाय हमारी दृष्टि में सिर्फ़ वह पात्र होता है जिसके व्यक्तित्व में इन दोषों को भर दिया जाता है। इसीलिए एक नाटक का नाम कोई व्यक्तिसूचक संज्ञा होता है। मसलन ओथेलो, हैमलेट इत्यादि। लेकिन एक हास्यास्पद दोष चाहे वह एक व्यक्ति से बहुत ही ज़्यादा चिपका हुआ हो, फिर भी अपनी पृथक प्रकृति और अस्तित्व क़ायम रखता है। वह स्वतः पात्र बन जाता है जिसके इर्द-गिर्द जीवित पात्र घूमते रहते हैं। अक्सर यह देखने में आता है कि हास्यास्पद दोष पात्रों को कठपुतलियों की भांति नचाते हैं। इसीलिए एक व्यक्ति जितना अधिक अपने अस्तित्व से अचेत होता है उतना अधिक हास्यास्पद भी होता है। एक नाटक के पात्र को अगर यह बात ज्ञात हो जाए कि वह क्या है, उसमें कौन से दोष हैं , और उन दोषों को हम किस घृणा की दृष्टि से देखते हैं, तो संभव है कि वह अपने आपमें कोई सुधार या परिवर्तन न पैदा करना चाहे। लेकिन जहाँ दोषयुक्त पात्र को अपने हास्यास्पद होने का अहसास हुआ वहीं वह अपने व्यक्तित्व में सुधार शुरू कर देता है या कम-से-कम यह प्रभाव पैदा करने का प्रयास करता है कि अब उसमें वह बात नहीं रही या कुछ न कुछ परिवर्तन आ गया है। लोगों की हँसी नैतिकता की सुधारक है।

सो हम देखते हैं कि उस व्यक्ति में जो दौड़ते हुए गिर पड़ता है, और उस व्यक्ति में जो किसी शरारत का शिकार बनाया जाता है, और उस व्यक्ति में जो एक काल्पनिक दुनिया में रहता है, और उस व्यक्ति में जिसके चरित्र के दोष हास्यास्पद होते हैं, उन सब में लचक या तुरंत परिवर्तन कर सकने की कमी के प्रभाव पाए जाते हैं और यही सामग्री हँसी के प्रकट होने का कारण होती है। जीवन संघर्ष और समाज के तक़ाज़े हमसे हमेशा इस बात की माँग करते रहते हैं कि हमारा ध्यान हर समय निर्ममता और जागरूकता के साथ वर्तमान घटनाओं को दृष्टि में रखे और साथ ही हमारे शरीर और मस्तिष्क में वह लचक पाई जाए जिसकी बदौलत हम अपने आपको परिवेश के साथ लयबद्ध करते रहें। अगर हमारे शरीर में इसका आभाव हो तो हम विभिन्न रोगों और दुर्घटनाओं से पीड़ित रहते हैं। अगर यह अभाव हमारे मस्तिष्क में पाया जाए तो नाना प्रकार की मूर्खताएँ और नानाप्रकार के जूनून हमारे जीवन में हस्तक्षेप करते रहते हैं। अगर यह अभाव हमारे चरित्र में पाया जाए तो हमारा अस्तित्व गिर्द-पेश के समाज में बेजोड़ सा रह जाता है। तरह-तरह की विपत्तियाँ हमको घेर लेती हैं और विभिन्न प्रकार के अपराध हम से घटित होते हैं। हँसी मानो समाज की एक उठी हुई ऊँगली है जो समय-समय पर हमारे अन्दर सुधार करती रहती है। इसका सम्बन्ध केवल हृदय के सूक्ष्म भावों से नहीं। हालाँकि यह कौन नहीं जानता कि हम हँसते सिर्फ़ उस समय हैं जब हम अहंकार की सुरक्षा की चिंताओं से मुक्त होकर एक दूसरे को सिर्फ़ कला-प्राणी और दिलचस्प कलाकृतियों के रूप में कल्पना करने लग जाते हैं।

“पतरस”

(मख़ज़न- जनवरी 1922)

---

अहमद शाह पतरस बुख़ारी

(1 अक्टूबर 1898- 5 दिसंबर 1958)

असली नाम सैयद अहमद शाह बुख़ारी था। पतरस बुख़ारी के नाम से प्रसिद्ध हैं। जन्म पेशावर में हुआ। उर्दू अंग्रेज़ी, फ़ारसी और पंजाबी भाषाओं के माहिर थे। प्रारम्भिक शिक्षा से इंटरमीडिएट तक की शिक्षा पेशावर में हासिल की। लाहौर गवर्नमेंट कॉलेज से बी.ए. (1917) और अंग्रेज़ी साहित्य में एम. ए. (1919) किया। इसी दौरान गवर्नमेंट कॉलेज लाहौर की पत्रिका “रावी” के सम्पादक रहे।

1925-1926 में इंगलिस्तान में इमानुएल कॉलेज कैम्ब्रिज से अंग्रेज़ी साहित्य में Tripos की सनद प्राप्त की। वापस आकर पहले सेंट्रल ट्रेनिंग कॉलेज और फिर गवर्नमेंट कॉलेज लाहौर में प्रोफ़ेसर रहे। 1940 में गवर्नमेंट कॉलेज लाहौर के प्रिंसिपल हुए। 1940 ही में ऑल इंडिया रेडियो में कंट्रोलर जनरल हुए। 1952 में संयुक्त राष्ट्र संघ में पाकिस्तान के स्थाई प्रतिनिधि हुए। 1954 में संयुक्त राष्ट्र संघ में सूचना विभाग के डिप्टी सेक्रेटरी जनरल चुने गए। दिल का दौरा पड़ने से 1958 में न्यू यार्क में देहांत हुआ।

पतरस ने बहुत कम लिखा। “पतरस के मज़ामीन” के नाम से उनके हास्य निबंधों का संग्रह 1934 में प्रकाशित हुआ जो 11 निबंधों और एक प्रस्तावना पर आधारित है। इस छोटे से संग्रह ने उर्दू पाठकों में हलचल मचा दी और उर्दू हास्य-साहित्य के इतिहास में पतरस का नाम अमर कर दिया। उर्दू के व्यंग्यकार प्रोफ़ेसर रशीद अहमद सिद्दिक़ी लिखते हैं “रावी” में पतरस का निबंध “कुत्ते” पढ़ा तो ऐसा महसूस हुआ जैसे लिखने वाले ने इस निबंध से जो प्रतिष्ठा प्राप्त करली है वह बहुतों को तमाम उम्र नसीब न होगी।....... हंस-हंस के मार डालने का गुर बुख़ारी को ख़ूब आता है। हास्य और हास्य लेखन की यह पराकाष्ठा है....... पतरस मज़े की बातें मज़े से कहते हैं और जल्द कह देते हैं। इंतज़ार करने और सोच में पड़ने की ज़हमत में किसी को नहीं डालते। यही वजह है कि वे पढ़ने वाले का विश्वास बहुत जल्द हासिल कर लेते हैं।” पतरस की विशेषता यह है कि वे चुटकले नहीं सुनाते, हास्यजनक घटनाओं का निर्माण करते और मामूली से मामूली बात में हास्य के पहलू देख लेते हैं। इस छोटे से संग्रह द्वारा उन्होंने भविष्य के हास्य व व्यंग्य लेखकों के लिए नई राहें खोल दी हैं । उर्दू के महानतम हास्य लेखक मुश्ताक़ अहमद यूसुफ़ी एक साक्षात्कार में कहते हैं “….पतरस आज भी ऐसा है कि कभी गाड़ी अटक जाती है तो उसका एक पन्ना खोलते हैं तो ज़ेहन की बहुत सी गाँठें खुल जाती हैं और क़लम रवाँ हो जाती है।”

पतरस के हास्य निबंध इतने प्रसिद्द हुए कि बहुत कम लोग जानते हैं कि वे एक महान अनुवादक (अंग्रेज़ी से उर्दू), आलोचक, वक्ता और राजनयिक थे। गवर्नमेंट कॉलेज लाहौर में नियुक्ति के दौरान उन्होंने अपने गिर्द शिक्षित, ज़हीन और होनहार नौजवान छात्रों का एक झुरमुट इकठ्ठा कर लिया। उनके शिष्यों में उर्दू के मशहूर शायर फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ शामिल थे।

--

Aftab Ahmad-Photo

डॉ. आफ़ताब अहमद

व्याख्याता, हिंदी-उर्दू, कोलंबिया विश्वविद्यालय, न्यूयॉर्क

जन्म- स्थान: ग्राम: ज़ैनुद्दीन पुर, ज़िला: अम्बेडकर नगर, उत्तर प्रदेश, भारत

शिक्षा: जवाहर लाल नेहरु यूनिवर्सिटी, दिल्ली से उर्दू साहित्य में एम. ए. एम.फ़िल और पी.एच.डी. की उपाधि। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, अलीगढ़ से आधुनिक इतिहास में स्नातक ।

कार्यक्षेत्र: पिछले आठ वर्षों से कोलम्बिया यूनिवर्सिटी, न्यूयॉर्क में हिंदी-उर्दू भाषा और साहित्य का प्राध्यापन। सन 2006 से 2010 तक यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया, बर्कली में उर्दू भाषा और साहित्य के व्याख्याता । 2001 से 2006 के बीच अमेरिकन इंस्टीट्यूट ऑफ़ इन्डियन स्टडीज़, लखनऊ के उर्दू कार्यक्रम के निर्देशक ।

विशेष रूचि: हास्य व व्यंग्य साहित्य और अनुवाद ।

प्रकाशन: सआदत हसन मंटो की चौदह कहानियों का “बॉम्बे स्टोरीज़” के शीर्षक से अंग्रेज़ी अनुवाद (संयुक्त अनुवादक : आफ़ताब अहमद और मैट रीक)

मुश्ताक़ अहमद यूसुफ़ी के उपन्यास “मृगमरीचिका” का अंग्रेज़ी अनुवाद ‘मिराजेज़ ऑफ़ दि माइंड’(संयुक्त अनुवादक : आफ़ताब अहमद और मैट रीक)

पतरस बुख़ारी के उर्दू हास्य-निबंधों और कहानीकार सैयद मुहम्मद अशरफ़ की उर्दू कहानियों के अंग्रेज़ी अनुवाद ( संयुक्त अनुवादक : आफ़ताब अहमद और मैट रीक ) कई प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में प्रकाशित।

सम्प्रति: हिन्दी-उर्दू लैंग्वेज प्रोग्राम, दि डिपॉर्टमेंट ऑफ़ मिडिल ईस्टर्न, साउथ एशियन एंड अफ़्रीकन स्टडीज़, कोलम्बिया यूनिवर्सिटी, न्यूयॉर्क से सम्बद्ध।

--

-----****-----

|दिलचस्प रचनाएँ:_$type=blogging$count=5$src=random$page=1$va=0$au=0$meta=0

|समग्र रचनाओं की सूची:_$type=list$count=8$page=1$va=1$au=0$meta=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आत्मकथा,1,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,4290,आलोक कुमार,3,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,374,ईबुक,231,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,269,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,113,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,3240,कहानी,2361,कहानी संग्रह,247,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,550,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,141,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,32,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,152,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,2,बाल उपन्यास,6,बाल कथा,356,बाल कलम,26,बाल दिवस,4,बालकथा,80,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,20,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,31,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,288,लघुकथा,1340,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,20,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,378,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,79,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,2075,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,730,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,847,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,21,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,98,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,216,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,78,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: हास्यास्पद वस्तुओं के सम्बन्ध में कुछ सामान्य सिद्धांत (प्रोफ़ेसर हेनरी बर्गसां का हास्य-दर्शन) पतरस बुख़ारी
हास्यास्पद वस्तुओं के सम्बन्ध में कुछ सामान्य सिद्धांत (प्रोफ़ेसर हेनरी बर्गसां का हास्य-दर्शन) पतरस बुख़ारी
https://2.bp.blogspot.com/-zF6J97QYk88/Xg75NAjx0nI/AAAAAAABQnA/NViJ66Xo5l8QkmNsoCGFy5G2VJDVd3K4ACK4BGAYYCw/s320/cjckdabjgpcbkmpj-702046.png
https://2.bp.blogspot.com/-zF6J97QYk88/Xg75NAjx0nI/AAAAAAABQnA/NViJ66Xo5l8QkmNsoCGFy5G2VJDVd3K4ACK4BGAYYCw/s72-c/cjckdabjgpcbkmpj-702046.png
रचनाकार
https://www.rachanakar.org/2020/05/blog-post_43.html
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/
https://www.rachanakar.org/2020/05/blog-post_43.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ