सोमवार, 26 जुलाई 2010

सुनील संवेदी की कविता : लेडीज फर्स्ट

Image004 (Mobile)

लेडीज फर्स्ट

आधुनिक साहित्य ने

जब- औरत के सदियों पुराने

दबे-कुचलेपन, आकांक्षाओं, संभावनाओं

आस्थाओं, संवेदनाओं की

असमय-अस्वाभाविक मृत्यु

एवं इससे उपजी

अस्सीम पीड़ा युक्त हताशा-कुंठा को

शब्दों के भरपूर आंदोलन की

शक्ल देने का जिम्मा उठा ही लिया है

तो- औरत का रोना

सुनाई भी दे दिखाई भी

लेकिन-

आदमी का हंसना मात्र।

आदमी की-

असहनीय व्यथा- व्याकुलता को

भीड़ से खचाखच भरे चौराहों पर

कुचल कर नष्ट हो जाने के लिए, फेंककर,

औरत की डकार को

आकाश दे दो।

 

औरत में-

जबरन प्यास जगाओ

परंतु-

आदमी के फफदियाये होठों से

पपड़ियाये गले तक को

पानी की एक बूंद मयस्सर न हो।

औरत के-

जीर्ण-शीर्ण पल्लू के भीतर

आदमी के माथे की

दुर्भाग्य की पराकाष्ठा नापती लकीरें

खो जाएं।

 

चूल्हा-चक्की, झाडू़-पोंछा

बच्चों की चिल्ल-पों के

सुर में सुर मिलाकर

जैसे-तैसे निबटती औरत के कद में

इतना अप्रत्याशित उछाल आए कि,

छीना-झपटी से लेकर

मार-काट की हद तक

एक-दूसरे को

नोचती-खसोटती भीड़ की

सुर्ख आंखों से घिसट-घिसट कर

जैसे-तैसे बचकर

घर लौटता कटा-फटा आदमी

बौना लगने लगे।

 

ऐ आधुनिक औरत-

छीन ले आगे बढ़कर

आदमी के कपड़ों-लत्तों, हाव-भाव

चाल-ढाल,पीना-पिलाना

उठना-बैठना आदि-आदि को

परंतु-

आज से सदियों पूर्व तक के

दर्द की दुहाई देकर

अंततः, उसे परे धकेल दे

कि, तेरा और कुछ आवश्यक नहीं।

जैसे भी हो-

आदमी को निकृष्ट, निर्लज्ज, दुरूपयोगी,

डरावना, असहज, अमित्र, असहयोगी ही तो

साबित करना है।

----

सुनील संवेदी

उप संपादक

हिंदी दैनिक‘जनमोर्चा, बरेली

email-

bhaisamvedi@gmail.com

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------