रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में मनपसंद रचनाकार अथवा रचनाएँ खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

दामोदर लाल जांगिड़ की ग़ज़ल

ग़ज़ल

सब का मन ललचाये कुर्सी।

क्‍या क्‍या नाच नचाये कुर्सी ॥

 

यूं ही सहज नहीं मिल जाती ,

सैण्‍डल तक उठवाये कुर्सी ,

 

नींद उसे फिर कब आती है,

अगर जरा हिल जाये कुर्सी ।

 

कौन छोड़ ना फिर चाहेगा ,

एक बार मिल जाये कुर्सी ।

 

जीते जी ही वो मर जाता ,

जिसकी भी छिन जाये कुर्सी ।

 

करे फाइलें कानाफूसी,

क्‍या क्‍या चट कर जाये कुर्सी।

 

लगी हैं चलने यहां कुर्सियां ,

क्‍या क्‍या दौर दिखाये कुर्सी ।

---

 

दामोदर लाल जांगिड़

पोस्‍ट लादड़िया

जिला नागौर राज

2 टिप्पणियाँ

  1. Kursi ka khel niraala hai... har koi bhaag raha hai eski peeche...
    ....Aaj ke samay kee kursi daud ko bakhubi prastut kiya hai aapne..
    Haardik shubhkamnayne

    जवाब देंहटाएं
  2. ख़ूबसूरत पंक्तियां,बेहतरीन अभिव्यक्ति।

    जवाब देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.