बुधवार, 20 अप्रैल 2011

शेर सिंह की कविता - समय बलवान है

clip_image002

महलों को ढहते देखा है

पर्वतों को मिटते देखा है ।

 

जवानी में ऐशो -आराम करते रहे जो

बुढ़ापे में उन्‍हें रोते देखा है ।

 

वाचालों को हकलाते और कराहते हुए

गूंगों को चिल्‍लाते देखा है ।

 

गरीब तो ईंट की तकिया पर सो लेता है

अमीर को रात- रात जागते देखा है ।

 

खुशी को गम में बदलने में देर नहीं

जीवन को मृत्‍यु से लड़ते देखा है ।

 

आदमी बेशक संग्रह पर संग्रह करता जाए

विपत्ति को बेआवाज विचरते देखा है ।

 

तूफान में दीए को जलते देखा है

रोते को हंसते हुए देखा है ।

 

चरित्र, शुचिता की दुहाई देते रहे बहुत

विश्‍वास को चूर- चूर होते देखा है ।

 

अपने आदर्शों को होम कर दिया जिन्‍होंने

जीवन में उन्‍हें ऊंचा उठते देखा है ।

---

O शेर सिंह

अनिकेत अपार्टमेंट, प्‍लाट नं. 22

गिट्टीखदान लेआउट, प्रतापनगर

नागपुर - 440 022

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------